नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

लघुकथा - बोलता मटका - सिद्धार्थ संचोरी

बोलता मटका

एक बार एक कुम्हार एक मटका बना रहा था। तो मटके और कुम्हार के बीच रोज नोंक-झोंक होती रहती थी।  मटका जब भी कुछ बोलता कुम्हार उसे पीटना शूरु करता।

एक दिन जब मटका बड़ा हो गया तो उसे कुम्हार अपनी दुकान पर ले गया । अब जब भी ग्राहक उस मटके की और देखते तो कुम्हार उसे दूसरे मटके दिखा देता । इस बात से मटका बहोत नाराज रहता था। कभी कभार नोंक-झोंक  ज्यादा हो जाती तो मटके की और मरम्मत की जाती या ये कहो के ठोक पीट  के सुधारने की कोशिश की जाती । धीरे-धीरे मटके की कीमत बढ़ती गई पर मटका अभी भी बाजार की रौनक के काबिल नहीं ये कुम्हार का कहना था ।अब बात यूं हुई कि  एक दिन मटके में ये अहम आने लगा के उसकी कीमत दूसरे मटको से बहोत ज्यादा है। अब तो उस मटके की कीमत दूसरे दुकानदार के मटके से भी ज्यादा हो गई। अब मटके की जब भी खातिरदारी होती मटका चुपचाप सह लेता ।एक दिन दुकानदार ये सब देख उस मटके  को किसी ग्राहक को दे दिया और वो भी बाजार की सबसे ऊँची कीमत पे। मटका  भी अपने अहम मे था फट से ग्राहक का हो गया और दुकानदार को याद करता, उसकी चोट को याद करके वो उस दुकानदार के पास जा नहीं पाया । पर अपनी जो कीमत उसे मिली और उस मटके को रखने के लिये जो ग्राहक मिला वो भी उसका बहोत ख्याल रखता था। कुछ भी हो उसे उस कुम्हार से कही ज्यादा अच्छा परिवार मिल गया । जिसके आगे आलीशान  गाड़ी खड़ी रहती है और वो घर नहीं जैसे महल हो। ये सब देखकर मटका सोचता है जो भी हो आखिर मुझे मेरी कीमत मेरे गुणों से मिल ही गई।

यही पिता और पुत्र का सम्बन्ध होता है। पिता अपने पुत्र की वो कीमत जानता है जो उस पुत्र को पता नहीं होती और पुत्र कभी ये समझ नहीं पाता कि उसके हर सुख के पीछे उस पिता की निस्वार्थ मेहनत है।  

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.