नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

आनंद टहनगुरिया की कलाकृतियों की प्रदर्शनी के बहाने उनकी याद

image

image

image

मानव संग्रहालय, भोपाल के वरिष्ठ कलाकार स्व. श्री आनंद टहनगुरिया को व उनके के कला जगत के अवदानों को उनकी कलाकृतियों की प्रदर्शनी के माध्यम से पुनः याद किया गया. आनंद आला दर्जे के कलाकार तो थे ही, मानवीय गुणों से ओतप्रोत, सदैव सभी आसपास के लोगों के लिए प्रेरणादायी रहे.

आनंद ने अपनी कला यात्रा 80-85 के दौरान शुरु की जब उन्होंने इंदिरा कला संगीत विश्वविद्यालय में चित्रकला संकाय में दाखिला लिया. उनकी यात्रा अनवरत जारी रही जहाँ उन्होंने सैकड़ों चित्र व कलाकृतियाँ बनाए, प्रादर्श डिजाइन किए व दर्जनों प्रदर्शनियों में हिस्सा लिया. कालांतर में आपको केरल ललित कला अकादमी से विशिष्ट सम्मान हासिल हुआ और ललित कला अकादमी नई दिल्ली के सलाहकार समिति के सदस्य भी रहे.

प्रदर्शनी में अवलोकन हेतु रखे गए उनकी कुछ प्रमुख शैली की विशिष्ट कलाकृतियाँ -

image

image

image

image

image

image

इस अवसर पर, आनंद की पत्नी, डॉ. शिखा टहनगुरिया ने उन्हें शिद्दत से याद किया व अपने मनोभावों को  कविता रूप में प्रस्तुत किया -

image

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.