नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

लघुकथा - एक पथ दो काज - शशि दीपक कपूर

एक पथ दो काज

“चलो, चलो, जल्दी चलो, वहां गली के मंदिर में  कुछ सेठ लोग फ्री में बांट रहे हैं”

“मम्मी ! मुझे नहीं जाना।”

“क्यों”

“ये लोग हमारे पापा की तन्ख्वाह क्यों नहीं बढ़ा देते?”

“छोड़ ये सब बातें, चल जल्दी चल , दो तीन टिफिन साथ में ले ले।

पापा के लिए उसमें खाना लेते आऐंगे।”

“और सुन, तू पेट भर के खाना, मैं भी...। मैं रात को खाना नहीं बनाऊँगी।

“अगर बच गया तो कल का दिन भी निकल जाएगा।”’

"क्या ?... मम्मी ...वैसे नहीं तो ऐसे सही ! "

...शशि दीपक कपूर...(मौलिक व स्वरचित)

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.