सोमवार, 24 अक्तूबर 2011

कैस जौनपुरी का धारावाहिक - आओ कहें दिल की बात : किश्त 5 - सूरज

पिछली कड़ियाँ  - एक , दो , तीनचार

आओ कहें...दिल की बात

कैस जौनपुरी

सूरज

पिताजी,

मैं आपका पुत्र सूरज, आपसे यह कहना चाहता हूँ कि, “काश...! आप हमें अगर गम्भीरता से लेते तो शायद मैं आज किसी अच्छी जगह जॉब पर होता. शायद मैं भी अपने जीवन में एक सफल इन्सान होता. शायद मैं भी एक अच्छी कम्पनी का एम्प्लोई होता या शायद एक अच्छा व्यापारी होता. अगर आपने हमारा सही मार्गदर्शन किया होता... अगर आपने हमें सीरियसली लिया होता... अगर आपने हम पर थोड़ा सा ध्यान दिया होता... अगर आपने हमारी थोड़ी सी फिकर की होती... तो शायद मैं भी आज आपने नाम की तरह चमकता...”

पिताजी, “आपने हमें अपना पुत्र तो समझा परन्तु खुद को पिता नहीं समझा...” आप सदैव अपनी जिम्मेदारियों से भागते रहे...

हम बिन माँ के बच्चे थे... इसलिए हमें थोड़े से स्नेह, प्यार और ममता की जरुरत थी जिसकी उम्मीद हम आपसे करते थे... करते हैं... और करते रहेंगे... और क्यूँ न करें...? और किससे करें...? क्यूंकि आप ही हमारे पालनहार हैं. परन्तु आपने हमें कभी गम्भीरता से लिया ही नहीं.... ना तो आप स्वयं कभी गम्भीर हुए... सदैव आपने दूसरों के ही कहने पर और दूसरों के ही मार्गदर्शन से काम किया... न तो आपने कभी हमारी सुनी और न तो कभी मानी...

मुझे मेरे जीवन भर सदैव यह मलाल रह जाएगा कि मैं आपने जीवन में एक सफल इन्सान, एक सफल व्यापारी न बन सका.

परन्तु मेरी यह कोशिश रहेगी कि मैं अपने बच्चों को यह कभी आभास भी न होने दूँ कि मैं अपने जीवन में किस कारण से असफल हूँ...? मेरी यह पूरी कोशिश रहेगी कि आने वाले समय में मैं अपने आप को पूरी तरह एक सफल इन्सान बना सकूँ.

मैं व्यर्थ का किसी को क्यों दोष दूँ...? क्योंकि होना वही है जो राम जी की मरजी है...!

---

कैस जौनपुरी

 

qaisjaunpuri@gmail.com

www.qaisjaunpuri.com

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------