नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

लघुकथा // *अमृत और विष* // रितु असूजा

image

*अमृत और विष*

कहानी

*जहर उगलने वाला नहीं, ज़हर पीने वाला हमेशा महान होता   है*

*  बनना है तो उस कड़वी दवा की तरह बनिये जो शरीर  में होने वाले रोगों रुपी ज़हर को नष्ट करती है ,ना कि उस ज़हर की तरह जो विष बनकर किसी को भी हानि ही पहुंचता रहता है*

* शब्दों का उपयोग बड़े सोच समझ कर करना चाहिये

कुछ लोग कहते हैं ,हम तो दिल के साफ हैं ,जो भी कहते हैं ,

साफ-साफ कह देते हैं ,हम दिल में कुछ नहीं रखते ।

अच्छी बात है ,आप सब कुछ साफ-साफ बोलते हैं ,दिल में कुछ नहीं रखते ।

दूसरी तरफ आपने ये भी सुना होगा कि ,शब्दों का उपयोग सोच-समझ कर करिये । "मुँह से निकले हुए शब्द "और "कमान से निकले हुए तीर" वापिस नहीं जाते ,कमान से निकला हुआ तीर जहाँ पर जा कर लगता है ,अपना घाव कर जाता है ,अपने निशान छोड़ ही जाता है ,माना कि घाव ठीक हो ही जाता है,परंतु कड़वे शब्दों के घाव जीवन भर दिलों दिमाग पर शूल बनकर चुभते रहते हैं ।

हमारे प्राचीन, ग्रन्थ,इतिहास इस बात के बहुत बड़े उदाहरण हैं,कि देवताओं और दानवों की लड़ाई के समय *समुद्र मंथन हुआ *उस समय समुद्र से *अमृत और *विष दोनों निकले ,कहते हैं समुद्र मंथन से निकला हुआ विष एक जलजले के रूप में था ,अगर उस जलजले को यूं ही छोड़ दिया जाता तो वो सम्पूर्ण विश्व को जहरीला कर देता और युगों-युगों तक उसका असर आने वाली नस्लों को जहरीला करता रहता । सम्पूर्ण विश्व को उस जहरीले विष रूपी जलजले से बचाने के लिये ,*परमात्मा शिव शंकर ने उस विष को अपने कंठ में धारण किया ,और भगवान शिव तब से *नीलकंठ *कहलाये । तातपर्य यह कि, कई बार इस तरह के विष रूपी शब्दों के जहर से अपने कुटुम्ब, व समाज को जहरीला होने से बचाने के लिये कड़वे जहर रूपी विष को पीना पड़ता है ।*जहर उगलने वाला नहीं ,जहर पीना वाला ही हमेशा पूजनीय होता है*

जहाँ बात सत्य की है,सत्य कुछ समय के लिये झूठ के काले घने बादलों के बीच छुप जरूर सकता है ,पर जैसे ही काले घने बादल हटते हैं ,सत्य सामने होता है ,जिस तरह साफ-स्वच्छ निर्मल जल सब कुछ साफ-साफ दिखायी देता है ,चाहे वो कंकड़ हो या हीरा ।

1 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.