नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

निराशावादी सुग्रीव से राम ने मित्रता कर किष्किंधा का राजा बनाया - आत्माराम यादव पीव

सुग्रीव के जीवन में झाँका जाये तो वह एक हताशा ओर निराशावादी विषयी जीव रहा है जिसका आत्मविश्वास कभी भी खुद पर नहीं रहा ओर संदेहों से भरा होने पर वह इतना आतुर रहा जिसमें किसी भी कार्य के परिणाम जाने बिना स्वयं निर्णय लेकर समस्याओं और परिस्थियों से वह भाग खड़ा होता था । सुग्रीव के मन में परमात्मा के प्रति कोई भक्ति या आकर्षण नहीं था काम के प्रति उसकी आसक्ति जरूर चरम पर रही जिससे उन्हें राम के क्रोध का सामना करना पड़ा । वह बालि का छोटा भाई था पर बालि से चरित्र में बिलकुल भिन्न था। बालि महान वीर योद्धा, दृढ़ निश्चयी ओर साहसी था वह कभी भी किसी लड़ाई से पीछे नहीं भागता ओर हर चुनौती का सामना करता था। बालि ने रावण की चुनौती का सामना कर रावण को 6 माह बंदी बना रखा था जबकि सुग्रीव हर चुनौती से भागता रहा। सुग्रीव के जीवन का इतिहास भागने से भरा है वह एक भगोड़ा रहा परंतु यह विचित्र संयोग रहा की न भागने वाले बालि ओर हर परिस्थियों से भागने वाले सुग्रीव दोनों ने ईश्वर को प्राप्त किया।

सुग्रीव अपनी कथा भगवान राम को सुनाते है की हम दोनों भाई पहले अच्छे से हिलमिल कर रहते थे कि एक घटना के बाद शत्रु हो गए । सुग्रीव कहता है कि एक रात किष्किंधा के बाहर आकार एक मायावी राक्षस आधी रात को बालि को ललकारता है ओर बालि उसकी चुनौती सुनकर लड़ने निकल पड़ता है। भाई बालि की हिम्मत को देख सुग्रीव भी जोश मैं पीछे पीछे चल पड़ता है। मायावी गुफा मे चला गया तब बालि ने सुग्रीव से कहा तुम बाहर ही रुको। यह सुग्रीव के मन की बात थी उन्होंने कहा जो आज्ञा। बालि ने कहा 15 दिन में जीत कर लौट आऊँगा । बालि में आत्मविश्वास ओर साहस था इसलिए 15 दिन की घोषणा कर कह दिया कि अगर न लौटूं तो समझ लेना मारा गया। बालि गणित में यही असफल रहा ओर जब उसने मायावी को मारा तो उसके मायावी के खून की धारा बह निकली, तब राम ने पूछा खून कि धारा देख तुम्हारे ऊपर क्या प्रभाव हुआ? क्या तुमने नहीं सोचा कि भाई लड़ रहा है भीतर जाऊं ओर भाई का साथ देकर मायावी से लड़े। सुग्रीव ने कहा खून कि धारा देखकर मैंने मान लिया कि शायद बालि मारा गया है, अब बालि के बाद वह मुझे भी मार देगा इसलिए भाग चलना चाहिए ओर में गुफा के द्वार को एक शिला से बंद कर लौट आया। सुग्रीव विषयी जीव है उसके चरित्र में साहस की कमी है। वह भगवान को देखकर भ्रम करता है कि दो राजकुमार उसे मारने आए है। सुग्रीव ईश्वर को शत्रु के रूप में देखता है इसलिए उसकी दृष्टि एक भ्रमित व्यक्ति की है। अगर सुग्रीव ओर विभीषण कि तुलना करे तो विभीषण ने भगवान को साधना करके पाया है जबकि सुग्रीव ने हनुमान जी कि कृपा से पाया है।

सुग्रीव का संकल्प था कि यदि बालि के भेजे हुये राजकुमार है तो इस स्थान को छोड़ कर भाग जाना चाहिए –

पठये बालि होहि मन मैला।

भागो तुरत तजौ यह सैला। ।

यह पहला ऐसा व्यक्ति है जो ईश्वर को प्राप्त करने जा रहा है, न उसके जीवन में वीरता है ,न उसके जीवन में कोई सद्गुण है फिर भी अद्भुत बात हनुमान जी कहते है कि –

नाथ सेल पर कपिपति रहई।

सो सुग्रीव दास तब अहई ॥

है ने विचित्र बात । सुग्रीव कही के राजा नहीं है । जिसका राज छिन गया हो, पत्नी छिन गई हो ,न वे कही के राजा थे ,न कोई संपति थी , न कोई परिवार था लेकिन हनुमान जी ने उनका यही कहकर परिचय दिया कि वे बंदरों के राजा है। हनुमान जी रामजी से सुग्रीव का परिचय कराते कहते है जैसे राजा आप है (राजतिलक की तैयारी के समय माता कैकई के वर मांगने के बाद राम माँ कौशल्या से कहते है –पिता दीन्ह मोहि कानन राजू) वैसे ही राजा सुग्रीव है। सुग्रीव आपके सेवक है इसलिए जितनी सेवा लेना चाहे वे देने को तैयार है परंतु सेवक को सेवक बनाने वाले बहुत है , पर सेवक को मित्र बनाने वाले आप जैसे उदार दूजा नहीं है। आप ही है जो सेवक को मित्र बनाकर बराबरी का दर्जा देते है। हनुमान ने सुग्रीव से प्रभु कि मित्रता करवाकर स्वयं प्रभु से उनका सेवक होने का पद पा लिया।

राम ने सुग्रीव से मित्रता करने के बाद प्रतिज्ञा ली कि वे बालि को मारकर किष्किंधा का राज्य सुग्रीव को सौंप देंगे पर सुग्रीव को राम पर विश्वास नहीं था कि वे बालि को मार पाएंगे? सुग्रीव जीव है ओर जीव भगवान पर अनायास विश्वास नहीं करते,जबतक जीव परिणाम न देख ले वे अनिर्णय कि स्थिति में होते हैं। सुग्रीव ने भगवान की परीक्षा लेना चाही ओर राम से कहा ये सात ताल के पेड़ है इन्हें एक ही तीर से भेद सको तो समझूँगा आप बालि को मार सकोगे? भगवान चाहते तो सुग्रीव द्वारा उनपर संदेह करने , विश्वास न करने से नाराज हो सकते थे पर उन्होंने बुरा नहीं माना ओर उन पेड़ो को बिना प्रयास के ही ढ्हा दिये। राम के कहने से सुग्रीव बालि से लड़ने जाता है ओर पिटकर भाग आता है तब लक्ष्मण उलाहना देते है कि प्रभु का मित्र बनने के बाद भी अपना स्वभाव नहीं छोड़ रहा है ओर भाग रहा है। राम बालि को मारकर सुग्रीव के भय को दूर करते है। सुग्रीव से स्वभाव का एक उदाहरण तब देखने को मिलता है जब विभीषण रावण द्वारा तिरिष्कृत हो समुद्र किनारे भगवान पर विश्वास कर उनकी शरण में आते है तब सुग्रीव रोकते है ओर कहते हैं –जानि न जाइ निसाचर माया। कामरूप केहि कारण आया॥ भेद हमार लेन सठ आया। राखिअ बांधि मोहि अस भाया॥ यह रावण का भेदिया है इसे बांधकर लाओ ,तब राम ही सुग्रीव से कहते हैं कि तुमने मुझसे नहीं पूछा कि मुझे क्या करना है? सुग्रीव जबाव देते हैं कि आपमें खोटे खरे कि परख नहीं है। हनुमान सुनते ही समझ गए कि अगर खोटे खरे कि परख नहीं होती तो क्या प्रभु सुग्रीव को शरण में लेकर मित्र बनाते? राम सुग्रीव को कहते है कि मित्र तुम्हारी आंखें कमजोर हो गई है, क्योंकि तुमने पहले मुझे देखा था तो बालि का भेजा हुआ भेदिया समझ लिया था ,तुम भेदिया बहुत जल्द मान लेते हो। तुमने मेरा भेद जानने हनुमान जी को भेजा था इसलिए विभीषण का भेद जानने उन्हें ही भेजो उनकी आंखें अच्छी है , हनुमान जी सुग्रीव कि बात का खंडन होते देख अपनी चतुराई से जबाव देते है प्रभु यह प्रश्न ठीक नहीं कि विभीषण खरे है या खोटे है। वे आपकी शरण में स्वयं चलकर आए है इसलिए शरणागत को शरण देना आपका काम है। विभीषण ने आते ही प्रभु के चरणों में प्रणाम किया तब राम उठे ओर –भुज विसाल गहि हिर्दय लगावा॥ विभीषण को अपने ह्रदय में लगा लिया तब सुग्रीव को बुरा लगा जिसे राम समझ गए ओर वे सुग्रीव से बोले,मित्र तुमने कहा की इसे बांध कर रखिए। मैंने तुम्हारा ही कहा माना है अगर इसे रस्सी से बांधकर रखते तो यह छुड़ाने की चेष्टा करता परंतु मैंने उसे अपने प्यार के बंधन में बांधा है जिससे कोई भी छूटना नहीं चाहता है।

आत्माराम यादव पीव (वरिष्ठ पत्रकार )

काली मंदिर के पीछे, ग्वालटोली होशंगाबाद म,प्र॰

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.