संस्मरण लेखन पुरस्कार आयोजन - प्रविष्टि क्र. 42 : बगुला // नवल पाल प्रभाकर

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

प्रविष्टि क्र. 42 

बगुला

नवल पाल प्रभाकर

आज सुबह ही मैंने सोचा था कि आज पम्प हाऊस पर चलना हैं क्योंकि मैं महीने में एक या दो बार हाऊस पर जरुर जाता हूँ। इस बार तो मुझे गये ही करीब डेढ़ दो महीने हो गये थे, वो इसलिए कि मेरे यहां स्कूल का काम कुछ ज्यादा ही बढ़ गया था। परन्तु आज मुझे किसी तरह से समय मिल ही गया। आज मुझे ऐसा मौका मिला तो मेरी खुशी का ठिकाना ही नहीं था। सुबह जल्द ही मैं पड़ोस में गया और वहां से करीब दो-तीन बच्चे जिनका नाम विजय, लाला और रविन्द्र था। इन तीनों की उम्र ही क्रमशः दस साल की थी। हमारे पास 7 पशु थे जिनमें घोड़े और खच्चर थे। हम उन्हें चराने के लिए गांव के पास एक छोटी सी बणी में लेकर गये थे। उस बणी में चारों और झाड़-भौझड़े और छोटे-2 दो-तीन फुट ऊँचे पौधे अर्थात बनावटी घास थी। बणी में जाते हुए मन में विचार आया कि बाजरा भुनकर खाया जाए। बणी में एक हनुमान मंदिर था। वहां पर उस मंदिर के घेरे में मंदिर के पुजारी ने बाजरा बो रखा था। हम सभी पशुओं को छोड़कर उस बाजरे में घुस गए। वहां पहले तो हमने धरती पर फैली कचरियों की बेलों को देखा मगर वहां कचरी न मिलने पर, हमने डरते-2 बाजरे की बालियाँ तोड़ी और जल्द ही चुपचाप निकल आए फिर मंदिर पर जाकर हनुमान के चरणों में प्रणाम करके वापिस आए और एक राहगीर से माचिस की तीन तिलियां ले कर एक जाल (जो कि जंगली पेड़ था जिसकी प्रजातियां अब लुप्त होने की कगार पर हैं ) नीचे बैठकर हमने ईंधन एकत्रित कर उन्हें भुना और बाजरा निकालकर चबाने लगे। इस तरह से सारी बलियां समाप्त करके हम बणी के पूर्वी छोर पर गये वहां पर एक कुई (कुंवा) थी जिसका पानी मीठा और ठंडा था वहां पानी पीकर मैंने उन तीनों से कहा अब हम खेतों में चलते हैं वहां पर बेलों पर लगी कचरी खायेंगे।

वे तीनों भी मेरी इस बात से सहमत हुए हम तीनों वहां से चल पड़े। बणी के पश्चिमी किनारे पर। जहां एक खेत था जिसमें बहुत सी कचरियां लगी थी। वे तीनों मुझसे बता रहे थे। मगर इतने में ही विजय की बणी के बीचों-बीच रास्ते पर जाते हुए एक कछुए पर नजर पड़ी। उसने कहा कछुआ-2 हम सभी उसकी तरफ दौड़ पड़े। हमारे पैरों की आहट सुनकर कछुए ने अपने पैरों और सिर को अपने मजबूत ढकोले सी खोपड़ी के अन्दर समेट लिया। विजय ने उस पर पैर रखा और लगा दबाने तभी मैंने कहा ओ विजय यार कै करै सै यो बिचारो मर ज्यागो। इतनी सुनते ही लाला बोला न्यू ना मरा करी कछुआ चाहे रेल चढ़ा ले तो भी ना मरै। क्यूंकि इनकी या खोपड़ी मजबूत हो सै। फिर रविन्द्र कह सै क्यू ना हम इसकी खोपड़ी तार कै हेलमेट बणा ल्या। मैं फिर बोला बस रहण दो। हम इस कछुआ ने चाल कै किसे जोहड़ में छोड़ेंगे। सारा ने हामी मिलाई। मैंने उसे उठाया और हाथ के ऊपर उठाकर चल रहा था। डर मुझे भी लग रहा था कि कहीं चुपके से मुंह निकाल कर मेरे हाथ को न काट लें। इसलिए बार-2 उसके मुंह की ओर देख रहा था और चौकन्ना था। रास्ते में ख्याल आया कि ये जीव जलचर और स्थल दोनों पर रहने वाला हैं इसे छोड़ ही देता हूँ मैंने उन तीनों से कहा कि अब हमारे पास समय नहीं हैं चलो हम पम्प हाऊस पर चलते हैं। मुझे प्रकृति और प्रकृति के जीवों से बड़ा लगाव हैं। इसलिए मैं वहां जाने के लिए उतावला हुए जा रहा था। हम चारों खेतों से होते हुए कचरी, बाजरे की बलियां और हरड़ की फलियां खाते हुए खेतों की मेंडो पर जा रहे थे। खेतों से निकलने पर थोड़ी दूर चलने पर ही पम्प हाऊस आ गया। पम्प हाऊस पर जाने पर मेरा मन प्रफुलित हो गया और गात रोमांच से भर गया। मैंने चारों और की छटा को आंखों के जरिए मस्तिष्क से होते हुए हृदय तक उतारा और मैं बड़ा खुश प्यारी सी हरियाली को देखते हुए भी मेरा हृदय छक नहीं रहा था। पम्प हाऊस पर घूमते हुए हम एक स्थान पर पहुँचे जहां से देखने पर चारों तरफ हरियाली ही हरियाली दिखाई दे रही हैं बस इसी हरियाली को देखने के लिए मैं महीने में 2 या 3 बार जाया करता था। तभी एक बगुला कराहते हुए मिला वह एक झुरमुट में बैठा था। सोचा शायद यह यहां पर फंसा हैं। मैंने रविन्द्र से कहा कि वह उसे निकाले रविन्द्र ने उसकी टांग पकड़ कर बाहर खींच लिया। देखा तो क्या देखा बेचारे की एक पैर की हड्डी टूटी हुई थी। वह उड़ नहीं सकता था तो मैंने सोचा कि मैं इसकी दवा का इंतजाम कर दूंगा इसलिए मैंने उसे गोद में उठा लिया गोद में उठाते ही वह जोर-2 से चोंच इधर-उधर मारने लगा। एक चोंच तो उसने मेरी आंख के थोड़ी ऊपर मारी ओर दूसरी मेरे होंठ पर। मगर कुछ देर में ही वह शांत हो गया और मेरी गोद में आराम से बैठ गया। जैसे उसे कोई हमदर्द मिल गया हो। मुझे भी उसकी इस दशा पर बड़ा अफसोस हो रहा था। पम्प हाऊस देखने पर हम जल्द ही वापिस लौट आए और हम बणी में आ गए वह बगुला मेरे साथ मेरे हाथों में बहुत थक चुका था इसलिए मैं बगुले को अपने पास ही खड़ा करके सो गया। कुछ देर बाद करीब आधा घंटा सोने पर नींद से उठा तो बगुला ज्यों का त्यों आराम से मेरे पास ही बैठा था। अब एकाएक मेरी नजर उसके सौंदर्य पर गई तो देखा ---

वह लम्बी गर्दन वाला श्वेत वर्ण गोल-2 छोटी-2 आंखें चिकने पर कोमल देह और लम्बी-2 टांगे जैसे किसी कारीगर ने लोहे के तारों को प्लास्टिक की रबड़ पहना दी हो। पूरी तरह से मानो वह एक सांचे में ढला प्रतीत हो रहा था। अनायास ही उसका रुप और सौंदर्य किसी को भी अपनी तरफ आकर्षित कर सकता था।

यहां पर बगुले का रुप सौंदर्य का तो वर्णन मैंने कर दिया और उसके स्वभाव की बात तो मैं ना करुं तो यह सरासर अन्याय और बगुले के स्वभाव के साथ ना इंसाफी वाली बात ही होगी। स्वभाव उसका कुछ नर्म था, मगर इतना नर्म भी नहीं की कोई उसे छू ले या उठा ले। एकाग्रचित्त दिमाग, बुद्धि लड़ाकर शत्रु को मात देना, अपने सौंदर्य से आकर्षित करना, मानो उसकी आंखों में तेज सम्मोहन था। देखने वाला बस देखता ही रह जाता। बिल्कुल सादगी संयम रखने वाला था वो बगुला। प्रकृति के जीव भी अपने तरीके से एक विचित्र सी खासियत लिए होते हैं। एक खासियत उस बगुले में भी थी और वह यह थी कि जब तक वह गोद में रहता न तो वह शौच आदि करता और न ही वह पंख फड़फड़ाता। गोद से नीचे उतरते ही वह पंख भी फड़फड़ाता और शौच भी करता। उसकी सारी खूबियां और स्वभाव देख कर उस पर मैं मोहित हो उठा और उसे अर्थात बगुले को हाथ में उठाकर बणी में घूमने लगा तभी दो पंछी और पहुँच गए घर से मेरे पास। उन दोनों के नाम क्रमशः अनूप और अजीत थे। उन दोनों ने बताया कि जा नवल घर पर। तुम्हारी मां ने कहा हैं और मेरे हाथ से सफेद रंग का गोला-सा देखकर दूर से ही दौड़े चले आए वे दोनों मेरे पास। बगुले को देखकर अजीत बोला भाई कहां से लाया, मुझे दे दो। उसके हाथों में बगुला सौंपकर मैं कहने लगा इसे संभाल कर रखना और शाम को जब पशुओं को लेकर घर आते वक्त इसे भी साथ में ले आना अनूप ने और अजीत ने हामी भर दी। तब मैं बोला चलो तो इसने पानी और पिला दो। हम तीनों जोहड़ की तरफ पहुँच गए। जोहड़ पर पहुँच कर जोहड़ के एक किनारे पर पानी कम गहरा था। हमने बगुले को खड़ा किया तो उसने पानी पिया और थोड़ा-सा शौच भी किया। मैंने सोचा कि अब तो यह जाएगा और मैं उसको दोनों को सुपुर्द कर बणी से घर आने लगा। रास्ते में मैंने सोचा कि क्योंकि न मैं अपना राशन कार्ड लेकर चलूं तो मैं एक बणिए की दुकार में गया और उससे पूछा कि कार्ड बने या नहीं तो उसने कहा कि तुम्हारा कार्ड नहीं आया हैं तो तुम फोटो वगैरह ढूंढ कर दो। मैंने वहां फोटो ढूंढी और फार्म भरवाया। इतने काम में ही मेरा करीब एक घंटा व्यय हो गया। एक घंटे बाद में घर पहुँचा तो अनूप और अजीत दोनों मेरे घर के सामने उन्होंने मेरी मां से पूछा कि मां नवल नहीं आया हैं तो मेरी मां ने कहा नहीं तो। उन दोनों ने कहा कि वो तो हम दोनों से पहले ही चल पड़ा था। अभी तक घर नहीं पहुँचा हैं। वे दोनों ये कहकर चले ही थे कि सामने से आता हुआ मैं दिखाई पड़ा। मैंने उनसे पूछा कि वह बगुला कहां हैं तब उन्होंने बड़े सहज भाव से जवाब दिया की वह तो मर गया।

तब मैंने अनूप से कहा कि बगुला कहां हैं। इस पर अनूप ने भी वही जवाब दिया तब मैंने पूछा कि कैसे बगुले की मौत हुई तो अनूप ने सारांश में उतर देते हुए इस प्रकार कहा कि - चाचा चाँदराम भी बणी में चला गया। उसने वो बगुला जोहड़ में फेंकवा दिया और कहा कि जोहड़ में मछली पकड़ कर खा लेगा यह कई दिन से भूखा मरता होगा। तब मैंने बगुले को जोहड़ में छोड़ दिया था। यह अनूप ने मुझे बताया था। अनूप की यह बात सुनते ही मेरी आंखों के सामने अंधेरा सा गया तभी कुछ क्षणों के बाद तेजी के साथ प्रकाश सा फैल गया और उस बगुले की छवि आंखों के सामने आ गई। कुछ ही समय पश्चात वह भी धूमिल सी प्रतीत होती हुई मिट गई। मेरा मन करुणा से ओत-प्रोत हो रुदन करने लगा। मुझे बड़ा पश्चाताप हो रहा था कि यदि मैं उसे घर ले आता तो उसकी जान बच जाती।

-ः0ः-

परिचय

प्रकाशित पुस्तकें

1 यादें (काव्य संग्रह)

2 उजला सवेरा (काव्य संग्रह)

3 नारी की व्यथा (काव्य संग्रह)

4 आशाएं (काव्य संग्रह)

5 कुमुदिनी (बाल कहानी संग्रह)

6 मोम के पंख (काव्य संग्रह)

7 वतन की ओर वापसी (कहानी संग्रह)

8 तेरा साथ (काव्य संग्रह)

9 पेंडिंग केस (कहानी संग्रह)

जल्द ही आने वाली ऑनलाईन पुस्तकें

1 हिन्दी का छायावादी युगीन काव्य

2 गौतम की कथा (कथा)

भारतीय पत्र पत्रिकाएं

1 हरियाणा साहित्य अकादमी की पत्रिका हरीगंधा

2 आंध्रा प्रदेश साहित्य अकादमी से प्रकाशित साहित्य सेतु पत्रिका

3 वर्धा महात्मा गांधी हिन्दी विश्वविद्यालय से प्रकाशित पत्रिका निमित ई-पत्रिका

4 हरियाणा से प्रकाशित गंगा टाईम्स दैनिक समाचार पत्र

विदेशी पत्रिकाएं

1 नीदरलैंड से प्रकाशित पत्रिका एम्स्टल गंगा

2 भारत से प्रकाशित मालती अंतर्राष्ट्रीय पत्रिका

3 न्यूजी लैंड से प्रकाशित अंतर्राष्ट्रीय पत्रिका भारत दर्शन

4 कनाडा से प्रकाशित साहित्य कुंज पत्रिका

5 अन्तरजाल पर हिन्दी साहित्य मंच

6 भारत का अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी सेंटर

7 अमेरिका में ऑनलाईन पुस्तकें प्रकाशित भारतीय साहित्य संग्रह

सम्मान व पुरस्कार

1. रचना प्रतिभा सम्मान

2. पं0 माधव प्रसाद मिश्र सम्मान

3. अर्णव कलश साहित्य गौरव सम्मान

4. मात्सुओ बासो हाइकू सम्मान

5. साहित्य भूषण सम्मान

6. एक दिवसीय जाम्भाणी साहित्य अकादमी, बीकानेर प्रमाण पत्र

7. अर्णव काव्य रत्न अलंकार

8. बाबा मस्तनाथ विश्वविद्यालय अन्तर्राष्ट्रीय संगोष्ठी प्रमाण पत्र

9. महर्षि दयानन्द विश्वविद्यालय अन्तर्राष्ट्रीय संगोष्ठी प्रमाण पत्र

10. निबंध प्रतियोगिता प्रमाण पत्र

11. तरंग साहित्य संस्था से प्राप्त प्रमाण पत्र

12. प्रज्ञा साहित्य मंच, सांपला, रोहतक द्वारा

13. नेत्रदान मंच, गांधरा, रोहतक द्वारा सम्मानित

14. हिन्दी अकादमी दिल्ली द्वारा आंशाएं किताब पर प्रकाशन सहयोग

अन्य कई मंचों द्वारा भी सम्मानित किया जा चुका है।

अन्य सामाजिक कार्य

लगभग 10 रक्त दान, विद्यालय में लेखन प्रतियोगीता कराकर बच्चों को सम्मानित करना, और भी काफी सामाजिक कार्यों में बढ़ चढ़ कर भाग लिया है, गरीब बच्चों की सहायता आदि

परिचय

नाम नवल पाल

पूरा नाम नवल पाल प्रभाकर

पिता का नाम श्री औम प्रकाश

माता का नाम श्रीमति रतन कौर

शिक्षा प्रभाकर, एम.ए., बी.एड

भाषा ज्ञान हिन्दी, अंग्रेजी, उर्दू

पता गांव व डाक-साल्हावास

जिला व तहसील-झज्जर

राज्य-हरियाणा पिन 124146


E-mail – navalpaal85@gmail.com

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

1 टिप्पणी "संस्मरण लेखन पुरस्कार आयोजन - प्रविष्टि क्र. 42 : बगुला // नवल पाल प्रभाकर"

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.