रचनाकार.ऑर्ग की विशाल लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

आज का लतीफा # 006


_~_~_~_~_~_~

चूंकि मैं एक पुरूष हूँ...

** चूंकि मैं एक पुरूष हूं, जब मैं अपनी कार की चाबी कार के अंदर भूल जाता हूँ तो मैं तुम्हारे इस सुझाव को कि हमें किसी सर्विस सेन्टर वाले को तत्काल बुला लेना चाहिए, अनदेखा करते हुए कपड़े सुखाने वाले हैंगर के तार से तब तक कार का दरवाजा खोलने की कोशिश करता रहूंगा जब तक कि दरवाजे का ताला खराब न हो जाए, या मैं ही पूरी तरह पस्त न हो जाऊँ.

** चूंकि मैं एक पुरुष हूं, जब मेरी कार ठीक से चालू नहीं होती है तो मैं उसका बोनट उठाकर उसके इंजिन में तांक झांक करता हूँ. इस बीच दूसरा पुरूष कहीं से प्रकट होता है और वह भी कुछ तार वार छूकर देखता है. फिर हममें से एक, दूसरे से कहता है मैं इन चीजों को आराम से ठीक कर लेता था. परंतु आजकल हर चीज कम्प्यूटराइज आ रही है तो यह पता ही नहीं चलता कि कहाँ से चालू करें. फिर हम दोनों बीयर पीते हुए मेकैनिक का इंतजार करते हैं.

** चूंकि मैं एक पुरूष हूं अतः जब मुझे जुकाम हो जाता है तो मैं बिस्तर पर कराहते हुए करवटें बदलते हुए चीखता चिल्लाता हूँ कि मुझे गर्म चिकन सूप चाहिए और मेरी चिंता कोई नहीं कर रहा. मैं जिस गंभीर तरीके से बीमार पड़ता हूँ उस तीव्रता से कोई भी बीमार नहीं पड़ता अतः मेरी समस्या कोई और कभी जान ही नहीं सकता.

** चूंकि मैं एक पुरूष हूँ, अतः घर या ऑफ़िस का कोई भी उपकरण खराब हो जाता है तो मैं उसे खोलकर ठीक करने लगता हूँ पुराने अनुभवों के बावजूद कि मेरे द्वारा खोले गए उपकरणों को सुधारने के लिए मेकैनिक द्वारा दोगुना चार्ज वसूला जाता है.

** चूंकि मैं एक पुरूष हूँ, अतः टीवी देखते हुए टीवी का रिमोट कंट्रोल मेरे हाथों में ही होना चाहिए. यदि रिमोट कंट्रोल कहीं किसी कोने काने में दब कर मिल नहीं रहा होता है तो मेरा वो आवश्यक टीवी शो खत्म हो जाता है जिसकी मुझे तलाश होती है.

** चूंकि मैं एक पुरूष हूँ, अतः मैं नहीं समझता कि हम कहीँ रास्ता भटक गए हैं और रुककर किसी से रास्ता पूछने की आवश्यकता है भी. क्या तुम किसी अजनबी, अपरिचित पर भरोसा करोगी? मेरा मतलब है उसे कैसे पता होगा कि हमें कहाँ जाना है.

** चूंकि मैं एक पुरूष हूँ, अतः यह बिलकुल जरूरी नहीं कि मैं किस समय क्या सोच रहा होता हूँ. उत्तर हमेशा ही या तो सेक्स होगा या कोई खेल. जब तुम कुछ पूछोगी तो मुझे मजबूरन उन मुद्दों से हटकर कुछ अलग सोचना होगा अतः अच्छा यही होगा कि मुझसे कुछ पूछो ही न.

** चूँकि मैं एक पुरूष हूं, मुझसे यह मत पूछो कि मुझे यह फिल्म कैसी लगी. अगर फिल्म के अंत में तुम्हारी आँखों में आँसू थे, तो बहुत संभव है कि उस फिल्म में मुझे बिलकुल मजा नहीं आया.

** चूंकि मैं एक पुरुष हूँ, मैं सोचता हूँ कि जो तुमने अभी पहना है वह बहुत अच्छा है. मेरे विचार में जो ड्रेस तुमने पाँच मिनट पहले पहना था वह भी बहुत अच्छा था. तुम्हारे जूतों के दोनों ही जोड़े अच्छे हैं लेस सहित और लेस के बगैर भी अच्छे हैं. तुम्हारी हेयर स्टाइल भी बहुत अच्छी है. तुम बहुत अच्छी, खूबसूरत दिख रही हो. क्या अब चले चलें?

** चूंकि मैं एक पुरूष हूं, और वैसे भी यह इक्कीसवीं शती है, अतः घरेलूकार्य में मैं तुम्हारे साथ बराबर का हाथ बटाऊँगा. तुम कपड़े धोने, खाना बनाने, घर की साफ सफाई, गार्डनिंग, शॉपिंग के कार्य निपटाओगी बाकी का सारा काम मैं समाचार पत्र पढ़ते हुए निपटाऊँगा.

**-**

आज का लतीफा # 007

_~_~_~_~_~_~

गूगल आरती

+=+=+=+=

ओम् जय गूगल हरे !! स्वामी ओम् जय गूगल हरे!!

प्रोग्रामर्स के संकट, डेवलपेर्स के संकट क्षण में दूर् करे!!

ओम् जय गूगल हरे !!

जो ध्यावे वो पावे, दुख् बिन से मन का,

स्वामी दुख बिन् से मन का!!

होमपेज की सम्पत्ति लावे, होमवर्क पूर्ण करावे!

कष्ट मिटे वर्क् का !

स्वामी ओम् जय गूगल हरे!!

तुम पूरन सर्च इंजिन तुम इंटरनेट यामी !

स्वामी तुम इंटरनेट यामी!!

पार करो हमारे पगार, पार करो हमारे साक्षात्कार!

तुम दुनिया के स्वामी!!

स्वामी ओम् जय गूगल हरे!

तुम जानकारी के सागर,

तुम पालन कर्ता, स्वामी तुम पालन कर्ता!!

मैं मूरख खलकामी, मैं सर्चर तुम सर्वर,

स्वामी तुम कर्ता धर्ता !!

स्वामी ओम् जय गूगल हरे!!

दीन बन्धु दुख हर्ता, तुम् रक्षक मेरे,

स्वामी तुम ठाकुर् मेरे!!

अपनी सर्च् दिखाओ, सारे रीसर्च् कराओ,

साइट पर खड़ा मैं तेरे!!

स्वामी ओम् जय गूगल हरे!!

गूगल देवता की आरती जो कोई प्रोग्रामर गावे,

स्वामी जो कोइ भी प्रोग्रामर गावे,

कहत सुन स्वामी, एम एस हरिहर स्वामी,

मनवांछित फल पावे!!

स्वामी ओम जय गूगल हरे!!

बोलो गूगल देवता की ------------- जय!

(किसी सच्चे गूगल भक्त द्वारा रोमन लिपि में लिखे गए, इंटरनेट पर बिचर रहे आरती का साभार, हिन्दी ट्रांसलिट्रेशन)

2 टिप्पणियाँ

  1. very good observation about men. HOw to write these things in Hindi?

    जवाब देंहटाएं
  2. paxena जी, कृपया यह कड़ी देखें. आपके सारे सवालों के जवाब व ट्यूटोरियल इत्यादि यहाँ मिलेंगे -
    http://raviratlami.blogspot.com/2007/02/how-to-write-in-hindi.html
    रवि

    जवाब देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.