370010869858007

---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

संस्मरण लेखन पुरस्कार आयोजन - प्रविष्टि क्र. 71 : अभिमन्यु (एक संस्मरण) // अनघा जोगलेकर

प्रविष्टि क्र. 71 : 

अभिमन्यु (एक संस्मरण)

अनघा जोगलेकर


बचपन से ही पौराणिक और ऐतिहासिक कथाओं में मेरी दिलचस्पी रही है। दादी से, नानी से, माँ से रामायण और महाभारत की बहुत सी कथाएं सुनी हैं लेकिन जिस कथा ने मुझे सबसे अधिक झकझोरा, वह थी अभिमन्यु के चक्रव्यूह की कथा।

इस कथा को मन के किसी कोने में सुरक्षित रख, मैं अपनी पढ़ाई में व्यस्त हो गई। ईश्वर में अटूट विश्वास होने के साथ ही विज्ञान में रम गई। मुझे याद है हमारे विज्ञान के अध्यापक कहा करते थे, "विज्ञान पढ़ना, पढ़ाना एक बात है लेकिन उसे समझते हुए जीवन से जोड़ना कठिन कार्य है।"

उनकी इस बात को दिमाग में बैठा, मैं जीवन में आगे बढ़ गई। अभियंता की डिग्री हासिल कर मैंने अपने नए जीवन में पदार्पण किया।

विवाह के पवित्र रिश्ते को निभाते हुए दिन बीतते गए और एक दिन एक सुखद एहसास ने मेरे जीवन की बगिया को महका दिया।

बड़े बुजुर्गों ने भी अपने-अपने सुझाव, सलाहों की पोटली खोलनी शुरू कर दी। कोई कहता, "देख बिटिया, इन दिनों बहुत काम किया कर ताकि डिलेवरी में आसानी हो।" तो कोई कहता, "खूब हरी सब्जियां खाया कर और हाँ, दूध पीना न भूलना ताकि बच्चा तन्दुरुस्त पैदा हो।"

सासूमाँ कहतीं, "रोज रामायण पाठ किया कर बहु। बच्चे पर अच्छे संस्कार डलेंगे।" तो माँ कहती, "बेटा, इन दिनों रोना बिल्कुल भी नहीं। नहीं तो बच्चा रोतलु पैदा होगा।" फिर प्यार से मेरे सर पर हाथ फेर कर कहती, "हमेशा हंसती रह मेरी बच्ची।"

मैं सबकी बातें मानती। सबकी बातों में तथ्य तो थे ही। इसी बीच कब मेरे मन और दिमाग के वे दो कोने एक हो गए पता ही न चला। विज्ञान के अध्यापक की कही बात और दादी की सुनाई अभिमन्यु की कहानी एकाकार हो गई और मैंने एक प्रयोग करने की ठानी।

मैं सोच रही थी, "जिस तरह अभिमन्यु ने माँ के गर्भ में ही चक्रव्यूह को भेदना सीख लिया था, क्यों न मैं भी अपनी होने वाली संतान को गर्भ में ही किसी कला से अवगत करा दूँ।"  उन दिनों अचानक ही मुझे संगीत से लगाव हो गया था। अपने में इस यकायक आए परिवर्तन को ईश्वर का संकेत समझ, मैं तरह-तरह के वाद्ययंत्रों की ढेर सारी सीडी ले आई।

बड़ों की कही बातें पूरी करने के बाद जो समय बचता उसमें मैं यह सीडीज़ सुनती। जलतरंग, तबला, गिटार, पियानो...... सारे वाद्ययंत्र झंकृत हो उठे। मेरा जीवन संगीतमय हो गया। दिमाग शांत और मन ईश्वरीय अनुभूति से परिपूर्ण हो उठा। मेरे दिन रात महक गए। गर्भस्थ शिशु भी संगीत की ताल पर हिलोरें लेने लगा।

निश्चित समय पर मेरे पुत्र ने जन्म लिया। मुझे लगा जैसे स्वयं ईश्वर ही मेरी गोद में आ विराजें हों। समय बीत रहा था। वह तिल-तिल बढ़ रहा था।

अभी वह तीन वर्ष का ही हुआ था कि उसने पहली बार खाने के टेबल पर अपनी उंगलियाँ चलाईं। मेरे कानों में मिश्री सी घुल गई मानो कोई प्यारी सी धुन बजी हो।

मैं भाव-विभोर हो उठी। मेरा प्रयोग सफल होता दिख रहा था। लगा जैसे उसने गर्भ में ही शुरुआती संगीत सीख लिया हो। नींव तैयार थी। बस इमारत बननी बाकी थी।

आज वह ग्यारह वर्ष का हो गया है। संगीत ही उसका जीवन है। संगीत ने उसे सकारात्मकता से भर दिया है।

जब भी उसे तन्मय हो पियानो बजाते देखती हूँ तो सालों पहले किये अपने प्रयोग की सफलता पर खिल उठती हूँ। जानती हूँ कि मेरा अभिमन्यु संस्कारों से परिपूर्ण हो, जीवन के कुरुक्षेत्र में उतरने के लिए तैयार हो चुका है और वह चक्रव्यूह भेदकर, सफल होकर ही बाहर निकलेगा, ये विश्वास भी है।

@अनघा जोगलेकर

संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018 3101688288487356197

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

---प्रायोजक---

---***---

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव