नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

कहानी - माँ का रूप - मंजुला

मधु नौलखा हार हाथों में लिए सोच रही थी कि जो इतने सालों से सासूमाँ का रूप देखा वो सच है या जो पिछले दिनों देखा वो सच है या फिर उसे ही समझने में भूल हुई।

हार हाथों में लिए न जाने कब अतीत में पहुँच गई। जब वो ब्याह कर आई थी, अपने मायके में तो बस वो अनचाही बेटी भर थी जो तीन बहनों के बाद बेटे की चाह में पैदा हो गई थी, बाकी की बहनों की तरह बस जैसे तैसे पल गई। मधु के पति ने उसे किसी के ब्याह में देखकर पसंद किया था, और सामने से रिश्ता लेकर आए थे। कहते हैं एक ज़माने में बहुत पैसे वाले लोग थे। अब न पैसा रहा न शोहरत, बस एक छोटी सी परचूरन की दुकान थी। एक ब्याहता ननद थी और सासूमाँ थीं। एक पुराना टूटा- फूटा खानदानी घर था। पिता ने बस ब्याह करके अपने कर्तव्य की इतिश्री कर ली!!

       मायके में तो वैसै भी उसे किसी से कोई खास स्नेह नहीं मिला था। हाँ बाकी की बहने बड़ी थीं, तो घर के काम वे ही कर लेती थीं। इसलिए उसे घर के कामों की कोई खास समझ न थी। यहाँ आई तो सासु माँ रोबीली सी मिलीं। जब माँ से ही प्यार न मिला तो सास से क्या उम्मीद करे.. उसे याद है जब पहली बार पूड़ियाँ तल रही थी, एक पूड़ी हाथ से फिसलकर सीधा कढ़ाई में जा गिरी और खौलता हुआ तेल उछलकर हाथ  में आ गया था। कितनी ज़ोर से चीखी थी वह!! सासु माँ दौड़कर आईं और चीखते हुए कहा "हे भगवान!!! इस लड़की को ज़रा भी काम की समझ ना है!! देखो कितना जला लिया!! और भी न जाने क्या क्या बोले जा रही थीं। कभी उसका हाँथ ठंडे पानी में डालतीं कभी जले पर घी लगातीं। लेकिन डाँटना जारी था, उसके बाद मधु जब भी कोई तेल का काम करने जाती तो तुरंत कहतीं "रहने दो हम कर लेंगे तुमसे न होगा, सब कहेंगे सास ने जला दिया बहू को"। अब ये उनकी चिंता थी या ताना ये वह ना समझ पाई।

            रोज़ के खाने में अगर ज़रा भी नमक या मिर्च कम पड़ जाए, या स्वाद में ज़रा भी फ़र्क़ पड़े तो ज़ोर की डाँट लगाती थीं। लेकिन मजाल है बाहर वाला कोई कुछ मधु को कह दे!! उस दिन ननद के बेटे के नामकरण पर ताई जी ने टोक दिया था, "बहू सब्जी थोड़ी फीकी-फीकी सी बनी है"! वो कुछ कहती उससे पहले सासु माँ गरजीं "क्यों दीदी बहुरिया ने अकेले इत्ते लोगों का खाना बनाया, थोड़ा ऊपर नीचे हो गया तो कौन सा पहाड़ टूट पड़ा"!! बेचारी ताई जी अपना सा मुँह लेकर रह गई थीं।

   जब मधु के पति मेले से सुंदर सी हरी साड़ी लाए थे, जो ननद ने देखते ही हड़प ली थी, "भाभी कितनी सुंदर है ये साड़ी, इसे तो मैं ले रही हूँ"!! उसने भी बेमन से वो साड़ी ननद को दे दी थी। दूसरे ही दिन बिल्कुल वैसी साड़ी सासुमाँ ने उसके हाथ में रखते हुए कहा, "यह लो और ऐसे उतरा हुआ मुँह लेकर घर में घूमना अपशकुन होता है।" ऐसे न जाने कितनी यादें हैं!!

    जायदाद के नाम पर तो कुछ न बचा था बस एक खानदानी नौलखा हार था जो हमेशा सीने से चिपकाए घूमती रहती थीं। सबको बताती ये हार तो मैं अपनी बेटी को दूंगी। मधु की शादी को १८ साल हो रहे थे। सासूमाँ अब अक्सर बीमार रहने लगी थीं। मधु उनकी सेवा में कोई कसर न रखती। उनके इलाज में बहुत खर्चा आ रहा था। बेटे ने अब तक जो थोड़ा बहुत जमा किया था सब उनके इलाज में खर्च हो गया। अब बस घर था और वो नौलखा हार था। एक दिन बेटे ने कहा "माँ जो कुछ बचा के रखा था। सब खर्च हो गया। ला तेरा नौलखा हार दे उसे गिरवी रख के जो पैसे मिलेंगे उससे आगे का इलाज करवाएंगे।"

सासूमाँ फिर गरजी, "खबरदार जो मेरे हार को हाथ भी लगाया तो, ये मेरी बेटी के लिए है, मरना तो एक न एक दिन है ही, कल मरूँ या आज क्या फर्क पड़ता है?"

        बेटा अपनी तरफ से पूरी कोशिश कर रहा था, मधु भी पूरी सेवा कर रही थी, लेकिन सासु माँ की हालत दिन ब दिन और खराब होती जा रही थी। बेटी भी आई हुई थी माँ को देखने। एक दिन सासु माँ ने सबको बुलाया और कहा, "लगता है अब मेरे जाने का समय नजदीक आ रहा है। इतने दिनों से जो नौलखा हार मैंने अपनी बेटी के लिए संभाल के रखा है, उसे देने का वक्त आ गया है।"

ननद हार लेने बढ़ी ही थी कि सासु माँ ने आवाज दी, "मधू ये ले"। सब आँखें फाड़े सासु माँ की ओर देखने लगे तो उन्होंने कहा, "मेरी खुद की बेटी सिर्फ १८ साल मेरे साथ रही, और उसके बाद जब भी आई अपने मतलब से आई। और तूने अपनी पूरी जिंदगी मेरे परिवार के नाम कर दी तो सही मायनों में तू ही मेरी बेटी हुई ना।" कहते हुए उन्होंने वह हार मधु के गले में डाल दिया!!

मधु सासु माँ को पकड़कर खूब रोई। इतना तो उसकी माँ ने भी न सोचा उसके लिए। आज सासु माँ उनके बीच में नहीं है और मधु हार हाथ में लिए सोच रही है, वो सासु माँ नहीं माँ का ही रूप थी, मैंने ही समझने में भूल की!!!

----

आपको मेरी ये कहानी कैसी लगी? मुझे कमेंट करके जरूर बताएं, मेरी अन्य कहानियों के लिए मुझे फॉलो करना न भूलें।

©मंजुला

3 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.