रचनाएँ खोजकर पढ़ें

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -


विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधाएँ ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


पद्मश्री मुकुटधर पाण्डेय की श्रेष्ठ रचनाएं - प्रस्तुतकर्त्ता - प्रो. अश्विनी केशरवानी

साझा करें:

पद्मश्री मुकुटधर पाण्डेय की श्रेष्ठ रचनाएं प्रस्तुतकर्त्ता - प्रो. अश्विनी केशरवानी (1) करूण रस बैठी एक सुन्दरी देखो, सरिता तट पर चिन्ता-लीन...

पद्मश्री मुकुटधर पाण्डेय

की श्रेष्ठ रचनाएं

प्रस्तुतकर्त्ता -

प्रो. अश्विनी केशरवानी

(1)

करूण रस

बैठी एक सुन्दरी देखो, सरिता तट पर चिन्ता-लीन !

ग्रहण-काल भय से व्याकुल अति, शरद-चन्द्र जिस भांति मलिन

कवलख 2 कर हाय ! अकेली, दुख-क्रन्दन वह करती है।

आंखों से ''झरझर'' मोती-सम, अश्रु-मालिका झरती है।।

करते ही उन अश्रु-कणों के, स्पर्शन सरिता का वह स्रोत-

किस प्रकार हो गया पूर्ण है, स्वर्ण-सलिल से आत्मप्रोत !

खिले हुए सौरभ-मय सुन्दर सरसिज शोभा पाते हैं।

मधु-लोलुप मधुकर भी कितने, मन्द 2 मंडराते हैं।।

पल भर में इतना परिवर्तन ! करो न पर आश्चर्य विशेष।

प्रतिध्वनित वाणी से किसकी, होते हैं यह कूल-प्रदेश -

''सरिता-जल ही के मिस अविरत, काव्य-सुधा बहता अभिराम।

विदित नवों-रस की रानी, है ''करूणा'' इस रमणी का नाम।।

बसुधा में वह सुकवि धन्य है, रहती यह जिसके आधीन''।

बैठी एक सुन्दरी देखो, सरिता-तट पर चिन्ता लीन।

इंदु पत्रिका जनवरी सन् 1915)

(2)

कविता

कविता सुललित पारिजात का हास है,

कविता नश्वर जीवन का उललास है।

कविता रमणी के उर का प्रतिरूप है,

कविता शैशव का सुविचार अनूप है।

कविता भावोन्मतों का सुप्रलाप है,

कविता कान्त-जनों का मृदु आलाप है।

कविता गत गौरव का स्मरण-विधान है,

कविता चिर-विरही का सकरूण गान है।

कविता अंतर उर का बचन प्रवाह है,

कविता कारा बद्ध हृदय की आह है।

कविता भग्न मनोरथ का उद्गार है,

कविता सुन्दर ऐ अन्य संसार है।

कविता वर वीरों का स्वर करवाल है,

कविता आत्मोद्धरण हेतु दृढ़ ढाल है।

कविता कोई लोकोत्तर आल्हाद है,

कविता सरस्वती का परम प्रसाद है।

कविता मधुमय-सुधा-सलिल की है घटा,

कविता कवि के एक स्वप्न की है छटा।

चन्द्रप्रभा 1917 में प्रकाशित

(3)

कवि

बतलाओ, वह कौन है जिसे कवि कहता सारा संसार ?

रख देता शब्दों को क्रम से, घटा-बढ़ा जो किसी प्रकार।

क्या कवि वही ? काव्य किसलय क्या उसी का लहराता है

जिससे यश सुमन सौरभ से निखिल विश्व भर जाता है।

​​

नहीं नहीं, मेरे विचार में कवि तो है उसका ही नाम

यम-दम-संयम के पालन युत होते हैं जिसके सब काम।

रहती है कल्पना-कामिनी जिसके हृदय कमल आसीन

संचारित करती सर्दव जो भाँति भाँति भाव नवीन।

​​

भूत, भविष्यत् वर्तमान पर जिसकी होती है सम दृष्टि

प्रतिभा जिसकी मर्त्यधाम से करती सदा सुधा की वृष्टि

जो करूणा श्रृंगार, हास्य वीरादि नवों रस का आधार

जिसको ईश्वरीय तत्वों का अनुभव युत है ज्ञान-अपार।

​​

जिसकी इच्छा से अरण्य में फूल खिल जाता है

नन्दन वन से पारिजात की लता छीन जो लाता है

मरीचिका-मय मरूस्थली में जिसकी आज्ञा के अनुसार

कलकल नादपूर्ण बहती है अतिशय शीतल जल की धार।

सरस्वती, अक्टूबर 1919

(4)

चरण प्रसाद

कण्टक-पथ में से पहुँचाया चारू प्रदेश

धन्यवाद मैं दूँ कैसे तुझको प्राणेश।

यह मेरा आत्मिक अवसाद ?

हुआ मुझे तब चरण-प्रसाद।

छोड़ा था तूने मुझपर यह दुर्द्धर-शूल,

किन्तु हो गया छूकर मुझको मृदु फूल।

यह प्रभाव किसका अविवाद ?

आती ठीक नहीं है याद।

जी होता है दे डालूँ तुझको सर्वस्व,

न्यौछावर कर दूँ तुझ पर सम्पूर्ण निजस्व।

उत्सुकता या यह आल्हाद ?

अथवा प्रियता पूर्ण प्रमाद ?

जो निज अन्तर से मम आन्तर-भाषा जान,

लिख सकती लिपि भी क्या उसके भेद महान।

भाषा क्या वह छायावाद,

है न कहीं उसका अनुवाद।

हितकारिणी, मार्च 1920

(5)

आँसू

देखकर प्रिय को पड़ा त्रयताप में,

वेदना होती हृदय-धन को महा।

शोक विह्वल वह कराह-कराह कर,

आँसुओं की धार देता है बहा।।

या सह न सकता कर उस ताप को,

हाय ! प्रेमी का हृदय हिम-खण्ड है।

हो स्वयं संतप्त और पसीज कर,

ढालता वह, अश्रु-वारि अखण्ड है।।

क्या-हृदय नभ से गिराकर ओस कण,

नेत्र कमलों के भरे ये गोद है ?

यों बढ़ा करके सहज सौंदर्य को,

स्वर्ण में लाया सुन्दर आमोद है।।

या हृदय यह मुक्ति-साधन को को हुआ

विष्णु पद समभव-जलधि का पोत है ?

है जहाँ से आँसुओं के रूप में,

बह रहा यह सुरसरी का का स्रोत है।।

या हृदय निःसीम सागर-गर्भ है,

विपुल जल की राशि जिसमें है भरी ?

है जहाँ से लोचनों की राह से

निकलती अनमोल मोती की लड़ी ।।

प्रेमियों के हृदय सागर से कढ़े,

यत्न से इन मोतियों को।

जो बनाता हार अपने कण्ठ का,

भाइयों ! है विश्व में वह धन्य नर।।

सरस्वती, दिसंबर 1916

(6)

हृदय

वह सिसकता जो सड़क पर है खड़ा,

है नहीं घ्ज्ञर-द्वार का जिसके पता,

बांह ऐसे दीन की गहता हृदय

और आँसुओं को पोंछता।

जिस अभागे को हरे ! सब काल है

घाव घोर अभाव का रहता बना

भूलकर उसको हृदय करता नहीं

द्वार आने से कभी अपने मना ।

प्यार की दो बात कहने के लिए

जिस दुःखी के पास है कोई नहीं

पास उसके दौड़कर जाता हृदय

और घंटों बैठ रहता है वहीं।

गोद जिसकी आज खाली हो गई,

है अनूठा रत्न जिसका खो गया

देखकर उस दुःखिन माँ की दशा

बावला-सा क्यों हृदय है हो गया ?

राह पर उसको ठिठुरता शीत से

मिल गया कोई अगर नंगे बदन

शाल अपना डाल जो तो उस पर हृदय

है वहीं से लौटता अपने सदन।

देख लेता जो किसी निज बंधु पर

वज्र सम आघात है आता बड़ा,

तो न प्राणों की जरा परवाह कर

सामने वह आप हो जाता बड़ा।

बेकसों का जो दबा करके गला

चालबाजी से चला देते छुरी

याद कर उनको हृदय है कांपता

वह नहीं इसमें समझता चातुरी।

देखकर उत्कर्ष औरों का सदा

हर्ष से खिलता हृदय है फूल-सा

पर किसी का दुःखमय अपकर्ष है

बेधता उसको बहुत सी शूल-सा।

स्वर्ग की भी लख अतुल सुख-सम्पदा

माँगने वह हाथ फैलाता नहीं

छोड़कर अपनी पुरानी झोपड़ी

द्वार को वह अन्य के जाता नहीं।

मुप्त ही पर की कमाई से मिली

ले मिठाई भी सरस सीठी उसे

पर परिश्रम प्राप्त सूखी रोटियाँ

है अमृत के सम बड़ी मीठी उसे।

हाँ किसी श्रीमान के हाँ में मिला

आम भी अब नीम है जाता कहा

तब हृदय होता संभल कर है खड़ा

जब वहाँ उससे नहीं जाता रहा।

देख यह झट हाँथ उसका खींचकर

स्वार्थ उसको चाहता देना बिठा

पर कुचल पाँवों तले उसको वहीं

मोह का परदा हृदय देता उठा।

धर्म रक्षा से विमुख हो अन्य जब

शक्तिशाली के पदों को चूमता

स्वीय प्राणों को हथेली पर लिये

यह सरे बाजार है तब घूमता।

सरस्वती, मार्च 1917

(7)

दुस्साहस

एक दिन की बात है, हे पाठकों

नोन की जब एक छोटी सी डली

सिन्धु के जल पूर्ण दुर्गम-गर्भ की

थाह लेने के लिये घर से चली

किन्तु थोड़ी दूर भी पहुँची न थी

और उसमें वह स्वयं ही घुल गई

रंग के मद में अहो पूरी रंगी

वे महा भ्रमपूर्ण आँखें धुल गई

कर बड़ा साहस चली थी वह झपट

सिन्धु के तल का लगाने को पता

वो सकल निज रूप-गुण को ही हरे

हो गई उसमें स्वयं ही लापता।

सरस्वती, जनवरी 1917

(8)

निःस्वार्थ सेवा

खींच रहा था हल आतप में बूढ़ा एक बैल सत्रास

उसे देखकर विकल बहुत ही पूछा मैंने जाकर पास

''बूढ़े बैल, खेत में नाहक क्यों दिन भर तुम मरते हो ?''

क्यों न चरागाहों में चलकर, मौज मजे से करते हो ?

सुनकर मेरी बात बैल ने कहा दुःख से भरकर आह-

''इस अनाथ असहाय कृषक का होगा फिर कैसे निर्वाह'' ?

सरस्वती, दिसंबर 1918

(9)

कृतज्ञ-हृदय

देकर के निज उर में पृथ्वी मुझको आश्रय-दान

करती है चुपचाप सहन यह मेरा भार महान्।

यह विचार, देकर सब पत्ते उसे सहित अनुराग

रिक्त हस्त होकर के तरू ने प्रकट किया निज त्याग।।

किन्तु शीघ्र ही पहना करके उसे हरित परिधान

किया प्रकृति ने उसको सुन्दर पुष्पाभूषण-दान।

उधर भूमि ने उसके पत्तों का करके स्वीकार

खाद्य रूप में लाकर, उसका किया विविध सत्कार।

छेख रत्न गर्भा का ऐसा अति उदार व्यवहार

लज्जित होकर तरू ने अपने मन में किया विचार-

दिनकर यह जो देता उसको है जल बहु-परिमाण

करता भी है निदर्यता से शोषण उसके प्राण।

मैंने अर्पित किया उसे खुद अपने पत्र उतार

तो भी वह करती है उससे मेरा शत-उपकार।

उसके विस्तृत हृदय-सिन्धु का कहीं न पाकर कूल

चाहा उसने कृतज्ञता से इसे चढ़ाऊँ फूल।

पर, इस कृति के साथ साथ ही पाकर फलोपहार

झुकने लगी नम्र हो अतिशय उसकी प्यारी डार।

है कृतज्ञता-पूर्ण हृदय की महिमा अति विख्यात्,

कर्म और फल दोनों ही का यह अद्भुत अनुपात।।

सरस्वती, मार्च 1918

(10)

महानदी

कर रहे महानदी ! इस भाँति करूण क्रन्दन क्यों तेरे प्राण ?

देख तब कातरता यह आज, दया होती है यह मुझे महान।

विगत-वैभव को अपने आज, हुई क्या तुझे अचानक याद ?

दीनता पर या अपनी तुझे, हो रहा है आन्तरिक विषाद ?

सोचकर या प्रभुत्व-मद-जात, कुटिलता-मय निज कार्य-कलाप।

धर्म-भय से कम्पित-हृदय, कर रही है क्यों परिताप ?

न कहती तू अपना कुछ हिाल, ठहरती नहीं जरा तू आज।

'धीवरों के बन्धन से तुझे, छूटने की है अथवा लाज ?

हजारों लाखों कीट पतंग, और गो-महिष आदि प्शु-भीर

हृदय में तेरे हुए विलीन, हुई पर तुझको जरा न पीर।

दर्प से फैलाकर निज अंग, तीर के शस्त्रों का कर नाश,

लिया तूने बल-पूर्वक छीन, दीन-कृषकों के मुख का आस।

बहु काल से निश्चल खड़े थे, करीारे पर तेरे झाड़।

बहा ! ले गई सदा के लिए, हाय ! तू जड़ से उन्हें उखाड़।

कहाँ ऊब तेरा वह औद्धत्य, आज क्यों फूटा तेरा भाग ?

जल रही तेरे उर में देख, निरन्तर धू-धू करके आग।

पथिक दल को तूने था कभ्ज्ञी, व्यर्थ रोका दिन-दिन भर रोक

वही तेरी छाती को आज, कुचलता चलता है हा ! शोक ! !

उग्र-लहरों में अपनी डाल, उलट दी तूने जिसकी नाँव,

उसी धीवर दम्पति ने तुझे, कैद में डाला पाकर दाँव।

बहा देती थी कोसों कभी मत्त नागों को भी तू जीत,

रोक सकती है तुझको आज, क्षुद्र-तम यह बालू की भीत।

बता दे महानदी विख्यात कहाँ तब मानवता है आज ?

कहाँ वह तेरा गर्जन घोर कहाँ जल मय विस्तृत-साम्राज्य ?

प्राप्त करके कुछ पाश्व-शिक्ति, न होता तुझको जो अभिमान,

न होती तो शायद इस भाँति, दुर्दशा तेरी आज महान।

विनय है तुझसे चित्रोत्पले, भरे जो फिर तेरे कूल,

मोद में तो यह कातर-रूदन, कभी मत जाना अपना भूल।

हितकारिणी, जुलाई 1919

(11)

जुगनू

अंधकार में दीप जलाकर,

किसकी खोज किया करते हो

तुम खद्योत क्षुद्र हो

किर भी क्यों ऐसा दम भरते हो

तम के ये नक्षत्र आजकल

घूम रहे उसके कारण

उसका पता कहाँ है किसको

होगा यह रहस्य उद्घाटन

प्रातःकाल पवन लाती है

उसका कुछ सन्देश

मूल प्रकृति को ही कह जाती

है उसका सन्देश

क्षण भर में तब जड़ में

हो जाता चैतन्य विकास

वृक्षों पर विकसित फूलों को

होता हास-विलास

सरस्वती 1920

(12)

विश्वबोध

खोज में हुआ वृथा हैरान,

यहाँ ही था तू हे भगवान !

गीता ने गुरू ज्ञान बखाना,

वेद-पुरान जन्म भर छाना,

दर्शन पढ़े, हुआ दीवाना,

मिटा नहीं अज्ञान।

​​

जोगी बन सिर जटा बढ़ाया,

द्वार-द्वार जा अलख जगाया,

जंगल में बहुकाल बिताया

हुआ न तो भी ज्ञान।

​​

ऊषा-संग मंदिर में आया,

कर पूजा-विधि ध्यान लगाया,

पर तेरा कुछ पता न पाया,

हुआ दिवस अवसान।

​​

अस्ताचल पर हँसकर थोड़ा,

दिनकर ने अपना मुँह मोड़ा,

विहगों ने भी मुझ पर छोड़ा,

व्यंग्य वचन के बाण।

​​

विधु ने नभ से किया इशारा-

अधोदृष्टि करके ध्रुव तारा

तेरा विश्व-रूप-रस-सारा

करता था जित पान।

​​

हुआ प्रकाश तमोमय मग में,

मिला मुझे तू तत्क्षण जग में

तेरा हुआ बोध पग पग में

खुला रहस्य महान।

​​

दीन-हीन के अश्रु-नीर में,

पतितों की परिताप-पीर में,

संध्या के चंचल समीर में

करता था तू गान।

​​

सरल-स्वभाव कृषक के हल में,

पतिब्रता-रमणी के बल में,

श्रम-सीकर से सिंचित धन में,

संशय रहित भिक्षु के मन में

कवि के चिन्ता-पूर्ण वचन में

तेरा मिला प्रमाण।

​​

वाद-विहीन उदार धर्म में,

समता-पूर्ण ममत्व-मर्म में,

दम्पत्ति के मधुमय विलास में

शिशु के स्वजोत्पन्नहरास में,

वन्य कुसुम के शुचि सुवास में

था तब कृडा स्थान।

​​

देखा मैंने-यही मुक्ति थी,

यही भोग था, यही मुक्ति थी,

घर में ही सब योग युक्ति थी,

घर ही था निर्वाण।

​​

सरस्वती, दिसंबर 1917

(13)

रूप का जादू

निशिकर ने आ शरद-निशा में-

बरसाया मधु दशों दिशा में,

विचरण करके नभो-देश में, गमन किया निज धाम।

पर चकोर ने कहा भ्रान्त हो,

प्रिय-वियोग दुःख से अशान्त हो-

गया छोड़ करके जीवन-धन्य, मुझे कहाँ हा राम !

हुआ प्रथम जब उसका दर्शन

गया हाथ से निकल तभी मन,

सोचा मैंने-यह शोभा की सीमा है प्रख्यात।

वह चित-चोर कहाँ बसता था,

किसको देख-देख हँसता था,

पूछ सका मैं उसे मोह-वश नहीं एक भी बात।

मैंने उसको हृदय दिया था

रूचिर-रूप-रस पान किया था,

था न स्वप्न में मुझको उसकी निष्ठुरता का ध्यान।

मन तो मेरा और कहीं था

मुझको इसका ध्यान नहीं था-

छिपा हुआ शीतल किरणों में है मरू-भूमि महान।

अच्छा किया मुझे जो छोड़ा

मुझसे उसने नाता तोड़ा,

दे सकता अपने प्रियतम को कभी नहीं मैं शाप।

इतना किन्तु अवश्य कहूँगा

जब तक उसको फिर न चखूँगा

तब तक हृदय-हीन जीवन में, है केवल सन्ताप।

सरस्वती, मई 1918

(14)

उद्गार

मेरे जीवन की लघु तरणी

आँखों के पानी में तर जा

मेरे उर का छिपा खजाना

अहंकार का भाव पुराना

बना आज मुझको दीवाना

तप्त श्वेत बूँदों में ढ़र जा

मेरे नयनों की चिर आशा

प्रेम पूर्ण सौंदर्य पिपासा

मत कर नाहक और तमाशा

आ मेरी आँहों में भर जा

मानस भवन पड़ा है सूना

तमोधाम का बना नमूना

कर उसमें प्रकाश अब दूना

मेरी उग्र वेदना हर जा

अय मेरे प्राणों के प्यारे

इन अधीर आँखों के तारे

बहुत हुआ मत अधिक सता रे

बातें कुछ भी तो अब कर जा

मोहित तुझको करने वाली

नहीं आज वह मुख की लाली

हृदय तन्त्र यह रक्खा खाली

अब नूतन स्वर इसमें भर जा।

सरस्वती, अप्रेल 1918

(15)

मर्दितमान

कहाँ गये तुम नाथ मुझे यों भूल ?

गड़ता है उर बीच बिरह का शूल

प्रिय, जब थे तुम सतत मेरे पास

किया तुम्हारा मैंने नित उपहास

सुनता था अब नित्य तुम्हारी बात

था उसका माधुर्य नहीं अब ज्ञात

मिलो कहीं जो शेष हृदय का त्याग

तुम्हें दिखाऊँ अपने उर की आग

पा जा ऊँ मैं तुमको जो फिर नाथ

रक्खूँ उर में छिपा यत्न के साथ

बिछा हृदय पर आसन मेरे आज

मजे तुम्हारे स्वागत के सब साज

गूंथ प्रेम के फूलों की नव माल

रक्खा मैंने पलक-पाँवड़े डाल

उत्कंठित हो दर्शन हेतु महान

राह तुम्हारी तकते हैं ये प्राण

कृपा करोगे क्या न कहो हे नाथ

रखोगे कब तक इस भाँति अनाथ।

सरस्वती, नवंबर 1918

(16)

कुररी के प्रति

बता मुझे ऐ विहग विदेशी अपने जी की बात

पिछड़ा था तू कहाँ, आ रहा जो कर इतनी रात

निद्रा में जा पड़े कभी के ग्राम-मनुज स्वच्छन्द

अन्य विहग भी निज नीड़ों में सोते हैं सानन्द

इस नीरव घटिका में उड़ता है तू चिन्तित गात

पिछड़ा था तू कहाँ, हुई क्यों तुझको इतनी रात ?

​​

देख किसी माया प्रान्तर का चित्रित चारू दुकूल ?

क्या तेरा मन मोहजाल में गया कहीं था भूल ?

क्या उसकी सौंदर्य-सुरा से उठा हृदय तब उब ?

या आशा की मरीचिका से छला गया तू खूब ?

या होकर दिग्भा्रन्त लिया था तूने पथ प्रतिकूल ?

किसी प्रलोभन में पड़ अथवा गया कहीं था भूल ?

​​

अन्तरिक्ष में करता है तू क्यों अनवरत विलाप

ऐसी दारूण व्यथा तुझे क्या है किसका परिताप ?

किसी गुप्त दुष्कृति की स्मृति क्या उठी हृदय में जाग

जला रही है तुझको अथवा प्रिय वियोग की आग ?

शून्य गगन में कौन सुनेगा तेरा विपुल विलाप ?

बता कौन सी है व्यथा तुझे है, है किसका परिताप ?

​​

यह ज्योत्सना रजनी हर सकती क्या तेरा न विषाद ?

या तुझको जिन-जन्म भूमि की सता रही है याद ?

विमल व्योम में टँगे मनोहर मणियों के ये दीप

इन्द्रजाल तू उन्हें समझ कर जाता है न समीप

यह कैसा भय-मय विभ्रम है कैसा यह उन्माद ?

नहीं ठहरता तू, आई क्या तुझे गेह की याद ?

​​

कितनी दूर कहाँ किस दिशि में तेरा नित्य निवास

विहग विदेशी आने का क्यों किया यहाँ आयास

वहाँ कौन नक्षत्र-वृन्द करता आलोक प्रदासन ?

गाती है तटिनी उस भू की बता कौन सी गान ?

कैसा स्निग्ध समीरण चलता कैसी वहाँ सुवास

किया यहाँ आने का तूने कैसे यह आयास ?

इसी कविता पर पं. मुकुटधर पाण्डेय को पद्मश्री पुरस्कार मिला है।

यह कविता सरस्वती, जुलाई 1920 में प्रकाशित है।

(17)

किंशुक के प्रति

वर-बसन्त-दूतिके, ''कलित-किंशुक-कली'' !

बता, आज इस ओर कहाँ आती चली ?

भूल पड़ी या प्रीतम का आदेश है,

जिससे पावन हुआ आज मम देश है ?

​​

बिछुड़े उनसे बीता पुरा वर्ष है,

रहा न मम का धैर्य, हृदय का हर्ष है।

विरहानल में घोर ग्रीष्म भर मैं जली,

नेत्रों को करके निर्झर वर्षा चली।

डाल तुहिन-तम-तोम निखिल संसार में,

रक्खा हिय ने मुझको कारागार में।

इस जीवन-पथ पर अनेक आये गये,

हर न सके सन्ताप, दिये दुःख ही नये।

घोर-घना की निशा निरन्तर थी खड़ी,

सहसा उज्जवल किरण रूप तू लख पड़ी।

​​

स्वागत, किंशुक-कलिके, तुझे अपार है,

तब हित कब से खुला हुआ मम द्वार है।

प्रिय वियोग से हुई आज मैं दीन हूँ,

स्वागत फिर क्या करूँ नितान्त मलीन हूँ,

फल फूलों से यद्यपि हाथ ये रिक्त हैं,

नेत्र-कमल फिर भी करूणा-जल सिक्त हैं।

देती हूँ मैं पाद्य तुझे यह दूतिके !

मेरे उर के भाव हाथ तेरे बिके।

किंशुक-कलिके, हुई आज पथ-क्लान्त तू,

बैठ वृक्ष पर हो जा किंचित शान्त तू।

फिर कुछ वृत्त नवीन सुना सु विनोद से,

बिता सुख विश्राम-घड़ी यह मोद से।

​​

आना तेरा हुआ कहाँ, किस देश में,

बीता इतना काल, बता, किस देश में ?

है यह कैसा देश, वहाँ कैसी छटा,

क्या न वहाँ घिरती वियोग-दुःख की घटा ?

ळँसते क्या दिन-रात वहाँ उद्यान हैं,

क्या शाखा पर फल न होते म्लान ळे ?

क्या न वहाँ तम-जाल सदा सुप्रकाश है !

क्रता सर में स्वर्ण-सरोरूह हास है ?

सुना अमृत की निर्झरणी झरती वहाँ,

प्रीतम ने तो उसमें अवगाहन किया

ओज-युक्त अनमोल अमरता-धन लिया ?

​​

कलिके, कितनी दूर बता द्धतुराज है,

वे प्रसन्न तो लौट रहे ससमाज हैं ?

मिलन हेतु अब तो उत्कण्ठा है बड़ी,

छोड़े उनको हुई मुझे कितनी घड़ी ?

आम्र-मंजरी आतुरता दिखला रही,

केकिल स्वागत-गीत मधुरतर गा रही।

मैं कब से यह बिछा सुआसन हूँ खड़ी,

छोड़े उनको हुई मुझे कितनी घड़ी ?

सरस्वती, फरवरी 1921

कौन हैं पण्डित मुकुटधर पाण्डेय

प्रस्तुतकर्त्ता- प्रो. अश्विन केशरवानी

इस साहित्यानुरागी का जन्म नवगठित जांजगीर-चांपा जिले के अंतिम छोर चंद्रपुर से मात्र 07 कि.मी. दूर बालपुर में 30 सितंबर 1895 ईसवीं को पंडित चिंतामणी पांडेय के आठवें पुत्र के रूप में हुआ। अन्य भाईयों में क्रमशः पुरूषोत्तम प्रसाद, पद्मलोचन, चंद्रशेखर, लोचनप्रसाद, विद्याधर, वंशीधर, मुरलीधर और मुकुटधर तथा बहनों में चंदनकुमारी, यज्ञकुमारी, सूर्यकुमारी और आनंद कुमारी थी। सुसंस्कृत, धार्मिक और परम्परावादी घर में वे सबसे छोटे थे। अतः माता-पिता के अलावा सभी भाई-बहनों का स्नेहानुराग उन्हें स्वाभाविक रूप से मिला। पिता चिंतामणी और पितामह सालिगराम पांडेय जहां साहित्यिक अभिरूचि वाले थे वहीं माता देवहुति देवी धर्म और ममता की प्रतिमूर्ति थी। धार्मिक अनुष्ठान उनके जीवन का एक अंग था। अपने अग्रजों के स्नेह सानिघ्य में 12 वर्ष की अल्पायु में ही उन्होंने लिखना शुरू किया। तब कौन जानता था कि यही मुकुट छायावाद का ताज बनेगा...?

पांडेय जी की पहनी कविता ''प्रार्थना पंचक'' 14 वर्ष की आयु में स्वदेश बांधव नामक पत्रिका में प्रकाशित हुई। फिर ढेर सारी कविताओं का सृजन हुआ। यहीं से उनकी काव्य यात्रा निर्बाध गति से चलने लगी और उनकी कविताएं हितकारणी, इंदु, स्वदेश बांधव, आर्य महिला, विशाल भारत और सरस्वती जैसे श्रेष्ठ पत्र-पत्रिकाओं में प्रमुखता से प्रकाशित हुई। सन् 1909 से 1915 तक की उनकी कविताएं ''मुरली-मुकुटधर पांडेय'' के नाम से प्रकाशित होती थी। उनकी पहली कविता संग्रह ''पूजाफूल'' सन् 1916 में इटावा के ब्रह्यप्रेस से प्रकाशित हुई। तत्कालीन साहित्य मनीषियों-आचार्य महाबीर प्रसादद्विवेदी, जयशंकर प्रसाद, हजारी प्रसाद द्विवेदी और माखनलाल चतुर्वेदी की प्रशंसा से उन्हें संबल मिला और उनकी काव्यधारा बहने लगी।

इस प्रकार मुकुटधर जी का समूचा लेखन जनभावना और काव्य धारा से जुड़ा है। छायावादी कवि होने के साथ साथ उन्होंने छायावादी काव्यधारा से जुड़कर अपनी लेखनी में नयापन लाने की साधना जारी रखी और सतत् लेखन के लिए संकल्पित रहे। यही कारण है कि मृत्युपर्यन्त वे चुके नहीं। उन्होंने सात दशक से भी अधिक समय तक मां सरस्वती की साधना की है। इस अंतराल में पांडेय जी ने जीवन की गति को काफी नजदीक से देखा और भोगा है। उनकी रचनाओं में पूजाफूल (1916), शैलबाला (1916), लच्छमा (अनुदित उपन्यास, 1917), परिश्रम (निबंध, 1917), हृदयदान (1918), मामा (1918), छायावाद और अन्य निबंध (1983), स्मृतिपुंज (1983), विश्वबोध (1984), छायावाद और श्रेष्ठ निबंध (1984), मेघदूत (छत्तीसगढ़ी अनुवाद, 1984) आदि प्रमुख है।

अनेक दृष्टांत हैं जो मुकुटधर जी को बेहतर साहित्यकार और कवि के साथ साथ मनुष्य के रूप में स्थापित करते हैं। उनका समग्र जीवन उपलब्धियों की बहुमूल्य धरोहर है जिससे नवागंतुक पीढ़ी नवोन्मेष प्राप्त करती रही है। उनकी प्रदीर्घ साधना ने उन्हें ''पद्म श्री'' से ''भवभूति अलंकरण'' तक अनेक पुरस्कारों और सम्मानों से विभूषित किया है। सन् 1956-57 में हिन्दी साहित्य सम्मेलन प्रयाग द्वारा ''साहित्य वाचस्पति'' से विभूषित किया गया। सन् 1974 में पंडित रविशंकर विश्वविद्यालय रायपुर और सन् 1987 में गुरू घासीदास विश्वविद्यालय बिलासपुर द्वारा डी. लिट् की मानद उपाधि प्रदान किया गया है। 26 जनवरी सन् 1976 को भारत सरकार द्वारा ''पद्म श्री'' का अलंकरण प्रदान किया गया। सन् 1986 में मध्यप्रदेश हिन्दी साहित्य सम्मेलन द्वारा ''भवभूति अलंकरण'' प्रदान किया गया। इसके अतिरिक्त अंचल के अनेक पुरस्कारों और सम्मानों से विभूषित किया गया है। वास्तव में ये पुरस्कार और सम्मान उनके साहित्य के प्रति अवदान को है, छत्तीसगढ़ की माटी को है जिन्होंने हमें मुकुटधर जी जैसे माटी पुत्र को जन्म दिया है। 06 नवंबर 1989 को प्रातः 6.20 बजे 95 वर्ष की आयु में उन्होंने महाप्रयाण किया। उन्हें हमारा शत् शत् नमन....

काव्य सृजन कर कोई हो कवि मन्य,

जीवन जिसका एक काव्य, वह धन्य।

​​

प्रस्तुति,

​​

प्रो. अश्विनी केशरवानी

''राघव'' डागा कालोनी,

बरपाली चौंक, चांपा-495671 (छ.ग.)

​​

-----****-----

|दिलचस्प रचनाएँ:_$type=blogging$count=5$src=random$page=1$va=0$au=0$meta=0

|समग्र रचनाओं की सूची:_$type=list$count=8$page=1$va=1$au=0$meta=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आत्मकथा,1,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4290,आलोक कुमार,3,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,374,ईबुक,231,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,269,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,113,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3240,कहानी,2361,कहानी संग्रह,247,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,550,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,141,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,32,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,152,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,2,बाल उपन्यास,6,बाल कथा,356,बाल कलम,26,बाल दिवस,4,बालकथा,80,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,20,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,31,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,288,लघुकथा,1340,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,20,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,378,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,79,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2075,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,730,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,847,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,21,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,98,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,216,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,78,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: पद्मश्री मुकुटधर पाण्डेय की श्रेष्ठ रचनाएं - प्रस्तुतकर्त्ता - प्रो. अश्विनी केशरवानी
पद्मश्री मुकुटधर पाण्डेय की श्रेष्ठ रचनाएं - प्रस्तुतकर्त्ता - प्रो. अश्विनी केशरवानी
http://1.bp.blogspot.com/-TdJyHjkmETg/Xoq6eI9YI-I/AAAAAAABR7c/PH3dwneVFPYJXlJN1BqjIXElVMr1Dt87ACK4BGAYYCw/s320/Mukutdhar-Pandey-705172.JPG
http://1.bp.blogspot.com/-TdJyHjkmETg/Xoq6eI9YI-I/AAAAAAABR7c/PH3dwneVFPYJXlJN1BqjIXElVMr1Dt87ACK4BGAYYCw/s72-c/Mukutdhar-Pandey-705172.JPG
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2020/04/blog-post_19.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2020/04/blog-post_19.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ