नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन 2019 - प्रविष्टि क्रमांक - 209 // अमावस के अँधेरे में // मोती प्रसाद साहू

प्रविष्टि क्रमांक - 209

मोती प्रसाद साहू

अमावस के अँधेरे में

        उसने मेरे घर की सांकल खटखटायी वह भी गहन निशीथ में। खट् ....खट्....। मैं अचानक नींद से उठा। समय देखा रात के एक बज रहे थे। बाहर घुप्प अँधेरा याद आया आज तो अमावस है। सांकल खटकती रही खट् ...खट्... ।
’अब चारपाई से उठना ही पड़ेगा । कौन हो सकता है इतनी रात गये ? संचार के इतने विकसित और उपलब्ध संसाधनों के बावजूद सांकल खटखटाना ? कोई परिचित है तो उसके पास मेरा दूरभाष नम्बर होना चाहिए। ’

मेरे उठने के साथ एक अनचीन्हा भय भी उठ गया मेरे मन में।
हिम्मत कर पहले खिड़की खोली। देखा एक स्त्री- आकृति दरवाजे पर खड़ी है। आँखों को छोड़कर नीचे से ऊपर तक वस्त्रों से पूरी तरह स्वयं को ढँकी हुई। पहचानना मुश्किल ।
मैंने डरते डरते पूछा-
“आप कौन?“
“भयभीत न हों कविराज! भयभीत तो मैं हूँ। मुझे अन्दर तो आने दें। मुझे शरण चाहिए। आपको इतना तो मालूम होगा ही कि; जब कोई स्त्री रात में शरण माँगें तो निश्चित रुप से वह खतरे में है।“

“किंतु   .........“

“मैं समझ गयी , आप का भय भी निरर्थक नहीं है । मैं पूरी दुनिया में अपने लिए शरण तलाश रही हूँ ; किंतु नहीं मिल रही।“
“आपका उत्तर तो दार्शनिक की भाँति है फिर मुझसे उम्मीद ?“
“हाँ ,आप कविराज हैं; सोचा आप के पास शरण मिल जाय?“
“परन्तु इतनी रात गये; दिन के उजाले में क्यों नहीं ? कोई देख लेगा तो ?“
“आपको लोक लाज की पड़ी है और मुझे सुरक्षा की फिकर है। सब मेरे नाम की माला जपते हैं परन्तु सम्मान कोई नहीं देता । क्या मैं चली जाऊँ आप के दर से ? आप भी औरों की तरह... ?“
“नहीं ... नहीं ... ऐसा नहीं हो सकता “
मेरी अन्तरात्मा ने कहा-डरो नहीं कवि यह वही है जिसे आप वर्षों से सर्वत्र देखना चाहते हो पाना चाहते हो। आज वह स्वयं चलकर आयी है तुम्हारे यहॉ स्वागत करो ।
मैंने अपने मन के दरवाजे खोल दिए।
अब वह मेरी कलम की नीली रोशनाई से कागद पर फैल रही है निरन्तर।

और...! उधर शहर में ,गाँव में ,चौपालों में मुनादी हो रही है अखबारों में तहरीरें छपवाई जा रहीं हैं

’ समता कहाँ गुम हो गयी ? ’


---
मोती प्रसाद साहू
विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित
एक कविता संग्रह 2013 में प्रकाशित
’हस्तक्षेप 2011 ’ का सह सम्पादक
दैनिक पत्रों में कहानियां प्रकाशित
सम्प्रति संस्कृत प्रवक्ता उत्तराखंड

motiprasadsahu@gmail.com

1 टिप्पणियाँ


  1. आदरणीय महोदय, आपकी रचना सराहनीय है विनम्र निवेदन है कि लघुकथा क्रमांक 180 जिसका शीर्षक राशि रत्न है, http://www.rachanakar.org/2019/01/2019-180.html पर भी अपने बहुमूल्य सुझाव प्रेषित करने की कृपा कीजिए। कहते हैं कि कोई भी रचनाकार नहीं बल्कि रचना बड़ी होती है, अतएव सर्वश्रेष्ठ साहित्य दुनिया को पढ़ने को मिले, इसलिए आपके विचार/सुझाव/टिप्पणी जरूरी हैं। विश्वास है आपका मार्गदर्शन प्रस्तुत रचना को अवश्य भी प्राप्त होगा। अग्रिम धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.