नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

सोशल मीडिया ने हिंदी को वैश्विक मंच दिया

सोशल मीडिया ने हिंदी को वैश्विक मंच दिया- डॉ सुरचना

लखीमपुर खीरी डॉ भीमराव अंबेडकर स्नातकोत्तर महाविद्यालय में 20 सितंबर को सोशल मीडिया में हिंदी की दशा और दिशा विषय पर एक संगोष्ठी का आयोजन किया गया ।जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में आर्य कन्या डिग्री कॉलेज की प्राचार्या डॉ सुरचना त्रिवेदी ने कहा हिंदी हमारे अंतर्मन की भाषा है। यह हमें बुजुर्गों से विरासत के रूप में मिली है। इसे संभालना और संवारना हमारी नैतिक जिम्मेदारी है। आज सोशल मीडिया में हिंदी को वैश्विक मंच मिला है। जिससे हिंदी की पताका पूरे विश्व में लहरा रही है।

विशिष्ट अतिथि विशिष्ट वाई डी कालेज के चीफ प्रॉक्टर एसो प्रोफेसर डॉ सुभाष चंद्रा ने कहा  हिंदी आज सोशल मीडिया में विविध रूपों से विकसित हो रही है‌। जिससे हिंदी की उपयोगिता निरंतर बढ़ रही है ।संचालन कर रहे हिंदी विभागाध्यक्ष सुरेश सौरभ ने कहा हिंदी साहित्यकार-कलाकार सोशल मीडिया से बहुत बड़ी-बड़ी  उपलब्धियां हासिल कर रहे हैं। कवि नवीन चौरे, रानू मंडल इसके उदाहरण हैं ‌। प्राचार्य जितेंद्र सिंह, कवि श्याम किशोर बेचैन , कवि शायर विकास सहाय, हिंदी प्रवक्ता रमाकांत, परिक्रमा प्रसाद नीरज कुमार ,  कमल किशोर आदि ने संगोष्ठी में अपने विचार रखे।

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रही आर्य कन्या डिग्री कॉलेज की हिंदी विभाग की प्रोफ़ेसर डॉक्टर सुशीला सिंह ने कहा जैसे मां बहुत शक्तिशाली होती है वैसे ही मातृभाषा  हिंदी बहुत शक्तिशाली होती है। आज सोशल मीडिया ने हिंदी को बहुत व्यापक स्तर पर बढ़ाया है। बहुत कम मूल्य पर सोशल मीडिया ने हिंदी को बहुत बड़ा मंच प्रदान किया है। कार्यक्रम में आभार महाविद्यालय के निदेशक विजेंद्र कुमार सिंह ने प्रकट किया। महाविद्यालय के संस्थापक महेश प्रसाद ने मुख्य अतिथि, विशिष्ट अतिथि व अन्य अतिथियों को  स्मृति चिन्ह व प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया। पंकज प्रेमी,सर्वेश कुमार संजय पुष्कर इंद्रजीत , लवलेश वर्मा, श्याम किशोर सरोज वर्मा अंबरीष गुप्ता कमलेश शुक्ल , सहित सैकड़ों लोग संगोष्ठी में उपस्थित रहे।

   प्रेषक -संजय पुष्कर लिपिक डॉक्टर भीमराव अंबेडकर डॉक्टर भीमराव अंबेडकर पीजी कॉलेज मुरादनगर लखीमपुर खीरी।

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.