नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

प्रो नवलकिशोर की पुस्तक 'प्रेमचन्द की प्रगतिशीलता' का प्रथम अनावरण

Premchand-page-001

नई दिल्ली। 'नवलकिशोर हिंदी की सैद्धांतिक आलोचना में अपने मौलिक अवदान के लिए महत्त्वपूर्ण बने रहेंगे।' सुप्रसिद्ध कथाकार और महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति विभूति नारायण राय ने उक्त विचार विश्व पुस्तक मेले में पुस्तक का लोकार्पण करते हुए व्यक्त किये। राय ने प्रो नवलकिशोर की सद्य प्रकाशित पुस्तक 'प्रेमचन्द की प्रगतिशीलता' का प्रथम अनावरण किया। उन्होंने कहा कि प्रेमचंद जैसे लेखक के बहाने प्रगतिशील विचार पर यह पुस्तक निश्चय ही प्रेरक और पथ -प्रदर्शक सिद्ध होगी।

'_________ __ ___________' __ _____ ______

मेले में प्रकाशन संस्थान के स्टाल पर हुए इस आयोजन में बनास जन के संपादक पल्लव ने प्रो नवलकिशोर की इस पुस्तक का परिचय दिया और कहा कि इकतालीस साल बाद इनकी नयी पुस्तक का आना हिंदी आलोचना के लिए एक शुभ घटना है। उन्होंने कहा कि 'मानववाद और साहित्य' तथा 'आधुनिक हिंदी उपन्यास और मानवीय अर्थवत्ता' जैसी किताबों के लेखक की यह कृति नयी पीढ़ी में कालजयी कथाकार प्रेमचंद के महत्त्व की पुनर्स्थापना करेगी।

पुस्तक के प्रकाशक हरिश्चंद्र शर्मा ने बताया कि वे पाठकों की मांग पर प्रो नवलकिशोर की दो पुरानी और अनुपलब्ध पुस्तकों के पुनर्नवा संस्करण भी प्रकाशित कर रहे हैं।

आयोजन में परिकथा के संपादक शंकर, कथाकार हरियश राय, आलोचक वीरेंद्र यादव, आलोचक जानकीप्रसाद शर्मा, कथाकार - पत्रकार हरीश पाठक, कथाकार राकेश तिवारी सहित बड़ी संख्या में लेखक और पाठक उपस्थित थे। ज्ञातव्य है कि हिंदी के वरिष्ठ आलोचक प्रो नवलकिशोर जी की इस पुस्तक के पुस्तकालय और जन संस्करण एक साथ प्रकाशित हुए हैं।

रिपोर्ट एवं चित्र - शिव

द्वारा प्रकाशन संस्थान

दरियागंज,दिल्ली

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.