हवाएँ करती हैं बातें - कविताएँ - नीरजा हेमेन्द्र

SHARE:

नीरजा हेमेन्द्र स्थान- पडरौना, कुशीनगर ( उ0 प्र0 ) शिक्षा- एम.ए.( हिन्दी साहित्य ), बी.एड.। संप्रति- शिक्षिका ( लखनऊ उ0 प्र0 ) अभिरूचियां-पठ...


नीरजा हेमेन्द्र


स्थान- पडरौना, कुशीनगर ( उ0 प्र0 )

शिक्षा- एम.ए.( हिन्दी साहित्य ), बी.एड.।

संप्रति- शिक्षिका ( लखनऊ उ0 प्र0 )

अभिरूचियां-पठन-पाठन, लेखन, अभिनय, रंगमंच, पेन्टिंग, एवं सामाजिक गतिविधियों में रूचि।

प्रकाशन-

कहानी संग्रह-

1- ' अमलतास के फूल '

2- ' जी हाँ, मैं लेखिका हूँ '

3- ' पत्तों पर ठहरी ओस की बूँदें ( प्रेम कहानियाँ )।

4-'....और एक दिन '।

5- माटी में उगते शब्द ( ग्रामीण परिवेश की कहानियाँ )

उपन्यास-

1- ' अपने-अपने इन्द्रधनुष '।

2- ' उन्हीं रास्तों पर गुज़ते हुए '।

कविता संग्रह -

1- ' मेघ, मानसून और मन '

2- ' ढूँढ कर लाओ ज़िन्दगी '

3- ' बारिश और भूमि ' ।

4- 'स्वप्न '

सम्मान -- उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान का विजयदेव नारायण साही नामित पुरस्कार तथा शिंगलू स्मृति सम्मान। फणीश्वरनाथ रेणु स्मृति सम्मान। कमलेश्वर कथा सम्मान। लोकमत पुरस्कार।

हिन्दी की अति प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं कथांिबंब, वार्गथ, इन्द्रप्रस्थ भारती, जनसत्ता, पाखी, कथा समय, युद्धरत आम आदमी, अक्सर, मुक्ताचंल, अभिनव इमरोज, अमर उजाला, कादम्बिनी, आजकल, छत्तीसगढ़ मित्र, सोच विचार, किस्सा कोताह, नेशनल दुनिया, अक्षर-पर्व, किस्सा, दोआबा, हस्तक्षेप, बारोह, पुष्पगंधा, जनपथ,

नव निकष, माटी, सृजनलोक, प्राची, उत्तर प्रदेश, हरिगंधा, हाशिये की आवाज़, लहक, हमारा भारत, जनहित इण्डिया, समकालीन अभिव्यक्ति, अंग चम्पा, पुरवाई, अपरिहार्य, सुसंभाव्य, राष्ट्रीय सहारा, रचना उत्सव, आकंठ, उजाला, सृजन सरिता, जनसंदेश टाइम्स लखनऊ, डेली न्यूज ऐक्टिविस्ट लखनऊ, साहित्य दर्पण, बाल वाणी, अपरिहार्य, ककसाड़, शब्द सरिता, प्रगति, रेल रश्मि, इत्यादि में कवितायें, कहानियाँ, बाल सुलभ रचनायें एवं सम सामयिक विषयों पर लेख प्रकाशित। रचनायें आकाशवाणी व दूरदर्शन से भी प्रसारित।


न्यू हैदराबाद, लखनऊ -07

उत्तर प्रदेश


'' तुम''

तुम्हारी स्मृतियाँ

इन स्याह रातों के

अन्धकार को तोड़ती

आसमान में दीप्त

सुनहरे तारे -सी

तपती भूमि पर

बारिश की प्रथम फुहार-सी

साँझ के आसमानी क्षितिज से

तुम्हारी स्मृतियाँ उतर आती हैं

इन्द्रधनुष-सी

जीवन में मोड़-दर-मोड़

तुम मिलते रहे

प्रेम निवेदन से भरे

तुम्हारे नेत्र

मुझे कराते अधूरेपन का एहसास

तुम विलीन हो जाते

पत्तों पर ठहरी हवाओं में

टेसू के फूलों में

समन्दर में बनतीं लहरों में

मैं तुम्हें पा लेती

सर्वत्र........। नीरजा हेमेन्द्र

''कदाचित्''

आओगे तुम

एक दिन/ मैं जानती हूँ

चलेंगी आँधियाँ

बरसेगी आग चहुँ ओर

तुम आओगे/ पूर्व की भाँति

तुम्हारे नेत्रों से निकलने वाले

प्रकाश पुँज से

पिघलेगी बर्फ

जो सर्द कठोर हो कर

ऊँचे पहाड़ों पर

सदियों से जमीं है

श्वेत, रंग-हीन

निर्जीव, संवेदना-शून्य-सी

जहाँ नही जातीं मानवीय भावनायें

कठोर, सफेद चादर हटेगी एक दिन

कल-कल करती नदी के जल-सा

निर्मल/ तुम्हारा अक्स

शिशु की भाँति कोमल/तुम्हारे हाथ

तोड़ेंगे पहाड़ों पर जमीं बर्फ

आओगे तुम एक दिन

मैं जानती हूँ।

नीरजा हेमेन्द्र

''स्थिति-बोध''

फागुन माह प्ररम्भ होते ही

दादी कहती थी-ओ बेटवा, खेत में चला जा

सीजन आवे का है

फसल कटाई का

मुझे नही भाते थे दूर-दूर तक विस्तृत

हरे-भरे खेत, खलिहानों पर खड़े बैल और बैलगाड़ियाँ

मैं भाग जाता था हरी पगड़ड़ियों पर

देखता था माँ को जो

कच्चे-पक्के बड़े से घर के दालान को

जो घर से भी बड़ा था

झाड़ती हुई, मुझे देखती रहती भावशून्य आँखों से

दादी की धीरे-धीरे दूर होती आवाज

माँ की शब्दहीन आँखें, मनुहार पूर्ण घूरना

मुझे याद आते हैं अब

शहर के एक कमरे के/सरकारी मकान में

शहर में सब कुछ है

सड़कें, भीड़, कोलाहल, असंख्य मकान, वाहन अकेलापन

सब कुछ

इन सबमें अन्तर्हित होता हुआ मैं

ऊर्णनाभि की भाँति।

'' मेरे शब्द''

पतझड़ के पीत- पत्र

गिरतें हैं धरा पर हृदय को बेध देता है

कंटक/ लाल गुलाबों से भरे पौधे से निकल कर।

मैं तुम्हारे समीप आतीं हूँ

जब एक कृशकाय व़़ृद्ध

करता है प्रयत्न निद्रा मग्न होने का

अन्नहीन पेट पर बाँध कर गीले अंगोछे को

मैं तुम्हारे ही समीप आती हूँ

खाली बर्तनों में ढूँढते हुए

रोटी के टुकड़े

जब एक बच्चा रोता है

मैं असहाय- सी हो कर आती हूँ

तुम्हारे अत्यन्त समीप

नारी की देह पर जब होता है

कलुषित प्रहार से

चित्कार उठती है उसकी पवित्र आत्मा

हृदय तुम्हे छूने लगता है

संवेदनायें करतीं हैं तुम्हारा स्पर्श

ओ मेरे शब्द !

तुम बन जाते हो मेरा प्रेम, मेरी पीड़ा

तुम उतर आते हो मेरी मेरी कविताओं में, मेरे गीतों में

तुम्हारे अत्यन्त समीप आ जाती हूँ मैं

ओ मेरे शब्द !

तुम एकाकार हो जाते हो मुझमें

बहने लगते हो

लहू बन कर हो मेरी रगों में।

नीरजा हेमेन्द्र

''हवायें करती हैं बातें''

हवायें करती हैं बातें

शीत की, तपिश की

उन आँधियों की

जिनसे होते हैं धूल धूसरित

कुछेक तिनकों से बने मकां

हवायें करतीं हैं बातें

वृक्षों से, पत्तों से/ ग्रामीण बाला की

जिसका हरा आँचल

उड़ता है सरसों के खेतों में

जो दौड़ती है अबाध पगडंडियों पर

वसंत ऋतु में

हवायें करतीं हैं बातें

रंगीन पंखों वाली फ़ाख्ता से

पतझड़ में गिरते सूखे पत्तों की

छत पर एकान्त में बैठी गौरैया की

हवायें करतीं हैं बातें

नदियों से / बनती-टूटती लहरों की

सुनहरी मछलियों की, रेतीले तट की

मछुआरे के जाल की।

'' अपरिहार्य''

शहर-दर- शहर

भटकता इन्सान

कर ही लेता है

दो जून की रोटी का जुगाड़

कर लेता है एक छत का इन्तज़ाम

सड़क-दर सड़क

शहर-दर-शहर

भागते-भागते/ वह छुप जाता है

उस छत के नीचे

खा कर दो निवाले रोटी के

दूसरे दिन वह अपनी

संवेदनायें/या कि

मानवीय भावनायें

उस छत के नीचे छुपा कर

निकल पड़ता है

सड़क-दर सड़क

वह नहीं देखना चाहता

पुल के नाचे बैठी

जर्जर, कंकाल शरीर

धूसर, मिट्टी जैसी/निस्तेज

नेत्रों वाली व़ृद्धा को

वह नहीं देखना चाहता

सड़क के किनारे पड़े

मृत, लावारिस मानव शरीर को

भीड़ से निर्मित शहर में

अस्तित्वहीन

उसका शहर-दर-शहर

सड़क-दर-सड़क

भटकना/ अपरिहार्य है।

''नदी की यात्रा''

कोहरे को चीर कर

दृष्टिगत् होते

उबड़-खाबड़/पथरीले

ये चिर परिचित पथ

स्नेह-रिक्त पाषाण/निष्ठुर

रौंदती है

सरस्वती, अब सुरसतिया नहीं रही

लहराती पताकाओं, बैनरों के

छद्म शब्द

शब्दों के अर्थ, बुने जाल

वह भाँप लेती है

सिहरती है, लरजती है

दृढ़ निश्चय

मार्ग से न डिगने का

सरस्वती होती सुरसतिया

पहाड़ी नदी-सी

मार्ग में आये पत्थरों को

लुढ़काती बहाती

नये मार्ग का सृजन

निरन्तरता.......अबाध........

ये यात्रा है पहाड़ी नदी की

अन्तहीन

ध्वनि कल......कल.......कल........।

'' उस गाँव में ''

बारिश की रिमझिम

चारों तरफ फैली हरियाली

सृष्टि का अद्भुत, नैसर्गिक सौंदर्य

वह छोटा-सा गाँव

गाँव के मध्य लहराता पीपल का पेड़

छोटा-सा मन्दिर

पोखर में उड़ते दूधिया बगुले

स्वतः खिल उठीं

असंख्य जल कुंभियाँ

बावजूद इसके

ग्रामीण स्त्रियों की पीड़ायें

अदृश्य हैं

उनका घर वाला

शहर गया है

मजूरी करने

आएगा महीनों बाद

किसी पर्व पर

लायेगा कुछ पैसे

कुछ खुशियाँ/कुछ रोटियाँ

जायेगा पुनः मजूरी करने

ऋतुएँ आयेंगी-जाएँगी

शहर से लोग आयेंगे

गाँव के प्राकृतिक सौन्दर्य का,

ऋतुओं का आनन्द लेने

गाँव की नारी

बारिश में स्वतः उग आयी

मखमली हरी घास

गर्मियों में खिल उठे

पलाश, अमलतास/पोखर ,जलकुंभियाँ

आम के बौर/कोयल की कूक

इन सबसे अनभिज्ञ

प्रतीक्षा करेगी

किसी पर्व के आने का।

नीरजा हेमेन्द्र

''कविता और गुलाबी साँझ''

तुम कहते हो, मैं

अपनी कविताओं में दुःख, चिन्ता,

बेरोजगारी, विद्रोह,अविश्वास़ को

उतारती हूँ

तुमने मेरी कविताओं में

एक खुशनुमा मौसम की

तलाश की, वो

तुम्हें

नहीं मिला

तुमने मेरी कविताओं में

उस साँझ को ढूँढने का प्रयत्न किया

जो अपने अन्तिम क्षणों में

असंख्य किरणों से क्षितिज को

गुलाबी कर देती है,

तुम असफल रहे

तुमने मेरी कविताओं में

चाँद, हवा, झील, चिड़ियाँ

तलाशने की कोशिश की

तुम्हें ये सब भी नहीं मिला

इस तंग, अँधेरी दुनिया में

जहाँ मैं रहती हूँ

वहाँ कुछ भी नहीं है

जो नहीं है

वो मैं कहाँ से लाऊँ!

कहाँ से लाऊँ?

नीरजा हेमेन्द्र

''रूपहली शाम''

सुबह फिर धूप निकलेगी

गुलमोहर के फूल फिर वहाँ

खिल जायेंगे

जहाँ, मैं और तुम मिलेंगे

पंक्षी शाम को लौटेंगे

नीड़ में

तुम भी आ जाओगे

मुझे अपने आगोश में

छुपा लेने के लिये

लेकिन तुम नहीं जानते

मैं सुबह की रोशनी से

कितनी भयभीत रहने लगी हूँ

हर सवेरा मुझे

कमजोर बना देता है

मेरे अन्दर

अविश्वास भर जाता है

ये अविश्वास मेरे प्रति है

या तुम्हारे

ये मैं नहीं जानती

मैं सुबह होने के साथ

शाम की प्रतीक्षा करने लगती हूँ

जब तुम एक रूपहली शाम को

लौटोगे।

''साँझ के साए और वह''

दिन-रात, वर्ष-माह

युग व्यतीत हुए

उपले, कंडे, गाय-बछड़े

खेत, बैल, बीज

आज भी वह कर रही है

पूर्ववत् सब कुछ

प्रातः से सायं

वह खटती है

माथे पर छलक आये श्वेद कणों को

आँचल से थपथपा कर

पोंछती ह

करती है दुला

अपनी थकान से

परिश्रम से

घास व जंगली पौधों से

ओस की बूँदो से

मिट्टी की सोंधी महक से

भूख से अभावों से

बाद बारिश के स्वतः उग आयी

असंख्य पुष्पित बिरवों से

वृक्षों को ढँकती लताओं से

वह रहना चाहती है तृप्त-संतृप्त

वृक्षों को अंक में भरती लताओं-सी

साँझ उतरती है धीरे......... धीरे........धीरे......

वृक्षों से चलती हुई

खपरैल से उतर कर

खेतों में पसर जाती है

वह विस्फारित नेत्रों से देखती है

गहराती साँझ को

वह जानती है

इस ढलती बेला में

उसके हिस्से हैं

कुछ अपशब्द, कुछ चोटें

बहुत सारे टुकड़े मानवता के,

संवेदनाओं के,

नारी सुलभ सम्मान के

वह काँप जाती है

अपनी देह पर होने वाले

आदिम भूख के प्रहार की कल्पना मात्र से

उसे सब कुछ सहज स्वीकार्य है

वह अस्वीकृत करती है

अपनी अल्हड़ युवा उम्र को,

साँवली देह को,

सुरमई नेत्रों में भरी चाँदनी को

हृदय के तलघर में छुपे

नेह-बन्ध को

वह विलीन होती जा रही है

साँझ के साए में।

नीरजा हेमेन्द्र

''प्रकृति और तुम''

अब हो रही हैं /ऋतुएँ परिवर्तित

शनैः..........शनैः..........शनैः........

परिवर्तन सृष्टि का विधान है

शाश्वत् है, अटल है, अभेद्य है

प्रकृति और पुरूष भी आबद्ध हैं

प्रकृति के नियमों से

प्रकृति पुरूष की सहचरी है,

सहभागी है, अर्द्ध अस्तित्व है

करता है वह प्रकृति को

आहत्/मर्माहत्

प्रकृति नहीं करती उसका प्रतिकार

प्रतिवाद या कि विद्रोह

नदी का रूप धर

बहती चली जाती है

सागर के समीप

नैसर्गिक आकर्षण में आबद्ध

अपने हृदय में रखती है

विश्व द्वारा प्रक्षेपित कलुषताएँ

छोटी लताओं का रूप धर

वृक्षों के इर्द-गिर्द उग आती है

सहचरी -सी

वह उसकी ओर होती है

वृक्ष अपनी वृहदता पर

करता है मिथ्या अभिमान

होता है गर्वित

लताएँ वृक्ष से अपना शाश्वत् मोह

छोड़ नहीं पातीं

एक दिन वह वृक्ष को ढ़ँक लेती हैं

वृक्ष लताओं के अस्तित्व में

हो जाता है समाहित

वहाँ वृक्ष नहीं /दृष्टिगोचर होतीं हैं

सिर्फ लताएँ

प्रकृति ने अपने समर्पण से

प्रमाणित किया है कि प्रकृति

पुरूष के मिथ्या अभिमान को

तिरोहित करती थी/ तिरोहित करती है

तिरोहित करती रहेगी

वह सर्वोपरि थी/ सर्वोपरि है

सर्वोपरि रहेगी।

''नीरजा हेमेन्द्र''

''संशय''

शहर की युवती को देख कर

उठतें हैं उसके मन में प्रश्न अनेक

वह सोचती है इनका जीवन

कितना सुखमय होगा

इन्हें नहीं करना पड़ता होगा

अत्यधिक परिश्रम

नहीं पड़ती होगी

ससुराल में मार,डाँट-फटकार

वह तो स्त्री है गाँव की

जाती है खेतों में

बोती है बीज/थापती है उपले

शरद्, बारिश, वसंत में

गाती है ऋतु गीत

जल भरे खेतों में/मखमली धानों को रोपते हुए

करती है ठिठोली सखियों संग

साँझ ढ़ले आती है खेतों से घर

सोंधी मिट्टी के दालान में बैठ कर

पकाती है रोटियाँ

दुलारती है द्वार पर बँधे /गााय और बछड़े

पोंछती है आँचल के छोर से पसीना

आत्मसंतुष्टि की दो रोटियाँ खा कर

खुली छत पर सोती है पुरवाई बयार में

शहर की युवती को देखकर

उठतें है उसके मन में प्रश्न अनेक

वह अनभिज्ञ है

शहर की स्त्री की दिनचर्या से

जो घर व कार्यालय, बच्चों व बाजार

बिजली व फोन के बिल

भरती हुई आती है घर

थककर सो जाती है

न बारिश, न ऋतुएँ

नहीं करती वह कुछ भी आत्मसात्

यन्त्रवत् जीवन चक्र में कटतें हैं दिन-रात

उसने नहीं देखा होगा

साँझ ढ़ले वृक्षों में समाते

तोतों के झुंड/पक्षियों के कलरव

साँझ का विस्तृत सुनहरा क्षितिज

बाँसों के झुरमुट में टँगा/पूर्णिमा का चाँद

चाँद से बातें करती गौरैया।

शहर की स्त्री को देख

उठते हैं उसके मन में प्रश्न अनेक।

नीरजा हेमेन्द्र

'' प्रकृति और मैं''

कर के जगती को धन्य तृप्त

आनन्द, हर्ष, नवगति, नव-सृष्टि,

धुल गयी धरा, धुल गये वृक्ष

सावन भी जाने को है,

ओ प्रवासी कब आओगे?

भाने लगे विहग के कलरव

अमलतास फूलों से भर गये,

प्रकृति ने कर लिया, नव श्रृंगार अब

दिन धूप भरे जाने को हैं,

ओ प्रवासी कब आओगे?

बंजर खेत भी हुए हरे

ताल-तलैया भर गयी है,

ओस बूँद की गयी मुझसे

पावस अब आने को है,

ओ प्रवासी कब आओगे?

दिवस आ गये अब पर्वों के

रातों में जुगनू उड़ते हैं,

झर-झर गिरती रजनीगंधा

झोंके पुरवा के यूँ बहते हैं,

निशा छुप गयी है पलकों में

अब प्रातः आने को है,

ओ प्रवासी कब आओगे?

नीरजा हेमेन्द्र

''अधूरेपन का पूर्ण समर्पण''

तुम तब भी थे

जब मैं अग्रसर होती रही

अनजाने-अनचिन्हे रास्तों पर

तुम मेरे अस्तित्व में समाहित थे

श्वाँस की भाँति

मैं तुमसे मिलती रही

कभी सुखद पलों में

कभी शाम के धुँध में विलीन होते

एकान्त क्षणों में

मेरे डगमगाते पगों को

तुमने किया सबल

मेरी कल्पनाओं ने गढ़ा था

तुम्हारा रूप

तुम्हें किया था प्रेम और समर्पण से

परिपूर्ण

तुम्हें क्यों नहीं पा सकी मैं

किसी अहन्ता में

क्यों नहीं समाहित हो सके तुम

मेरी कल्पनाओं से उतर कर

कहीं भी

मेरे नेत्र आज भी तलाश रहे हैं तुम्हें

मैं पाना चाहती हूँ तुम्हें

अपने अधूरेपन के पूर्ण

समर्पण के साथ।

''खण्डहर'' 1

अट्टालिकायें

बड़ी हवेलियाँ

रहते हैं जीवन्त

खण्डहर होने से पूर्व

कदाचित्/इनमें पला होगा जीवन

विकसित हुई होंगी सभ्यताएँ

जालीदार झरोंखों से बही होगी

वासन्ती बयार

खनकी होंगी रानियों की चूड़ियाँ

फागुनी हवा में उड़ा होगा

रानियों का आँचल

कोई राजकुमार हरी पगडंडियों से

आया होगा

घोड़े पर सवार हो कर

प्रेम पुष्प अर्पित किए होंगे

राजकुमारी की नर्म

मखमली हथेलियों पर

वीरान, सुनसान वो खण्डहर खड़े हैं

समय काल ने कर दिया है

उन्हे बेरंग

टूट-टूट कर गिरती जा रही हैं

दीवारें, मीनारें,

जालीदार झरोखे, वो अट्टालिकायें

खण्डहरों पर पड़ती

सूरज की सुनहरी किरणें

उन पर उग आयी हरी परतें

मोती सदृश्य ओस की बूँदें...........

प्रकृति के नैसर्गिक सौंन्दर्य से

सुसज्जित

ये खण्डहर लगते हैं

अद्यतन जीवन्त।

'' खण्डहर ''

2

कुछ घर बने हैं

शहर के अन्दर

कुछ खण्डहर हैं

बस्तियों के बाहर

कच्चे-पक्के खपरैल,

झोपड़ियाँ/मिट्टी की दीवारें

दरकती जा रही हैं

टूटती जा रही हैं

कर रही हैं निर्माण /खण्डहरों का

खेतों में, वीरानों में

बूढ़े हो चुके ये खण्डहर

कर रहे हैं भयक्रान्त

नव निर्माण को

आने वाली पीढ़ियाँ /हैं भयभीत

स्तब्ध नेत्रों से देखती हैं

खण्डहरों पर उग आयीं/समय की परतें

नही कर पातीं वे

उन्हे स्पर्श।

खण्डहर-3

खण्डहर होते हैं जीवन्त

करते हैं बातें

उनमें होते हैं विविध रंग

उन पर उग आयी घास

जमी हुई हरी परतें

कहतीं हैं व्यथायें

उनमें होतीं हैं प्रेम कथायें

खण्डहर होते हैं सजीव

मुस्कराते हैं, सिसकते हैं

वे होते जाते हैं

काल दर काल युवा

सभ्यताओं के प्रहार से

होते रहते हैं

खण्ड-खण्ड/खण्डहर।

शहर इन्सानों का

इन्सानों के शहर में

भाग रहा है

इन्सान यन्त्रवत् -सा।

भागता ही जा रहा,

बेजान, पुतलों की तरह

हर तरफ आपा-धापी, भाग-दौड़

भावनाओं,संवेदनाओं से परे

इन्सानों से भरे

इस शहर में

ऋतुओं का होता है

आगमन-प्रस्थान,

प्रेम से परिपूर्ण

सिहरन भर देने वाली ऋतुएँ,

ओस भीगी दूब, चिड़ियों के कलरव से

गुँजित सुनहरी साँझ

स्पंदित नही करते

स्टेशन से बाहर

प्लास्टिक की पन्नियाँ व गिलास बीनता

पसीने से लथ-पथ

छोटा-सा लड़का/ हृदय को व्यथित नही करता ,

क्योंकि हम शहर के सृजनकर्ता हैं,

अर्वाचीन सभ्यता के अग्रदूत हैं।

नीरजा हेमेन्द्र

''दिव्य संसार''

रात है यह कैसी ?

सर्द अँधेरी !

हृदय में प्रवेश करती है/बर्फीली हवा

दम घुट रहा है

कोहरे भरी शुष्क रात में

कैसा है हमारा यह शहर

धनी-निर्धन की बदकिस्मत दीवारों से

बँटा हुआ

अपने दुधमुंहे बच्चे के साथ/दिन भर

रेलवे प्लेटफार्म पर भीख मांगने के उपरान्त

थक कर उँघती औरत

भूख, बीमारी और अभावों से/लथ-पथ

पुल के नीचे ठिठुरते हुए

भिखारियों को देख कर

झकझोर रहा है स्वाभिमान मुझे

सूखे पत्ते की भाँति, टूट रहा है हृदय

हृदय! जिसे असीम प्रेम है इस दुनिया से

जागेगा सूर्य /उड़ेलेगा प्रकाश, पूरी सृष्टि पर

मानव-सा सरल, हथेलियों-सा नर्म/सुन्दर

सद्भावनापूर्ण संसार

परिलक्षित होगा/ दिव्य संसार।

'' मैं हूँ ''

मुझे तुम न मानो बेटी

न दो मुझे माँ-सा सम्मान

बहन बने मुझे अर्सा हो गया

पत्नी का श्री स्थान

नहीं है विद्यमान अब कहीं भी

यह परिवर्तन प्रकृति में नहीं.......

बहन,पत्नी, बेटी या माँ में नहीं

तुममें आया है

मैं तो आज भी

उसी स्थान पर खड़ी हूँ

जहाँ सृजित किया था मैंने प्रथम बार

सृष्टि में व्याप्त ज़र्रे-ज़र्रे को

तुमने छीनी है मेरी अस्मिता

उतार लिया है शरीर से माँस-मज्जा तक

बना दिया है हड्डियों से निर्मित एक कंकाल

मैं हूँ तुम्हारी सृष्टा

तुम्हारी संरचना के बीज रोपित करती हूँ मैं

मुझे शक्तिहीन न समझो

संरचना के बीजों को कर सकती हूँ विनष्ट

समुच्य हूँ........समग्र हूँ..........

मात्र देह नही हूँ मैं।

'' हठी दिन ''

दिन छोटे बच्चे-सा

किलकारियाँ भरता दिन

आहिस्ता-आहिस्ता चलता

ठुमकता, मचलता

अपनी ओर आकृष्ट करता दिन

थक जाता

रूआँसा-दिखता

कभी सो जाता दिन

कभी सुन लेता

दौड़ाता कभी अपने पीछे

हठी शिशु-सा

हठ मनवाता दिन।

''साँझ की बस्तियों में ''

वे आयेंगे तुम्हारे समीप

मुट्ठियों में बन्द

तुम्हारी ऊष्मा के वशीभूत

तुम्हें मानेंगे अपना सर्वस्व

कर देंगे भ्रमित तुम्हें,

कठोर हो चुके तुम्हारे हृदय

पिघलेंगे......

पुनः पिघलेंगे

दोपहर के गर्म सूरज की भाँति

तुम आगे बढ़ते चले जाओगे

सम्पूर्ण ऊर्जा अपनी मुट्ठियों की

अर्पित कर दोगे उन्हें

वे देखेंगे तुम्हारी दी हुई ऊष्मा को

तुम्हें नहीं

तुम ऊष्मा विहीन हो चुके

हाथों को ले कर बढ़ोगे

अस्तांचल की तरफ

सूरज जा रहा है धीरे......धीरे.........धीरे.......

साँझ की बस्तियों की ओर।

''अब तक''

खेतों में, क्यारियों में, दीवारों, छतों पर,

सर्वत्र हो रहे हैं

नव गात पल्लवित

पुष्प बढ़ते-बढ़ते ले रहे हैं आकार

फलों के, सब्जियों के

सुगन्धित हवायें कर रही हैं

उनमें नव-संचरण

ओस की बूँदें कर रही हैं

नव श्रृंगार श्वेत मोतियों से

लतायें विस्तृत, पुष्पित होती जा रही हैं

पूरे मनोवेग से उनका पोषण, संरक्षण किया जा रहा है

बालिकायें पल रही हैं/ बढ़ रही हैं

मेड़ों पर उग आई बेतरतीब घास-सी

कुश की लम्बी पत्तियों-सी

वे डरी हैं, सहमी हैं...... धूल भरी आँधियों से

मौसम की भयावहता से

असुरक्षित-सी

वह ढूँढ रही हैं

संरक्षण, पोषण

बालिकायें बढ़ती जा रही हैं बेतरतीब.......।

नीरजा हेमेन्द्र

मेरा बसन्त

गई शीत ऋतु, खिल गई धूप

मोहक हुआ प्रकृति का रूप

खिल गई पीली सरसों,

नईं कोंपलें, नये हैं पत्ते

बौर आ गये हैं शाखों पर

चहक उठे हैं पंक्षी सारे

जो थे अब तक गुप-चुप।

खिल गई पीली सरसों।

हुई गुलाबी धूप सुबह की

ओस बन गये मोती

मन्द पवन जब चले भोर में

कोयल तब करती है कूक।

खिल गई पीली सरसों।

पुष्पित पल्वित हुई प्रकृति

सृष्टि सजी है दुल्हन-सी

देख-देख नव सृजन मनभावन

हृदय में उठती है हूक।

खिल गई पीली सरसों।

उत्साहित हैं सब नर-नारी

कर्म कर रहें कृषक

छाई है मादकता चहुँ ओर

देख बसन्त का सुन्दर रूप

खिल गई पीली सरसों।

आहट बसन्त की

ओ मेरे प्रिय!

एक दिन जब तुम आओगे

मेरे लिए वसन्त ले कर

हाँ! मेरा वसन्त लेकर

जब तुम्हारी साँसे मेरे शरीर के

पोर-पोर में

वासन्ती हवा की तरह

स्पर्श करती हुई

सिहरन भर देंगी

तुम्हारी आवाज मेरी कल्पनाओं में

असंख्य फूल खिला देगी

ओस की बूँदों की तरह

तुम्हारी छुअन

मुझे कँपकपाहटों से भर देंगी

ओ मेरे प्रियतम्! मैं........

मैं तुम्हारी झील के समान

गहरी आँखों में

जिनमें तार-तार अनछुई

चाँदनी भरी है

डूब जाऊँगी

और फिर सुनूँगी

वसन्त के आने की आहट।

नीरजा हेमेन्द्र

फागुन की हवाओं में

मेरे घर से निकलने वाली

सड़क अब

आम और महुए की गंध से

सराबोर होने लगी है

कोयल की कूक का अर्थ

अब मैं अच्छी तरह समझने लगी हूँ

नदी की लहरों में

श्वेत बगुले

अपनी परछाँइयों को देखते हुए

उड़ जातें हैं

फागुन की हवाओं में

रंगों के साथ तुम्हारी

स्मृतियाँ भी

घुलने लगी हैं।

नीरजा हेमेन्द्र


'' खिल गई है चम्पा ''

परबतों से आती है, मलय समीर,

चंचल मन मौसम संग उड़-उड़ जाता है।

खिल उठें ह्नदय में, पुष्प फिर चम्पा के,

अल्हड़-से दिन पुनः लौट-लौट आते हैं।

बारिश की रिमझिम में, चम्पा महकती है,

व्याकुल ह्नदय तुम्हे समीप फिर पाता है।

ऋतुएँ तो आती और जाती हैं, कदाचित्

ह्नदय में स्मृतियाँ ठहर-सी जातीं हैं।

चम्पा के पुष्पों की गन्ध-सी देह म,ें

उन्मुक्त मन देह संग सिहर-सिहर जाता है।

चम्पा खिलेगी और आओगे तुम भी,

धीरे से कानों में कोई कह जाता है।

वृक्षों पर हैं बौर हैं, पक्षियों के कलरव हैं,

खिल गई है चम्पा तुम कब आओगे।

'' चम्पा-सी देह ''

उस पथ पर मैं

पुनः/ चलने लगी ह़़ूँ ......

उन स्मृतियों में मैं

पुनः/विलीन होने लगी हूँ........

जहाँ तुम थे, मैं थी और थे

कुछ पुष्प चम्पा के

मुझे ज्ञात नहीं/ये पथ

तुम तक जाएगा या कि नहीं

किन्तु मैं चलती जा रही हूँ

कदाचित्/ तुम

मुझे मिल जाओ

पथ के अन्तिम छोर पर

मेरे साथ हैं कुछ धुँधले

युवा-से दिन

कुछ स्वच्छ स्मृतियाँ

देह में सिहरन भरती पवन

कुछ पुष्प चम्पा के

जो तुमने मेरी हथेली पर रख कर

मुट्ठी बन्द कर दिया था

वो अब भी बन्द हैं

मेरी मुट्ठी में

पुष्पित/ सुगन्ध से भरे

संध्या काल के निर्जन सन्नाटे में

जब चलेंगी सिहरन भर देने वाली

सर्द हवायें

आसमान से धीरे-धीरे

उतरेगा गहन अँधेरा

तब मैं खोलूँगी अपनी बन्द मुट्ठी

चम्पा के श्वेत पुष्पों से निकलते

प्रकाश पुन्ज में

तलाश लूंगी अपना पथ

फैल जाएगी

चम्पा की गन्ध चहुँ ओर

तुम्हारी उजली स्मृतियाँ.......

नीरजा हेमेन्द्र

वह मजदूर

दूर-दूर तक फैले हुए

गन्ने के खेत

आसमान का वितान

झाँकता हुआ पीतवर्णी

सूरज/अग्निवर्षा

परिश्रम करती

सूखी खाल वाली

दो हथेलियाँ

मिट्टी, झाड़-झंखाड़ से

अद्वितीय प्रेम करता

तालबद्ध हो जाता है वह

पसीने से सिंचित भूमि

लहरायेंगी हरी फसलें

वह आयेगा

कुछ लोगों के साथ

फसलें कट जायेंगी

बुढ़ाया शरीर

आसमान ताकतीं

बूढ़ी आँखें

प्रतीक्षा करेंगी

आकाश गंगा से निकलते

प्रकाश पुंज का

आकाश पटल से उठेगा

वात-बवण्डर

क्षणिक आवेग को ले जाएगा

कहीं दूर.......दूर........दूर......

इर्द-गिर्द रह जाएंगी

गन्ने की कोपलें

कुछ सूखे पत्ते

मिट्टी, झाड़-झंखाड़

उसका परिश्रम

उसका पसीना ।

वो

गेहूँ की सुनहरी बालियों को

लगातार पीट-पीट कर

दाने अलग कर देता वो

ठीक उसी तरह जैसे

दाना-दाना बिखेर दी गयीं

उसकी इच्छायें

उसके सपने

सपने! मेहनतकश कृषक के

भूख और अभावों के

अन्तहीन खलिहानों में

वह हाँफ-हाँफ कर

संघर्ष कर रहा है

दानों को बटोरने की

और ऐसा करते हुए वह

मर रहा है प्रतिदिन

एक छोटी-सी मौत

बुझते दीये की लौ-सी

उसकी आँखें

अपने सपने छुपा कर

रखना चाहता है वह उनमें

वह तेजी से दानों को

बटोरने में लग जाता है

वह मरता है

कई-कई बार

काँप रहे हैं

उसके हाथ।

'' प्रतीक्षा ''

अँधेरे में

टटोलते-टटोलते मेरा हाथ

एक दरवाजे से जा टकराया

मैं

साँकल खटखटाने लगी

लेकिन मुझे

खुद भी नहीं मालूम था कि

अन्दर

अपने में विलीन कर लेने वाला

स्याह और

स्वयं को ही न देख पाने वाला

घना अंधकार है या

चमचमाती हुई,

इन्द्रधनुष-सी छटा बिखेरती हुई

रोशनी भी

मैं दरवाजा खुलने की

प्रतीक्षा करने लगी।

नीरजा हेमेन्द्र

नदी की कराह

ज़िन्दगी रोज़ यूं ही

वक्त की नदी में

घुलती रहेगी रेत हो कर

मैं प्रतीक्षा कर रही हूँ

उस दिन का जब

नदी में उठेगा एक

तूफ़ान/ नदी का पानी उफन कर

दूर-दूर तक फेल जायेगा

किनारों को पार करता हुआ

बह जायेगी ढ़ेर सारी रेत

एक ही दिन में।

उसके बाद तुम्हें

स्वच्छ शान्ति दिखाई देगी

नदी में किनारों में,

सर्वत्र

तुम नहीं सुनते

प्रतिक्षण, धीरे-धीरे

रेत को बहाती हुई

नदी की दुःख भरी कराह।

'' तुम कब आओगे''

पुरवा के झोंकों से

स्मृतियों के झरोखों से

पूछूँगी इस बार

तुम कब आओगे?

काले उड़ते बादलों से

विगत् सुखद पलों से

पूछँगी इस बार

तुम कब आओगे?

छायें हैं श्याम मेघ

हृदय में उठे आवेग

मेघों के पन्नों पर

लिखा है नेह बन्ध

तुम तक वो जायेंगे

विरह राग गायेंगे

सावन की इस ऋतु से

बारिश की बूँदों से

पूछूँगी इस बार

तुम कब आओगे?

नीरजा हेमेन्द्र

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आत्मकथा,1,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4290,आलोक कुमार,3,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,374,ईबुक,231,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,269,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,113,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3240,कहानी,2361,कहानी संग्रह,247,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,550,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,141,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,32,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,152,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,2,बाल उपन्यास,6,बाल कथा,356,बाल कलम,26,बाल दिवस,4,बालकथा,80,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,20,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,31,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,288,लघुकथा,1340,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,20,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,378,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,79,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2075,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,730,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,847,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,21,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,98,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,216,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,78,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: हवाएँ करती हैं बातें - कविताएँ - नीरजा हेमेन्द्र
हवाएँ करती हैं बातें - कविताएँ - नीरजा हेमेन्द्र
http://4.bp.blogspot.com/-ox-gAFnT5Yc/XlOOk8ObiZI/AAAAAAABQ30/AZrqekwVNwEfITF9aHpHJf8i98AORrhWgCK4BGAYYCw/s320/neerja-788275.png
http://4.bp.blogspot.com/-ox-gAFnT5Yc/XlOOk8ObiZI/AAAAAAABQ30/AZrqekwVNwEfITF9aHpHJf8i98AORrhWgCK4BGAYYCw/s72-c/neerja-788275.png
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2020/02/blog-post_1.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2020/02/blog-post_1.html
true
15182217
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy Table of Content