370010869858007

---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

व्यंग्य // तुमने कर्ज़ लिया क्या ? // ओम वर्मा

व्यंग्य

             तुमने कर्ज़ लिया क्या ?

ओम वर्मा

सांता क्लॉज़ इतने परेशान कभी न थे।

पहले सिर्फ ईसाई परिवार के बच्चे उनकी राह तका करते थे। अब सबको उनका इंतज़ार रहता है। मजबूरन उन्हें अपने कुछ नए क्लोन पैदा कर आर्यावर्त पर भेजने पड़े थे। इनके वस्त्र भले ही लाल न हों मगर जो खुद इतने बड़े माई के लाल हैं कि अपने थैलों में साइकिलें, दो सौ रु वाले बिजली के बिल, तीर्थ यात्राओं के टिकट, जनम से लेकर परण और मरण तक के लिए नकद राशि के लिफ़ाफ़े लिए सालों घूमते रहे। इनका हर दिन ‘बड़ा दिन’होता था। उनकी विकास की गंगा गंगौत्री से निकलकर कब मुफ़्त उपहारों की गंगा में बदल गई, उन्हें ही पता नहीं चला।

कालांतर में इन क्लोनों में भी टकराव हो गया। क्रिसमस पर्व पर अक्सर गाए जाने वाला गीत "सांता क्लॉज़ इज़ कमिंग टु टाउन" में वर्णन है कि सांता क्लाज पूरी दुनिया के बच्चों की उनके व्यवहार के अनुसार  उपहार देने के लिए एक सूची बनाते है जिसमें उन्हें ‘अच्छे’ और ‘शरारती’ ऐसी दो अलग अलग श्रेणियों में रखा जाता है। फिर क्रिसमस की पूर्व संध्या वाली रात वे दुनिया के सभी अच्छे बच्चों को खिलौने, केंडी और अन्य उपहार देते हैं और कभी कभी शरारती बच्चों को ‘कोयला’ देते है। इस काम के लिए वह अपने एक बौने की सहायता लेते हैं जो वर्कशॉप में उनके लिए खिलौने बनाते हैं और रेंडियर उनकी गाड़ी को खींचते हैं। बौनों से तो इनका दरबार भरा रहता है। इसी परंपरा का निर्वाह करते हुए नए क्लोनों ने भी दो सूचियाँ बनाईं- एक वे जो क़र्ज़दार हैं और दूसरी उनकी जो या तो क़र्ज़ अदा कर चुके हैं या जिन्होंने कभी क़र्ज़ लिया ही नहीं। क़र्ज़दारों के लिए हालाँकि क़र्ज़ देने वालों ने ही यह विकल्प भी खुला रखा था कि वे भरपूर क़र्ज़ लेकर ऐसी जगह हिज्रत कर जाएँ जहाँ कोई उनकी शांति भंग न कर सके।

अकस्मात इन सांता क्लॉज़ों को यह इल्हाम हुआ कि कुछ ऐसे भी लोग हैं जो या तो क़र्ज़ ले ही नहीं रहे हैं  या लेते हैं तो उन्हें समय पर चुकाने की बीमारी लगी हुई है। इन्हें सुधारना बहुत ज़रूरी है। इनका इलाज बहुत ज़रूरी है। आख़िर इन्हें ठीक करने का उपाय भी नए सांता को सूझ ही गया। सारे क़र्ज़दारों ने ‘लूट सके तो लूट’ का उद्घोष करते हुए अपने बदबूदार मौजे बाहर दरवाजों पर लटका रखे थे। सुबह देखा तो मौजों में ऋणमुक्ति प्रमाणपत्र रखे मिले। ये आधुनिक सांता चाहते हैं कि हर क़र्ज़दार चार्ल्स डिकेंस के क्लासिक उपन्यास ‘डेविड कॉपरफील्ड’ के पात्र मिकॉबर की तरह क़र्ज़ा लेकर भी हँसता-मुस्कराता रहे। वे महर्षि चार्वाक के सच्चे अनुयायी हैं और उन्होंने अपने कार्यालय में उनकी एक आदमक़द तस्वीर भी लगा रखी है जिसके नीचे उनकी सूक्ति स्वार्णाक्षरों में लिखवा रखी है-

‘यावज्जजीवेत सुखं जीवेत

ऋण कृत्वा घृतं पीबेत ।

भस्मी भूतस्य देहस्य पुनरागमनं कुत:”।

यानी “जब तक जियो सुख से जियो, कर्ज लेकर घी पियो, शरीर भस्म हो जाने के बाद वापस नहीं आता है।“– चार्वाक

कल तक जो बैंकों के आर्थिक रूप से क़र्ज़दार थे, अब वे उनके नैतिक रूप से ऋणी हो गए हैं। जो पहले अदा कर चुके हैं उन्हें अपनी ‘मूर्खता’ पर पछतावा हो रहा है। सदियों  पुराना भोगवादी चार्वाक दर्शन आज आर्थिक नीतियों की रगों में लहू बनाकर दौड़ाया जा रहा है। हक़ और हलाल की कमाई खाने का उपदेश किताबों में कहीं दबा सिसक रहा है। क़र्ज़ का धन अब समाज में लज्जा का नहीं, सम्मान का विषय बनता जा रहा है। खुद को धरतीपुत्र मानने वाला किसान अब हमारे लिए किसान या अन्नदाता नहीं बल्कि राजनीतिक आईपीएल के मैदान में खड़ा वह क्रिकेट खिलाड़ी हो गया है जिसको उसकी औक़ात या उपयोगिता अनुसार बोली लगाकर हम ख़रीद रहे हैं।   

बस तुम्हें अगले मैच में हमारे लिए रन बनाने हैं!

***

ओम वर्मा       

100, रामनगर एक्सटेंशन

देवास 455001(म.प्र.)

व्यंग्य 893073876431849481

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

---प्रायोजक---

---***---

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव