साम्प्रदायिकता:राष्ट्रीय एकता में बाधक। - डॉ एस एन वर्मा

SHARE:

डॉ एस एन वर्मा वाराणसी भारत की राष्ट्रीय एकता के मार्ग में साम्प्रदायिकता बहुत बड़ी बाधा पैदा करती रही है। हाल में राजधानी दिल्ली के उत्तर पू...

डॉ एस एन वर्मा

वाराणसी

भारत की राष्ट्रीय एकता के मार्ग में साम्प्रदायिकता बहुत बड़ी बाधा पैदा करती रही है। हाल में राजधानी दिल्ली के उत्तर पूर्वी भाग में घटित दंगों ने साम्प्रदायिकता के दंश को हरा कर दिया है। भारत में अनेक विदेशी आये लेकिन उनका मेल मिलाप भारतीय संस्कृति से हो गया। कुछ ऐसे भी रहे जिनका सामाजिक एवं धार्मिक अलगाव बना रहा। इन समूहों के साथ अनेक कारणों से तनाव बना रहा । जिससे साम्प्रदायिकता की भावना का विकास होना स्वाभाविक था। अतः एकता का आवरण समय समय पर विदीर्ण होता दिखा। इस लेख में साम्प्रदायिकता के विभिन्न पहलुओं पर इतिहास व समाज सम्मत विमर्श किया गया है।

'सामाजिक विघटन और भारत' नामक पुस्तक में प्रोफेसर के डी भट्ट ने सम्प्रदाय को परिभाषित करते हुए लिखा है कि'मेरा सम्प्रदाय,मेरा पंथ,मेरा मत ही सबसे अच्छा है। उसी का महत्त्व सर्वोपरि होना चाहिए। मेरे सम्प्रदाय की ही तूती बोलनी चाहिए। उसी की सत्ता मानी जानी चाहिए। अन्य सम्प्रदाय हेय हैं। उन्हें या तो समाप्त कर दिया जाना चाहिए,या यदि वे रहे भी तो मेरे मातहत होकर रहें। मेरे आदेशों का सतत पालन करें। मेरी मर्जी पर आश्रित रहें। 'वे आगे लिखते हैं कि 'अपने धार्मिक। सम्प्रदाय से भिन्न अन्य सम्प्रदाय अथवा सम्प्रदायों के प्रति उदासीनता ,उपेक्षा,दयादृष्टि,घृणा,विरोध और आक्रमण की भावना ही साम्प्रदायिकता है। इसका आधार वह वास्तविकता या काल्पनिक भय की आशंका है कि उक्त सम्प्रदाय हमारे अपने सम्प्रदाय और संस्कृति को नष्ट कर देने या हमारे जान माल की क्षति पहुंचाने के लिए कटिबद्ध है। जबकि 'द रैंडम हाउस डिक्शनरी ऑफ इंग्लिश लैंग्वेज' के अनुसार साम्प्रदायिकता अपने ही जातीय समूह के प्रति न कि समग्र समाज के प्रति तीव्र निष्ठा की भावना है। 'समाजशास्त्री स्मिथ कहते हैं कि साम्प्रदायिक व्यक्ति या समूह वह है जो अपने धार्मिक या भाषा भाषी समूह को एक ऐसी राजनीतिक तथा सामाजिक इकाई के रूप में देखता है जिसके हित अन्य समूहों से पृथक होते हैं और जो अक्सर उनके विरोधी भी हो सकते हैं। इन सभी परिभाषाओं से यह स्पष्ट होता है कि साम्प्रदायिकता का संबंध धार्मिक समूहों से है। सम्प्रदाय अपने श्रेष्ठ होने का भाव रखते हैं। साम्प्रदायिकता दूसरे धर्म ,भाषा ,संस्कृति के प्रति विरोध भाव रखती है। एक सम्प्रदाय के लोगों में दूसरे के प्रति वास्तविक या काल्पनिक भय होता है। इन सभी के समाहार से संकीर्ण मनोवृत्ति का जन्म होता है जब यह राजनीतिक संरक्षण पाने लगती है तो इसका रूप भयावह हो जाता है।

साम्प्रदायिक तनाव अनायास उत्पन्न नहीं होते हैं लेकिन कभी कारण से भी परिपोषित नहीं होते। कभी गाय की हत्या की घटना या केवल खबर कि गाय की हत्या हो गयी है ,तनाव को जन्म दे देती है। मस्जिद के आगे गाने और बैंड बजाने की घटना हो या,मुस्लिम को रंग लगाने के प्रयास से भी लोग समूह में हिंसा के लिए निकल पड़ते हैं। ताजिये के रास्ते या फिर प्रतिमा विसर्जन के मार्ग पर पथराव के कारण स्थिति बिगड़ जाती है। किसी समूह के देश विरोधी होने या फिर किसी देश विशेष के क्रिकेट मैच जीतने की खुशियां मनाने को लेकर भी तनाव फैल जाता है। अधिक संतान,आर्थिक संसाधन का दोहन, चोरी, देश के ऊपर बोझ जैसे कारण भी अनायास ही बना दिये जाते है। संकीर्णसोच,जातिवाद,भाषावाद,क्षेत्रवाद, पक्षपात पूर्ण व्यवहार भी अनेक बार कारण बन जाते हैं। ध्यान से सोचकर सोचने से ज्ञात होता है कि ये सभी कारण बहुत महत्त्वपूर्ण नहीं है। दंगों के सामाजिक और ऐतिहासिक अध्ययन अलग ही तस्वीरें दिखाते हैं। गलत खबरें, घृणा फैलाने वाले भाषण, प्रशासन की लापरवाही ,समाचार पत्रों द्वारा उत्तेजना का प्रसार, राजनीतिक रंग आदि ही दंगे के लिए जिम्मेदार होते हैं। इनमें किसी सम्प्रदाय की निर्णायक विजय जैसा भी कुछ नहीं होता। अतः क्षणिक स्वार्थ की पूर्ति के लिए खूनी तांडव के अतिरिक्त भी हासिल नहीं होता है।

2)

जब भी साम्प्रदायिकता की जड़ों को इतिहास में खोजा जाता है तो यह कहा जाता है कि भारत मे साम्प्रदायिकता के उदय के कारण मुस्लिम आगमन से जुड़े हैं। पहले आने वाले सभी विदेशियों ने यहां की संस्कृति को अपना लिया लेकिन मुस्लिम नहीं अपना सके । उन्होंने जबरन शासन किया ,धर्म परिवर्तन कराया। औरंगजेब आदि ने कठोर व्यवहार किया। अब अपना शासन आया है इसलिए हमें उनसे बदला लेना चाहिए। यह बात आम जनता को अपील करती है। लेकिन क्या यह बात इतनी सरल है कि सब हिन्दू उस समय हार गए थे। मुस्लिम कितनी संख्या में आये थे और कितने लोग यहां के थे जिन्होंने इस्लाम स्वीकार कर लिया था। क्या उस समय कथित हिन्दू संगठित थे या कोई संयुक्त प्रयास कर मुस्लिम आक्रमण रोक सकते थे। दिल्ली के सुल्तानों, व मुग़ल शासकों की लगभग 700 वर्ष की राज्य गाथा कितनी निरापद रही। किसी सामूहिक प्रतिरोध की बात अब तक ज्ञात नहीं हो सकी है। साम्प्रदायिकता की तनिक भावना रही होती तो राजपूत जिन्हें पारम्परिक रूप से सामाजिक शासक माना जाता था,वे मुस्लिम शासकों की तरफ से लड़ने न जाते। राणा प्रताप और शिवाजी जैसे हिन्दू प्रतीक मुस्लिम सेनापति न रखते। इनकी सेनाएं किसी मुस्लिम सैनिक को जगह न देतीं। मुस्लिम सत्ताएं आपस में ही संघर्ष न करती। इस वास्तविकता से परिचित हुए बिना इतिहास में हुए अन्याय का बदला लेने वाली मानसिकता का गुण दोष विवेचन नहीं किया जा सकता है।

भारत मे अंग्रेजी राज्य तब स्थापित हुआ जब मुस्लिम सत्ता बिखराव पर थी। इस समय भी कोई ऐसा प्रयास नहीं दिखता कि भारत की प्राचीन संस्कृति के ध्वज वाहक अपना राज्य स्थापित कर सकें। अंग्रेज ,मुस्लिमों को हराकर सत्ता में आये इसलिये उन्हें प्रतिद्वंद्वी नम्बर एक मानते रहे। लगभग सौ वर्ष वाद अंग्रेजी सत्ता का विरोध भारत की जनता ने किया। इसमें कोई साम्प्रदायिक विभेद नहीं था। उस समय तक कोई सम्प्रदायिक दंगा जैसा प्रत्यय भी नहीं दिखता। मुस्लिम अपनी बदहाली को दूर करने की कोशिश कर रहे थे। अल्ताफ हुसैन की 'मुसद्दस ए हाली ' इस पश्चाताप और पनुरुद्धार की अपील का प्रमाण है। हिन्दू जनता प्राचीन गौरव का गान 'हम कौन थे क्या हो गए 'कहकर कर रही थी। राष्ट्रीय भावना की उर्वर पृष्ठभूमि में साम्प्रदायिक बीज को लगा देना आसान था। अंग्रेजों ने यही किया। 1906 में बनी मुस्लिम लीग और 1947 तक विभाजन की कहानी कैसे वास्तविक हो गयी। विभाजन को रोकने का प्रयास क्या सफ़ल हो सकता था। सत्ता में बैठे लोग या आजाद देश के लोग कितना इस दिशा में आगे बढ़ सके। गांधी के अतिरिक्त और कोई क्यों नहीं दिखता। उनमें ही यह साहस था कि भारत में मुस्लिम और पाकिस्तान में हिन्दू की बात कर सकते थे। कुल मिलाकर बात यह कि इतिहास में साम्प्रदायिक तनाव की खोज और उसपर अमल की बात अनैतिक और अनैतिहासिक है।

इसी तरह सांस्कृतिक भिन्नता को भी साम्प्रदायिकता का गलत तरीके से कारण बता दिया जाता है। दोनों समूहों में रहन -सहन ,खान- पान,रीति रिवाज,पहनावा आदि के आधार पर भी विभेद का गान किया जाता है। मुस्लिम नहाते नहीं, खाना में मांस खाने को पसंद करते हैं, बात बात पर तलाक दे देते हैं,अधिक संतान पैदा करते है,देवी देवताओं को नहीं मानते हैं आदि आदि। इन सभी से मनोवैज्ञानिक अलगाव होना स्वाभाविक है। यह भी कहा जाता है कि मुस्लिम मनोवैज्ञानिक रूप से भारतीय नहीं है उनमें राष्ट्र प्रेम नहीं होता है वे पाकिस्तान के क्रिकेट जीतने पर खुशी मनाते हैं। ऊपर से देखने पर बात सही दिखती है लेकिन थोड़ा विचार करें तो ज्ञात होता है कि यह तर्क भी अनुचित है। जब हम यह बात सुनते हैं कि मुस्लिम अलग संस्कृति का पालन करते हैं तो यह बात ध्यान में लानी चाहिये कि क्या हिन्दू समुदाय रहन सहन,खानपान ,रीति रिवाज पहनावा आदि के आधार पर एक समान संस्कृति का पालन करता है। शायद इसका उत्तर नकारात्मक ही होता है। भारतीय संस्कृति के पहचान वाक्य में ही विविधता में एकता की बात की जाती है। उत्तर से लेकर दक्षिण तक और पूर्व से पश्चिम तक अनेक रीति रिवाज ,वेष भूषा और परमपरायें है। अनेक धार्मिक विश्वास है। अनेक हिन्दू समुदाय मांस भक्षण भी करते है। हां संतान उत्पत्ति के मामले में भी अनेक कारण है। दो संतान पर कोई राष्ट्रीय नीति नहीं है जिसे हिन्दू समुदाय मानता हो और मुस्लिम समुदाय नहीं। पुत्र मोह में अनेक संतान,अधिक संतान बुढ़ापे में आराम का सिद्धांत क्या बहुसंख्यक हिन्दू समुदाय में प्रचलित नहीं है। रही बात राष्ट्र प्रेम की तो राष्ट्र प्रेम की परिभाषा के तहत बलिदान सबसे बड़ी कसौटी है। 1857 से1947 तक शहीदों की संख्या में मुस्लिम भागीदारी इसका सबसे बड़ा सुबूत है। पाकिस्तान के जीतने पर खुशी की बात भी अर्धसत्य इसलिये है कि सभी मुस्लिम इस तरह का आचरण करते नहीं दिखते हैं। दूसरी बात कि पाकिस्तान और भारत कभी एक थे। अनेक मुस्लिम परिवार अभी भी वैवाहिक संबंधों से पाक से जुड़े हैं। अनेक हिन्दू समुदाय यह राजनीतिक विचारधारा रखते हैं कि आजादी के पूर्व वाला भारत बनाने का प्रयास किया जाना चाहिए। फिर भी कोई पाकिस्तान की जय बोले तो यह कानून व्यवस्था का मामला है। खेल प्रेमी क्या इंग्लैंड न्यूजीलैंड के मैच को क्या साधु बनकर देखते है। किसी न किसी देश के साथ मनोवैज्ञानिक रूप से जुड़ते और जय बोलते ही हैं। सच बात कि मुस्लिम समुदाय किसी और मुस्लिम देश की विजय पर हर्ष नहीं प्रकट करता। यह बात सभी स्वीकार भी करते हैं। हिन्दू जनता किसी अन्य देश के साथ होने वाले क्रिकेट मैच में हार जीत को इतने गहरे से नहीं लेती। यह मनोविज्ञान कहाँ से जन्म लेता है। इस पर भी विचार की जरूरत है।

तीसरा प्रमुख पक्ष राजनीतिक दलों स्वार्थ है जो बहुसंख्यक और अल्पसंख्यक विभाजन के आधार पर सत्ता पर अधिकार चाहता है। धर्मनिरपेक्ष कानून का दुरुपयोग, निहित स्वार्थ,असामाजिक तत्त्वों को संरक्षण,तुष्टीकरण की नीति आदि अनेक तत्त्व है जो विभेद को बढ़ाते है। हमारे देश के सांप्रदायिक संगठनों और मंदिर मस्जिद विवाद ने आग में घी का काम किया है। भारत में अंग्रेज़ी सत्ता ने जिस विभाजन की नीति पर चलकर अपने शासन की बनाये रखने की कोशिश की थी

और जाते जाते विभाजन कर दिया था, उसी आधार पर बाद के राजनीतिक दलों ने अपनी सत्ता स्थापित करनी चाही। अल्पसंख्यक साम्प्रदायिकता बनाम बहुसंख्यक साम्प्रदायिकता का दंश देश अभी भी झेल रहा है। मुस्लिमों के आर्थिक पिछड़ेपन अशिक्षा आदि से साम्प्रदायिकता को मजबूती मिली। न्यायमूर्ति सच्चर समिति के अध्ययन से यह बात साफ थी कि मुस्लिम समुदाय की प्रगति के लिये विशेष उपाय किया जाना चाहिए। लेकिन यह रिपोर्ट आते ही बहुसंख्यक जनता की राजनीति को अलग मोड़ मिल गया। जिसका एक पहलू बहुसंख्यक समुदाय के निम्न समूहों से जुड़ा था तो दूसरा मुस्लिम समूह को दोयम दर्जे से ऊपर उठाने से जुड़ा। इस घोषित लक्ष्य से सत्ता की चाबी मध्य मार्ग से निकल दक्षिण पंथी खेमे में आ गयी। तात्पर्य यह कि साम्प्रदायिकता का आवरण ऊपर से जितना एक रेखीय है भीतर से उतना नहीं है।

3)

साप्रदायिक राजनीति के दुष्प्रभाव का जितना आकलन अध्येताओं ने किया है उन सभी में महाविनाश को ही रेखांकित किया गया है। असगर अली, वी एन राय आदि की पुस्तकें साम्प्रदायिकता के जमीनी सरोकार के साथ मारे गये लोंगो की संख्या तक बयां करती है। 'कोई भी दंगा 24 घंटे से अधिक तक फैला नहीं रह सकता यदि इसे सरकारी समर्थन नहीं होता"। ''दंगे स्वतः स्फूर्त नहीं होते । ' जैसे कथन इन्हीं अध्ययनों के निष्कर्ष है। साम्प्रदायिकता हमेशा से राष्ट्रीय एकता के ताने बाने को कमजोर करती है। विभाजन, घृणा, अविश्वास, तनाव ,संघर्ष आदि से आपसी सहयोग की भावना का ह्रास होता है। इससे अन्ततः सम्पूर्ण देश का राष्ट्रीय चरित्र नहीं बन पाया।

साम्प्रदायिकता ने समय समय पर राजनीतिक अस्थिरता को जन्म दिया है। लोगों ने अपनी ही सरकार के प्रति अविश्वास प्रकट किया है। अलगाव की भावनाओं से प्रशासन भी अछूता नहीं रह सका। वर्षों बाद आये मेरठ दंगे के फैसले में पुलिस को ही नरसंहार के लिये उत्तरदायी ठहराया गया है। कार्यपालिका और न्यायपालिका के प्रति अविश्वास बढ़ने से लोगों के जीवन खतरे में आना स्वाभाविक है। संवैधानिक संस्थाओं के प्रति अवमानना भाव से जंगल राज जैसा वातावरण तैयार हो जाना भी शुभ संकेत नहीं है। ऐसे में असामाजिक तत्त्वों को बढ़ावा मिलता है प्रशासन की लापरवाही का वे लाभ उठाते है। व्यक्तिगत दुश्मन को प्रताड़ित करते है। लूटमार करने वालों को उचित व अनुकूल अवसर मिल जाता है।

दंगों का आर्थिक पहलू सबसे ज्यादा प्रभाव डालता है। मकान ,दुकान, सरकारी कार्यालय, स्कूल, रेल,डाकतार ,बस आदि को अबतक सबसे अधिक टारगेट किया गया जिससे अरबों का नुकसान हुआ। इससे आर्थिक विकास अवरुद्ध हुआ है। कारखानों और उद्योगों पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। पूंजी के विनाश के साथ उत्पादन भी अवरुद्ध हो जाता है। निवेशक ऐसी जगह पर पूंजी निवेश के तैयार नहीं होते। लिहाजा गरीबी का दुष्चक्र चलने लगता है जिसका शिकार आम आदमी होता है। रोजगार की कमी से रोजमर्रा का जीवन कठिन हो जाता है। परिणामस्वरूप दूसरी तरह की सामाजिक विघटनात्मक गतिविधियां आरम्भ हो जाती हैं। अतीत के सामाजिक और सांस्कृतिक एकता के प्रयास मिट्टी में मिल जाते हैं। समाज में पुनः शंका,भय और घृणा का वातावरण तैयार हो जाता है। कोई एक भी बिंदु नहीं दिखता जिसे अच्छा कहा जा सके। न तो किसी की जीत दिखती है और न किसी की हार। एक करुण टीस भर बचती है जिसे हर कोई जल्द भूल जाना चाहता है।

एक स्थान के साम्प्रदायिक तनाव दूसरे स्थानों और देशों को भी विपरीत ढंग से प्रभावित करते हैं। भारत के साम्प्रदायिक तनाव पड़ोसी देशों के सामाजिक ताने बाने को छिन्न भिन्न करने लगते हैं। वहाँ भी अल्पसंख्यक लोग प्रताड़ित किये जाने लगते हैं। उन्हें जन धन की हानि उठानी पड़ती है। पड़ोसी देशों का सामुदायिक जीवन दूषित हो जाता है।

(4)

भारत में साम्प्रदायिकता की समस्याओं की सुलझाने के लिये समय समय पर प्रयास किये जाते रहे हैं। सबसे पहले प्रयास के रूप में राष्ट्रीय एकता परिषद का गठन किया गया। 16 अक्टूबर 1969 को दिल्ली में हुई इस संगठन की बैठक सभी राजनीतिक दलों ने जन साधारण में साम्प्रदायिक सद्भाव जागृत करने का संकल्प व्यक्त किया। शिक्षा के व्यापक प्रसार पर बल दिया। इस बैठक में प्रसासनिक इकाईयों को कठोर कदम उठाने का निर्देश दिया गया। साथ ही अल्पसंख्यक जनता की समस्याओं के निराकरण पर विशेष ध्यान देने की बात कही गयी। एक वर्ष पूर्व हुए मुख्यमंत्री सम्मेलन में भी इसी तरह के सुझाव दिए गए थे। सम्प्रदाय की राजनीति ने सरकार को बहुत अधिक सफलता नहीं दिलाई। अतः यह प्रयास दूसरी संस्थाओं द्वारा किया जाना आरम्भ हुआ। साम्प्रदायिकता की समस्या को हल करने के लिये निम्नलिखित सुझाव दिये जा सकते हैं।

1-प्रजातांत्रिक मूल्यों के आधार पर प्रत्येक व्यक्ति के महत्व को मान्यता दी जाय। विज्ञान और प्रौद्योगिकी के मूल्यों को पूर्णतया स्वीकार किया जाय।

2-देश की सम्पूर्ण जनसंख्या के लिये सामाजिक सुरक्षा की व्यवस्था की जाय।

3-राष्ट्रीय आय और साधनों को इस प्रकार वितरित किया जाय जिससे अधिक से अधिक लोगों की अधिक से अधिक आवश्यकताओं को पूर्ण किया जा सके।

4-किसी भी दल या संगठन को धार्मिक आधार पर घृणा और वैमनस्य फैलाने से कठोरता पूर्वक रोका जाय।

5-ऐसे शैक्षिक पाठ्यक्रम तैयार किए जाएं जो आपसी सद्भाव,मेलजोल और एकता की भावना को बढ़ावा दें।

6-प्रशासनिक शिथिलता को समाप्त कर साम्प्रदायिकता फैलाने वालों को कठोर से कठोर सजा दी जाय। संभव हो तो प्रशासन और न्यायपालिका को राजनीतिक हस्तक्षेप से दूर रखा जाय।

7-सहिष्णुता को केंद्रीय भाव मानकर राष्ट्रीय आयोजन किया जाय। विभिन्न समूहों के त्योहारों और उत्सवों को ओपन पार्टिसिपेसन के साथ आयोजित किया जाय ताकि लोग एक दूसरे को समझ सकें।

8-रेडियो, टेलीविजन, पत्र पत्रिकाओं आदि के माध्यम से साम्प्रदायिक एकता और सदभाव का प्रचार किया जाय।

9-स्त्रियां अधिक संवेदनशील होती है अतः उन्हें इस महान दायित्व के लिये आगे किया जाय।

10-अल्पसंख्यक जनता को मुख्य धारा में लाने के लिये शिक्षा और रोजगार के अवसर प्रदान किये जायँ। क्रमबद्ध तरीके से समान सामाजिक कानून निर्मित किए जाएं।

11-सार्वजनिक स्थलों पर धर्म विशेष को अधिक महत्त्व न दिया जाय। सहजीवन व्यतीत करने पर जोर दिया जाय ताकि लोग दूसरे की अच्छाईयों को भी आत्मसात कर सकें।

12- शांति सेना का गठन भी एक उपाय हो सकता है। यह शांति काल में एकता और सौहार्द स्थापित करे परन्तु अशांति के समय निवारक शक्ति के रूप में कार्य कर सके।

13-ऐसा नेतृत्त्व का विकास किया जाय जो सही और गलत में स्पष्ट भेद की दृष्टि रख सके। हिंदुओं के बीच मुस्लिम के लिए और मुस्लिमों के बीच हिन्दू के लिए गांधी की तरह अपनी बात दृढ़ता से रख सके।

साम्प्रदायिकता के निवारण हेतु व्यक्तियों का समाजीकरण,समूहों का राष्ट्रीयकरण और दलों का निर्मलीकरण आवश्यक है। देश के नागरिकों में नागरिकता बोध लाए /आए बिना समृद्ध और श्रेष्ठ भारत का सपना पूर्ण होने में संदेह है। अस्तु।

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आत्मकथा,1,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4290,आलोक कुमार,3,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,374,ईबुक,231,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,269,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,113,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3240,कहानी,2361,कहानी संग्रह,247,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,550,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,141,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,32,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,152,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,2,बाल उपन्यास,6,बाल कथा,356,बाल कलम,26,बाल दिवस,4,बालकथा,80,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,20,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,31,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,288,लघुकथा,1340,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,20,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,378,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,79,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2075,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,730,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,847,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,21,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,98,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,216,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,78,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: साम्प्रदायिकता:राष्ट्रीय एकता में बाधक। - डॉ एस एन वर्मा
साम्प्रदायिकता:राष्ट्रीय एकता में बाधक। - डॉ एस एन वर्मा
https://1.bp.blogspot.com/-6b2t6zgF69M/XmMuwR3cTVI/AAAAAAABQ-o/t8y6UlZnbTw3BxVPvIqQ7WVSuvphg_d1gCLcBGAsYHQ/s1600/art-sonam-sikarwar-8.JPG
https://1.bp.blogspot.com/-6b2t6zgF69M/XmMuwR3cTVI/AAAAAAABQ-o/t8y6UlZnbTw3BxVPvIqQ7WVSuvphg_d1gCLcBGAsYHQ/s72-c/art-sonam-sikarwar-8.JPG
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2020/03/blog-post_41.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2020/03/blog-post_41.html
true
15182217
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy Table of Content