रचनाकार.ऑर्ग की विशाल लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

मृत्युंजय कुमार की कविता : कहीं कुछ ज्यादा तो नहीं टूट रहा...

कविता

kanhi kuch toot to nahi raha


-मृत्युंजय कुमार

कहीं कुछ ज्यादा तो नहीं टूट रहा
-------------------------------
यह इक्कीसवीं सदी है
इसलिए बदल गई हैं परिभाषाएं
बदल गए हैं अर्थ
सत्ता के भी
और संस्कार के भी।

वे मोदी हैं इसलिए
हत्या पर गर्व करते हैं
जो उन्हें पराजित करना चाहते हैं
वे भी कम नहीं
बार बार कुरेदते हैं उन जख्मों को
जिन्हें भर जाना चाहिए था
काफी पहले ही।

वे आधुनिक हैं क्योंकि
शादी से पहले संभोग करते हैं
तोड़ते हैं कुछ वर्जनाएं
और मर्यादा की पतली डोरी भी
क्योंकि कुछ तोड़ना ही है
उनकी मार्डनिटी का प्रतीक
चाहे टूटती हों उन्हें अब तक
छाया देनेवाली पेड़ों की
उम्मीद भरी शाखाएं
शायद नहीं समझ पा रहे हैं
वर्जना और मर्यादा का फर्क।
--------
(कलाकृति - रेखा श्रीवास्तव)

1 टिप्पणियाँ

  1. बहुत खूब मृत्युंजय कुमार जी
    कस कर लगाया तमाचा आधुनिकता का पाखंड
    करने वालों पर

    जवाब देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.