नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

श्री रामनवमी पर बीस हाइकु :- शशांक मिश्र भारती


01ः-

देवि ही देवि

कल्याण है करती

मन हो सच्चा।

​​

02ः-

ज्ञानी गुणी हैं

मूढ़ भी बनजाते

मां की कृपा।

​​

03ः-

करो याद तो

निर्भय कर देती

हरे गरीबी।

​​

04ः-

सिद्धि दायिनी

शक्ति समन्वय

मां कल्याणी।

​​

05ः-

तुम प्रसन्न

दुख दर्द न रहें

धनी विपन्न।

​​

06 :-

देवि अम्बिके

त्रय लोकेश्वरि मां

हम भजते।

​​

07ः-

रोग नाशक

आश्रय है सबको

युवा बालक।

​​

08ः-

ऊँ सती साध्वी

आर्या जया पुनीता

शूल धारिणी।

​​

09ः-

मन : विचित्रा

आद्या दुर्गा भवानी

तारिणी चित्रा।

​​

10ः-

सदा शोभिनी

पिनाक धारिणी मां

वाक् दायिनी।

​​

11 :-

दक्ष नाशिनी

बहुवर्णी देवि मां

भव मोचनी।

​​

12ः-

ऐन्द्री कौमारी

वाराही माहेश्वरी

विशाला ग्राही।

​​

13ः-

मां उत्कर्षिणी

चण्डमुण्ड मारिणी

सर्वास्त्रधरिणी।

​​

14ः-

शंकर वरी

कुमारी कन्या शैवा

ज्वालदंशिनी।

​​

15ः-

रौद्र रूप हो

काल कराली काली

कालरात्रि हो।

​​

16ः-

ब्रह्म की छाया

शिवदूती प्रत्यक्षा

तपस्वी माया।

​​

17ः-

हो नारायणी

भद्रकाली मां तुम

क्लेश हारिणी।

​​

18ः-

शुंभ निशुंभ

महिष मर्दिनी मां

देवि मतंग।

​​

19ः-

शैलपुत्री मां

कष्टों को हैं हरती

सिद्धिदात्री मां।

​​

20ः-

नौ रुचिर

नाम देवि के भजें

चर अचर।

​​

​​

​​

14/04/2019

शशांक मिश्र भारती संपादक देवसुधा हिन्दी सदन बड़ागांव शाहजहांपुर 242401 उ0प्र0

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.