नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

शिक्षक-साहित्यकार अलंकरण समारोह आयोजित

IMG-20190912-WA0021

5 सितम्बर 2019 को शिक्षक एवं आशुकवि पं.शिव प्रसाद मिश्र की पावन स्मृति में, शिक्षक-दिवस के अवसर पर, स्टॉक एक्सचेंज सभागार कानपुर में, शिवोहम साहित्यक मंच, कानपुर के तत्वावधान में, शिक्षक-साहित्यकार अलंकरण समारोह आयोजित किया गया।
सम्मान समारोह का आरम्भ गणपति एवं माँ सरस्वती के समक्ष, सम्मानित शिक्षक साहित्यकारों द्वारा दीप प्रज्जवलित कर एवं गीतकार सुरेन्द्र सीकर द्वारा प्रस्तुत वाणी वंदना से हुआ। श्रीमती सत्यवती मिश्रा पं. शिवप्रसाद मिश्र के चित्र पर पुष्पार्चन किया गया।


तत्पश्चात अतिथियों का स्वागत कवयित्री भावना तिवारी ने किया।
सम्मानित होने वाले शिक्षक- साहित्यकारों में,   सुरेन्द्र नगर, गुजरात से सर्वश्री पंकज त्रिवेदी, किशनी, मैनपुरी से श्री बलराम श्रीवास्तव, कानपुर से डॉ. रश्मि चतुर्वेदी, सुल्तानपुर से श्री अवनीश त्रिपाठी व बेगूसराय, बिहार से श्री राहुल शिवाय को, श्रीफल, मुक्तामाल, अंगवस्त्र, प्रतीक चिह्न, सम्मानपत्र एवं पत्रपुष्प भेंट देकर "शिक्षक -साहित्यकार अलंकरण" एवं अर्मापुर पीजी कॉलेज की प्राचार्या डॉ. गायत्री सिंह को "साहित्य-सेवी शिक्षक अलंकरण" से, अलंकृत किया गया।


सम्मान समारोह का कुशल संचालन सफीपुर से पधारे कवि विश्वनाथ विश्व ने किया।


सभागार में अपनी महनीय उपस्थिति के माध्यम से कानपुर के अनेक वरिष्ठ साहित्यकार इस समारोह के साक्षी बने जिनमें समीक्षक लेखक डॉ. राकेश शुक्ला अनन्तिम पत्रिका के संपादक श्री सतीश गुप्ता, डॉ. शशि शुक्ला, डॉ. मधु प्रधान, डॉ. राधा शाक्य, डॉ. कमल मुसद्दी, प्रेम कुमारी मिश्रा, कवि डॉ. कमलेश द्विवेदी, हरिलाल मिलन, रमेश मिश्र'आनंद' , देवेन्द्र सफल, देवी चरण कश्यप, सुबोध श्रीवास्तव, धीरज सिंह 'चंदन', समाज सेवी श्रीगोपाल तुलस्यान, ए. के.चतुर्वेदी, उमा विश्कर्मा,   डॉ. माहे तलत सिद्दकी, डॉ. जी.एन. द्विवेदी, शरद सक्सेना, कुलभूषण त्रिपाठी, दीपांकर, गीतकार संदेश तिवारी, यश दुबे, शीतल बाजपेयी, अखिल बाजपेयी,   सुषमा सिंह , कुसुम सिंह, ज्योति , सुपर्णा मिश्रा, मंजुला त्रिवेदी, सुरभि द्विवेदी , डॉ.पवन मिश्रा, मनीष खत्री इत्यादि शामिल रहे।


मंच-व्यवस्था श्री सूर्यकान्त दीक्षित, सुश्री आदिका बाजपेयी, व अवनी तिवारी ने की।
धन्यवाद ज्ञापन गाथा ऑडियो प्लेटफ़ॉर्म के संस्थापक श्री अमित तिवारी द्वारा किया गया।

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.