विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका -  नाका। प्रकाशनार्थ रचनाएँ इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी इस पेज पर [लिंक] देखें.
रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -

पिछले अंक

माह की कविताएँ

साझा करें:

(चित्र - देवीलाल पाटीदार की कलाकृति) सुशील शर्मा डूबता हुआ पानी तल में , अतल में , धरा में , सागर में पानी डूब रहा पानी की कविता के ओ...

17

(चित्र - देवीलाल पाटीदार की कलाकृति)


सुशील शर्मा


डूबता हुआ पानी


तल में , अतल में ,
धरा में , सागर में
पानी डूब रहा
पानी की कविता के ओंठ
सूख कर छुहारा बन गए हैं
एक शीशी में भरा
गंगाजल पूजन में
सूख रहा है।
झील की पारदर्शी लहरें
बूढ़ी होकर हांफने लगी हैं।
मेरे शहर की नदी
पलंग पर पड़ी बूढ़ी बीमार
औरत सी निर्वाक।
पानी की जीवनानुभूति
समूचे अस्तित्व को बचने की जिजीविषा सी
सुलगते सूरज का प्रतिकार।
धरती की असंख्य जलधाराएं
बन रही हैं भूगोल का इतिहास।
सदानीरा नर्मदा बेहद उदास
अंध श्रद्धा भक्ति के सड़े गले फूल
जैव विविधता के लिए बने जहर
गंदे नालों का सड़ा पानी
अमृत जल राशि को दूषित कर
बो रहा है नसों में जहर।
कुँओं का अंधापन
हेण्डपम्पों का मरना संकेत है
कि पानी अब मरुस्थल में डूबने वाला है।
पानी की आशा
बेटी की चिंता
भविष्य के दो यक्ष प्रश्न।
0000000000000000

मंजुल भटनागर


मजदूर दिवस पर मेरी एक रचना
मजदूर कहाँ
ढूंढ़ता हैं छत अपने लिए
वो तो बनाता है मकान
धूप में तप्त हो कर
उसकी शिराओं में
बहता है हिन्दुस्तान ----

मजदूर न होता
तो क्या कभी बनता
मुमताज़ के लिए
ताज महल महान
और चीन की दीवार
आश्चर्य, कहाती सीना तान ------

मजदूर ने खडे  किये
वीराने ,सुन्दर शहरों  में
अजंता एल्लोरा कला शिल्प
देती है उसके हाथों को
कीर्ति की सोपान

हर देश का मजदूर
गढ़ता है ,अपने दो हाथों से
सुन्दर बुर्ज दरवाज़े
चाहता कुछ नहीं ,होकर नादान
रहता है उसका देश उसके कारण
दुनिया की नजरों में महान !
मजदूर दिवस पर----
00000000000000

एस के सिद्धार्थ



surendrakumar01791@gmail.gmail.com

*किसान हैं हम*
=============
कैसे कहें क्या हैं हम 
किसी का अभिमान हैं हम ।
मेहनत कर सभी को खिलाने वाला
  दुनिया का भगवान हैं हम ।
महात्मा बुद्ध और महावीर का
प्राप्त अनमोल ज्ञान हैं हम  ।
गंगा-जमुनी तहजीब का
सावन और रमजान हैं हम ।
हर उन्मुक्त पक्षियों का
हौसलों का उडा़न हैं हम ।
भारत एक सुनहरी चिड़िया के
कीमती पहचान हैं हम  ।
गांवों में बसी भारतीय आत्मा की
सुंदर खेत-खलिहान हैं हम  ।
कृषि प्रधान मुल्क हमारा
स्वर्णिम पहचान हैं हम  ।
कभी न  थकने - हारने वाला
  मेहनती इंसान हैं हम  ।
''पूस की रात'' का होरी मैं
  धनपत  का महान है हम  ।
१८५७ ई० आजादी की क्रांति का
  पहली तलवार हैं हम  ।
देश की अखण्डता, रक्षा के खातिर
  हमेशा देते आयें बलिदान है हम  ।
अपने मेहनती खुरदुरे हाथों से
सबल मुल्क का करते निर्माण हैं हम ।
तन पे जीर्ण-शीर्ण वस्त्र केवल
  फिर भी गांधी का स्वाभिमान हैं हम  ।
प्रकृति आपदा हर बार तोड़ती
फिर भी उठ खड़े होते हर बार हैं हम  ।
कभी अतिवृष्टि कभी सुखाड़ से 
हमेशा सहते नुकसान हैं हम  ।
कर्ज तले दबा - कुचला हूं पर
समय से चुकाते लगान हैं हम  ।
खाने को फाके नहीं हैं घरों में
पर संतुष्टता का पहचान हैं हम  ।
आज विकास की इस दौर में 
सिर्फ लवनी भर धान हैं हम  ।
वो भी मेरी अवस्था को देखता नहीं
जिसे करते  मतदान हैं हम  ।
आज हमारी कुदाल भी स्वप्न काट रही
सच कहें तो बहुत लहू-लुहान हैं हम  ।
अपनी खुशियां  दूसरों पे लुटाने वाला
  एक  संत महिर्यान हैं हम  ।
बंजर भूमि से सोना उपजाता हूँ
फिर भी निर्धन किसान हैं हम  ।
    -एस के सिद्धार्थ
00000000000000000

कृष्ण कुमार यादव

हाइकु


लोकतंत्र है
अथवा भेड़तंत्र
कोई ना जाने।

मताधिकार
नाम का रह गया
बिकते लोग।

चुनावी बेला
बनी कमाऊ धंधा
खुश हैं लोग।

खोटे सिक्कों ने
गायब कर दिया
योग्य लोगों को।

नेता बिकते
जनता भी बिकती
जंगलराज।

चुनाव बने
पंचवर्षीय प्लान
हैं मालामाल।

चल रही है
लोकतंत्र की चक्की
पिसते लोग।

बढ़ रहा है
चारों ओर पाखंड
खामोश लोग।

हर तरफ
जातिवाद है फैला
प्रतिभा त्रस्त।

कुर्सियाँ खींचें
ये जिम्मेदार लोग
हैरान सब।

राज-काज में
नैतिकता खो गई
भोग-विलास।

खबरदार
रहनुमा सो रहे
अब तो जागो।

-कृष्ण कुमार यादव
निदेशक डाक सेवाएँ
लखनऊ (मुख्यालय) परिक्षेत्र, उ.प्र.-226001
ई-मेलः kkyadav.t@gmail.com 
ब्लॉग:  https://kkyadav.blogspot.in/,  https://dakbabu.blogspot.in/ 

*******************************************************************************************
कृष्ण कुमार यादव : 10 अगस्त 1977 को तहबरपुर, आजमगढ़ (उ.प्र.) में जन्म। इलाहाबाद वि.वि. से 1999 में राजनीति शास्त्र में एम.ए.। वर्ष 2001 में भारत की प्रतिष्ठित ‘सिविल सेवा’ में चयन।  सूरत, लखनऊ, कानपुर, अंडमान-निकोबार द्वीप समूह, जोधपुर में नियुक्ति के पश्चात फिलहाल लखनऊ (मुख्यालय) परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएँ  पद पर आसीन। प्रशासन के साथ-साथ साहित्य, लेखन और ब्लाॅगिंग के क्षेत्र में भी प्रवृत्त।

विभिन्न विधाओं में अब तक कुल 7 पुस्तकें प्रकाशित- 'अभिलाषा' (काव्य-संग्रह, 2005), 'अभिव्यक्तियों के बहाने' व 'अनुभूतियाँ और विमर्श' (निबंध-संग्रह, 2006 व 2007), 'India Post : 150 Glorious Years' (2006), 'क्रांति-यज्ञ : 1857-1947 की गाथा', 'जंगल में क्रिकेट' (बाल-गीत संग्रह, 2012) व '16 आने 16 लोग' (निबंध-संग्रह, 2014)।शताधिक पुस्तकों/संकलनों  में रचनाएँ प्रकाशित। व्यक्तित्व-कृतित्व पर एक पुस्तक 'बढ़ते चरण शिखर की ओर : कृष्ण कुमार यादव' (सं0- दुर्गाचरण मिश्र, 2009) प्रकाशित।

देश-विदेश की प्रायः अधिकतर प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं और इंटरनेट पर वेब पत्रिकाओं व ब्लॉग पर निरंतर प्रकाशित। हिंदी ब्लॉगिंग में शब्द सृजन की ओर (http://kkyadav.blogspot.in) और  डाकिया डाक लाया (http://dakbabu.blogspot.in) ब्लॉग के माध्यम से सशक्त उपस्थिति। आकाशवाणी लखनऊ, कानपुर, इलाहाबाद, जोधपुर व पोर्टब्लेयर और दूरदर्शन से कविताएँ, वार्ता, साक्षात्कार का समय-समय पर प्रसारण।

उ.प्र. के मुख्यमंत्री द्वारा ’’अवध सम्मान’’, पश्चिम बंगाल के राज्यपाल द्वारा ’’साहित्य-सम्मान’’, छत्तीसगढ़ के राज्यपाल श्री शेखर दत्त द्वारा ’’विज्ञान परिषद शताब्दी सम्मान’’, परिकल्पना समूह द्वारा ’’दशक के श्रेष्ठ हिन्दी ब्लॉगर दम्पति’’ सम्मान, अंतर्राष्ट्रीय ब्लॉगर सम्मेलन, भूटान में ’’परिकल्पना सार्क शिखर सम्मान’’, विक्रमशिला हिन्दी विद्यापीठ, भागलपुर, बिहार द्वारा डाॅक्टरेट (विद्यावाचस्पति) की मानद उपाधि, भारतीय दलित साहित्य अकादमी द्वारा ‘’डॉ. अम्बेडकर फेलोशिप राष्ट्रीय सम्मान‘‘ साहित्य मंडल, श्रीनाथद्वारा, राजस्थान द्वारा ”हिंदी भाषा भूषण”, वैदिक क्रांति परिषद, देहरादून द्वारा ‘’श्रीमती सरस्वती सिंहजी सम्मान‘’, भारतीय बाल कल्याण संस्थान द्वारा ‘‘प्यारे मोहन स्मृति सम्मान‘‘, राष्ट्रीय राजभाषा पीठ इलाहाबाद द्वारा ‘‘भारती रत्न‘‘, अखिल भारतीय साहित्यकार अभिनन्दन समिति मथुरा द्वारा ‘‘कविवर मैथिलीशरण गुप्त सम्मान‘‘, आगमन संस्था, दिल्ली द्वारा ‘‘दुष्यंत कुमार सम्मान‘‘, विश्व हिंदी साहित्य संस्थान, इलाहाबाद द्वारा ‘‘साहित्य गौरव‘‘ सम्मान, सहित विभिन्न प्रतिष्ठित सामाजिक-साहित्यिक संस्थाओं द्वारा विशिष्ट कृतित्व, रचनाधर्मिता और प्रशासन के साथ-साथ सतत् साहित्य सृजनशीलता हेतु शताधिक सम्मान और मानद उपाधियाँ प्राप्त।
    
संपर्क: कृष्ण कुमार यादव, निदेशक डाक सेवाएँ, लखनऊ (मुख्यालय) परिक्षेत्र, उ.प्र.-226001 
ई-मेलः kkyadav.t@gmail.com  ब्लॉग:  https://kkyadav.blogspot.in/,  https://dakbabu.blogspot.in/
___________________________________________________


00000000000000000

तालिब हुसैन


आज शब्द राजभक्त हैं
नीले- लाल और न जाने
कितने ही रंग के
  शब्द
ढो रहे हैं अपना अनिर्वचनीय  सत्य
कुछ शब्द घायल है ;
रुदन से भर कर
मौन  ; देख रहे हैं तमाशा''''
कुछ पहन सभ्य चोला
हाथ में लिए
लोकतंत्र की डोर
बन चौथा खम्बा
कर रहे हैं वध सत्य का
वहीँ कुछ दूर
कुछ शब्द मना रहे हैं मातम
फसल के मर जाने का
कुछ भेज रहे हैं शब्द मुआवजे का
कुछ शब्द कर रहे हैं सवाल
पेड़ पर लटके रस्सी के फंदों में
कुछ ने की है हिम्मत
चुप्पी तोड़ने की
पर
अकस्मात् कुचले गये हैं कुछ शब्द
निरपराध
कुछ शब्द आसमान को ओढ़
धधकती धरती पर
रख कर बैठे हैं अपने  सपने
कुछ शब्द बन बसंत आने को तैयार हैं
मारीच की तरह
कुछ शब्द बनने वाले हैं
किसी नये लकड़ी के रावण के नारे
कुछ शब्द दे रहे  हैं दस्तक
दोहरे रंग का खेल खेलने को ......
मैं सोचता हूँ
क्या शब्द भी होंगे कभी वाणी
क्या कहेंगे यह भी आक्रोश की भाषा
कुछ भी हो
पर
आज शब्द राजभक्त हैं..............

तालिब हुसैन
हिंदी विभाग , जामिया मिल्लिया इस्लामिया

0000000000000000

अनिल कुमार


'शिल्पी'
रचनाकार नहीं मैं
ना हूँ शिल्पकार मैं
जो लिखता
या मुझ से बन पड़ता
वह उद्गार है अवचेतन का
या मेरे जीवन का
या फिर यथार्थ है सब का
जो अनुभूत मुझे है होता
संवेदना मानव मन की
लेकर चरितार्थ है होता
लिख पड़ता ना जाने क्यों?
कलम हाथ और काग़ज पर
खिंचती रेखाएँ यादों से
तब मैं नहीं बोल रहा होता
जग अन्तर्मन ढोल रहा होता
वह रचनाकार
या कलाकार कोई
सब के यथार्थ का
शब्दों में या कलाकृतियों में
लेकर रंग-रूप
सार्वभौम शिल्पी
किसी कृति में घोल रहा होता।

--

  'कर्म और भाग्य'
भाग्य ने जो लिख दिया है तेरे भाग का
वो ना लेकर कोई जायेगा
पर जो तू ने कर्म ना किया तो
तेरे नसीब का भी भाग हिस्से ना आयेगा
उस विधाता ने सभी को समता से है दे दिया
पर जो तू ना कर्म का पथ चढ़ सका तो
तेरे भाग्य का भी है लिखा मिट जायेगा
तू अगर सोचता है
कि भाग्यदाता तुझ को भूल गया
कुछ ना लिखा भाग्य में तेरे
तो सोचता तू, फिर अभागा रह जायेगा
भाग्य ने जो लिख दिया है तेरे भाग का
वो ना लेकर कोई जायेगा
पर जो तेरा कर्म पथ है
इस पथ ना चला तो
तेरा भाग्य सो गया है, तू यही दोहरायेगा
तो कर्म कर,  कर्म से ही तू
भाग्य की रेखा बदल पायेगा
भाग्य ने जो लिख दिया है तेरे भाग का
वो ना लेकर कोई जायेगा।
अनिल कुमार, वरिष्ठ अध्यापक 'हिन्दी'
ग्राम देई, जिला बून्दी, राजस्थान

अनिल कुमार, व.अ. हिन्दी

ग्राम देई, जिला बून्दी, राजस्थान


00000000000000000

सत्येंद्र कुमार मिश्र 'शरत'


-:सीमाएं-:

सबकी अपनी
सीमाएं होती हैं ,
सबकी अपनी
लक्ष्मण रेखाएं होती हैं,
जिन्हें
बहुत कम लोग
पार करने की
हिम्मत
करते हैं
और
इतिहास बनते हैं।
रावण तो
एक मिथक है
सीमा रेखा
  न पार करने का
गढ़ा गया
नारी के लिए
केवल
बहाना है।

-: फर्क-:

जब किसी
चीज का
विश्वास ना हो,
कुछ
अकस्मात हो,
कुछ
अकल्पनीय हो,
बिना योग के
संयोग हो,
तब
यह सब
सपना नहीं
तो सपने जैसा
अवश्य लगता है।
सोचता हूं
तब सपने में
और
इसमें फर्क क्या है
हां
फर्क इतना है ,
यह सब
हम  खुली आंखों से
देखते हैं
और सपना
बंद आंखों से।
             
-:लौट चलें-:

आओ
वापस लौट चलें
इन
भीड़ भरे शहरों से
अपने गांव की
पगडंडियों की ओर।
खेतों की मेड़ पर
सुबह-सुबह
ओस से नहाई
हरी घास पर
नंगे पांव
टहलते हैं।
वापस
बुला रहे हैं
गांव के
हरे भरे खेत ,
पोखर ..
जिसमें तैरते होंगे
इस समय
गांव के सारे बच्चे।
दोपहरी
बिताएंगे
आम के बाग में
किसी पेड़ के नीचे।
एक बार फिर
गाय-भैंसों को।
चौका नदी की तरफ
चराने ले जायेंगें।
वहां
खेलेंगे
गिल्ली- डंडा
बच्चा बन
बच्चों के संग।
--
-:- शब्द-:-

मैं
दूर खड़ा
इतिहास के आईने से
शब्दों का
चमत्कार देख रहा हूं,
कि
शब्द कोरे ,
काले धब्बे
  नहीं होते।
शब्दों की ताकत
शायद
दुनिया की सबसे बड़ी ताकत है
शब्दों से ही
इतिहास
बनते और बिगड़ते हैं
शब्द
मनुष्य का सबसे बड़ा आविष्कार है,
यह
एक ऐसा जादू है
जिसे
आता है
वह दुनिया पर
अपनी अमिट छाप छोड़ता है।
और युगों- युगों तक
अमर हो जाता है।

   -: न्याय-:

वातानुकूलित
घरों ,वाहनों मे
मुस्कुराते चेहरे
और
इस
तीखी धूप में
धूल और पसीने से लथपथ चेहरे।

गर्मी अधिक है
चाहिए
ईश्वर को भी वातानुकूलित मंदिर का गर्भ गृह
उसने समझा
कोई फर्क नहीं है
ईश्वर में
और
ईश्वर के न्याय में ।


परिचय

नाम-: सत्येंद्र कुमार मिश्र 'शरत'
जन्म-: 14 जनवरी            1994
माता -: कलावती देवी
पिता -:राम शंकर मिश्र
पता-: ग्राम व पोस्ट कोदौरा, जिला- सीतापुर उत्तर प्रदेश।
शिक्षा-: बीए, एमए,(हिंदी) बीएड, नेट जेआरएफ, इलाहाबाद विश्वविद्यालय ।
कार्य -शोध
-:-विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित कविताएं
-:-उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान से युवा कविता सम्मान।
-:इलाहाबाद विश्वविद्यालय हिंदी विभाग से रामस्वरूप चतुर्वेदी कविता पुरस्कार (स्नातक वर्ग 2012)
ईमेल-satyendra15794@gmail.com
0000000000000000000

लक्ष्मीनारायण गुप्त


खोल दो ये खिड़कियाँ


खोल दो ये खिड़कियाँ कुछ बाहर की हवा आने दो
खोल दो पर्दे और रोशनी को आने दो
बन्द घर की गंध ज़रा बाहर निकल जाने दो
झाड़ू लगाओ और धूल मिट्टी निकल जाने दो

खोल दो मन की खिड़कियाँ इसमें नये विचार आने दो
हटाओ अपने मन का अन्धकार और ज्ञान का प्रकाश आने दो
छोड़ दो पुरानी दमघोंट रूढ़ियाँ इन्हें अपनी मौत मर जाने दो
साफ कर दो अपने मानस के जाले सड़ायँध को निकल जाने दो

जिसने कभी रोशनी नहीं देखी है उसकी आँखें चका चौंध हो सकती हैं
लेकिन यह केवल क्षण मात्र के लिए है आँखों को को ज़रा अभ्यस्त हो जाने दो
बेसुरी आवाज़ों से दूर अपने कानों में नये सुरों को आने दो
जाओ उन जगहों में जहाँ नहीं गए पहले अपरिचित को परिचित में बदलने दो

छोड़ दो परलोक की चिन्ता अपने मन को इस लोक में रमने दो
दुख नहीं दो किसी को और हो सके तो कुछ औरों का भला कर दो
इस दुनिया में अच्छा बुरा सब कुछ है अपने विवेक को सक्रिय रहने दो
बिता दो अपनी ज़िन्दगी सुख शांति से मौत आती है तो आने दो

--
लेखा जोखा

जो हम भुलाना चाहते हैं
वह भूल नहीं पाते
जो क्षण जीवन में आये थे
जिनमें हमारा वर्ताव ग़लत था
उन्हें हम भूल नहीं पाते
ये क्षण काँटों की तरह सालते हैं
काँटा जो निकाला नहीं जा सकता
भूल जो सुधारी नहीं जा सकती

कटु वाक्य जो बोल दिये थे
खीझ कर, उनका असर
क्या हुआ, कह नहीं सकते
किन्तु यदि सम्भव होता तो
वे शब्द मैं वापस ले लेता
शब्दों का आघात क्या होता है
मुझे पता है क्यौकि मैं ख़ुद भी
उनका शिकार बना हूँ अतीत में

कुछ अच्छा भी किया है
किसी की मदद भी की है
औरों का दुख सुख भी सुना है
कुछ आंसू भी पोंछै हैं
मृदु वाणी का मरहम भी
किसी के घाव पर लगाया है
बस यह आशा करता हूँ
कि भले और बुरे का समीकरण
हो गया है या भला थोड़ा
बुरे से अधिक है
--
मेरा जीवन

चल रहा है अब जीवन का आठवाँ दशक
समय आगया है लेखा जोखा करने का
क्या खोया है, क्या पाया है
किन किन का मैंने दिल दुखाया है
किसके जीवन की कसक मैं नहीं सुन पाया
किसकी मदद के लिए हाथ नहीं बढ़ाया

मैंने बहुत सारी ग़लतियाँ की है
कभी जाने में, कभी अनजाने में
लेकिन प्रयत्न किया है
कि हर परिस्थिति में
समन्वय हो, फूट नहीं

मुझे कोई पछतावा नहीं है
कि मैंने कैसे ज़िन्दगी बिताई है
यदि मुझे फिर से ज़िन्दगी बिताने
का मौका मिले तो मोटे तौर पर
वही करूँगा जो मैंने इस ज़िन्दगी में किया है

आगई है अब जीवन की शाम
अभी तक किन्तु मैं हूँ हैरान
कि जीवन का क्या है उद्देश्य
ज्ञात होगा कभी इसमें संदेह

इस अनिश्चितता को वरण करना ही होगा
विकल्प कोई नहीं यह मानना होगा
जीवन के बचे खुचे वर्ष पूरे हो जायेंगे
फिर क्या होगा कभी नहीं जान पायें


—-
00000000000000000

अरुण तोमर


"पागल पथिक"

मैं पागल पथिक निर्जन पथ का
चित्त पर चित्र उभरे सजीले
जग गयी फिर नयी आशायें
पर वेदनाओं से अभी नयन गीले।।

कहीं जरा स्नेह मिले तो
तनिक आराम वहाँ कर लूँ
चाह में हूँ अभी छांव की
जहाँ से वेग पुन:  भर लूँ।।

फिर बैठ चिंता करूँ मैं जग की
लगाऊं सदियों तलक वहाँ फेरा
क्यूँ एक तरफ आलोक नवीन था
क्यूँ एक तरफ घनघोर अंधेरा।।

फिर दु: ख के महाजनपदों में घूमूं
मौन-मौन सी कठपूतलियाँ देखूँ
पीड़ितों की पीड़ाओं में पैठूँ
नर्मदा से फिर उनको लेखूँ।।

यथार्थ की ओछी बातें सभी
विद्रोह विरूद्ध भड़काती आवें
धर्म-अधर्म के भेद सभी
सत्य-असत्य समझाती आवें।।

पर सोचते हुए डरता हूँ
समाधान कोई कहाँ है पाया
मिली दूर तक बस मरीचिका
आभासी जल- कण हाथ ना आया।।

सुनो पथ की 'धूल' औ 'आँधी
मेरा गंतव्य बताती जाना
अच्छे दिनों की प्राप्ति में मुझको
कितनी राह अभी है जाना।।

कितनी पराजयों से मुझको
हौसला अभी परखना है
ये यथार्थ का नंगा अस्थि पंजर
अभी कितना और निखरना है।।

मैं कल की आशाओं का बस
व्यामोह लादकर चलता हूँ
कब संकट के बादल छंट जाये
इस दिवा स्वप्न में पलता हूँ।।

आज जगा तो निकल पड़ा हूँ
दु: ख के महासागर की भंवरें
कहीं क्रांति के बीज उगे थे
बस खोज रहा मैं वे किरणें।।

मैं लेकर चलूँगा संग सबको
तोड़ लायेगें तारे चमकीलें
फिर धरा का श्रृंगार करेगें
खिलेगा पुष्प रंग- रंगीले।।

मैं पागल पथिक निर्जन पथ का
चित्त पर चित्र उभरे सजीले।।


इस रचना को "मेरठ कालेज" हिंदी-विभाग ने सुंदर समालोचना तथा उचित सारगर्भित शब्दों का समावेश करके मूल्य प्रदान किया है। मैं अपने पूजनीय प्राध्यापकों का बहुत -बहुत आभार व्यक्त करता हूँ।


0000000000000000

हरिओम गौड़


'ममता और बाल स्नेह'

ठुनक रहा है आँगन में वो,
माँ की आँखों का तारा,
सूरज जैसा तेज है जिसमें,
चाँद से भी जो है प्यारा,
देख के जिसकी एक छवि को,
मंत्रमुग्ध हो मन सारा,
ऐसी अदा है उस चेहरे में,
कि झूम रहा आँगन सारा,
काजल का टीका माथे पर,
लचीले बेल सा तन है,
पीताम्बर धारण किया है,
निश्चल कोमल मन है,
रेंग-रेंग कर चलना उसका,
दिल को बहुत लुभाता है,
घुटनों के बल चलते-चलते,
वो निरंतर गिरता जाता है,
हठ करता है हर बात की,
लड़-लड़कर मैं भी हारा,
ऐसी अदा है उस चेहरे में,
कि झूम रहा आँगन सारा।
हाथों के बल लिटाती उसको,
छलका-छलका के नहलाती है,
अधिक वेग से हाथ फिरे ना,
वो ममता है सब जानती है,
पलकें नहीं झपकता एक क्षण भी,
देख-देखकर मैं भी हारा,
ऐसी अदा है उस चेहरे में,
कि झूम रहा आँगन सारा।।
            
            B.sc 4th SEM(cbz)
            D.B.S (P.G) College Dehradun
00000000000000000

सतीश कुमार यदु


"नृत्य दिवस" का पावन क्षण ,
नर्तन करता मोर मन !
साथ न देता यह तन ,
भीषण गर्म रवि किरण !
ऊष्णता लिए वातावरण ,
और ये ऋतु तपन !
हे दिनेश, दिवाकर, दिनकर तुमको है नमन
सुनाई न  देता कोकिल कण्ठ ,
स्तब्ध खड़ा सब जन जीवन !
उर में उठ रहा प्रतिपल जलन
ले आओ शीतल मंद पवन !
त्राहिमाम त्राहिमाम भास्कर भुवन ,
शांत करो अंतस्तप्त अंतःकरण !
हे प्रभाकर, मार्तण्ड , हरि,पतंग तुमको है नमन

सतीश कुमार यदु, व्याख्याता
कवर्धा छत्तीसगढ़
00000000000000000

डॉ0जय प्रकाश यादव


**नायक**
********
प्रभात - काल
दर्पण निहारता,
घाव सहलाता नायक,
रात के सपनों से भयभीत,कि-
क्षत -विक्षत गिरने पर भी नहीं छोड़ता,
दैत्य गला दबाता रहा।
माँ ने देखा -
युद्ध-उद्त बेटे को ,
जो निरीह सा देखता है,
कि वही अस्त्र-शस्त्र ,वही रणभूमि,
और नित्य एक युद्ध।
निराकार ब्रह्म सा,दल-बल सहित बेकारी,
संचालित करता एक युद्ध,
और युद्ध ?
क्षत-विक्षत ,कट कर गिरते मनुष्य,
लथपथ अंग-प्रत्यंग,कराह-चीखें,
रक्त-रंजित दूर तलक बंजर भूमि।
एक दुःसाहस! युद्ध जारी रखना है।
क्योंकि- प्रसुप्त ज्वालामुखी,
सीने में दबाते - दबाते,
विकृति होते. चेहरे,
व्यंग चित्र सा आदमी,
मरी हुई व्यवस्था ,
लाश में कीड़े सा कुलबुलाता नेतृत्व।
युद्ध रतों के नथुनों में,
घुसा सड़ांध और व्याकुल नायक ।
कि शाप मुक्त होना है।
मानस चित्र बदलना है।
नायक ,कराहता है कि-
युद्ध जारी रखना है।
शापमुक्त होना है।
तभी,अखबार वाला चिल्लाया।
"राम नहीं आयेंगे, कार्यक्रम स्थगित,"
कोई शाप मुक्त नहीं ।
क्यों नहीं होगा ?
कब तक पत्थर ,पत्थर रहेगा ?
दहाड़ता हुआ निकालता है तलवार ,
आओ ! मेरे साथ -
'उसे युद्ध में हरायेंगे,
उसे पकड़ कर लायेंगे,
फिर होगी मुक्ति।'
पीछे देखता हैं ,तो
सन्नाटे में गूँजती है प्रतिध्वनि।
सन्नाटा ! सिर्फ तुम ?
चलो ! तुम्ही चलो।
तभी भटकती हुई ध्वनि सुना-
"रोज तो जाता हैं कहीं मरने ,
फिर क्यों नहीं मरता ?
माँ ने कहा -"नहीं रे लड़ने जाता है,
युद्ध लड़ रहा है, मुक्ति पा रहा है।"
जा समय से चला जा।
वह चलने लगा,
अकेला ही लड़ने जीवन - युद्ध।
सुनायी देती रही प्रतिध्वनि ,
अंतिम पद-चाप तक।
वह भागता चला गया,
कागजी अस्त्र- शस्त्र सज्जित नायक।
*********************


00000000000000000

अशोक बाबू माहौर


काँटों पर
काँटों पर
बैठी
उदास तितली
शायद सोचती होगी
फूलों की बगिया उजड़ गयी
जंगल उजड़ गये
मेरा रहना कठिन सा
श्राप बन गया।
जाऊँ कहाँ?
कहाँ से रस चूसूँ?
मेरी अचल संपत्ति
बिखर गयी
विलुप्त हो गयी
अब मैं भी चलती हूँ
कहीं दूर
जहाँ हो
खुशबू नन्हें फूलों की
प्यारी मधुर बगिया भी

--
       परिचय
अशोक बाबू माहौर
साहित्य लेखन :हिंदी साहित्य की विभिन्न विधाओं में संलग्न।
प्रकाशित साहित्य :हिंदी साहित्य की विभिन्न पत्र पत्रिकाएं जैसे स्वर्गविभा, अनहदक्रति, साहित्यकुंज, हिंदीकुंज, साहित्यशिल्पी, पुरवाई, रचनाकार, पूर्वाभास, वेबदुनिया, अद्भुत इंडिया, वर्तमान अंकुर, जखीरा, काव्य रंगोली, साहित्य सुधा, करंट क्राइम, साहित्य धर्म आदि में रचनाऐं प्रकाशित।
सम्मान :
इ- पत्रिका अनहदक्रति की ओर से विशेष मान्यता सम्मान 2014-15
नवांकुर वार्षिकोत्सव साहित्य सम्मान
नवांकुर साहित्य सम्मान
काव्य रंगोली साहित्य भूषण सम्मान
मातृत्व ममता सम्मान आदि
प्रकाशित पुस्तक :साझा पुस्तक
(1)नये पल्लव 3
(2)काव्यांकुर 6
(3)अनकहे एहसास
(4)नये पल्लव 6
अभिरुचि :साहित्य लेखन।
संपर्क :ग्राम कदमन का पुरा, तहसील अम्बाह, जिला मुरैना (मप्र) 476111
000000000000000

डॉ0 मृदुला शुक्ला "मृदु"


मां को समर्पित कुछ पंक्तियाँ–

"गंगाजल-सी है माँ पावन"

काशी,काबा, तीर्थ है माता,
शुद्ध प्रेममयी स्नेहिल माता।
माता से नाता अति अनुपम,
सबसे प्यारी मधुरिम माता।।

मृदु  पुष्पों  से भरी मृदुलता,
दिनमणि जैसी भरी प्रखरता।
गंगाजल–सी  है  माँ  पावन,
वाणी  में अति भरी मधुरता।।

माँ की गोद में देव भी विह्वल,
मैया  की  ममता  है अविरल।
सागर–सी  गहराई  है  इसमें,
हिमगिरि-सा मृदु मन है अविचल।।

माँ के बिना नहीं फुलवारी,
माँ से महके क्यारी-क्यारी।
माँ-सन्तति का अनुपम नाता,
"मृदु" माँ पर जाए बलिहारी।।

महि-अम्बर से विशाल है माता,
सीधी, सरल, महान है माता।
सुर,नर,मुनि से वन्दित मां नित,
तीनों लोकों में गर्वित माता।।

          कवयित्री
डॉ0 मृदुला शुक्ला "मृदु"
114, महराज-नगर
लखीमपुर-खीरी(उ0प्रा)
मो0 नम्बर–9919168464
कॉपीराइट–कवयित्री डॉ0 मृदुला शुक्ला "मृदु"
000000000000000000

देवेन्द्रसिंह राठौड (भिनाय)


बीते हुये पल में चले आये,
गुजरे हुये कल में चले आये l
बीते हुये पल.......
वो बारिश की मस्ती,
वो कागज की कश्ती,
वो बारिश की.........
हम खुद को भिगो आये l repeat
बीते हुये पल..........
अभिलाषायें अधूरी,
जो हो न सकी पूरी,
अभिलाषायें....
हम उनसे मिल आये l repeat
बीते हुये पल....
जिन लम्हों ने हँसाया,
इक ख्वाब दिखाया,
जिन लम्हो.....
हम उन में जी आये l repeat
बीते हये पल......
देखा जो अक्स तेरा,
मचला फिर दिल मेरा,
देखा जो.....
अरमान मचल आये l repeat
बीते हुये पल में.....

 

0000000000000000000

अजय अमिताभ सुमन


तुम ही संबल समर्थ अहो

जीवन ऊर्जा तो एक ही है,
तुमपे है, कैसे खर्च करो।
या  जीवन  में अर्थ भरो या,
यूँ हीं इसको व्यर्थ करो।

या मन में रखो हीन भाव,
और चाहो औरों पे प्रभाव,
भागो बंगला  गाड़ी  पीछे ,
कभी ओहदा कुर्सी के नीचे,
जीवन को खाली व्यर्थ करो,
जीवन ऊर्जा तो एक ही है,
तुमपे है, कैसे खर्च करो।

यदि मन में हो मान, ताप ,
तो तन में हो पीड़ा ,संताप,
फिर ताप अगन छा जाता है,
तेरा ही तन जल जल जाता है,
ये  मान , क्रोध अनर्थ  तजो,
जीवन ऊर्जा तो एक ही है,       
तुमपे है, कैसे खर्च करो।

बेशक जीवन में आय रहे,
पर ना जीवन पर्याय रहे ,
कि तुममे बसती है सृष्टि,
कर सकते ईश्वर की भक्ति,
कोई तो तुम निष्कर्ष धरो,
जीवन ऊर्जा तो एक ही है,
तुमपे है, कैसे खर्च करो।

धन से सब कुछ जब तौलोगे,
जबतक निज द्वार न खोलोगे,
हलुसित होकर ना बोलोगे,
चित्त  के बंधन ना तोड़ोगे,
तुममे कैसे प्रभु आन बसो?
जीवन ऊर्जा तो एक ही है,
तुमपे है, कैसे खर्च करो।

कभी ईश्वर यहाँ न आएंगे,
कोई मार्ग बता न जाएंगे ,
तुमको ही करने है उपाय,
जीवन का हेतु और पर्याय,
निज जीवन में कुछ अर्थ भरो,
जीवन ऊर्जा तो एक ही है,
तुमपे है, कैसे खर्च करो।

बरगद जो ऊँचा होता है,
ये देख अनार क्या रोता है?
खग उड़ते रहते नील गगन ,
मृग अनुद्वेलित खुद में मगन,
तुम अवचेतन में फर्क करो,
जीवन ऊर्जा तो एक हीं है,
तुमपे है, कैसे खर्च करो।

ये देख प्रवाहित है सरिता,
बहती जैसे कोई कविता,
भौरों के रुन झुन गाने से,
कलियों से मृदु मुस्काने से,
आह्लादित होकर नृत्य करो,
जीवन ऊर्जा तो एक हीं है,
तुमपे है, कैसे खर्च करो।

तुम लिखो गीत कोई कविता,
निज हृदय प्रवाहित हो सरिता,
कोई चित्र रचो, संगीत रचो,
कि हास्य कृत्य, कोई प्रीत रचो,
तुम ही संबल समर्थ अहो ,
जीवन ऊर्जा तो एक ही है,
तुमपे है, कैसे खर्च करो।

जीवन ऊर्जा तो एक हीं है,
तुमपे है, कैसे खर्च करो।
या  जीवन  में अर्थ भरो या,
यूँ हीं इसको व्यर्थ करो।
संबोधि के क्षण

इन आंखों से नित दिन गुनता,
रहता था जिसके सपने,
वो भी तो देखे इस जग को,
नित दिन  आँखों से अपने।

कानों में जो प्यास जगी थी,
वाणी जिसकी सुनने को,
वो भी तो बेचैन रहा था,
अक्सर  मुझसे  मिलने  को।

पर मैं अक्सर अपनों में,
नित दिन हीं खोया रहता था,
दिन में तो चलता रहता,
सपनों में सोया रहता था।

जन्मों जन्मों से खुद को,
छलने से ज्ञात हुआ है क्या?
सच ही तो है कभी सत्य,
स्वप्नों में प्राप्त हुआ है क्या?

निराशुद्ध था पावन निर्मल,
इसका बोध नहीं मुझको,
निज को हीं जो ठगता जगमें,
वो निर्बोध कहे किसको?

जन्मों की अब टूटी तन्द्रा,
मुझको ये संज्ञान हुआ,
प्राप्त नहीं कुछ भी किंचित,
केवल लुप्त अज्ञान हुआ।

कर्णों के जो पार बसा है,
बंद आँखें हैं जिसकी द्वार,
बिना नाद की बजती वीणा,
वो ॐ है सृष्टि सार।  

पाने को कुछ बचा नहीं और ,
खोने को ना शेष रहा,
मैं जग में जग है मुझमें कि,
कुछ भी ना अवशेष रहा।

हुआ तिरोहित अहमभाव औ,
जाना कर्म ना कर्ता हूँ,
वो परम तत्व वो परम सत्व ,
सृष्टि व्याप्त हूँ, द्रष्टा हूँ।
---
राह प्रभु की


   कितना सरल है,
सच?
कितना कठिन है,
सच कहना।

कितना सरल है,
प्रेम?
कितना कठिन है,
प्यार करना।


कितनी सरल है,
दोस्ती,
कितना मुश्किल है,
दोस्त बने रहना।


कितनी मुश्किल है,
दुश्मनी?
कितना सरल है,
दुश्मनी निभाना।


कितना कठिन है,
पर निंदा,
कितना सरल है,
औरों पे हँसना।


कितना कठिन है,
अहम भाव,
कितना सरल है,
आत्म वंचना करना।


कितना सरल है.
बताना किसी को,
कितना मुश्किल है,
कुछ सीखना।

कितना सरल है,
राह प्रभु की?
कितना कठिन है,
प्रभु डगर पे चलना।




अजय अमिताभ सुमन

0000000000000000000

पूनम दुबे


अजब-गजब

अजब-गजब है भाषा बोली,
अजब-गजब है दुनियां,
अजब-गजब है बिखरे मौसम
मुस्कुरायें सारी कलियां,

अजब-गजब.......

सुबह-सुबह चिड़ियों की बोली,झूमे सारी डालियां,
हल किसान कंधों पर रख के,
चाल चले मस्तानियां,
खेतों की हरियाली देख,
मन मेरा हरसाया......
अजब-गजब......

फूलों की खूशबू बिखरी है,
भौरों की कहानियां
पनघट पर घूंघट खिंचे,
झांक रही दुल्हनियां,
इन सबको देख -देख,
मन मेरा शरमाया....
अजब-गजब......

रिमझिम बारिश की बूंदें,
चमक रही मोती जैसे,
टिप -टिप की आवाज लगे,
कानों में सरगम जैसे,
मैं भी थोड़ा भींज जाऊं,
मन मेरा लहराया....
अजब-गजब........
पूनम दुबे
अम्बिकापुर छत्तीसगढ़
000000000000000000

सीताराम साहू


जिन्हें याद कर मुस्कुराती है आंखें
वो खुद दूर जा कर हमें देखते हैं ।
जिन्हें दिल में हर वक्त हमने बिठाला
सवालात हमसे गजब पूछते है- ।
जिन्होंने कहा था तुम्हीं जिन्दगी हो ।
जिन्होंने कहा था कि तुम बंदगी हो।
वही कह रहे बात अब तुम करो न
जमाने में खुश हो सदा बैठते है- ।
किया सात जन्मो निभाने का वादा।
लगे उनका जीवन सदा सीधा सादा ।
ऐ आशिक बड़े वेवफा जिन्दगी के
अगर कुछ कहो तो अजब ऐंठते हैं-।
लगे कि किताबों में खोये हुए हैं ।
जहर ही जहर में पिरोये हुए हैं ।
संभल जाओ इनसे रहो दूर इनसे
ऐ कानूनी माया गजब ऐंठते हैं- ।

0000000000000000

खान मनजीत भावडिया मजीद


मर जाना

मेहनत करनेवाले की लूट,
पुलिस के डण्डों की लूट,
गद्दारी करनेवाले की लूट,
लोभ की मुट्ठी की लूट,
ज्यादा खतरनाक नहीं होती

बिना खोट पकड़े जाना,
बेठे बिठाऐ पकड़े जाना,
चुप्पी के अंदर जकड़े जाना,
ज्यादा खतरनाक नहीं होती

रात को जुगनू टिमटिमाते,
उस में हम सब पढ पाते,
काश जुगनू की रोशनी ज्यादा कर पाते,
समय को दम भर कर निकाल जाते,
ज्यादा खतरनाक नहीं होता।

खतरनाक हैं
मुर्दा शांति से मर जाता,
उसमें तड़प का न  होना
सहन कर जाना
पूरी जिंदगी दुख  होना
काम से लौट कर घर आना
सुबह काम पर जाना
सपनों का मर जाना
कलाई स घडी गिर जाना
वक्त उसका रूक जाना
नजर का ठहर जाना
खाना तलक न खाना

खतरनाक है
जो आँख दुनिया देखती हैं
उस आंख का जाना
जिसकी नजर दुनिया की मोहब्बत भुलाती   हैं
वो होंठ जो चूमना भूल जाते  है
एक घटिया बन जी जाते है
वो गीत जिनको अक्सर गाते है
अब उन गीतों में प्यार नहीं
जिसमें हुब्बे वतनी न हो
जिसमेँ कौम की बात न हो
वो सब खतरनाक है

खतरनाक है
जिस मंजिल में कांटे न हो
न चांद की रोशनी हो
न सूरज की धूप हो
सब कुछ वीरान हो
न कोई आता हो
न कोई जाता हो
न पौधे  हो
न पानी हो
न हवा हो
वह खतरनाक हैं

वह खतरनाक हैं
न जी पायेगा
न पी पायेगा
यह नहीं होगा
तो सपना भी नहीं होगा
सारे सपने मर जायेंगे

सबसे खतरनाक हैं
सपनों का मर जाना


गाँव भावड गोहाना सोनीपत -131302
0000000000000000000

डॉ. रानू मुखर्जी


आंसू                 
एक दिन अचानक मेरी सहेली का फोन आया
कि कल वह गई थी
हास्य कवि सम्मेलन में
जहाँ उसे बड़ा मजा आया ।
मजा इतना आया कि
हंसते हंसते आंखों में पानी भर आया
सुनकर तो मेरा सर चकराया
भुख के कारण आंखों का बहना
चोट लगने पर आंख भर आना
दर्द का सैलाब बन जाना
सुना था!
पर हंसते हंसते आंसू का बहना ?
सोचने पर याद आया एक “सबक”
कि आंखो के पानी में होता है “नमक”
जब दर्द में बहता है तो
लगता है पानी खारा और
जब हंसने पर बहता है तो
लगता है मीठा मीठा प्यारा प्यारा
तो जब भी आंसू बहाइए इसे चखिए
और चखकर जरुर बताइए कि
यह मीठा है या खारा
अगर मीठा है तो इसे खूब बहाइए
खूब बहाइए और जीवन का मजा लुटिए ।
        पतंग                    
            नीला आसमान खिलखिला रहा है
            रंग अपना जमा रहा है पर वह
            रंग  बिरगी पतंगों से  घिर रहा है
            होड लगी है पतंगों में एक दूसरे को टापने की
           शाम का सूरज
           फिजा का रंग बद्ल रहा है                                                                                                                           
आसमान को अपने रंग से सजा रहा है
चांद जो अब तक फीका था अब चमकने लगा है
उधार ली हुई सूरज की रोशनी से दमक रहा है
सितारे अब आंख मिचौली खेल रहे है
  पतंग की तरह वे भी आसमान  को
खेल के मैदान में बदल रहे है
मैं भी अनमनी सी उस बद्लाव को देख रही थी
उड्ते पतंगों में अपनी छ्वि निहार रही थी
तारे तो स्वतन्तत्र थे अपने में चमक रहे थे
पर पतंग की डोर धरती से जुडी होती है
विडंम्ब्नाओ से घिरी औरत की तरह होती है
             ममता , विश्वास , भरोसा, अपनेपन की आस में
मर मरकर जीती रहती है
पर मैं पतंग बनकर भी अपनी पहचान बनाना चाहती हूं
सदियां बीत जाती है अपनों को पहचान कर उनसे जुड्ने में
मैं अपने आप से जुडकर आसमान को  छूना चाहती हूं .
--
                   मैं भी बन सकती हूं सीता पर नहीं
                                                     
नहीं सहूंगी अकारण मैं लोगों की बातें भली बुरी
नहीं बनूंगी राम की अनुगामिनी बनना चाहूंगी सहचरी
      नहीं बनने दूंगीं अपने परिवार को किसी मथंरा के मन्त्रणा का शिकार
     नहीं मरने दूंगी दशरथ को सहकर अपने वर का प्रहार
अचानक छोड़ राजपाट क्यों भटके राम वन वन
संस्कारी होने की दुहाई दे नहीं रहूंगी तब मौन
       मागूंगी न्याय समाज से क्या अग्रज होने का अर्थ है केवल विसर्जन
        मैं भी बन सकती हूं  सीता पर नहीं
  नहीं बनने दूंगीं अपने राम को किसी शूर्पणखा का शिकार    
रहूंगी सहचरी बन डोलूंगीं हरदम उनके आसपास
      नहीं करुंगी हठ स्वर्ण हिरन के लिए
      अगर किया भी तो जाऊंगी संग उसे पाने के लिए
क्यों रहूं घेरे में बन्द खींची गई लक्ष्मण रेखा के मध्य
मैं भी हूं समर्थ इतनी कि खींच सकती हूं रेखा
किसी को रखने के लिए मध्य
      डर डर कर क्यों दूं भिक्षा                                                                  

पहचान कपटी को क्या नहीं कर सकती अपनी रक्षा
  तन में आग मन में आग रावण के लिए मेरे हर कर्म में आग
       विनती सुन लो अबके हे सीतापति राम
       हो उदय विश्व में नारी के प्रति सम्मान
        अब से न हो किसी नारी का अपमान
         किसी नारी का अपमान। हे सितापति राम हे सितापति राम
   मैं भी बन सकती हु सीता पर नहीं                          डा. रानू मुखर्जी
                                                   
                          

                        १७, जे. एम. के.अपार्टंमेन्ट ,ऍच.टी.रोड , सुभानपुरा ,
                          बडोदा ३९००२३.
---
0000000000000000000

प्रणव भारती


एक कड़ी
-----------

जीवन को नापते हुए
कभी पूरे आकाश से
कभी पूरी धरा से
कभी अहसासों के आँगन  से
कभी धुंध भरे प्राँगण से
कभी धड़कते हृदय से
कभी बंद होने की प्रक्रिया में
उलझती साँसों से
एक ही कड़ी
रह जाती है
ताकती ,ऊपर कहीं
टँगी, आकाशीय खालीपन को ताकते
आँखों के आँसुओं में भरे
एक कौतूहल
तलाशती जीवन की
गरिष्ठता को ,जो न जाने क्यों
पच ही नहीं पाती
लम्हों में बिखरे सूनेपन को
बटोरने की कोशिश में
समोने के प्रयास में ,एक चिथड़े में से
झांकती नज़र आती है
सहमती है ,सहमाती है
पलों की दूरी को
परिवर्तित करती मीलों की दूरी में
एक कड़ी
बंधी रह जाती है
मेरे भीतर कहीं
और मैं ! मन की साँकल खोलने में
स्वयं को
अशक्त पाती हूँ
निर्जन अहसासों के बयाबान में
उस कड़ी को खोलने के प्रयास में
जूझती
उम्र के अंतिम चरण तक
जा पहुंचती हूँ ||

                                                                              
नाम ; डॉ. प्रणव भारती
शैक्षणिक योग्यता ; एम. ए (अंग्रेज़ी,हिंदी) पी. एचडी (हिंदी)
लेखन का प्रारंभ ; लगभग बारह वर्ष की उम्र से छुटपुट पत्र-पतिकाओं में लेखन
जिसके बीच में 1968 से लगभग 15 वर्ष पठन-पाठन से कुछ कट सी गई
हिंदी में एम.ए ,पी. एचडी विवाहोपरांत गुजरात विद्यापीठ से किया     
शिक्षा के साथ लेखन पुन:आरंभ

उपन्यास;
-----------
-टच मी नॉट
-चक्र
-अपंग
-अंततोगत्वा
-महायोग ( धारावाहिक रूप से ,सत्रह अध्यायों में दिल्ली प्रेस से प्रकाशित )
-नैनं छिन्दन्ति शस्त्राणि
-गवाक्ष
-मायामृग
-शी डार्लिंग (कहानी-संग्रह )

पद्य रचनाएं;
--------------
-एक त्रिशंकु सिलसिला
-चंपक चूहा एवं अन्य बाल-कविताएं (बच्चों के लिए)
-(अप्रकाशित बहुत सी पद्य रचनाएं) भविष्य में प्रकाशित होने की संभावना

अन्य कार्यों में रही संलग्नता ;
-------------------------------
-गुजराती व अंग्रेज़ी से हिंदी में अनुवाद(कहानी,कविता,उपन्यास आदि)
-NID की योजना ' डिस्कवरी ऑफ़ इंडिया ' मुंबई के लिए अनुवाद कार्य
-अहमदाबाद एक्शन ग्रुप (असाग) में को-ऑर्डिनेटर के रूप में कार्य
-राष्ट्रीय डिज़ाइन संस्थान (NID) में हिंदी अधिकारी के रूप में अनुभव
-इसरो (अहमदाबाद) के शैक्षणिक विभाग (डेकू )के लिए कई नाटकों व कार्यक्रमों का लेखन तथा प्रस्तुति
-इसरो के डेकू विभाग के लिए सरकारी योजना के अंतर्गत (अब झाबुआ जाग उठा) सीरियल का कथानक,शीर्षक गीत एवं संवाद-लेखन (68-70 ) एपिसोड्स का लेखन (भोपाल के लिए)
-इसरो (अहमदाबाद)के माध्यम से भोपाल,इंदौर के लिए पद्य में नृत्य-नाटकों का लेखन
-'एजुकेशन इनीशिटिव्स' संस्था के साथ हिंदी -विशेषज्ञ के रूप में कई वर्षों तक संबद्ध
-( "   " "  " " " " " " " )  के लिए बच्चों के शिक्षण हेतु लगभग 70 बच्चों की कविताओं का गुजराती से हिंदी में अनुवाद
-आई .आई. एम अहमदाबाद के साथ सात वर्षों तक हिंदी-विशेषज्ञ के रूप में जुड़ाव
-लंदन में 'ए वोयेग ऑफ पीस एंड जॉय ' शीर्षक  से फ्यूज़न के लिए 8  भजनों का लेखन
-विभिन्न संग्रहों ,पत्र-पत्रिकाओं में गद्य-पद्य लेखन में भागीदारी
-आकाशवाणी एवं दूरदर्शन में  वर्षों से भागेदारी  (कविता,कहानी-पाठ,नाटक,साक्षात्कार,चर्चा,संचालन आदि 
-Visiting Faculty (CITY PULS FILM & TELEVISON iNSTITUTE ,GANDHINAGAR' अहमदाबाद से तीन वर्ष पूर्व से घर से कार्यरत

सम्मान एवं उपलब्धियाँ  ;
---------------------------
-विभिन्न संस्थाओं द्वारा सम्मान
-अंततोगत्वा उपन्यास को हिंदी साहित्य परिषद द्वारा प्रथम पुरूस्कार
-गवाक्ष उपन्यास को रांची से 'स्पेनिन पुरुस्कार ',  श्री योगी जी ,मुख्य मंत्री (उत्तर-प्रदेश) द्वारा
'प्रेमचंद नामित पुरूस्कार
-'राही रैंकिंग' में विश्व के 100 हिंदी -लेखकों में नाम दर्ज  

संलग्न
-------
-उपन्यास 'हिरण्यगर्भ:' (शीर्षक में बदलाव अपेक्षित)
-कहानियाँ , पद्य-रचनाएँ विभिन्न पत्रों व वेब पत्रिकाओं के लिए
-कई संस्थाओं से जुड़ाव  
-विराट-वैभव हिंदी दैनिक-पत्र 'दिल्ली'   चार विभिन्न स्थानों क्रमश:जयपुर,जोधपुर व अहमदाबाद में प्रत्येक रविवार को लेख 'उजाले की ओर' का प्रकाशन  (वर्षों से )

शौक;
कत्थक नृत्य ,भारतीय शास्त्रीय संगीत,पठन,लेखन 



निवास;
डॉ. प्रणव भारती 
'ललितश्रुति' 31 ,उमेद पार्क
सोला-रोड़
घाटलोडिया ,अहमदाबाद 61


0000000000000000000

कंचन खत्री


जज़बाती दिल कुछ भुला बैठा है,
गम का नकाब पहने बैठा है।

इसे हटा ना पाएगा कोई अंधी तूफान,
बना रहेगा समुद्र की लहरों सा उफ़ान।

दूसरों गम में कब तक जियोगे,
कुछ तो खुद के भी राहगीर बनोगे।

चंचल मन में कितनी कड़वाहट भर पाओगे,
आख़िर कब तक खुद से मुख मोड़ पाओगे।

पानी सिर पार कर जायेगा,
दिल तू कब तक जज़बाती बना रहेगा।

--
#_सच्ची यारी_#
सच्ची यारी हैं जुड़ी ए दोस्तों तुमसे,
हम जैसे भी हैं बस सदा जुड़े रहना हमसे।
मुसीबत में साथ दिया हर पल हक से,
मेरी नादानियों को माफ़ किया बेशक़ दिल से।
गलत फहमियों में हम झगड़ लिये एक दूसरे से,
पर दोस्ती का सफ़र बनाते गये गहराई से।
मुख ना मोड़ना कभी मुश्किलों से,
बांधे रखना मुझे अपने साये से।

सच्ची यारी हैं जुड़ी ए दोस्तों तुमसे।
मस्ती के पल ना भूलेंगे हम भूल से,
दूर रहेंगी हमारी दोस्ती हर इम्तिहानों से।
आजीवन याद रहेंगे साथ खेले खेल सदा से,
दूर ना कर पाउंगी हमारा बचपन ख्यालों से।
माना दोस्ती नहीं निभती एहसानों से,
पर जिंदगी पूरी नहीं होती बिना दोस्तों के एहसानों से।
रब से दोस्त मिले फरिश्तों से,
सच्ची यारी हैं जुड़ी ए दोस्तों तुमसे।।
00000000000000000

नवनीता कुमारी


लोग कहते है कि माँ कैसी होती हैं,
मैं कहती माँ बस माँ जैसी होती हैं|
ना मंदिर की मूरत हैं,ना मस्जिद के अल्लाह की सूरत |
माँ की प्रीत का असर दवा में दुवाओं जैसा होता है,
माँ सहनशीलता की मूरत होती हैं |
हर बच्चा अपनी माँ की छवि होता है,
दुनिया में बस एक यही रिश्ता सच्चा होता |
बचपन में हर बच्चे की माँ के लिए नादानी होता है,
और बड़े होने पर बच्चे के लिए माँ से रिश्ता ही बेमानी होता है |
माँ का अर्थ ' मेरे पास मेरे बच्चे का हर संकट आ 'हर माँ के लिए होता है,
माँ जैसी रिश्ते का कोई मोल नहीं |
लोग कहते है माँ कैसी होती हैं,
मैं कहती हूँ माँ बस माँ जैसी होती हैं ||

000000000000000000

चंचलिका


   " कचरा "

वह था छोटा सा
प्यारा सा बच्चा
साथ में थी
उसकी बेबस माँ ।
मैली कुचली
चिथड़ों में लिपटी
कचरे की बोरी साथ लिए........

ये दोनों
साथ थे मेरे ।
सफ़र में
हमसफ़र बनकर ।
माँ के कदम थे
थोड़े से लड़खड़ाये ।
हलक़ से उतरे थे उसके
एक बोतल ज़हर.......

अपने दर्द
भुलाने का
तरीक़ा उसका ग़लत था।
दुनिया के तानों ने
बच्चे को बहुत
रुलाया था.........

बच्चे ने दुनिया की
बेरुख़ी देखी ।
शर्मसार होकर
माँ से बोला,
" अब उठ जा माँ,
फिर बेहोश न होना ।
डर लगता है ,
माँ, मर न जाना ।
इस ज़ालिम दुनिया ने
हमें कुछ न दिया
सिवाय नफ़रत के ।
तेरे सिवा मेरा कोई नहीं ।
अब उठ जा माँ,
देख मरना नहीं "........

मेरे भीगे नैनों ने देखा
उन ज़िल्लत भरी
मासूम निगाहों को ।
बेबस होकर जो हर पल
सम्हाल रहा था
अपनी मजबूर माँ को........

आखिर बच्चा ही था ।
दुनिया की क्रूर मंशा से
वह थक हार कर वापस चला
अपनी झोपड़ी की ओर ।
कचरे की बोरी साथ लिए........
---- .


                    " सूखी झुर्रियां "

सूखी है काया
मगर हृदय का स्पर्श
अभी बाकी है
उम्र गुज़र गई
मगर एहसास
अभी बाकी है.....

ये घनेरी छाँव है
झुर्रियों का मोहताज़ नहीं
जन्नत इसी स्पर्श में है
बाकी और कहीं नहीं.....

रुपये पैसे ऐश ओ आराम
कुछ भी रास नहीं आते
जिनके घर में ऐसा स्नेह नहीं
वो घर सूने से रह जाते.....

जड़ जहाँ मज़बूत नहीं
डाल,  पत्ते कुम्हला जाते हैं
घर की बुनियाद बुज़ुर्ग ही होते
बिन उनके सब अधूरे लगते हैं....
---- चंचलिका.


00000000000000000000

सचिन राणा हीरो

  """ तुम हो """
मेरे जीवन का आधार हो तुम,, मेरी खुशियों का संसार हो तुम,,
बड़ी मुश्किल से तुमको पाया,, मेरी लोरी का अल्फाज़ हो तुम,,
मेरी आंखों के सितारे हो,, मेरे आंगन के राज दुलारे हो,,
मेरे जीवन रूपी आसमान के, तुम ही तो ध्रुव तारे हो,,
मेरे साजन की छाया हो, मेरी चौखट का शृंगार हो तुम,,
मेरे जीवन का आधार हो तुम, मेरी खुशियों का संसार हो तुम,,
मेरे उपवन के पौधे तुम, तुम ही फूल चमन हो,,
मेरी आंखों में सजते, तुम ही नयन कमल हो,,
मेरे आंचल के इन्द्रधनुष के , अद्रित रंगदार हो तुम,,
मेरे जीवन का आधार हो तुम, मेरी खुशियों का संसार हो तुम,,
मेरे खुश होने की आदत हो, मेरे जगने का बहाना हो,,
मैं हुं तेरी यशोदा मां ,, तुम ही तो मेरे कान्हा हो,,
तेरी मीठी बोली जैसे , नंदलाला का अवतार हो तुम,,
मेरे जीवन का आधार हो तुम, मेरी खुशियों का संसार हो तुम,,
राणा की यही गुज़ारिश रब से, बस इतनी सी फरमाइश है,,
बेटा चले ना गलत मार्ग पर, हर मां की यही बस ख्वाहिश़ है,,
मेरे ख्वाबों की दुनिया का, एक सच्चा सपना साकार हो तुम,,
मेरे जीवन का आधार हो तुम, मेरी खुशियों का संसार हो तुम,,
मेरे साजन की छाया हो, मेरी चौखट का शृंगार हो तुम ।
सचिन राणा हीरो
कवि एवं गीतकार
00000000000000

    ब्रजेश त्रिवेदी


खेल पुराने खेलूं , तेरे पल्लू में छिप जाऊं
छिप कर में तुझे बुलाऊ , न दिखूं तुझे रुलाऊं

तेरी रोती आँखें , मुझको गली गली में देखे
मैं देख तुझे छिप जाऊं, फिर से बच्चा बन जाऊँ

खबर नहीं थी की इक दिन ये सब सपने बन जाएंगे
बचपन वाले ये दिन , क्या फिर न आ पाएंगे

जब मचल कर सब चीजें ले लेते थे
अब चाह नहीं है कुछ , बस फिर से बच्चा बन जाऊँ

सुबह सुबह तू मुझे जगाती , मीठी चाय पिलाती
देख कर चार चवन्नी, खेतों में संग ले जाती

खुद धूप में तपती ,मुझको छाँव छुपाती
अब मैं तप जाऊँ ,तेरी गोदी में छुप जाऊँ

अम्मा बस तू इतना कर दे
मैं फिर से बच्चा बन जाऊँ

भैया के संग , राजा बन मेला जाऊँ
भाभी को रोज तंगा  कर , फिर भग जाऊँ

फिर वो मुझे बुलाये , अपने हाथों से नहलाये
धीरे से बात ब्याहने की ,कह मुझे चिढ़ाये

चिढ़ते मौसम की फिर , भाभी को याद दिलाऊँ
अम्मा कुछ तो कर , मैं फिर से बच्चा बन जाऊँ

     


0000000000000000

बाल कविताएँ

-जियाउर रहमान जाफ़री


पानी -पानी

---------------


सबकी देखो यही कहानी

सब कहते हैं  पानी -पानी

है ये तो बरसात का मौसम

बारिश वाली रात का मौसम

माना बिजली चमक रही है

बूंद एक न टपक रही      है

बादल भी आकाश पे  छाता

लेकिन फ़ौरन ही छट   जाता

सूख रहे हैं        नदियाँ -नाले

बहुत दुखी हैं    खेतों     वाले

आसमान से    आस    लगी है

चिड़ियों को भी प्यास   लगी है

बूंदें बारिश   की    जो     आती

ख़त्म ये   गरमी भी    हो   जाती

काश अगर हम      पेड़    लगाते

होती   बारिश      खूब      नहाते

--------------------------------------

हाई स्कूल माफ़ी

वाया.. अस्थावां

ज़िला.. नालंदा

803107

बिहार

9934847941

------------------------------------------

मौलिक, अप्रकाशित, तथा अप्रसारित

---------------------------------------------

परिचय

हिन्दी से पीएचडी, पत्रकारिता,, बीएड

कुल सात पुस्तकें प्रकाशित, पत्र पत्रिकाओं में नियमित लेखन

0000000000000

अविनाश तिवारी


लो हो गयी छुट्टियां गर्मियों की
मन में जगी आस
अपनों से मिलने उत्सुक है
होगी मीठी बात
कुछ शादियों में जायेंगे जमकर धूम मचाएंगे
बच्चे नाना नानी को नाको चने चबाएंगे
दादा दादी से मिलकर सुनेंगे नई कहानी
टीवी होगा अपना बेट बल्ला  होगा जानी
नहीं घूरेंगे मम्मी पापा चलेगी अपनी मनमानी
छुपम छुपाई खेलेंगे अमरैया में झूमेंगे
तालाब में होगी तबडक तबडक
बड़े मजे से तैरेंगे।
नज़र न लगाना कोई छुट्टी पर
बचपन इसे तरसता है।
मिले गांव की मीठी महक
संस्कार हमे यहीं मिलता है।

सभी बच्चों बड़ों को गर्मी की छुट्टियां की
अनेकाधिक बधाई
  #अवि

अमोरा
जांजगीर चाम्पा

0000000000000

सार्थक देवांगन

कठपुतली

मै कठपुतली हूं
मै इशारों से नाचती हूं ।
मुझमे उतनी ताकत नहीं
कि खुद निर्भर रह पाऊं ।
डोरियो ने सम्भाला है
उन्होने ही पाला है ।
गुस्सा तो आता है
  परंतु ना खुद पर अधिकार
ना है कोई आजादी
ना पता है उम्र
ना पता है नाम
बस ऐसे ही रहना है ।
डोरियो से बंधे बंधे
  जीना है हर दम ।
--
गर्मी
खत्म परीक्षा बंद पढ़ाई
बडी मुश्किल से छुट्टी आई ।
दिन भर होगी धमा चौकडी
शैतानी की कसम है खाई ।
हल्ला गुल्ला खूब करेंगे
लस्सी शर्बत जीभर पिएंगे ।

सैर करेंगे चिड़िया घर की
गप्पे लड़ायेंगे दुनिया भर की ।
खाएंगे सब कुछ भर भर के
खिलखिलाएंगे जोर जोर से ।
क्योंकि
बड़ी मुश्किल से छुट्टी आई ।


                                                         सार्थक देवांगन

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1$h=100

प्रायोजक

--***--

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * || * उपन्यास *|| * हास्य-व्यंग्य * || * कविता  *|| * आलेख * || * लोककथा * || * लघुकथा * || * ग़ज़ल  *|| * संस्मरण * || * साहित्य समाचार * || * कला जगत  *|| * पाक कला * || * हास-परिहास * || * नाटक * || * बाल कथा * || * विज्ञान कथा * |* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=three$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0$h=110$d=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4098,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,341,ईबुक,196,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,112,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3061,कहानी,2275,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,542,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,111,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,346,बाल कलम,25,बाल दिवस,4,बालकथा,68,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,16,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,29,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,245,लघुकथा,1270,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,19,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,340,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2014,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,714,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,802,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,18,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,91,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,211,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,78,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: माह की कविताएँ
माह की कविताएँ
https://drive.google.com/uc?id=1dpGKnFlW0XPC022S3Ours1N-dmgfq_Db
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2019/05/blog-post_40.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2019/05/blog-post_40.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ