नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन 2019 - प्रविष्टि क्रमांक - 30 // यात्रा // सुरेन्द्र कुमार अरोड़ा

प्रविष्टि क्रमांक - 30

लघुकथा


यात्रा


सुरेन्द्र कुमार अरोड़ा


          वे दोनों भाई थे क्योंकि उन दोनों को जन्म देने वाली औरत एक ही थी । जिसे वे  अपनी माँ कहते थे  ।

इसलिए दोनों एक ही घर में उसी  माँ  के आंचल की छाँव में रहकर बड़े हुए थे । उसका दूध उन दोनों ने पिया था ।

           एक दिन माँ नाम की वह  औरत , अचानक बीमार पड़ गयी ।

           माँ  दोनों की थी इसलिए दोनों ने मिलकर  तय  किया कि माँ  को डॉक्टर के पास ले जाना   चाहिए ।

           एक जाकर रिक्शा ले आया , दूसरे ने माँ को उस पर बिठा दिया । बीमार माँ, रिक्शा पर अकेले खुद को सम्भाल नहीं सकती थी इसलिए खुद भी उसके साथ रिक्शा पर बैठ गया । रिक्शे पर दो ही लोगों के बैठने की  जगह  थी । सो दूसरा चलते हुए रिक्शे के पीछे - पीछे पैदल ही दौड़ने लगा ।

             माँ बेहोश थी । बीच - बीच में दर्द से कराह उठती थी । उसकी कराहट सुनकर दोनों का मन कसैला हो उठता ।

             " भैया जल्दी - जल्दी पैर चलाओ । "  दौड़ने वाला भाई , कहता हुआ और तेज दौड़ने लगता । उसी समय रिक्शे पर बैठा भाई माँ के सर को ढककर सहलाने लगता ।

             माँ का दर्द बढ़ता जा रहा था । इसी बीच  उसने आँखें खोली । वह कुछ कहना चाहती थी । इससे पहले कि वह कुछ कह पाती उसका सिर ढलक गया । माँ की श्वासों के साथ दोनों की चीख भी निकली । रिक्शा वाला रुक गया ।

             " भैया अब आगे नहीं , माँ का सफर पूरा हो चुका है । अब हमें  वापस घर ले चलो । ' रिक्शा पर बैठे भाई ने कहा ।

              ' बाबू , हमारा रिक्शा  सवारी बैठाता  है , लाश नहीं ढोता । आप उतर कर कोई और इंतजाम कर लो  पर  उससे पहले हमारा  किराया चुका दो । '

              ' भाई ! माँ के शरीर को  लेकर घर वापस चलना है । इस रिक्शेवाले को  इसका किराया दे दो । ' रिक्शा पर बैठे भाई ने   दौड़ने वाले भाई से कहा ।

                दौड़ने वाले भाई ने एक क्षण  तक उसे देखा । जेब में हाथ डाला और फिर खाली ही बाहर निकाल लिया ।

                ' क्या हुआ ? इसे पैसे दो भाई ।  दूसरा इंतजाम करके जल्दी वापस घर लौटना है ।' रिक्शे पर बैठा भाई खीझ कर बोला ।

                ' दौड़ने वाले भाई ने थोड़ी देर अपने  अनमने चेहरे से बैठे हुए भाई को देखा , फिर  कहा , ' उतावले मत बनो । रिक्शा पर तुम बैठे थे , मैं तो पैदल दौड़ रहा था ।  इसलिए पैसे भी तुम्हीं दोगे । "

                 दोनों एक - दूसरे को क्रोध पूर्वक देखने लगे ।

                 स्थिति की भयावहता को समझ  कर रिक्शे वाले ने बीच में ही टोक दिया  , झगड़ा न करो । चिंता  की कोई जरूरत नहीं है । आपमें से कोई भी पैसे नहीं देगा । आप दोनों उस घर को वापस जाइये जो पहले  इस माँ का था और  अब आपका होगा  । इनके मृत शरीर को , मैं अपने इसी रिक्शे पर श्मशान घाट छोड़ आऊंगा  ।

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.