रचनाकार.ऑर्ग की विशाल लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

संजय सेन सागर की दो रचनाएँ

बाल-कहानी

परी का प्यार

-संजय सेन सागर

एक गांव में किसान रहता था जिसका बहुत ही सुखी परिवार था। उसकी पत्नी और आठ सान की बेटी मोहनी बडे आराम से रहती थी। अचानक एक दिन किसान की पत्नी का स्वास्थ्य बिगड़ गया। किसान ने खूब इलाज कराया यहां तक की उसके खेत भी बिक गये पर इलाज में कोई लाभ नहीं हुआ और एक दिन वही हुआ जिसका किसान को डर था। एक दिन किसान की पत्नी का देहांत हो गया। अब तो जैसे किसान के उपर आसमान टूट पड़ा ।अब तो उसे मोहनी की फिक्र होने लगी । दिन भर किसान को दूसरों के खेत में मजदूरी करनी पड़ती थी और रात को स्वयं ही भोजन बनाना पड़ता था। यह सब देखकर मोहनी को बड़ा ही दुख होता था उसे लगने लगा की अब उसे भी काम सीख लेना चाहिए लेकिन उसकी उम्र बहुत कम थी। मोहनी काम सीखने लगी वह बहुत ही परेशान होती थी ।यह सब देखकर एक परी को बहुत ही दया आती थी। उसने सोचा हो ना हो अब मुझे मोहनी की मदद करनी ही होगी। एक दिन परी किसान के जाते ही मोहनी से मिलने जा पहुंची और मोहनी से मीठी मीठी बातें कर दोस्ती कर ली और कहा की मैं तुम्हारे सारे काम कर दिया करूंगी पर हॉ एक बात हैं ही ये सब बातें तुम अपने पिताजी को नहीं बताओगी मोहनी को तो जैसे मन मांगी मुराद मिल गयी उसने झट से हां कर दी। अब क्या था मोहनी के दिन बडे आराम से गुजरने लगे। परी आता और खाना बनाकर चली जाती । इतने जल्दी मोहनी के इतने समझदार होने से किसान को शक होने लगा की मोहनी को यह सब काम करना कहां से आता है। किसान ने सोचा जरूर दाल में कुछ काला है। मुझे पता लगाना होगा। अगले ही दिन किसान मोहनी से कहने लगा की मैं खेत जा रहा हूं ये चार गेहूं के बोरे हैं जो तुम्हें पीसने हैं। मोहनी ने हां में सिर हिला दिया। किसान के जाते ही परी आयी और छड़ी घुमाकर काम किया और चली गयी। अब जब किसान शाम को लौटा तो हैरत में पड़ गया कह मोहनी ने आखिर चार बोरे गेहूं के कैसे पीसे होंगे। अब तो किसान का शक यकीन में बदल गया । अगले दिन किसान खेत का कहकर वही पास में ही छुप गया। इतने में ही परी आ गयी और काम करके मोहनी के साथ खेलने लगी। किसान ने मौके का फायदा उठाते हुए परी की छड़ी उठा ली। अब तो परी बहुत परेशान होने लगी ,उसने किसान से काफी बार कहा की मेरी छड़ी वापस कर दो मगर किसान नहीं माना फिर किसान ने परी के सामने शर्त रखी की अगर तुम मुझसे शादी करोगी तो एक दिन मैं तुम्हारी छड़ी जरूर लौटा दूंगा। परी बिना छड़ी के वापिस नहीं जा सकती थी अब उसके पास सिर्फ यही एक चारा बचा था की वह किसान से शादी करे! बह दिन भी आ गया जिस दिन किसान और परी की शादी थी । किसान और परी की शादी हो गयी। दिन गुजरते गये परी किसान के साथ रहने लगी । बहुत साल बीत गये मोहनी भी अब बड़ी हो गयी थी । किसान ने मोहनी का विवाह एक अच्छे लड़के से तय कर दिया। वह दिन भी जल्द ही आ गया जिस दिन मोहनी का विवाह था। मंडप लगा था, बारात आ चुकी थी जोर तोर से शहनाई बज रही थी, आतिशबाजी हो रही थी। बारातियों को नाचते देख परी का मन भी नाचने का होने लगा। परी ने किसान से कहा की देखो आज हमारी लड़की की शादी है, और मैं आज नाचना चाहती हूं आज मेरी छड़ी मुझे लौटा दो! मैं कुछ देर नाचकर आपको लौटा दूंगी ।

किसान ने भी सोचा कि अब दस साल गुजर चुके है कहां जाने वाली है। किसान ने परी को छड़ी दे दी । परी ने छड़ी लेकर नाचना शुरू किया वह घंटों तक नाचती रही ,नाचती रही फिर अचानक छड़ी घुमाकर ऊपर उड़ गयी। उड़ते उड़ते परी की आंखों से आंसू गिरने लगे।

आज उसका मकसद पूरा हो गया था मोहनी के जाने के बाद । परी के गिरते आंसू में मोहनी के लिए प्यार बरस रहा था । किसान की आंखों से भी आंसू गिर रहे थे, मगर सिर्फ अपनी मूर्खता पर।

----

एक कविता

जिंदगी को मौत का पैगाम ना आये

प्यार करने वालों की आखिरी

शाम न आये

वो प्यार करते रहे यूं ही हरपल

उनके होंठों पर कभी गम का नाम ना आये।

वो लड़ जायें दुश्मनों से आग की तरह,

मिटा दे प्यार के दुश्मनों को

दाग की तरह।

उन पर कभी बेवफाई का इल्जाम ना आये

वो प्यार करते रहे य हरपल

उनके होंठों पर कभी गम का

नाम ना आये।

-------

संपर्क:

संजय सेन सागर

डॉ निशिकांत तिवारी के पीछे, आदर्श नगर, मकरोनियां ,चौराहा, सागर ,मध्यप्रदेश

पिन ४७०००४ ,मोबाइल ०९३०२९११२५६

2 टिप्पणियाँ

  1. बाल कहानी के क्षेत्र में अच्छा प्रयास है। मेरी शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
  2. बेनामी7:27 pm

    sanjay ji aap ki maine sabhi rachanaye padi hai aap behad accha likhte hain, isi tarah likhna chalu rakhe!

    जवाब देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.