नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

दामोदर लाल ‘जांगिड़’ की ग़ज़लें

ग़ज़ल 55

गिनता हैं हर सांस बही में लेता रोज उतार।

बड़ा काईयां हैं ये उपर वाला लेखाकार ॥

 

कुछ दिन आयी खुशियां लौटी दे यादों के घाव,

दुखियारे दुःख पास बैठ के करते अब उपचार।

 

सांसे जितनी ले कर आये कम पड़ती देखी,

अधिक सूद का लालच दे कर ले ली और उधार।

 

ये रस्‍ता तो बस्‍ती से सीधा मरधट को जाता है,

न जाने किस रस्‍ते पर हैं स्‍वर्ग नर्क के द्वार।

 

चंदे के मंदिर में बैठा निर्भर नित्‍य पुजारी पर,

भक्‍त खड़े हैं कितने उसके आगे हाथ पसार।

 

जिसकी भी चाहे जैसी वो किस्‍मत लिख देता है,

किसने दिये विधाता को ये ‘दामोदर‘ अधिकार।

----

 

 

ग़ज़ल 7

अपना तो देखा भाला था।

सच कब चुप रहने वाला था॥

  

और अर्थ थे खामोशी के,

क्‍यों माना मुँह पे ताला था।

 

कौन गवाही देगा उसकी,

झूठ ने झूठा भ्रम पाला था।

 

उबटन के उपरांत भी उसका,

चहरा ज्‍यों का त्‍यों काला था।

 

ऐसे कब तक टल सकता था,

ले दे के अब तक टाला था।

 

इस साँचे को किसने ‘जांगिड'

कौन से साँचे में ढ़ाला था।

------

 

ग़ज़ल 48

आदमी या रुप खोटा, आदमी का आदमी।

कब उतारेगा मुखौटा, आदमी का आदमी॥

 

आदमी जो कि गया था आदमी को ढूंढने ,

और कर के कत्‍ल लौटा, आदमी का आदमी।

 

आदमी की रुह आखिर तिलमिला कर रह गयी,

रख रहा गिरवी लंगोटा, आदमी का आदमी।

 

इतनी भारी भीड़ में भी हैं अकेला आदमी।

कर रहा महसूस टोटा, आदमी का आदमी।

 

आदमी का कद अगर दें आदमी को नापने,

नाप दे छोटे से छोटा, आदमी का आदमी ।

-----

 

ग़ज़ल 18

इक सचेतक सजग गुप्‍तचर लेखनी।

और बजी सर्वदा बन गज़र लेखनी॥

 

जब ये विरही के मन की तहों में गयी,

तब गयी दौड़ पी के नगर तेखनी।

 

जब भी बस्‍ती में निर्बल कराहें सुना,

तो सुना रोयी हैं रात भर लेखनी।

 

हासिये तू भी सुर्खी तब आ सका

जब चली तुझपे कस के कमर लेखनी।

 

जो इतिहास लिख्‍खी थी तलवार ने

मिट गयी होती होती न गर लेखनी।

 

जुर्म सहकर बगावत क्‍यों खामोश है,

इससे वाकिफ हैं ये जादूगर लेखनी।

 

जो भी ढ़र्रे से हट के चली हैं कभी

विश्‍वकर्मा हुई वो अमर लेखनी।

 

 

---

दामोदर लाल जांगिड़

पो0लादड़िया

नागौर-राज0

1 टिप्पणियाँ

  1. सरल भाषा में तीर की तरह चुभते संवादों से सजी आपकी ग़ज़लें बहुत बहुत पसंद आईं दामोदर भाई| बधाई स्वीकार कीजिएगा|

    जवाब देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.