नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

डॉ राजीव पाण्डेय को सारस्वत सम्मान

डॉ राजीव पाण्डेय सारस्वत सम्मान से बरेली में हुए सम्मानित

------------------------------------------------

संस्कार भारती बरेली, एवं वोर्टेक्स सोलर एनर्जी प्रा0लिमिटेड के संयुक्त तत्वावधान में रामानुज सरस्वती इन्टर कॉलेज बरेली में 17 अगस्त2019 को गाजियाबाद के किसान आदर्श स्कूल बम्हैटा के प्रधानाचार्य एवं कवि,कथाकार,हाइकुकार, समीक्षक डॉ राजीव पाण्डेय को "सारस्वत सम्मान"से सम्मानित किया गया। बरेली के विधायक डॉ अरुण कुमार, संस्कार भारती के अखिल भारतीय साहित्य विधा प्रमुख आचार्य देवेन्द्र देव , प्रांतीय सचिव डॉ रंजन विशद, जिला संयोजक डॉ आनन्द गौतम,जिलाध्यक्ष ऋषि कुमार शर्मा, महासचिव पप्पू वर्मा आदि लोगों ने  "काव्यमयी शाम,राष्ट्र के नाम" कार्यक्रम में प्रदान किया।

डॉ राजीव पाण्डेय को यह सम्मान हिन्दी भाषा और साहित्य संस्कृति के समृद्ध विकास एवं सामाजिक कार्यों में उल्लेखनीय योगदान व देश और समाज के चतुर्दिक विकासपरक उन्नयन और मानवीय मूल्यों के सम्बंर्धन के लिये निरन्तर समर्पित भाव से किये जा रहे सृजनात्मक प्रयासों तथा लेखन शोध एवं राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय प्रतिष्ठा के आधार पर यह सम्मान दिया गया।

[post_ads]

डॉ राजीव पाण्डेय के प्रकाशित दो उपन्यास "आखिरी मुस्कान", "बाँहों में आकाश"( सामाजिक उपन्यास) काफी चर्चित हुए हैं। एक हाइकु संग्रह"मन की पाँखें" राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त कर चुका  है।  उनके सम्पादन में कई ग्रन्थ है। दर्जनों सहयोगी संकलनों में सम्मान सहित स्थान प्राप्त है। उन्हें अब तक अनेकों राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय सम्मानों से अलंकृत किया जा चुका है। वे कई सामाजिक संस्थाओं से जुड़कर निरन्तर अपनी सेवाएं दे रहे हैं।

बरेली में हुए "काव्यमयी शाम राष्ट्र के नाम" कार्यक्रम में बड़े आदर के साथ सुना गया डॉ राजीव पाण्डेय  को। उन्होंने धारा 370पर जोरदार रचना पढ़ी जिसे तालियों की गड़गड़ाहट के साथ सुना गया। इसी कार्यक्रम में उन्हें प्रशस्ति पत्र शॉल, माला, नकद धनराशि देकर  सम्मानित किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ डॉ राजीव पाण्डेय,आचार्य देवेन्द्र देव आदि अतिथियों  ने माँ सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्ज्वलन कर किया । कार्यक्रम की अध्यक्षता विश्व के सर्वाधिक महाकाव्य रचयिता आचार्य देवेन्द्र देव ने की। मुख्य अतिथि स्थानीय विधायक डॉ अरुण कुमार थे कार्यक्रम का संचालन रंजन कुमार ने किया।

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.