रचनाएँ खोजकर पढ़ें

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधाएँ ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


आग्रह बरगद से - अरूण कुमार प्रसाद

साझा करें:

1.    कविता– आजादी की 2.    आदमी–4 3.    दुश्मन 4.    आग्रह बरगद से 5.    तुम्हारे लिए 6.    ये चमचमाते लोग 7.    इस सदी को झूठ से महफ...

1.    कविता– आजादी की
2.    आदमी–4
3.    दुश्मन
4.    आग्रह बरगद से
5.    तुम्हारे लिए
6.    ये चमचमाते लोग
7.    इस सदी को झूठ से महफूज—
8.    आबाद रहे हर मधुशाला
9.    सावधान मेरे मित्र
10.    मेरी कविताएँ
11.    कविताएँ बाँटेंगे,आ
12.    --दु:ख
13.    गजल--- मानें आपको जरूर कोई वहम हुआ होगा


1--कविता– आजादी की


अरूण कुमार प्रसाद‚पड़ोली‚महाराष्ट्र
--------------------------------
ये हवा जो उदास थी‚
संगीनों के पास–पास थी‚
किसी बाड़े से छूटी लगती है।
इसलिए हर तान और सुर में
कच्छ से बंग तक
लचक –लचक कर बहती है।
शब्द जो मुठ्ठियों में कैद थे
सेंसर की चिठ्ठियों से लैस थे
निरंकुश हुई फिर से एकबार और।
पुर्नप्रतिष्ठित हो सकी संसद से स्कूल तक
पा सकी अभिव्यक्ति की शक्ति‚स्वतंत्रता एकबार और।
आदमी‚शक्ल व अक्ल जिसके
दासत्व ने लिया था लील
हो गया था बदशक्ल।
जंगली पशुओं की भीड़ भरी असैनिक नकल।
पा सका है फिर आजादी का आईना
सजाने–संवारने मानवीय चेहरा।
दमन‚यातना‚और यंत्रणा की
अपसंस्कृत करतूतों के सिर
सकने रख
आदमियत का तराशा सेहरा।
हमारी आवाज
जो कर दिये गए थे ‘छन्दबद्ध’।
अपना भी नाम लेते थे तो बिल्कुल निःशब्द।
आरोपित तुकों के आरोह–अवरोह से सके थे निकल।
ताजे धुले हुए रँग–बिरँगे फूलों की तरह
कर सकने में हम हो गये समर्थ
भौंरों के साथ रसिक चुहल।
कलम और तूलिका
जो कहने लगे थे लोकतांत्रिक विरोध को बगावत।
झुकाये रहते थे सिर जमीन तक
करने राजसी मुकुट का स्वागत।
उठा सके गर्व और गौरव से अपने व्यक्तित्व का माथा।
रँगों की पकड़ सके पकड़ फिर
उतार सके कागजों पर फिर मानवतावादी गाथा।
राजनीति जो व्यक्तिगत सम्पन्नता का हो गया था प्रतीक।
धुरीहीन होकर लगाने धुरी का गया था सीख
निजी सन्दूकों से निकाले जा सके
आदमी आम के लिए।
बिकाऊ न रहा ज्यादा और गजरेवालों के शाम के लिए।
            --------------------------------------


2--आदमी–4   


--------------------       
                
आदमी को कोई नहीं‚ छला है आदमी के जीवन ने।
पर‚ आदमी देता रहा है इल्जाम हर एक आदमी को।
दगा खुद को दिये जायेगा और सजा उस खुदा को।
रेवड़ की भाँति बाँटेगा इन्तकाम हर एक आदमी को।
इश्क खुद से आदमी आशातीत ही करेगा‚ किया।
व  पैदा करेगा नफरतों का श्राप हरेक आदमी को।
जीने को जोरू‚जर‚जमीन की बातों से परहेज नहीं।
और युद्ध की ललकार का इल्जाम हरेक आदमी को।
जीवन जीने के अक्ष पर जीवन कहीं रखेगा नहीं।
भौतिक स्वरूप जीवन का बाँटेगा हरेक आदमी को।
हर जीत के सेहरा को अपना सिर करेगा हाजिर।
हर हार का इल्जाम बाँटेगा दूजे हरेक आदमी को।
वक्त के कोख में डाला करेगा दुःख के बड़े बीज।

सुख का दिलासा हवा में छोड़ेगा हरेक आदमी को।
अमानवीय सोचों के सैलाब से भरेगा अपना दिमाग।
मानवीय सपनों से उल्लू करेगा हर एक आदमी को।


                
                
                
                

    3-- दुश्मन


     ---------------   
दुश्मन मित्र से बड़ा कौन होगा?   
मेरे राह में बनके रोड़ा       
सिवा इसके खड़ा कौन होगा?   
मेरे मिशन से मुझे स्खलित करने हेतु   
अपने आप से लड़ा कौन होगा?   
गुलेल लेकर झुरमुटों में        
पड़ा कौन होगा?       
छलाँग सामने से लगायेगा दुश्मन–   
बगल से मारनेवाला        
इनसे तगड़ा कौन होगा?       


            
                
      

  4-- आग्रह बरगद से   


     ---------------------------------   
उष्ण आदित्य के तीक्ष्ण ताप में   
बिलबिलाते हुए समुद्र से       
मत कहो कि            
बड़ा शीतल है तुम्हारा छाँव।   
कर्मयोगी का योग न करो भंग।   
                
शुष्क पवन के तेज प्यास में   
आहूति की तरह होम हो रहे मेघ से   
मत कहो कि            
बड़ा विशाल है तुम्हारा ठाँव।   
कर्मशील का शील न करो भंग।   
                
शुभ्र आकाश के विराट फैलाव में   
प्रवाहित हो रहे वायु से       
मत कहो कि            
बड़े आकर्षक हैं तुम्हारे गह्वर।   
कर्मनिष्ठ की न्ष्ठिा न करो भंग।   
                
घनघोर वृष्टि के घातक आघात में   
खेत जोतते हुए किसान से    
मत कहो कि            
बड़ा मीठा है तुम्हारा फल।   
कर्मोद्योगी का उद्योग न करो भंग।   
                
लौह भठ्ठी के उच्च तापक्रम में   
लौह पिघलाते लौह पुरूष से    
मत कहो कि            
बड़ा ठंढ़ा है तुम्हारा श्वेत–रक्त।   
कर्मसिद्ध की सिद्धि न करो भंग।   
                
अंधेरी‚भयावह‚काली सुरँगों में    
फावड़े चलाते दृढ़ भुजाओं को    
मत कहो कि            
बड़ी उर्जाशील है तुम्हारी काष्ठकाया   
मनोबली का मनबल मत करो भंग।   


5--तुम्हारे लिए


------------------------       
रात  पीयूष  वर्षा  हुई  देर  तक।   
चाँद पूनम का ठहरा रहा देर तक।   
         तुम्हारे लिए बस तुम्हारे लिए।
कन्दरा का अँधेरा क्यों रास आ गया?
और अँधा सबेरा क्यों रास आ गया?   
ऊध्र्व उठते हुए श्वास शाश्वत नहीं‚   
साधना‚जोग‚तप कोई शाश्वत नहीं।   
रस बरसा किया नभ के हर छोर से।   
इतनी मधुमय विभा नभ के हर छोर से।
     तुम्हारे लिए बस तुम्हारे लिए।
राधिका रास रचती रही रात भर।   
पी–पी पपीहा पुकारा किया रात भर।   
तुम  भभूती  लगाते–लगाते  रहे।   
जोग  यूँ  तुम  जगाते–जगाते  रहे।   
हर सरोवर को चूमा किया चन्द्रमा।   
पत्ते–पत्ते में  ढूँढ़ा  किया चन्द्रमा।   
     तुम्हारे लिए बस तुम्हारे लिए।
ये क्षितिज ने क्षितिज से है पूछा किया।
तुमने देखा पिया?  तुमने देखा पिया?
सारे तारे विचरते रहे ढूँढ़ते।   
नील नभ‚नील सागर सभी खोजते।   
तुम तो  धूनी रमाते–रमाते रहे।   
झूठ को सच बनाते–बनाते रहे।
------------------------------------------

6--ये चमचमाते लोग


---------------------------------------------------
यातना की तंद्रा से अलसायी आंखों में।
वासना के लाल डोरे खोजते हैं लोग ।
संत्रास व संताप से सिहर उठे अंगों में।
यौवन का आमंत्रण खोजते हैं लोग ।
यंत्रणा के तनाव से तने रगों,जिस्म में।
संभोग के साथ के अवसर खोजते हैं लोग।
पीड़ा की साँसों से उभरे हुए वक्ष में
वात्सायन के कामसूत्र खोजते हैं लोग।
कल की टूटन और आज के घुटन से बिखरे जुल्फों में
साँझ की सर्वजयी शीतलता खोजते हैं लोग ।
अनास्था के प्रहार से ठहर गये मन में
अपने लिए आकर्षण खोजते हैं लोग।
आतंक के अहसास से सहमे हुए भंगिमा में
हिरनी की कुलांचें मारती अदा खोजते हैं लोग ।
दमन की चक्की में पिसकर स्तब्ध देहयष्टि में
सौन्दर्य का खजुराहो खोजते हैं लोग ।
भावनाएँ मरी हुई मछली की तरह गँधाता है
पर, पढ़े हुए शब्दों के अर्थ यहीं खोजते हैं लोग।
इन दहशतजदा,युगों से शोषित,दलित लोगों के
शोषण,दमन में भी अपने लिए सुख खोजते हैं लोग।
अभाव और भूख से चाहे त्रस्त हों व परेशान
अर्थ और रोटी से वे,सुख ही सुख खोजते हैं ये लोग ।
----------------------------------------------------------------
अरूण कुमार प्रसाद



7--इस सदी को झूठ से महफूज—


----------------------------------
इस सदी को झूठ से महफ़ूज रखने के लिए
हवा,पानी,वृक्ष,जंगल और अपनी कसम खानी चाहिए।
इस जहाँ से नफ़रतों को दूर करने के लिए
हर दिलों में प्यार के सुकुमार पौधे रोपिए।

क्यों नहीं कटिबद्ध हो सकते हैं हम इस कार्य को
क्यों नहीं निर्माण कर सकते सदी यह सोचिए।
कर रहे निर्मूल तन के रोग सब,हर दिन हमी
क्यों नहीं निर्मूल मन के रोग होंगे सोचिए।

कर्म के अर्जुन को संकट से उठाने के लिए
इस सदी में कृष्ण का अवतार होना चाहिए।
इस सदी के चेहरे पर हों न छींटे खून के
इस सदी में कुंद सब हथियार होने चाहिए।

हर परीक्षण से गुजरकर स्वर्ण होने के लिए
अब कोई गांधी या गौतम बुद्ध होना चाहिए।
विश्व के कल्याण की हो यह सदी बेशक पुरुष
इस सदी में इस सदी का प्राण होना चाहिए।

इस सदी को व्यर्थता से दूर रखने के लिए
इस सदी में एक नया संकल्प लेना चाहिए।
आइये आतंक और आतंक के पर्याय को
दृढ़ता के साथ ही बिलकुल कुचलना चाहिए।

जी लिए अनगिन सदी वृत में,त्रिभुज में,वर्ग में
विश्व के एकीकरण हित पहल करनी चाहिए।
इस सदी में जीव,जीवन,हवा,पानी,व्योम,ब्रह्म
इस सदी में केंद्र में रख काम करना चाहिए।
--------------------------------------------


8---आबाद रहे हर मधुशाला


-----------------------------
हे कवि ! तेरी मधुशाला में
देखा तेरा साकी बाला।
ओठों पर स्मित हँसी देखी
कर में थामे देखा प्याला।
उसे निमंत्रित करके मैंने
अपना जीवन धन्य किया।

इस मधुशाले का रूह कोई
रक्त–पिपासु पर‚बाला।
हाला बहता हुआ लहू है
ध्वंस की जिह्वा है प्याला।
घृणा‚द्वेष कर ओढ़ सभ्यता
शीत–युद्ध है खेल रही।
क्या ही अच्छा हो खुल बातें
करने आयें मधुशाला।

मधुशाले में मधुविक्रेता
मधु नहीं‚बेच रहा प्याला।
ओढ़ा वस्त्र सफेद बेदागी
मन का पर‚बिल्कुल काला।
शोषण का इतिहास‚खण्डहर
हर के नीचे छुपा हुआ।
अथवा वह खण्डहर नहीं होता
होती तेरी कोई मधुशाला।

मधु का लोभी यह भी वह भी
यह भी वह भी मतवाला।
यह भी प्यासा आस लगाये
वह भी प्यासा है लाला।
यह पीकर संतुष्ट हुआ तो
वह भी सच हो जायेगा।
प्यास और तृष्णा नहीं मिटती
मिट जाये चाहे मधुशाला।


प्यास मधुर हो या कड़वा
इसे चाहिए है हाला।
पर पीड़ा पर दुःख से चूकर
भरी हुई हो मधुप्याला।
शक्ति और सामर्थ्य पिघलते
अश्क से किसने देखा हैॐ
वह तो भाई लाल शिला से
निर्मित बहरी मधुशाला।


उसे ज्ञात है हिचकिचायगी
अन्धकार में हर बाला।
अगर निचोड़ा नहीं गया तो
नहीं भरेगी रे प्याला।
नीम अंधेरी की आदी आँखों की
चमक में भूख भरी।
रक्त–पिपासु हो गयी कैसे
खुदा तुम्हारी मधुशाला।

बना हुआ है मन्दिर‚मस्जिद
इस हाला की मधुशाला।
एक दूजे को कहकर काफिर
भरता जाता है प्याला।
पीने वाले लाज करें क्यों
उनका है क्या कुछ जाताॐ
मुफ्त मिला है बाला‚हाला‚
प्याला‚साकी‚मधुशाला।

मैं मन्दिर की नींव डालता
बनवा देता तू मधुशाला
तू इतना है क्रूर वहीं पर
बैठ बनाता है प्याला।
नींव हिली है हर बाड़ी की
वक्त नहीं ठहरा है कभी।
आज नचा ले जितना जैसा
भूधर कल होगी मधुशाला।
गढ़ जैसा निर्माण किया
और किला बनाया मधुशाला।
पहरे पर पहरा बिठा दिया
इतनी है रक्षित मधुशाला।
इन्क्लाब की आँधी किन्तु
लील लिया करता है सब।
सुलग रही है अभी गर्भ में
ध्वंस करेगी मधुशाला।

मदिरा को जब जब हाथ बढ़े
हर बार टूट जाये प्याला।
हर बार अधर तक आ आकर
हाला बन जाये विष–ज्वाला।
हर शिव शोषित का हो साथी
दुःख इसके पीकर नीलकंठ।
निर्बल के मन में ताण्डव का
बस नाच जगाये मधुशाला।

मधु विक्रेता बेच रहा है
आयुध कह कह कर प्याला।
सत्ता मद में मस्त मदकची
चाट रहा खुश हो हाला।
उसे बना रहना सत्ता में
चाहे दुनिया जल जाये।
चलो चलें गम घोल‚घुला दें
अब हम चलकर मधुशाला।

किसकी प्यास बुझाने आई
हाथों में भरकर प्याला।
किसको किसको बाँटेगी वह
अपनी यह षटरस हाला।
कर सोलह श्रृँगार नृत्य
करती आई छमछम साकी।
दिया निमंत्रण उसने किसको
किसको उसकी मधुशाला।

सब प्यासे हैं इस दुनिया में
पाने को उत्सुक हाला।
जीवन में जितनी कटुता
उतनी ही मधुर है मधुशाला।
किसे कहेगी ' पिओ नहीं तुम’
किसे कहेगी 'तुम आओ’।
बन्द नहीं क्यों कर देती है
यह दुनिया रूपी मधुशाला।

सृष्टि जिसने किया‚पुनः
बनवायेगा वह मधुशाला।
वह अनुभवी अब बनवायेगा
विष से रहित मधुर हाला।
जीव‚जीव को सह जीवन का
जन्म से ज्ञान दिलायेगा।
खुद जीने को नहीं किसीका
छीनेगा व ह प्याला।

आज खरे डरते खोटे से
शीशे से पत्थर का प्याला।
जालिम के हाथों क्योंकि है
नीलाम हो गई मधुशाला।
जुल्मों के इतिहास लिखेगी
तब हाला कहलायेगी।
अब शराब के बदले शोला
बाँटो री‚साकीबाला।

क्यों शराब भर जाम उठाते
ललचाता है क्यों हाला।
बरबस उठ जाते क्यों पग हैं
रे‚जाने को मधुशाला।
तू न समझता‚मैं समझाता
साकी की तेरी हसरत।
पर‚जो अमीर तू नहीं‚नहीं
पा सकता है साकीबाला।
मौत सजा हो पीने आना
जुल्म से लड़ने को प्याला।
इन्कलाब का आग लगाने
आते रहना मधुशाला।
सत्ता और हुकूमत जिसके
उसके सिर चढ़ जाते सिंह।
उसकी उँगली में फँस नाचे
हर साकी की मधुशाला।

साकी का सौन्दर्य लजाकर
गई आज है मधुशाला।
रँगीनी‚ रौनक‚यौवन से
हार गया भी है हाला।
इतनी सुगठित देह धरी
और धरकर आयी है साकी।
एक नजर बस एक नजर
कहते सब झपट रहे प्याला।

नशा बाँटता फिरता योगी
छुआ नहीं जिसने प्याला।
हर भोगी को बतलाता है
किस पथ जाती मधुशाला।
साकी का परिचय बतलाता
मधुर और कितनी हाला।
इन्कलाब के योगासन से
क्योंकि उठा लाया प्याला।

लिखते जाना शान में इसकी
भर देना तू मधुशाला।
पहले पीकर हो लेना पर‚
ऐ शायर‚ तू मतवाला।
शायर तू जो कभी लिखे गजल‚
गजल हमारी साकी की।
कलम कलश को तोड़ बनाना
स्याही को लेना हाला।

ईश्वर साकी‚जीवन हाला
दुनिया ही तो मधुशाला।
पीड़ा‚दुःख‚संत्रास‚घुटन से
निर्मित सारा ही प्याला।
मरने को मन तरसे कितना
पर‚जीना जीवन का कर्ज।
बिना पिये है कौन जियाॐ
है जिया सिर्फ पीनेवाला।

हो जाता हैरान मौत
जब भी आता वह मधुशाला।
कैसेॐ कैसेॐ हँसी बाँटती
सुख उपजाती है हाला।
पीनेवाले के उपहासों से
मर जाती है मौत यहाँ।
जीने को मधुशाला आया
मरने भी आना मधुशाला।

श्वेत चाँदनी जैसी काया
नख–शिख सजी हुई बाला।
यौवन अँटता नहीं बदन में
छलक रही जैसे हाला।
गहने‚जेवर‚फूल‚इत्र सब
पाते शोभा सज जिस पर
वह मधुशाला में आयें
क्यों झूम न जाये मधुशाला।

जब चढ़ता है नशा‚ नशीली
हो जाती तीखी हाला।
दिल से लोग लगा रख लेते
टूटी‚ फूटी‚जूठी प्याला।
पर जब जाता उतर सभी
लगता है कितना अर्थहीन
इसीलिए कहना है कि
आबाद रहे यह मधुशाला
……………


9--सावधान मेरे मित्र


-------------------------------------------
हम ‘विक्षिप्त-युद्ध’ करने नहीं
स्तब्ध-शांति को देने आए थे भरोसा.
तुमने हत्या किया है भरोसे का.

सावधान!
अब हम देंगे तुम्हें विक्षिप्त युद्ध.
तुमने स्वयं खुद को अभिशाप दे लिया है.
खींच ली है तुमने खुद के पैरों तले से जमीन.
कहाँ भागोगे तुम?

हमारे ग्रन्थों में जिक्र है भस्मासुर का-
लिप्सित हो स्त्री सौन्दर्य पर हुआ आत्महंता.
तुम लिप्सित और मोहित हो
विस्तार व विध्वंस के मिथ्या मानसिक सुख पर-
बने फिरते रहे हो हृदयहीन आक्रान्ता.

यह राष्ट्र गौतम और गाँधी का है अनुगामी.
सत्य है हमारे लिए
“वसुधैव कुटुम्बकम्” और “ओम् शांति”.

किन्तु,गीता हमारा कर्म ग्रन्थ है.
छीजती मानवता को स्थिर रखने हेतु
गीता हमारा धर्म ग्रन्थ है.

हम शांति को ढंक रख देंगे चार दिन.
और स्तब्ध शांति को भरोसा देने
विजय का युद्ध देंगे उसे चार दिन.

हम देंगे तुम्हें विक्षिप्त युद्ध.
अस्तित्व युद्ध के भरोसे नहीं
शांति के भरोसे रहता है कायम.
शांति कायर नहीं, होता है विनम्र.
इसे कृश होने का मत पालना भरम.
-------------------------------------------

10--मेरी कविताएँ


----------------------------------------
रह जायेंगी मेरी कविताएँ
तुम्हें तुम्हारा अतीत दिलाने याद.
रहूँगा नहीं मैं, आत्मा या देह से.
छोड़ जाऊंगा निकालकर स्वत्व अपना
मेरे अस्तित्व में दफन है जो,नेह से.

पत्ते चरमराकर मर जायेंगे.
माटी में पिघल जायेंगे
उनके उत्सवों की कथाएँ.
मेरे शब्दों में पर,चित्रित रहेंगी वे.
झांककर देखता रहेगा अतीत उसका
मेरे गेह से.

अनन्तजीविता है भविष्य
अतीत भी होता नहीं कभी नष्ट.
यह तो वर्तमान है जो है
क्षणभंगुर,होता है त्वरित ध्वस्त.

दस्तक देता है समय
खरगोश की तरह दौडकर.
किन्तु,आदमी के वन में
कंटीले षड्यंत्रों से जाता है हार.
आदमी समय को जीता है 
समय,आदमी को नहीं जी पाता
बहुत नुंचा,चुंथा है समय का संसार.

कविताएँ मन के कैनवास पर
उकेरे
समय और मनुष्य के चरित्र हैं.
ब्रह्मा के जय या पराजय का
अनूठे कथा चित्र हैं.

अनुभूतियों से निकले विचार
भाषाओँ के बंदिशों से अलग
देह की भंगिमा
देती हैं भाव को पूर्णता-
उन प्राणियों के गीत भी
जो लिख नहीं पाते.
उनकी कविताएँ दिखेंगी
मेरी कविताओं में.
शावकों के बेफिक्र उछल-कूद.
युवावस्था प्राप्त हुए देह के
प्रणय निवेदन.
बुजुर्गियत की लाचारियों से सन्न
शान से मरने हेतु किन्तु,
समूह का कर परित्याग
उनका एकांतवास.

ये शब्द दिशा दें मनुष्य की ओर.
अक्षर की आकृति
तुम्हारे आकृतियों को गढ़ेंगे
आत्मसात् करना इन्हें
होकर आत्मविभोर.


11--कविताएँ बाँटेंगे,आ


गाँव के किसी माटी से पनपा
मैं एक परेशान कवि हूँ.

मेरे सामने से दिन
उछल-उछल कर भागता जाता है.
मेरे पास पूंजी जैसा खालीपन है.
दिन इसलिए अनन्त है मेरा.
दिन टिका रहता है
मैं रोज लुढ़क जाता हूँ
प्राची देहरी से प्रतीची देहरी तक

सूर्य के आंगन में.
चिढ़ मेरा वजूद है और बेबसी हताशा.
गढ़ता है मुझे एक भयभीत कवि में.
मेरे सारे दिन इस भय में होंगे समाप्त.

पर मैं एक जन्मजात कवि है.
सुध-बुध क्रीडा और क्रन्दन में लगाये.
उस कवि का पुरुष सजग हो और
उसका व्यक्तित्व कठोर और कर्मठ.
उसका कवित्व युवा और प्रौढ़ हो
और बुढ़ा भी.

किन्तु, सारा दिन
जब फिसल जायगा तभी वह कवि
हो पायेगा युवा,प्रौढ़ व बूढ़ा.

दे पायेगा राजनैतिक संघर्ष की
इच्छाशक्ति.
नैतिक मनुष्य के
अपूर्वाग्रह की अदम्य भक्ति.
--------------------------------


12--दु:ख


--------------------
तर्क है, दु:ख है
तर्क ही दु:ख है।

मानव जीवन से इतर कहाँ है दु:ख.
प्राणी जगत में दिव्य सुख.

मनुष्य आत्मप्रशंसित है-
ईश्वर अपने अहम् में ढूँढ रहा.
इसलिए अपना दु:ख जन्म दे रहा.

मानव करता है शौर्य के लिए हत्या सा कर्म.
प्राणी-जगत में हत्या है क्षुधा का धर्म.
मानव को विधाता ने कर्मशील कर दिए.
बनाया पालनकर्ता विष्णु सा.

पर,हर घृणित कार्य को सर्वदा उत्सुक और उद्धत.
बना वह महारौद्र, बनना था उसे सहिष्णु सा.

जीवन वृत्त है –कृष्ण की व्याख्या.
क्योंकि,जीवन वस्तुत: है उर्जा.
उर्जा के विभिन्न रूपों में एक रूप जीवन.
अत: अनवरत चलायमान विवस्वान जैसा.(सूर्य)

सृष्टि में दु:ख नहीं है कहीं,हमारे मन में है.
दु:ख मानव-रचित मात्र तार्किक वचन में है.

दु:ख जीवन से आस्था खंडित होने का नाम है.
दु:ख हमारे किये कार्यों का ही तो परिणाम है.

यौगिकों और रसायनों का ही ढूह है यह जीवन.
हमारे तन, मन,वचन के योग और वियोग का आसन.

दिव्यासनों से होते हम हैं दिव्य.
तब हमारे दु:ख होते है सुखों जैसा भव्य.

मृत्यु दु:ख है.
पर,जन्म ही करता है हर दु:ख का सृजन.

दु:ख स्पंदन है,स्पंदन है अत: दु:ख है.
मन के स्पंदन में चेतना हो तो दु:ख है.
अचैतन्य मन नहीं होता कभी दु:खित.
जीवन को आना है और जाना है.
मानव मात्र होता आया है भ्रमित.

दु:ख सापेक्ष है.
स्याह को गौर से दु:ख है.
दरिद्रता को ऐश्वर्य से ईर्ष्या.
मृत्यु को जीवन से स्पर्द्धा.
मरुभूमि को वन का स्पृहा.
वन्य जीवों को मानव होने की आकांक्षा.
मनुष्य को अमृत की चाह.

दु:ख उपजता यहीं है.
दु:ख बाजे सा बजता यहीं है.
सर्जक के प्रारूप में जो मन है-
वह जन्मता भाव-शून्य है.

भूख और प्यास आदिम इच्छा है.
इसके इतर तृष्णा है
अविभावकों द्वारा दिया गया
पाप या पुण्य है.

तृष्णा दु:ख का है सर्जक.
सुख का वर्जक.
शून्य से दिव्य हो भाव तो मानवीय
आसुरिक हो तो दु:ख और दानवीय.
..............................................


13--गजल--- मानें आपको जरुर कोई वहम हुआ होगा


      ~~~~~~
मानें आपको जरुर कोई वहम हुआ होगा.
अंधेर में आदमी नहीं भेड़िया छुआ होगा.

आप कहते हैं पूरे विश्वास के साथ तो.
हो सकता है वह एक आदमी रहा होगा.

बनावट और बुनावट से क्या होता है.
भेड़िया का उसका फितरत रहा होगा.

हमने सर टिका कर आंसू जहाँ बहाये.
आदमी नहीं वक्त का शाना रहा होगा.

तेरे इशारे में जो रहस्य छुपा था.
यकीनन षडयंत्र का हिस्सा रहा होगा.

तूने तारीकी में डूबा दिया है तहजीब.
लौटो अभी वक्त ज्यादा नहीं बजा होगा.

रौशनी दिलकश होती होगी कहीं और.
इसे तूने ही यहाँ बदहवास किया होगा.

ब्रह्मज्ञान का दावा करने वाले मेरे दोस्त.
हाँ तूने ही ब्रह्म का कत्ल किया होगा.

सौन्दर्य मदिरा की तरह बिकती जहाँ.
किसी हारे हुए ने दुकान लगाया होगा.
----------------------------------

अरुण कुमार प्रसाद

शिक्षा--- ग्रेजुएट (मेकैनिकल इंजीनियरिंग)/स्नातक,यांत्रिक अभियांत्रिकी
सेवा- कोल इण्डिया लिमिटेड में प्राय: ३४ वर्षों तक विभिन्न पदों पर कार्यरत रहा हूँ.
वर्तमान-सेवा निवृत
साहित्यिक गतिविधि- लिखता हूँ जितना, प्रकाशित नहीं हूँ.१९६० से जब मैं सातवीं का छात्र था तब से लिखने की प्रक्रिया है. मेरे पास सैकड़ों रचनाएँ हैं. यदा कदा विभिन्न पत्र, पत्रिकाओं में प्रकाशित हुआ हूँ.
अरुण कुमार प्रसाद
Arun Kumar Prasad

-----****-----

|दिलचस्प रचनाएँ:_$type=blogging$count=5$src=random$page=1$va=0$au=0$meta=0

|समग्र रचनाओं की सूची:_$type=list$count=8$page=1$va=1$au=0$meta=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आत्मकथा,1,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4290,आलोक कुमार,3,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,374,ईबुक,231,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,269,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,113,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3240,कहानी,2361,कहानी संग्रह,247,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,550,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,141,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,32,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,152,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,2,बाल उपन्यास,6,बाल कथा,356,बाल कलम,26,बाल दिवस,4,बालकथा,80,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,20,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,31,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,288,लघुकथा,1340,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,20,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,378,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,79,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2075,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,730,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,847,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,21,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,98,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,216,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,78,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: आग्रह बरगद से - अरूण कुमार प्रसाद
आग्रह बरगद से - अरूण कुमार प्रसाद
https://2.bp.blogspot.com/-60nJDihz_XI/XeDQlIy_x8I/AAAAAAABQaw/aVnSerQXZqwNF2t2JpE1J46ZVZEjpIulgCK4BGAYYCw/s320/ifjbechjofcjoidh-746234.png
https://2.bp.blogspot.com/-60nJDihz_XI/XeDQlIy_x8I/AAAAAAABQaw/aVnSerQXZqwNF2t2JpE1J46ZVZEjpIulgCK4BGAYYCw/s72-c/ifjbechjofcjoidh-746234.png
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2019/12/blog-post_84.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2019/12/blog-post_84.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ