नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

समीक्षा // नियति का महाभारत


48423762_2263577217247716_7281266114267447296_n

युवा पीढ़ी के लेखक भुवनेश्वर उपाध्याय जो पूरी तरह से लेखन को अपना कर्म और धर्म मान चुके है। उनका नया उपन्यास महाभारत को पढ़ने का मौका मिला। अभी तक मैंने उनको एक कवि  व्यंग्यकार और एक आलोचक के रूप में ही पढ़ा था। लेखक इस रचना  के बाद, एक नये रूप में हमारे सामने आये है। मैं भुवनेश्वर उपाध्याय जी को एक आदर्शवादी लेखक के रूप में मानता हूँ। यह रचना  भी इसी दर्शन के आधार पर  लिखी गयी है।

महाभारत पर न जाने कितने लेखकों ने अपनी कलम चलाई है और न जाने कितने लेखक इस विषय पर आगे भी लिखेंगे। लेकिन लेखक ने इसे इतिहास से वर्तमान को समझने के उद्देश्य से लिखा है।

  जैसा कि लेखक कहता है कि जो महाभारत में नहीं है वो भारत में नहीं है। लेखक के इस मत से   हमारे मत भिन्न हो सकते है। क्योंकि महाभारत के बाद भारत का स्वरूप पूरी तरह से बदल गया है लेकिन यह इस रूप में अलग है कि महाभारत की भीषण तबाही के कारणों का मनोवैज्ञानिक विश्लेषण  करता है।

महाभारत के कई पात्र पाठकों को अपने जैसे लग सकते है। असल में  भुवनेश्वर उपाध्याय ने  इसमें पात्रों का विश्लेषण अपने ही तरीके से पाठकों के लिए एक बौद्धिक खुराक देने के लिए किया है।

एक सामन्ती समाज के दौर को पुनः लिखना जटिल तो है लेकिन लेखन का कौशल इसी चुनौती में देखने को है। उस दौर के सामाजिक संबंधों को मनोवैज्ञानिक रूप में खंगालना और फिर उसका सारगर्भित संवादों और परिस्थितियों  की निर्माण कला इसका ख़ास शिल्प है। 

  इस रचना  में यहाँ-वहां-जहाँ भी देखेंगे,  धर्म, नियति, अहंकार , स्वार्थ  जैसी  शासक वर्ग की एक मनोवृत्ति को चिह्नित करने का प्रयास लेखक ने अपनी आदर्शवादी दृष्टि से किया है। शासक वर्ग  चरित्र और उसके सत्य के पक्ष में अपने विचार रखे है। जो अनत: समय की नियति के रूप में स्वीकार किये गये हैं। यह  आदर्शवादी धरना का  से जुड़ा है जिसे भौतिकवादी  कभी भी स्वीकार  नहीं करेंगे.

इस रचना के अधिकतर पात्र सत्ता के साथ जुड़े हुए है। किसी न किसी रूप में महाभारत में सक्रिय  रूप से हिस्सेदार है। और वे सभी अपने बचाव के लिए एक से बढ़कर एक तर्क प्रस्तुत करते है।  शासक वर्ग अपने बचाव् की लाख कोशिश करते है। लेकिन उनके द्वंद को लेखक पकड़ने की कोशिश करता है। उनके किये-धरे को मनोवैज्ञानिक रूप से रेखांकित करता है। अब पाठक पर निर्भर करता है कि महाभारत के लिए किसे दोषी माने, समय की नियति को या सत्ता की लालसा को।

समीक्षक : एम एम चन्द्रा

लेखक: भुवनेश्वर उपाध्याय

पुस्तक : महाभारत के बाद

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.