नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

श्री दीनदयाल शर्मा व डॉ. दिनेश पाठक सहित 9 बाल साहित्यकारों का हुआ सम्मान

भोपाल: 'राजकुमार जैन राजन फाउंडेशन', आकोला(राजस्थान) के  सौजन्य से  "बाल कल्याण एवम बाल साहित्य केंद्र", भोपाल के वार्षिक आयोजन में हनुमानगढ़ (राजस्थान) के श्री दीनदयाल शर्मा को "डॉ राष्ट्रबन्धु स्मृति बाल साहित्य सम्मान-2019" एवम मथुरा के डॉ. दिनेश पाठक "शशि"  को "डॉ. श्री प्रसाद स्मृति बाल साहित्य सम्मान-2019" से , उनकी समग्र बाल साहित्य सेवाओं के लिए 3 अप्रेल 2019 को  भोपाल के' मानस भवन' में आयोजित सम्मान समारोह में सम्मानित किया गया।  सम्मान स्वरूप प्रशस्ति पत्र, प्रतीक चिन्ह, शॉल एवम सम्मान राशि प्रत्येक रुपये 5 हजार  मंचस्थ अतिथियों के करकमलों द्वारा भेंट की गई। अब तक फाउंडेशन के सौजन्य से श्री पंचशील जैन, डॉ उषा यादव, श्री गोविंद शर्मा, श्री घमण्डीलाल अग्रवाल, डॉ  हुंदराज बलवाणी, डॉ अखिलेश श्रीवास्तव चमन आदि को समादृत किया जा चुका है।

      इस अवसर पर श्री आर के पालीवाल, डॉ राघवेंद्र शर्मा, डॉ उमाशंकर नगायच एवम हरीश खंडेलवाल मंचस्थ अतिथियों के रूप में उपस्थित रहे।

   'बाल कल्याण एवम बाल साहित्य केंद्र', भोपाल द्वारा  उत्कृष्ठ बाल साहित्य सृजन के लिए डॉ रमेश चन्द्र खरे(दमोह), करुणा श्री (जयपुर ), महेंद्र जैन (हिसार),इंजी. आशा शर्मा (बीकानेर), डॉ शील कौशिक (सिरसा), कांति शुक्ला (भोपाल) सहित गुजराती बाल साहित्यकार महेश स्पर्श (थासरा) को भी स्मृति चिन्ह, प्रशस्ति पत्र, शाल व प्रत्येक को एक हजार रुपये की नगद राशि के साथ समादृत किया गया।

  इस अवसर पर बच्चों की मनमोहक प्रस्तुतियों के साथ ही बाल साहित्य की कृतियों का लोकार्पण भी हुआ।स्वागत उद्बोधन आशा शर्मा नई ने दिया तो कार्यक्रम का कुशल संचालन शशि श्रीवास्तव न किया। संस्थान के निदेशक महेश सक्सेना ने आभार व्यक्त किया।

      साहित्यकार राजकुमार जैन राजन द्वारा 5 वर्ष पूर्व संस्थान में इन सम्मानों की स्थापना की थी। जो इस संस्थान में दिए जाने वाले 5-5 हजार रुपये के शिरोमणि सम्मान हैं।  बाल साहित्य की महत्ता प्रतिष्टित करने और बाल साहित्यकारों को प्रोत्साहन देने, हिन्दी भाषा की उन्नयन के लिए राजन द्वारा देश भर की कई संस्थाओं के आयोजनों में कई बाल साहित्य सम्मान प्रतिवर्ष प्रदान किये जातें हैं।

              ● सुचित्रा श्रीवास्तव,भोपाल

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.