नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

लघुकथा - भाई-बहन का प्रेम - सुरेश सौरभ


    'हां पिंकी बोल रही हो।'

    'जी'

    'हां मैं पार्टी मुख्यालय से रंगीलाल बोल रहा हूं। तुम मुझे जानती होगी।'

    'जी बिलकुल।'

    'देखो जो हुआ उसे भूल जाओ शाम को हमारे नेता जी आएंगें, वह तुमसे माफी मांग लेंगे, तुम उनको राखी बांध देना और सारा किस्सा खत्म करना।

    "आदरणीय आप जानतें हैं कि आप के नेता ने मुझे लात-घूसों से  सरेआम पीटा है। अगर मैं जनता की बात, जनता की समस्या जनप्रतिनिधि से कहूंगी तो क्या इसका फल मुझे यह मिलेगा। मैं इस का बदला ले कर रहूंगी। मुझे न्याय चाहिए।"

      "देखो ज्यादा जोश ठीक नहीं कुछ पत्रकारों ने तुम्हे पिटते हुए  वीडियो बनाकर वायरल कर दी है। इससे हमारी पार्टी की इज्जत जा रही है‌। मेरा कहना मान लो वर्ना।'

    'वर्ना क्या करेंगे आप ।'

    'दरअसल मैं कितना नीच हूं।पार्टी कितनी ऊंची है।यह बात तुम बड़ी अच्छी तरह जानती हो। तुम्हारी खुशी और संपन्नता इसी में है कि तुम उस प्रकरण को भूल जाओ और हमारी पार्टी के नेता को माफ कर दो।"

      पिंकी  ने अब खामोशी से फोन रख दिया। वह ऊंची पार्टी के नीच नेता की आसुरी शाक्तियों से भलीभांति परिचित थी।

  शाम को पीटने वाले नेताजी और उनसे पिटने वाली महिला पार्षद का रक्षाबंधन टीवी में सभी देखा।

लेखक-सुरेश सौरभ

निर्मल नगर लखीमपुर खीरी

कापीराइट-लेखक

1 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.