नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

ख़ुदा है, कहाँ ? लेखक - शाइर जस राज जोशी ‘लतीफ़ नागौरी’

clip_image002


रशीद मियां बिना तर्क किये किसी विचार पर एक मत नहीं होते, वे हमेशा हर विषय के मुद्दे पर बहस करके बाल की ख़ाल खींचा करते थे ! इस कारण मोहल्ले का कोई मुरीद उनसे किसी बात पर उलझता नहीं ! एक बार ऐसा हुआ, सबाह-सबाह उनकी मुलाक़ात हो गयी मियाँ अल्लानूर से ! मियां अल्लानूर अभी-अभी मस्जिद से वहीदुद्दीन साहब की तक़रीर सुनकर ही आये थे ! और, तभी जनाब रशीद मियां ने उनको आवाज़ दे डाली “अरे ओ मियां अल्लानूर ! कहां से आ रिया हो, मियां ?”

“ज़रा मस्ज़िद से वहीदुद्दीन साहब की तकरीर सुनकर आ रिया हूँ, मियां !” पास आकर सकुचाते हुए मियां अल्लानूर ने कहा !

“यानी ख़ुदा के घर..? अरे मियां, खुदा है कहाँ ? साफ़-साफ़ कहो ना, पनवाड़ी की दूकान से पान खाकर आ रिया हूँ ?” मज़हाक़ उड़ाते हुए, रशीद मियां बोल उठे !

एक तो उनको ख़ुदा पर अटूट भरोसा, और दूसरी बात अभी-अभी वहीदुद्दीन साहब की तक़रीर जो उनके दिमाग में छायी हुई थी ! बरबस मियां अल्लानूर बोल उठे “मियाँ ! ज़बान संभालकर बात कीजिये, ख़ुदा को वही इंसान समझ सकता है, जो उसके नूर को पहचानता है ! समझे, मियां रशीद ?”

तभी न जाने कहाँ से रशीद मियां के लख्ते जिगर वहीद मियां वहां आ पहुंचे, वहीद मियाँ काफ़ी घबराए हुए थे, अब्बा हुज़ूर को वहां खड़े पाकर वे निकट आये ! और, कह उठे “अब्बा हुज़ूर ! जल्दी से मुझे पांच हज़ार रुपये दीजिये, अस्पताल में भर्ती अम्मी जान का ऑपरेशन होना है....डॉक्टर ने क़रीब पांच हज़ार रुपयों की दवाइयां मंगवाई है, जल्दी कीजिये अब्बू !” अब ना तो मियां रशीद की ज़ेब में इतने रुपये, और न वे बैंक जाकर खाते से पैसे निकलवा सकते थे..क्योंकि आज़ का दिन ठहरा इतवार ! फिर क्या ? बेचारे रशीद मियां का मायूस चेहरा भांपकर, रहमदिल मियाँ अल्लानूर ने अपनी जेब से पांच हज़ार रुपये निकाले और उनकी हथेली पर रुपये रखकर बोल उठे “जल्दी करो, रशीद मियाँ ! तुरंत अस्पताल पहुँचो, दवाइयां लेकर !” अब घबराये हुए मियाँ रशीद की फिक्र काफ़ूर हो गयी, और वे कहने लगे “मियाँ अल्लानूर ! तुम तो मियां, आज़ ख़ुदा के रूप में यहाँ आये और आपने मेरी मदद की !”

“अब तो मियां रशीद, आप समझ गए ना..? ख़ुदा अपने हर बन्दे की तक़लीफ़ों में उसकी मदद करता है ! यानी, इस ख़िलक़त में ख़ुदा ज़रूर है, और वह तक़लीफ़ों में अपने बन्दों मदद करता है ! अब तो मियां, आप मान गए ना, ख़ुदा ज़रूर है ? अब यह कभी मत कहना कि, ख़ुदा है, कहाँ ?

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.