नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

आदिवासियों ने लड़ी थी, आजादी की पहली लड़ाई - प्रमोद भार्गव

15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस विशेष आलेख

आदिवासी असंतोष के प्रतीक रहे ओडिशा के ‘पाइक विद्रोह‘ को प्रथम स्वतंत्रता संग्राम का दर्जा दिए जाने की पहल हो चुकी है। 1857 के सैनिक विद्रोह से ठीक 40 साल पहले 1817 में अंग्रेजों के विरुद्ध भारतीय नागरिकों ने जबरदस्त सशस्त्र विद्रोह किया था। इसके नायक बख्शी जगबंधु थे। इस संघर्ष को आजादी की पहली लड़ाई की श्रेणी में रखने की मांग ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने उठाई थी। जिसे स्वीकार किया गया। 2018 से एनसीआरटी की इतिहास संबंधी पाठ्य पुस्तक में पाइक विद्रोह का पाठ जोड़ दिया गया है। इस सिलसिले में तत्कालीन मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा था कि ‘1817 का पाइक विद्रोह ही प्रथम स्वतंत्रता संग्राम है। हालांकि 1857 का सिपाही विद्रोह किताबों में यथावत रहेगा। लेकिन देश के लोगों को आजादी का असली इतिहास भी बताना जरूरी है।‘ 1831-32 को झारखंड के छोटा नागपुर क्षेत्र में चला आदिवासियों का ‘कोल आंदोलन‘ भी अंग्रेजों के विरुद्ध था। 1789 से ही फिरंगियों के विरुद्ध मुंडा आदिवासियों ने विद्रोह की चिंगारी सुलगा दी थी, जो 1820 तक सुलगती रही थी। वैसे भी यदि घाटनाएं और तथ्य प्रामाणिक हैं तो ऐसे पृष्ठों को इतिहास का हिस्सा बनाना चाहिए, जो बेहद अहम् होते हुए भी हाशिए पर हैं।

आदिवासियों की जब भी चर्चा होती है तो अकसर हम ऐसे कल्पना लोक में पहुंच जाते हैं, जो हमारे लिए अपरिचित व विस्मयकारी होता है। इस संयोग के चलते ही उनके प्रति यह धारणा बना ली गई है कि वे एक तो केवल प्रकृति प्रेमी हैं, दूसरे वे आधुनिक सभ्यता और संस्कृति से अछूते हैं। इसी वजह से उनके उस पक्ष को तो ज्यादा उभारा गया, जो ‘घोटुल‘ और ‘रोरुंग‘ जैसे उन्मुक्त रीति-रिवाजों और दैहिक खुलेपन से जुड़े थे, लेकिन उन पक्षों को कमोबेश नजरअंदाज ही किया, जो अपनी अस्मिता के लिए आजादी के विकट संघर्ष से जुड़े थे ? भारतीय समाजशस्त्रियों और अंग्रेज साम्राज्यवादियों की लगभग यही दोहरी दृष्टि रही है। देश के इतिहासकारों ने भी उनकी स्वतंत्रता आंदोलन से जुड़ी लड़ाई को गंभीरता से नहीं लिया। नतीजतन उनके जीवन, संस्कृति और सामाजिक संसार को ‘ोष समाज से जुदा रखने के उपाय अंग्रेजों ने किए और उन्हें मानवशस्त्रियों के अध्ययन की वस्तु बना दिया। दूसरी तरफ अंग्रेजों ने सुनियोजित ढंग से आदिवासी क्षेत्रों में मिश्नरियों को न केवल उनमें जागरूकता लाने का अवसर दिया, बल्कि इसी बहाने उनके पारंपरिक धर्म में हस्तक्षेप करने की छूट भी दी। एक तरह से आदिवासी इलाकों को ‘वर्जित क्षेत्र‘ बना देने की भूमिका रच दी गई। इस हेतु बहाना यह बनाया गया कि ऐसा करने से उनकी लोक-संस्कृति और परंपराएं सुरक्षित रहेंगी।

ये उपाय तब किए गए, जब अंग्रेजी हुकूमत को चुनौती देने के लिए पहला आंदोलन 1817 में ओडिशा के कंध आदिवासियों ने किया। दरअसल 1803 में ईस्ट इंडिया कंपनी ने मराठाओं को पराजित कर ओडिशा को अपने आधिपत्य में ले लिया था। सत्ता हथियाने के बाद अंग्रेजों ने खुर्दा के तत्कालीन राजा मुकुंद देव द्वितीय से पुरी के विश्व विख्यात जगन्नाथ मंदिर की प्रबंधन व्यवस्था छीन ली। मुकुंद देव इस समय अवस्यक थे, इसलिए राज्य संचालन की बागडोर उनके प्रमुख सलाहकार व मंत्री जयी राजगुरू संभाल रहे थे। राजगुरू जहां एकाएक सत्ता हथियाने को लेकर विचलित थे, वहीं मंदिर का प्रबंधन छीन लेने से उनकी धार्मिक भावना भी आहत हुई। नतीजतन उन्होंने आत्मनिर्णय लेते हुए अंग्रेजों के विरुद्ध जंग छेड़ दी। किंतु कंपनी की कुटिल फौज ने राजगुरु को हिरासत में ले लिया और अंग्रेजों के विरुद्ध विद्रोह के आरोप में बीच चौराहे पर फांसी पर चढ़ा दिया। इस निर्लज्ज प्रदर्शन को अंग्रेज यह मानकर चल रहे थे कि जिस बेरहमी से राजगुरु को फांसी के फंदे पर लटकाया गया है, उससे भयभीत होकर ओडिशा की जनता घरों में दुबक जाएगी और भविष्य में बगावत नहीं करेगी। लेकिन हुआ इसके उलट। निर्दोष राजभक्त राजगुरु की फांसी के बाद जनता का लहू उबल पड़ा। लोग आक्रोशित हो उठे। परिणामस्वरूप जगह-जगह अंग्रेजों पर हमले ‘शुरू हो गए। ये विद्रोही खुर्दा के पाइक आदिवासी थे।

पाइक मूल रूप से खुर्दा के राजा के ऐसे खेतिहर सैनिक थे, जो युद्ध के समय शत्रुओं से लड़ते थे और शांति के समय राज्य में कानून व्यवस्था बनाए रखने का काम करते थे। इस कार्य के बदले में उन्हें निशुल्क जागीरें मिली हुई थीं। इन जागीरों से राज्य कर वसूली नहीं करता था। ‘शक्ति-बल से सत्ता हथियाने के बाद अंग्रेजों ने इन जागीरों को समाप्त कर दिया। यही नहीं कंपनी ने किसानों पर लगान कई गुना बढ़ा दी। जो लगान पहले फसल उत्पादन के अनुपात में एक हिस्से के रूप में ली जाती थी, उसे भूमि के रक्बे के हिसाब से वसूला जाने लगा। जिस कौड़ी का मुद्रा के रूप में प्रचलन था, उसकी जगह रौप्य सिक्कों को प्रचलन में ला दिया। जो लोग खेती से इतर नमक बनाने का काम करते थे, उसके निर्माण पर रोक लगा दी। इतनी बेरहमी बरतने के बावजूद भी न तो अंग्रेजों की दुष्टता थमी और न ही पाइकों का विद्रोह थमा। लिहाजा 1814 में अंग्रेजों ने पाइकों के सरदार बख्शी जगबंधु विद्याधर महापात्र, जो मुकुंद देव द्वितीय के सेनापति थे, उनकी जागीर छीन ली और उन्हें पाई-पाई के लिए मोहताज कर दिया।

अंग्रेजों के ये ऐसे जुर्म थे, जिनके विरुद्ध जनता का गुस्सा भड़कना स्वाभाविक था। फलस्वरूप बख्शी जगबंधु के नेतृत्व में पाइकों ने युद्ध का ‘शंखनाद कर दिया। देखते-देखते इस संग्राम में खुर्दा के अलावा पुरी, बाणपुर, पीपली, कटक, कनिका, कुजंग और केउझर के विद्रोही ‘शामिल हो गए। यह संग्राम कालांतर में और व्यापक हो गया। 1817 में अंग्रेजों के निरंतर अत्याचारों के चलते घुमुसर (कंधमाल) और बाणपुर के कंध संप्रदाय के आदिवासी समूह बख्शी जगबंधु द्वारा छेड़े गए संग्राम का हिस्सा बन गए। इन समूहों ने संयुक्त रणनीति बनाकर एकाएक अंग्रेजों पर आक्रामण कर दिया। तीर-कमानों, तलवारों और लाठी-भालों से किया यह हमला इतना तेज और व्यापक था कि करीब एक सौ अंग्रेज मारे गए। जो शेष बचे वे शिविरों से दुम दबाकर भाग निकले। एक तरह से समूचा खुर्दा कंपनी के सैनिकों से खाली हो गया। जनता ने अंग्रेजी खजाने को लूट लिया। खुर्दा स्थित कंपनी के प्रशासनिक कार्यालय पर कब्जा कर लिया। इसके बाद इन स्वतंत्रता सेनानियों को जहां-जहां भी अंग्रेजों के छिपे होने की मुखबिरों से सूचना मिली, इन्होंने वहां-वहां पहुंचकर अंग्रेजों को पकड़ा और मौत के घाट उतार दिया।

किंतु अंग्रेज आसानी से हार मानने वाले नहीं थे। उन्होंने अंग्रेज सैनिकों के नेतृत्व में देशी सामंतों की सेना को एकत्रित किया और पाइक स्वतंत्रता सेनानियों पर तोप व बंदूकों से हमला बोल दिया। इस तरह के घातक हथियार पाइकों के पास नहीं थे। गोया, दूर से विरोधियों को हताहत करने का जो तरीका अंग्रेजों ने अपनाया, उसके सामने विद्रोहियों के पराजित होने का सिलसिला ‘शुरू हो गया। अंग्रेजों ने जिस सेनानी को भी जीवित पकड़ा उसे या तो फांसी दे दी अथवा तोप के मुहाने पर बांधकर उड़ा दिया। इस संग्राम के नायक बख्शी जगबंधु को गिरफ्तार कर लिया गया। उन्हें कटक के बरावटी किले में बंदी बनाकर रखा गया। जहां 1821 में उनकी संदिग्ध परिस्थिति में मृत्यु हो गई। तत्पश्चात भी 1817 में ‘शुरू हुआ यह स्वतंत्रता संग्राम 1827 तक रुक-रुक कर छापामार हमलों के रूप में सामने आता रहा। निसंदेह पूर्वी भारत में उपजा यह विद्रोह अंग्रेजों के विरुद्ध लड़ा गया पहला बड़ा संग्राम था। यह 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के ठीक 40 साल पहले हुआ था। इस लिहाज से इसे प्रथम स्वतंत्रता संग्राम की श्रेणी में रखना इस आंदोलन के सेनानियों का सम्मान है। लेकिन यह स्थिति तब और बेहतर होगी, जब 1857 के पहले अन्य स्वतंत्रता आंदोलनों को भी इसमें ‘शामिल कर लिया जाए।

पाइक विद्रोह के समतुल्य ही अंग्रेजों से 1817 में भील आदिवासियों का संघर्ष छिड़ा था। फिरंगी हुकूमत के अस्तित्व में आने से पहले ही भीलों का राजपूत ‘शासकों से झगड़ा बना रहता था। ज्यादातर भील पहाड़ी और मैदानी क्षेत्रों के रहवासी थे। खेती-किसानी करके अपनी आजीविका चलाते थे। राजपूतों की राज्य व भूमि विस्तार की लिप्सा ने इन्हें उपजाऊ कृषि भू-खंडों से खदेड़ना ‘शुरू कर दिया। भीलों को पहाड़ों और बियावान जंगलों में विस्थापित होना पड़ा। हालांकि वे चरित्र से स्वाभिमानी और लड़ाके थे, इसलिए राजपूतों पर रह-रहकर हमला बोल कर अपने असंतोष के ताप को ठंडा करते रहे।

भारत में जब अंग्रेज आए तो ज्यादातर सामंत उनके आगे नतमस्तक हो गए। नतीजतन अंग्रेज राजपूत सामंतों के सरंक्षक हो गए। गोया, भीलों ने जब संगठित रूप में खानदेश के सामंतों पर आक्रमण किया तो अंग्रेजों ने राजपूतों की सेना के साथ भीलों से युद्ध कर उन्हें खदेड़ दिया। बाद में यही संघर्ष ‘भील बनाम अंग्रेज‘ संघर्ष में बदल गया। इसलिए इसे ‘खानदेश विद्रोह‘ का नाम दिया गया। इस विद्रोह से प्रेरित होकर भीलों का विद्रोह व्यापक होता चला गया। 1825 में इसने सतारा की सीमाएं लांघ लीं और 1831 तक मध्यप्रदेश के वनांचल झाबुआ क्षेत्र में फैलता हुआ मालवा तक आ गया। इसी समय झारखंड के छोटा नागपुर और संस्थाल परगना क्षेत्र में पहली बार कई आदिवासी समुदाय एक साथ अपने हक की लड़ाई में अंग्रेजों के सामने आ गए है। इसमें जंगल और कृषि भूमि के स्वामित्व के अधिकार की लड़ाई ‘शामिल थी। दरअसल अंग्रेजों ने जबरदस्ती नील की खेती ‘ाुरू कर दी थी, जिसका उपयोग आदिवासियों के लिए नहीं था। इस लड़ाई में 10,000 से ज्यादा आदिवासी तीर-कमान हंसिया, कुल्हाड़ी और लाठियों से लड़े। अंततः वह अंग्रजों के आगे टिक नहीं पाए और 80 प्रतिशत से ज्यादा लोग मातृभूमि के लिए शहीद हो गए। अंततः 1846 में अंगेज इस भील आंदोलन को नियंत्रित करने में सफल हुए, तत्पशचात 1857 का प्रथम स्वतंत्रता संग्राम हुआ। लिहाजा 1817 में पाइक विद्रोह के समानांतर जितने भी 1857 के पहले तक अंग्रेजों के विरुद्ध संघर्ष हुए हैं, वे आजादी की लड़ाई के अनछुए पहलू हैं, उन्हें समग्रता से प्रस्तुत करने की जरूरत है।

--


प्रमोद भार्गव

लेखक@पत्रकार

शब्दार्थ 49,श्रीराम कॉलोनी

शिवपुरी (म.प्र.)


लेखक,वरिष्ठ साहित्यकार और पत्रकार हैं।

1 टिप्पणियाँ

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में " गुरुवार 15 अगस्त 2019 को साझा की गई है......... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.