---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

व्यंग्य/ चमचा अलंकरण समारोह

साझा करें:

(देश- दुनिया के हर तबके के चमचों से मन से क्षमा-याचना के बाद) वैसे तो ऑफिस में रोज जनता के चढ़ावे से कोई न कोई समारोह चलता ही रहता है । प...

(देश- दुनिया के हर तबके के चमचों से मन से क्षमा-याचना के बाद)

वैसे तो ऑफिस में रोज जनता के चढ़ावे से कोई न कोई समारोह चलता ही रहता है । पर अबके साहब ने अपनी रिटयारमेंट से कुछ दिन पहले दूसरे साहबों से सबसे अलग सोचा कि क्यों न जाते- जाते चमचा अलंकरण समारोह आयोजित कर सबको हक्का- बक्का किया जाए। और उन्होंने अविलंब घोषणा कर दी कि अगले से अगले शनिवार को वे ऑफिस में चमचा सम्मान समारोह आयोजित करने जा रहे हैं और उसका सारा खर्चा वे स्वयं वहन कर अपने कार्यकाल में चमचागीरी के मैदान में निसदिन डटे चमचों को सम्मानित करेंगे। पुरस्कारों की संख्या पांच होगी- चमचागीरी का लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड, बेस्ट चमचा ऑफ द ईयर खिताब, अतिविशिष्ट चमचा मेडल, विशिष्ट चमचा पुरस्कार एवं चमचा सांत्वना पुरस्कार।

ज्यों ही यह सकुर्लर ऑफिस में सर्कुलेट हुआ तो वे जो उनके चमचे थे , वे तो हरकत में आए ही पर वे जिनका उनके साथ छत्तीस का आंकड़ा था, वे भी कुछ-कुछ हरकत में आए बिना न रह सके। वे जो चमचे नहीं थे ,वे मन मसोस कर , दिल पर हाथ रख बार- बार बस यही कहते रहे,'काश! साहब की चमचागीरी कर ली होती तो......' पर अब क्या पछताए होत जो चिड़िया चुग गई खेत!

जिधर देखो, उठते- बैठते सारा दिन बस एक ही चर्चा। साहब समारोह में पता नहीं किसको चमचागीरी के लाइफ टाइम अचीवमेंट के अवार्ड से नवाजेंगे? साहब पता नहीं किसको बेस्ट चमचा ऑफ द ईयर का खिताब देंगे? साहब पता नहीं किसको अतिविशिष्ट चमचे के मेडल से विभूषित करेंगे? साहब पता नहीं किसको विशिष्ट चमचा पुरस्कार से अलंकृत करेंगे? खैर ,सांत्वना पुरस्कार तो हुआ न हुआ बराबर होता है। साहब की चमचागीरी के पुरस्कार पाने वालों की लिस्ट को लेकर कभी इसका नाम आगे होता तो कभी उसका। खैर, काम तो ऑफिस में पहले भी नहीं होता था। ऑफिस में केवल एक शर्मा ही हैं जो सदा ओवर बर्डंड रहे हैं बेचारे। वे न होते तो ऑफिस का चक्का जाम हो गया होता कभी का। वे इस दफ्तर की ग्रीस हैं, वे इस दफ्तर के लादा हैं, वे इस दफ्तर के भीत हैं। वे हैड ऑफिस में मिल-मिलाकर हर लैटर अपने को ही जारी करवाते हैं। या कि चुपके से यहां- वहां दूसरों के प्रोग्राम में भी जा आते हैं। इसलिए एक वही हर जगह विद्यमान रहते हैं। बेचारे इस दफ्तर के लिए पता नहीं क्या- क्या सहते हैं। भगवान उनको इस ऑफिस में हमेशा बनाए रखे।

पर इस घोषणा के बाद जब देखो, जहां देखो, जिसे देखो, ऑफिस का सारा काम बंद कर लाइफटाइम चमचागीरी अवार्ड के तथा चमचागीरी के दूसरे अवाडरें को लेकर एग्जिट ओपीनियन एकत्रित करने में जुटा हुआ। सबके अपने- अपने अनुमान। सबके अपने- अपने तीर तो अपनी- अपनी कमान।

ऐसा नहीं कि उन्होंने अपने चमचों को किसी भी जगह छूट न दी हो। उन्होंने अपने टेन्योर में किसीको ऑफिस में छूट दी हो या न, पर ऑफिस में चमचों को उनकी चमचागीरी के हिसाब से पूरी छूट दे रखी थी। ये जानते थे कि जो चमचों को छूट और विशेष छूट उनकी चमचागीरी के स्तर के अनुरूप न दी जाए तो वे हंगामा बरपा सकते हैं। साहब को पलक झपकते ही सूखने पा सकते हैं।

वैसे ये साहब पहले वालों से कुछ अधिक व्यावहारिक साहब साबित हुए। ये भले ही धूप में हुए सफेद बालों को कलर करते रहे हों पर ये चमचों की मानसिकता से भलीभांति परिचित। इसलिए ये कुछ मैनेज कर पाते या नहीं, पर चमचों को भलीभांति मैनेज करते रहे। उनके नजदीकी कहते हैं कि चमचों को मैनेज करने की उनके पास पीएच.डी हैं। इसके बाद भी चमचों को पालने पर शोध का लंबा अनुभव इनके पास है। एक यह भी वहज रही कि इनके कार्यकाल में हमारे ऑफिस के चमचों को कभी इनसे कोई शिकायत न रही। इन्होंने हर चमचे को असल में पूरी ईमानदारी से उसकी चमचागीरी के हिसाब से देखा- परखा। इनके हाथों से ऑफिस के सभी चमचे अपनी-अपनी चमचागीरी के स्तर के अनुरूप इनसे अपना-अपना पुरस्कार पा प्रसन्न रहे। इनसे शिकायत थी तो बस उन्हें जिनको चमचागीरी से अलर्जी थी। उनकी इस अलर्जी को लेकर साहब ने कई बार उनको स्टाफ मीटिंग में इनडायरेक्टली सलाह भी दी कि वे अपनी इस जान लेवा अलर्जी का इलाज किसी अच्छे डॉक्टर से समय रहते करवा लें ताकि ऑफिस में वे स्वस्थ रहें , मस्त रहें। इसके लिए उन्हें ऑफिस से जितने दिन गायब रहना हो, रहें। वे उन्हें कुछ नहीं कहेंगे। वे उनसे पूछेंगे भी नहीं कि वे इतने दिन कहां रहे। पर वे जब ऑफिस आएं तो इस अलर्जी से मुक्त होकर ही आएं।

साहब की चमचागीरी से अलर्जी दूसरी सब अलर्जियों में सबसे अधिक जानलेवा अलर्जी होती है। इस अलर्जी के चलते ऑफिस में बंदा न घर का रहता है न घाट का। पर उन चमचागीरी से अलर्जी वालों को न जाने क्यों इस अलर्जी से इतना प्यार था कि....वे ऑफिस छोड़ सकते थे पर अलर्जी नहीं। इलाज के लिए तरह-तरह के इंसेंटिवों का लालच देने के बाद भी वे अपनी अलर्जी का इलाज पता नहीं क्यों करवाना नहीं चाहते थे?

.................आखिर वह रोज आ ही गया जब ऑफिस के बाहर एक पांडाल लगाया गया। उसे एक प्रोजेक्ट के जाली बिल बनवा यों सजाया गया कि...... उसकी साज- सज्जा देख कोई अप्सरा भी उस वक्त उसे देखा लेती तो ईर्ष्या से जलकर राख तो नहीं पर कोयला अवश्य हो जाती।

पांडाल में आईसीटी देख रहे वर्मा ने दस बजे ही साहब भक्ति के गीत बजाने शुरू कर दिए थे। कम्बख्त ने क्या गजब का साहब भक्ति के गीतों का चयन किया हुआ था? हर गीत ऐसा कि सुनकर कलेजा मन को आ जाए, मरता हुआ बंदा भी भगवान के चरण ढूंढने के बदले साहब के चरण ढूंढने को हाथ-पांव मारने लग जाए।

देखते ही देखते पांडाल सज धज कर आए ऑफिस के कर्मचारियों से भरने लगा। पहली बार आज ऑफिस के सारे कर्मचारी एक साथ उपस्थित हुए थे। हर चमचा दूसरे से अधिक सजा हुआ, चमचागीरी के भार से इतना लदा हुआ कि बेचारे से चला भी न जाए। हर चमचा एक दूसरे को घूरता हुआ। एक दूसरे पर सड़ता हुआ। यह तो लगभग सबको पता था कि लाइफ टाइम चमचगीरी अवार्ड तो बस उन्हें ही मिलेगा पर फिर भी....... दूसरे अवार्डों को लेकर अभी भी स्थिति स्पष्ट नहीं थी।

तय समय पर साहब सरकारी गाड़ी से मुस्कुराते हुए सपत्नीक, पत्नी के ब्रितानी कुत्ते सहित उतरे तो उनका स्वागत करते उनके चमचे उनके गले में माला डालने के लिए , उन्हें अपना बुका देने के लिए एक दूसरे को पीछे धकेलने लगे। चमचों में यही होड़ कि किसका बुका साहब के हाथों में पहले सजे, किसकीे माला सबसे पहले साहब की गरदन में फंसे। जिनको चमचागीरी से अलर्जी थी वे भी आज हाथ में बुका लिए साहब के स्वागत के लिए लाइन में खड़े दिखे तो मंद- मंद मुस्कुराते साहब को विश्वास हो गया कि अब कलियुग खत्म और चमचायुग शुरू। चमचायुग को आने से अब कोई माई का लाल नहीं रोक सकता।

साहब ने अपने खासों से सबसे बुके ग्रहण कर अपनी पत्नी व पत्नी के डियर कुत्ते सहित कुर्सी ग्रहण की तो स्टाफ सेक्रेटरी ने मंच संभाला,' हे मेरे ऑफिस के साहब भक्तो! आज वह घड़ी आ ही गई जिस घड़ी का हमें बेकरारी से पिछले पंद्रह दिनों से इंतजार था। हम आभारी हैं अपने साहब के कि जिन्होंने इस ऑफिस में एक नई परंपरा की शुरूआत की। उन जैसा युग पुरूष कोई नहीं। वे साक्षात् युग पुरूष हैं......' इससे पहले की मंच के नीचे बैठे तालियां बजाते साहब ने खुद ही तालियां बजानी शुरू कीं तो पांडाल में बैठा हर चमचा दूसरे चमचे से ज्यादा जोर से अपनी हथेलियां पीटने लगा।

साहब ने अपना कोट ठीक किया और रंग बिरंगी प्लास्टिक के फूलों की मालाओं से लदी गरदन लिए माइक के पास तनकर खड़े हुए। कुछ देर तक अपना खराब गला साफ करने के बाद बोले,' मित्रो! आज आप सबको यहां एक साथ पहली बार देख मन को बड़ी तसल्ली हो रही है। साहब होकर ऑफिस में काम तो सब करते हैं पर कुछ खास कर रिटायर हुआ जाए तो रिटायर होने का मजा ही कुछ और है। सो मैंने सोचा कि कुछ खास करके ही रिटायर हुआ जाए। और उसी पॉजिटिव सोच का परिणाम है कि आज हम सब यहां.......

निर्विवादित है कि चमचे हर युग में रहे हैं। चमचे हर काल में रहे हैं। चमचे हर दरबार में रहे हैं। चमचे हर सरकार में रहे हैं। चमचे हर दफ्तर में रहे हैं। चमचे हर अफसर के रहे हैं। भले ही वेदों,उपनिषदों, संहिताओं, आरण्यकों, में चमचों के बारे में सैद्धांतिक रूप से कुछ लिखा गया हो या न, पर इनमें भी शोधार्थियों को प्रत्यक्ष- अप्रत्यक्ष चमचागीरी के पुख्ता सबूत मिले हैं। असल में जिनके कोई सिद्धांत नहीं होते, उनका सैद्धांतिक पक्ष भी नहीं हो सकता। ऐसे में चमचागीरी का कोई पुख्ता सैद्धांतिक - दार्शनिक पक्ष हो या न, पर इसका व्यावहारिक पक्ष अनादिकाल से बड़ा मजबूत रहा है।

दोस्तो! चमचे अपने को हर बार शुभचिंतक कहलवाने की भरपूर कोशिश करते हैं। पर चमचे चमचे ही होते हैं, शुभचिंतक नहीं। चमचा जब भी अवसर मिले अपनी चमचाई को प्रदर्शित करने का कोई अवसर नहीं छोड़ता। वह मुंह सामने कुछ और होता है और पीठ पीछे कुछ और। उसके पास चमचाई प्रदर्शित करने को शब्दों का भरा पूरा शब्दकोश होता है। जबकि शुभचिंतक को अपनी शुभचिंतकी के प्रदर्शन से कोई लेना-देना नहीं होता। उसकी जुबान शब्दकोशों के शब्दों से बहुत ऊपर होती है। शुद्ध हवा की तरह, शुद्ध जल की तरह। चमचा तन से समर्पित होता है तो शुभचिंतक मन से। यही दोनों को एक दूसरे से जुदा करते हैं।

मित्रो! चमचा लाख अपना होने के स्वांगों के बावूजद भी चमचा ही होता है और शुभचिंतक बिना दावों , दिखावों के भी शुभचिंतक ही होता है। चमचा प्रशंसा करने में हद से अधिक चापलूस होता है तो शुभचिंतक हमारी तारीफ करने में पूरा कंजूस होता है। चमचे और शुभचिंतक के बीच दिनरात का अंतर होता है। शुभचिंतक जीने का मंत्र होता है तो चमचा झूठमूठ में बंदे को लुभाने का यंत्र होता है। चमचा भ्रम में जीना सीखाता है तो शुभचिंतक भ्रम से दूर रखता है। चमचा होमली दिखने के बाद भी होमली फीलिंग नहीं देता। शुभचिंतक सदा होमली ही होता है। अपनी जेब में सदैव डाले छोटे -बड़े निहित स्वाथरें के चलते शुभचिंतकों सी कूलिंग नहीं देता। पर हम आज सब शुभचिंतकों को नहीं, चमचों को ही बहुधा गले लगाते हैं। क्योंकि वे हमें जो हम होते नहीं, वह बनाते हैं, जो हममें है नहीं, हमें अपने भीतर वह सब बड़ी सहजता से दिखाते हैं, अस्तु!

बस इसीलिए चमचा होना गौरव की बात है। चमचा होना साहस का काम है। चमचा होना दुस्साहस का काम है। नौकरी तो सब कर लेते हैं। पर चमचागीरी सबके बस की बात नहीं। भले ही चमचागीरी का भाव जन्मजात सबमें हो तो होता रहे। तिल -तिल कर जीते हैं वे जो अपने पास इस भाव के होते हुए भी इसे दबा तिल- तिल मरते रहते हैं। ऐसी हर रोज, हर जगह दिवंगत होती और हो चुकी आत्माओं को मेरी विनम्र श्रद्धांजलि! भगवान ऐसी आत्माओं की सुधारने की कोशिश करें,' कह साहब ने सिर झुका दो मिनट का मौन रखा और उसके बाद बोले,' तो दोस्तो! कुछ जुबान से चमचे होते हैं तो कुछ काम के। कुछ कान के चमचे होते हैं तो कुछ नाम के। कुछ पार्ट टाइम चमचागीरी करते हैं तो कुछ फुल टाइम। कुछ सखा भाव के चमचे होते हैं तो कुछ दास्य भाव के। अपना सबकुछ अपने आराध्य के चरणों में न्यौछावर कर उसके दिमाग में जगह बनाना आसान नहीं। चमचागीरी बेहद कमीनोपन का काम है। मिमियाते हुए , खिसियाते हुए किसीके आगे बलखाते हुए, जूते खाने के बाद भी मंद- मंद मुस्कुराते हुए ,हद से पार जाना ही चमचागीरी है। जो अपने साहब के दिमाग में जगह बना गया मानों वही चमचागीरी का अमृत पा गया।

कोई माने या न माने, पर चमचे होते बड़े कुत्ती चीज हैं। इनके पास ऐसी गीदड़ सींगी होती है कि जिसे ये एकबार सूंघा दें वह इनके वश में हो जाए। इनके पास किसीको भी वश में करने के ऐसे- ऐसे सिद्ध मंत्र होते हैं कि.......पहले तो ये किसीके इशारों पर नाचते हैं और फिर पता ही नहीं चलता कि कोई कब इनके इशारों पर नाचने लग जाए। फिर ये साहब का नहाना- खाना- पाखाना सब तय करते हैं। इनसे कोई नहीं बच सकता । न इंसान , न भगवान और न ही शैतान।

खैर! जो साहब के लिए दिनरात मरते -खपते रहते हैं , इतना कि तो उनका हक बनता ही है कि वे...... सम्मानित हों, पुरस्कृत हों, अलंकृत हों। तिरस्कृत तो वे हर जगह अकसर होते ही रहते हैं। इसलिए मैंने बहुत सोचा, सोए- सोए भी बस यही सोचा, जागे हुए भी बस यही सोचा, ऑफिस के सारे काम छोड़ बस यही सोचा! और उसी सोच का नतीजा आज आपके सामने फलीभूत हुआ है।

तो अधिक न कहता हुआ इसलिए कि चाय- समोसे ठंडे हो जाएं ,साहब भक्ति का सांत्वना पुरस्कार दिया जाता है...... यह अवार्ड उसके लिए है जिसने साहब के चरण दबाए तो सही पर मन मसोस कर। ...........तो यह सम्मान जाता है मिस्टर एके को ! वे आएं और......' एके उठे और सिर नीचा किए मंच पर गए, तो साहब ने इन्हें पुराने घर में बेकार हो चुके चमचों का एक सेट पुरस्कार रूप में भेंट किया। साहब से चमचागीरी का सांत्वना पुरस्कार प्राप्त किया और सिर नीचा किए ही मंच से उतर कर अपनी सीट पर आ गए। कम्बख्त एक भी ताली न बजी।

अब बारी है विशिष्ट चमचा पुरस्कार की। यह वह पुरस्कार है जो जरा हटकर साहब की चमचागीरी करने वाले को दिया जाना है। इसके लिए मैं मंच पर आमंत्रित करना चाहूंगा....' एक पल के लिए पांडाल में सन्नाटा सा छा गया,' तो इस पुरस्कार के सही हकदार हैं मिस्टर बीके। कृप्या वे मंच पर आएं और....' बीके अपना कोट ठीक करते हुए मुस्कुराते हुए मंच पर आए तो उनके स्वागत के लिए कुछ तालियां बजीं। बीके ने साहब को आधा झुक प्रणाम करते अपना पुरस्कार लिया- एल्मूनियम के दो नए चमचे।

मंद- मंद मुस्कुराते बीके अपनी कुर्सी पर बैठे तो साहब ने अगले पुरस्कार की घोषणा करते कहा,' अब चमचागीरी में अतिविशिष्ट पुरस्कार की बारी है। और यह पुरस्कार जाता है...... जाता है....... मिस्टर केपी को। उनके लिए इस उपलब्धि पर जोरदार तालियां?' और देखते ही देखते तालियों से पांडाल गूंज उठा। मिस्टर बीके ने सबको नमस्कार किया और उसके बाद मंच पर आधे झुके चढ़ गए। साहब ने इनको स्टील के दो चमचमाते चमचे दे सम्मानित किया तो एक बार फिर पांडाल में तालियां गूंजी।

' ..... और अब बारी है चमचा ऑफ द ईयर के सम्मान की,' साहब ने ज्यों ही आखों पर से चश्मा उठा पांडाल की ओर देखा .....कि चार जने एक साथ उठने को हुए। यह देख उन्हें हंसी भी आई। आखिर उन्होंने इस पुरस्कार पर से सस्पेंस खत्म करते कहा,' माफ कीजिएगा! यह अवार्ड जाता है मिस्टर जीके को! इनको इनकी इस शानदार उपलब्धि के जोरदार- शोरदार तालियां!' पांडाल एकबार फिर तालियों- गालियों की गड़गड़ाहट से गूंजा।

एक बार फिर साहब ने अपना गला साफ किया और आगे कहा,' तो अब.......,' अभी साहब ने अपना वाक्य पूरी भी नहीं किया था कि दो जने आरके और एसके एक दूसरे को घूरते खड़े हो गए। इससे पहले कि वे दोनों एक दूसरे को पछाड़ मंच पर जा पहुंचते साहब ने कहा,' तो इस अवार्ड के असली हकदार हैं मिस्टर आरके,' उनके कहने भर की देर थी कि आरके अपनी कुर्सी से ही झुके हुए उठे और दोनों हाथ जोड़े, एक अपनी तो एक आज के आयोजन के लिए विशेष रूप से किराए पर लाई पूंछ को अदब से हिलाते मंच पर जा पहुंचे। मंच पर पूंछ हिलाते पहुंच उन्होंने सबसे पहले साहब के कुत्ते से हाथ मिलाया। फिर उनकी पत्नी के पूरी आस्था से पांव छुए। साहब की पत्नी के पांव छूने के बाद उन्होंने साहब को दस बार साष्टांग प्रणाम किया तो साहब की आंखें नम हो आईं। बड़ी मुश्किल से साहब ने उनकी झुकी कमर सीधी की तो पांडाल में एकबार फिर तालियों का शोर गूंजा। आरके को पुरस्कार में साहब ने चांदी के दो चमच दिए तो वे बिन पंख ही आसामान से बातें करने लगे। उस वक्त वे थे कि साहब के पैर छोड़ ही नहीं रहे थे। तब साहब ने बड़ी मुश्किल से अपने चमचमाते जूतों पर सिर रखे को उठाया और अपने गले लगाते हुए भाव विभोर हो कहा,' ऐसे होते हैं विशुद्ध साहब के चमचे,' फिर भावातिरेकी आरके के आंसू पोंछते बोले,' असल में इस अवार्ड के चयन के लिए मुझे बहुत मेहनत करनी पड़ी। पिछले कई साहबों से जानकारी जुटानी पड़ी। तब कहीं जाकर ये कठिन काम हो पाया। पर हो गया। इस अवार्ड में पूरी तरह ट्रांसपेरेंसी बरती गई है। मैं इस अवार्ड हेतु इन्हें बहुत- बहुत बधाई देता हूं। मेरी भगवान से यही प्रार्थना है कि वे इस काम में यों ही निरंतर आगे बढ़ते रहें और औरों का भी कुशल मार्ग दर्शन करें,' एकबार फिर आरके ने पूरी निष्ठा से साहब के चमचमाते जूते चूमे और मंच से मस्त हाथी की चाल में अपनी जगह पर आ गए।

कुछ देर तक पांडाल में उनके ग्रुप के आरके को गले लगाते रहे , आरके को बंधाई देते रहे, आरके के गले में कागजी फूलों की मालाएं डालते रहे। जब माहौल कुछ शांत हुआ तो साहब ने आगे कहा,' तो आज का यह चमचा सम्मान समारोह यहीं समाप्त होता है। सम्मानितों को मेरी ओर से एक बार फिर बधाई। और वे जो इस काम में पीछे रह गए हैं , उनसे एक निवदेन जरूर करना चाहूंगा, वे अभी भी मुझे गालियां देते हों तो देते रहें, इससे मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता। और वह निवेदन यह कि......ऑफिस के काम तो होते रहते हैं। कभी साहब के काम आकर भी देखो तो......साहब की चमचागीरी में जो मजा है वह ऑफिस के काम दिनरात करने में कहां! पर जो कोई समझे तो??? ज्यादा न कहता हुआ अब जय हिंद!' पुरस्कृत मंच पर तो अन्य अपनी- अपनी जगह राष्ट्रगान के लिए आड़े -तिरछे खड़े हो गए। राष्ट्रगान भले ही गाया कैसेट ने हो।

अशोक गौतम

गौतम निवास, अप्पर सेरी रोड़

नजदीक मेन वाटर टैंक, सोलन-173212 हि.प्र.

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच करें : ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


|आपके लिए कुछ चुनिंदा रचनाएँ_$type=three$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3911,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,337,ईबुक,192,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,258,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2870,कहानी,2166,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,495,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,91,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,330,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,54,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,9,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,23,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,238,लघुकथा,1136,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,240,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,326,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1954,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,684,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,719,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,15,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,72,साहित्यम्,4,साहित्यिक गतिविधियाँ,193,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,73,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: व्यंग्य/ चमचा अलंकरण समारोह
व्यंग्य/ चमचा अलंकरण समारोह
http://lh6.ggpht.com/_t-eJZb6SGWU/S-vliVE1ajI/AAAAAAAAH8I/I1fKLIazjLw/ashokgautam_thumb.jpg?imgmax=200
http://lh6.ggpht.com/_t-eJZb6SGWU/S-vliVE1ajI/AAAAAAAAH8I/I1fKLIazjLw/s72-c/ashokgautam_thumb.jpg?imgmax=200
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2016/12/blog-post_6.html
https://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2016/12/blog-post_6.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ