नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

आँख से आँख मिलाने से कतराता है, लगता है कोई अपना यार पुराना है। तेजपाल सिंह ‘तेज’ की दस ग़ज़लें

-एक-

फक्कड़पन तो अपना मीत पुराना है,

मयखाना तो अपन्य ठौर ठिकाना है।

​​

जलते-जलते राख हुआ अपना तन-मन,

अब जीवन में क्या खोना क्या पाना है।

​​

धरती-धरती अपराधों में डूब गयी,

अम्बर-अम्बर दुनिया नई बसाना है।

​​

आँख से आँख मिलाने से कतराता है,

लगता है कोई अपना यार पुराना है।

​​

‘तेज’ मुझे क्या लेना-देना दरपन से,

चेहरा बदले गुज़रा एक ज़माना है।

​​

<><><>

-दो-

कोई जा रहा है परीशाँ-परीशाँ,

ख़रामा-ख़रामा बहाराँ-बहाराँ।

​​

घूमता फिरे है ग़में-आश्ना में,

दरीचा-दरीचा वियाबाँ-बियाँबा।

​​

सदा दे रहा है बचपन को याराँ,

ज़माना-ज़माना नियागाँ-नियागाँ।

​​

नए दौर की स्याह परतें चढ़ी है,

गरीबाँ-गरीबाँ चरागाँ-चरागाँ।

​​

कहाँ तक चलेगा बता ‘तेज’ कबतक,

अकेला-अकेला पशेमाँ-पशेमाँ।

​​

<><><>

-तीन-

साग़रो-मीना को उठाले साक़ी,

बात बिगड़ी है बनाले साक़ी।

​​

अपनी बाहों का सहारा दे-दे,

अबकी गिरने से बचाले साक़ी।

​​

करके उलफ़त का दिख़ावा बेशक,

आज नफ़रत को छिपाले साक़ी।

​​

बहुत मुमकिन सहर का ना होना,

आज जी भरके रुलाले साक़ी।

​​

‘तेज’ तो एक रोज खुद ही मर लेगा,

जुर्म ये अपने सिर ना ले साक़ी।

​​

<><><>

-चार-

लोग हुए बातूनी बातों-बातों में,

अर्थ हुए बेमानी बातों-बातों में।

​​

पहले सा इंसान कहाँ अब धरती पे,

दुनिया हुई पुरानी बातों-बातों में।

​​

दादी के जलवों की बातें क्या करना,

गढ़ती नई कहानी बातों-बातों में।

​​

नटखट बदली के जैसी शर्माती है,

बेटी हुई सयानी बातों-बातों में।

​​

चेहरे-चेहरे ‘तेज’ बुढ़ापा बैठा है,

चुकता ही जवानी बातों-बातों में।

​​

<><><>

-पांच-

याँ इम्तिहाँ-दर-इम्तिहाँ काफी हुए,

हैं लोग अपने राज़दाँ काफी हुए।

​​

उस शहर रिश्ता पुराना है मिरा,

जिस शहर में गालिबाँ काफी हुए।

​​

मैं अकेला ही चला था कल मगर,

चलते-चलते इमनवाँ काफी हुए।

​​

आदमी से आदमी इतना कटा,

दोस्त दुश्मन नागहाँ काफी हुए।

​​

जीते जी अपना न कोई हो सका,

मर मिटे तो मेहरबाँ काफी हुए।

​​

<><><>

-छ:-

जीवन का अपने अनोखा सफ़र है,

कि पहलू मेरे, ना जोरू, न ज़र है।

​​

पिपल पे मेरे न चिड़ियों का जमघट,

चूल्हा न चक्की, न खटिया न घर है।

​​

न बकरी की मैं-मैं, न गैया न बछड़ा,

न पाने की चिंता, न खोने का डर है।

​​

सूरज न चंदा, न तारों की महफिल,

न सागर, न गागर, न नदिया-नहर है।

​​

मातम न खुशियाँ, न पीड़ा न उत्सव,

न सांसों में खुशबू, न महकी सहर है।

​​

<><><>

-सात-

बाद मुद्द्त के सहर आई है,

लेके पाँवों में सफर आई है।

​​

ख़्वाब उलफत का सलौना लेकर,

पीके सदियों का ज़हर आई है।

​​

आओ! आँखों में रौशनी भर लें,

धूप धरती पे उतर आई है।

​​

रात उनका ही मुक़द्दर तो नहीं,

रात अपनी भी सँवर आई है।

​​

अब तो गौरी को राज़दाँ कर लें,

पीर जीने की उभर आई है।

​​

<><><>

-आठ-

कौन मरता है ज़माने के लिए,

लोग ज़िन्दा हैं कमाने के लिए।

​​

मुल्क अपने की राजधानी में,

बहुत तरसे हैं ठिकाने के लिए।

​​

ख़ाकसारों ने क़सम खाई है,

ख़ाकसारी को मिटाने के लिए।

​​

हाथ नफरत के कहाँ ख़ाली हैं,

माँग उलफ़त की सजाने के लिए।

​​

‘तेज’ संसद ही बहुत काफी है,

अहले-ख़िलकत को रुलाने के लिए।

​​

<><><>

-नौ-

लोग दुनिया में पशेमाँ है बहुत,

अपने आपे से परीशाँ हैं बहुत।

​​

एक मैं ही तो नहीं शिकस्तादिल हूँ,

चाक़ महफिल में गरीबाँ है बहुत।

​​

मेरी किस्मत ही निकम्मी तो नहीं,

मेरे जैसे याँ नसीबाँ है बहुत।

​​

वो जो होंठों पे दुआ रखते हैं,

उनके जैसे भी कबीराँ है बहुत।

​​

‘तेज’ बेशक है आदमी लेकिन,

बज्मे-शाही में परीख्वाँ है बहुत।

​​

परीख्वाँ = जादूगर

गरीबाँ = दामन

<><><>

-दस-

बात जीने की चली है साहिब,

आग सीने में पली है साहिब।

​​

माना चलने का हुनर है उनमें,

चाल अपनी भी भली है साहिब।

​​

बहते दरिया के किनारों की तरह,

उम्र अपनी भी ढली है साहिब।

​​

शहर सुन्दर है, बडा है लेकिन,

तंग रिश्तों की गली है साहिब।

​​

भूख लड़ने की तमन्ना लेकर,

पाँव-दो पाँव चली है साहिब।

​​

<><><>

( ‘ट्रैफिक जाम है’ (ग़ज़ल संग्रह) से प्रस्तुत)

तेजपाल सिंह ‘तेज’ (जन्म 1949) की गजल, कविता, और विचार की कई किताबें प्रकाशित हो चुकी हैं- ‘दृष्टिकोण ‘ट्रैफिक जाम है’, ‘गुजरा हूँ जिधर से’, ‘तूफाँ की ज़द में’ व ‘हादसों के दौर में’ (गजल संग्रह), ‘बेताल दृष्टि’, ‘पुश्तैनी पीड़ा’ आदि (कविता संग्रह), ‘रुन-झुन’, ‘खेल-खेल में’, ‘धमा चौकड़ी’ आदि ( बालगीत), ‘कहाँ गई वो दिल्ली वाली’ (शब्द चित्र), पाँच निबन्ध संग्रह और अन्य सम्पादकीय।

​​

तेजपाल सिंह साप्ताहिक पत्र ‘ग्रीन सत्ता’ के साहित्य संपादक, चर्चित पत्रिका ‘अपेक्षा’ के उपसंपादक, ‘आजीवक विजन’ के प्रधान संपादक तथा ‘अधिकार दर्पण’ नामक त्रैमासिक के संपादक रहे हैं।

​​

स्टेट बैंक से सेवानिवृत्त होकर आप इन दिनों स्वतंत्र लेखन के रत हैं।

​​

सामाजिक/नागरिक सम्मान सम्मानों के साथ-साथ आप हिन्दी अकादमी (दिल्ली) द्वारा बाल साहित्य पुरस्कार ( 1995-96) तथा साहित्यकार सम्मान (2006-2007) से सम्मानित किए जा चुके हैं।

​​

आजकल आप स्वतंत्र लेखन में रत हैं।

​​

सम्पर्क: E-mail — tejpaltej@gmail.com

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.