रचनाएँ खोजकर पढ़ें

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -


विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधाएँ ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


कहानी - सिस्‍टम के पुर्जे - शेर सिंह

साझा करें:

ऊं कहानी  - सिस्‍टम के पुर्जे  - · शेर सिंह “ थोड़ा पीछे हो जाओ… कहां घुसे जा रहे हो ?” वह पहले ही सहमा हुआ सा था, और भी घबरा कर अपना हाथ ...

ऊं

कहानी  -

सिस्‍टम के पुर्जे  -

· शेर सिंह

“ थोड़ा पीछे हो जाओ… कहां घुसे जा रहे हो ?”

वह पहले ही सहमा हुआ सा था, और भी घबरा कर अपना हाथ पीछे खींच लिया। किन्‍तु फिर आगे बढ़ा !

“ क्‍या नाम है ?”

“ राम नगीना… राम नगीना शर्मा… साहब जी …”

“ हां बताओ… क्‍या बात है ? इतना बावला क्‍यों हो रहा है ?”

“ साहब जी ! मेरे केस के पेपर हैं…”

“ तो मैं क्‍या करूं ?” वही रूखा, रौबिला और हिकारत से भरा स्‍वर।

“ इन में डाक्‍टर साहब के साइन कराना है जी।” उसने लगभग हकलाते हुए से कहा। ओपीडी वाले मरीजों का रजिस्‍ट्रेशन काऊंटर पर बैठा व्‍यक्ति रिसेप्‍शनिस्‍ट था या बाबू, उसे ठीक से जानकारी नहीं थी ? मरीज तो वह पहले ही था। लेकिन उसकी डांट पर डांट से वह नर्वस भी हो गया था।

लाइन में लगे लोग आगे बढ़ने के चक्‍कर में आपस में एक- दूसरे को जैसे धकेलने पर तुले हुए थे। यह सरकारी क्षेत्रीय अस्‍पताल था। दूर- दूर से मरीज यहां इलाज के लिए आते थे। आज भी लंबी लाइन लगी हुई थी। राम नगीना पिछले दो दिन से अस्‍पताल का चक्‍कर लगा रहा था। लेकिन अपनी पर्ची नहीं बना पा रहा था। घर से आज अलसुबह ही चला था, और आकर लाइन में लग गया था। फिर भी उसका लाइन में चौथा -पांचवा नंबर ही लगा था। कुछ मरीज शायद रात में ही लाइन में लग चुके थे। लाइन में कोई कराहता सा लग रहा था, तो कई निस्‍तेज आंखों से बढ़ती तादाद को देखते हुए मुरझाए, सूखे होंठों से अपनी बारी का इंतजार लिए खड़े थे। मरीजों, बीमारों की इतनी भीड़ ! कुछ के तिमारदार भी उनके साथ थे शायद ? कुछ स्‍ट्रेचर से हॉल के अंदर आ रहे थे, तो कुछ बाहर को निकल रहे थे। कुछ व्‍हील चेयर पर, तो कुछ लंगड़ाते, पेट पकड़े ! पूरे माहौल में अजीब सी तीखी महक आ रही थी। थोड़ी दवाओं की, कुछ भीड़ की वजह से ? लेकिन लगता था, सारी दुनिया के लोग ही बीमार हैं और इलाज के लिए इसी अस्‍पताल में आए हुए हैं। प्राईवेट सिक्‍यूरिटी गार्ड लोगों को कतार में लगाने के लिए अपना डंडा भी फर्श पर ठकठका रहा था।


अब जाकर राम नगीना का पर्ची बनाने के लिए काऊंटर तक पहुंचने का नंबर आया था। काऊंटर पर बैठा शख्‍स मोटा सा, चालीस- पैंता‍लीस के आस -पास का लग रहा था। न जाने क्‍यों वह चिढ़ा हुआ सा था ? शायद मरीजों के मुरझाए मुख, उनकी कराहें उसे छू नहीं रही थी। उसने राम नगीना के इकहरे पसली, निचुड़े सांवले चेहरे को देखा। दोबारा ऊपर से नीचे तक ऐसे देखा मानो एक्‍सरे फिल्‍म को बारीकी से जांच रहा हो ! हालांकि वह साफ धुले हुए शर्ट और पेंट पहने हुए था। किन्‍तु उसने चिढ़ कर पूछा, “ हां… अब बताओ क्‍या परेशानी है ?”

“ जी जनाब… यह मेरे कागजात हैं। डाक्‍टर साहब से साइन कराना है।”

“ कागजात …कैसे कागजात ? ”

“ जी… एक्‍सीडेंट वाले हैं। रोडवेज की बस ने टक्‍कर मार कर मुझे मेरे मोटर साईकिल समेत गिरा दिया था। साहब जी ! मैं बच तो गया… मगर मरा जैसा हूं। रीढ़ की हड्डी टूट गई थी। टांग कई टुकड़ों में फ्रेक्‍चर हो गई थी। डाक्‍टर साहब ने इलाज किया था। उनके रिफ्रेंस से पहले शिमला फिर चण्‍डीगढ़ पीजीआई में इलाज हुआ था। बहुत खर्चा हुआ है साहब।” वह रूआंसा होकर पहले ही कई बार दोहरा चुके बात और घटना को फिर से दोहरा रहा था।

“ कब हुआ था एक्‍सीडेंट ?”

“साहब जी… एक साल पहले ! अब दूसरा साल हो रहा है … रोडवेज की बस थी ... इलाज पर हुए खर्चे का सरकार से क्‍लेम करना है। इसलिए डाक्‍टर साहब से इन कागजों पर दस्‍तखत लेना है। साहब जी… तभी दावा कर सकूंगा।” वह जितना अपने को विनम्र, विनीत बना सकता था, उतनी विनम्रता और दीनता से अपनी बात बता रहा था। उसकी आवाज़ भी बीच- बीच में टूट रही थी। लगता था, अब रो देगा, तब रो देगा।

मगर काऊंटर पर बैठे उस कठोर व्‍यक्ति के हाव- भाव से लगता था कि उस पर कोई असर ही ना हुआ हो ? शायद उसके लिए इस प्रकार के प्रकरण और ऐेसे अवसर रोज ही आते हों ? यह भी हो सकता है कि कुछ लोग गलत दावे करते हों ? झूठ- मूठ बोलते, बताते हों ?

“ कहां के हो ?” जैसे विष बुझा तीर छूटा हो ! कुछ इस लहजे में उसने उसकी रोनी आवाज़ को अनसुना करते हुए पूछा।

“ जी… यू पी से हैं …”

“ अबे… यू पी में कौन सी जगह के ?” वह अबे, तबे पर उतर आया था।

“ साहब ! देवरिया जिल्‍ला से… बढ़ई हैं साहब जी। यहां कुल्‍लू में मिस्‍त्री का काम करते हैं।”


“ अरे भाई ! यू पी के हो… देवरिया जैसी दूर जगह के ! तो यहां क्‍यों क्‍लेम करना चाहते हो ! वहीं करो न… हमारी सरकार को क्‍यों चूना लगा रहे हो।” लगता ही नहीं था कि वह मजाक कर रहा है या

गम्‍भीरता से कह रहा है। राम नगीना के पीछे खड़ा मरीज जो अब तक धीरे- धीरे कराह रहा था, उस

रिसेप्‍शनिस्‍ट की बातें सुनकर उसके होंठों पर मुस्‍कान फैल गई थी। यह समझना मुश्किल था कि वह उसकी अहमकों, मूर्खों जैसी बातों से मुस्‍कराया था अथवा व्‍यंग्‍य से ?

“साहब जी… एक्‍सीडेंट तो यहां हुआ था न… यहां की रोडवेज की बस ने एक्‍सीडेंट किया था। वहां कैसे दावा कर सकता हूं ?”

“ दावा तो तुमको वहीं करना पड़ेगा। आप यहां के थोड़े ही हो !” वह मूर्खों की तरह बेतुका तथा कुतर्क कर रहा था।

“ साहब ! मैं तो बीस वरसों से यहां हूं। मेरा आधार कार्ड यहां का बना है। मेरा वोटर आईडी भी यहां का है। साहब जी ! मैंने तो कई दफा यहां वोट भी दिया है।” उसका चेहरा तमतमा आया था। उसके तमतमाए और लाल हुए चेहरे को देखकर उस शख्‍स ने और भी कड़े तथा रूखे स्‍वर में कहा, “ आप डॉक्‍टर से पूछ कर आओ। पर्ची तभी बनेगी… हटो यहां से ! मुझे काम करने दो।” उसकी उपेक्षा और वक्रोक्ति ने उसे अंदर तक छील दिए थे।

वह अपनी जगह से नहीं हिला तो काऊंटर पर बैठे उस व्‍यक्ति ने सिक्‍यूरिटी गार्ड को आवाज़ लगाई, “ भाईया ! इसे यहां से हटाओ…” इससे पहले कि गार्ड उसे हाथ लगाता, वह कतार से निकल आया। अपमान और क्रोध से उसका चेहरा बदल गया था। उसे लगा कि वह उस व्‍यक्ति का गिरेवान पकड़ कर दो तमाचे जड़ दे। लेकिन जब गुस्‍सा शांत हुआ, तो उसे रोना आ गया। उसे ऐसा लगा जैसे वह बहुत ही निरीह प्राणी हो ? बेवकूफ जैसे उस बाबू के कुतर्क और बेरूखी ने उसे रूला दिया था। आंसू उसके बेशक नहीं दिखे थे। एक साल तक बेड़ पर पड़े रहने के बाद अब अस्‍पताल और डॉक्‍टर उसे र्स्‍टीफिकेट देने और बिल के कागजों पर हस्‍ताक्षर करने में आना -कानी कर रहे थे। आना –कानी, टाल- मटोल क्‍या … सीधे- सीधे टरका रहे थे। सरकार की अंटी से पैसे निकालना इतना आसान थोड़े ही था ? उसके पास धैर्य के अतिरिक्‍त कोई चारा नहीं था।

इसे क्‍या कहें ! भाग्‍य, बदकिस्‍मती अथवा लापरवाही ? बाईक की बीमा अवधि केवल सत्रह दिन पहले समाप्‍त हो गई थी। आज करेंगे, कल करेंगे के चक्‍कर में बीमा पॉलिसी का नवीकरण नहीं हो सका था। और यह एक्‍सीडेंट हो गया। बाईक का अगला हिस्‍सा पिचक कर टीन की तरह सपाट हो गया था। बीमा अवधि खत्‍म हो चुकने के कारण बीमा कंपनी से उसे कुछ नहीं मिला था। एक नामी प्राईवेट कंपनी से अपना स्‍वयं का बीमा किया होने के बावजूद उनकी कठोर शर्तों और औपचारिकताओं की लंबी सूची की कसौटी पर खरा नहीं उतरने के कारण वहां से भी कुछ नहीं मिला था। बीमा पॉलिसी लेते समय उसने नियम, शर्तों की बारीकियों पर ध्‍यान ही नहीं दिया था।

राम नगीना अस्‍पताल के मैनगेट के पास आकर खड़ा हुआ और सोचने लगा। उसे लग रहा था, मानो सारे लोग उसे ही देख रहे हैं। रोजगार के लिए वह यहां आया था। काम भी खूब मिला। काम का नाम भी हुआ ! पैसे भी ठीक- ठाक जोड़े थे। बेटा तो यही पैदा हुआ है। दो- तीन साल में एक बार घर को जाना हो पाता है। देवरिया अब दूर लगने लगा है। लखनऊ में आलमबाग के एक वीरान, उजाड़ जैसी जगह के एक किनारे घर के लिए प्‍लाट खरीद लिया है। घर भी बना लेता ! लेकिन एक्‍सीडेंट ने सब कुछ जैसे उलट -पलट करके रख दिया है। एक साल तक तो काम पर नहीं जा सका था। ऑपरेशन करना पड़ा। रीढ़ की हड्डी में प्‍लेटें डली हैं। जमा- पूंजी सारी खत्‍म हो गई थी। उधारी भी करनी पड़ी। वो तो उसका भाग्‍य कहें या कर्म ? अच्‍छा था ! उसके मकान मालिक ने आर्थिक तौर पर उसकी मदद की थी। अस्‍पतालों में, डॉक्‍टरों से मिलने में उसके साथ बना रहा था। इससे उसका आत्‍मबल, साहस और उसका नैतिक बल बना रहा। बेशक बाद में उसने थोड़ा -थोड़ा करके मकान मालिक का कर्जा चुका दिया था। लेकिन मुसीबत के समय उसकी मानवीय संवेदना तथा सहायता को वह भूला नहीं था। उसका बहुत एहसानमंद था वह।

जब वह स्‍वयं कुछ चलने- फिरने लायक हुआ, तो उसकी पत्‍नी ने खाट पकड़ ली थी। पत्‍नी की गठिया की बीमारी ने उसे और भी लाचार बना कर रख दिया था। उसकी बीवी ठीक से उठ- बैठ नहीं पाती थी। उसको बाथरूम, टायलेट में उसे ही बिठाना, उठाना पड़ता है। खाना भी खुद ही बनाना पड़ता है। शाम को बेटा कॉलेज से आ जाता था। शाम का समय फिर वही संभालता है। खाना इत्‍यादि भी वही बनाकर रखता है। इसलिए शाम की उसे अधिक चिंता नहीं होती है।

रोज सुबह चार बजे उठ जाता है। पहले खुद निपटता है। मैले कपड़ों को धोता है। खाना बनाता है। और, फिर बीवी की सेवा -टहल में लग जाता है। उसे हर प्रकार से तैयार करता है। दुर्घटना के बाद अब उसके शरीर में पहले जैसी चुस्‍ती, फुर्ती रही नहीं। किस्‍मत का धनी था, अपंग होते- होते बचा है। लेकिन शरीर के साथ- साथ याददाशत भी कमजोर हो गई है। भूलने भी लगा है। काम में भी गलती होने लगी है। कुछ का कुछ जोड़ देता है। मालिक जो पहले उससे ऊंची आवाज़ में बात भी नहीं करते थे, अब उसके उल्‍टे - सीधे कामों की वजह से डांटते रहते हैं। उसके शार्गिद भी उसे

छोड़ गए हैं। उन्‍होंने अपनी स्‍वयं की ठेकेदारी शुरू कर दी है। अब जो नए लड़के रखे हैं, वे उतने कुशल नहीं हैं। नौसीखिए हैं। लेकिन मालिकों से डांट उसे ही खानी पड़ती है। परन्‍तु उसके हाथ में हुनर है। टूटे लोग फिर से जुड़ने लगे हैं।

यह तो अच्‍छा है कि बेटा बड़ा है। यहीं कॉलेज में पढ़ता है। कॉमर्स ले रखा है। राम नगीना को विश्‍वास है, बेटे को बैंक में बाबूगिरी की नौकरी तो मिल ही जाएगी ? वह स्‍वयं अधिक पढ़- लिख नहीं पाया है। लेकिन बेटे को पढ़ा रहा है ताकि उसे उसकी तरह मजदूरी नहीं करनी पड़े। मगर बेटा थोड़ा खुद्दार है ! बाप की तरह हर समय गिड़गिड़ाता नहीं रहता है।

अप्रैल महीने का मौसम था। धूप तेज हो रही थी। उसे पेड़ की छाया में थोड़ी ठंडक महसूस हुई। अपने आपको मानसिक तौर पर मजबूत किया। उसने अब घर को जाना ही बेहतर समझा। आज की दिहाड़ी भी गई थी और काम भी नहीं हुआ था। किन्‍तु उसने ठान लिया था। वह अपने दावे को यूंही नहीं छोड़ देगा। बस वाले ने पीछे से टक्‍कर मार कर उसे लगभग मार ही दिया था। लेकिन उसे अभी जिंदा रहना था। परिवार को पालना था। बीवी को स्‍वस्‍थ करना था। बेटे की पढ़ाई पूरी करवा कर नौकरी पर लगा देखना है !

बाहरी चोट से वह धीरे -धीरे उबर चुका था, लेकिन भीतरी और मानसिक चोट से टूटने लगा था। फिर भी वह अपनी हिम्‍मत नहीं हारना चाहता था। अपना दावा, अपना हक पाकर ही दम लेगा। यही सोच उसकी मानसिक शक्ति बनी हुई थी। दो- तीन दिन बाद वह फिर अस्‍पताल पहुंच गया। इस बार बेटा भी साथ है। बेटा जवान है। गर्म खून है। कहीं गुस्‍से में बनता काम भी न बिगाड़ दे ? वह कतार में लगा है। उसका नंबर आया तो उसके दोनों हाथ स्‍वत: ही जुड़ गए। चेहरे पर वही दीनता, और वैसी ही बेबसी फैल गई है। काऊंटर पर वही बेवकूफ जैसा मगर अक्‍खड़ रिसेप्‍शनिस्‍ट बैठा हुआ था। उसके वही तर्क थे, वैसे ही गले से न उतरने वाली गलत और हास्‍यास्‍पद दलीलें थीं ! रोने -रोने जैसा होकर और गिड़गिड़ाने पर भी वह बंदा नहीं पसीजा। लेकिन आज पहले की तुलना में थोड़ा कम ही अक्‍खड़पन दिखा रहा था। किन्‍तु बेटे का पारा तो सातवें आसमान पर है। आज भी पर्ची नहीं बनी है। बिना पर्ची के डॉक्‍टर से मिलना असंभव है !


दावे के लिए बिल और एक्‍सीडेंट से संबंधित सारे दस्‍तावेजों को हर प्रकार से पूरा करके कोर्ट में जमा करना था। लेकिन अस्‍पताल सहयोग नहीं कर रहा था। इसे विड़ंबना ही कहेंगे ! अंदर से उसका दिल रोता था। बाहर से सामान्‍य दिखने का प्रयास करता ! लेकिन अपने प्रयास में सफल होता नहीं

दिख रहा था। जिससे भी अपने दुर्भाग्‍य के बारे बताता, तो आंखें छलछला पड़तीं।

परदेश में एक प्रवासी मजदूर या मिस्‍त्री की कितनी पहुंच हो सकती है ? पहुंच के मामले में वो लाचार था ! अपनी लाचारी और बेबसी को समझता था। लेकिन कुछ जुगाड़़ तो करना था ! बेशक इसके लिए उसे अपनी अंतरात्‍मा को मारना पड़े ! और फिर राम नगीना ने अपनी आत्‍मा को मार दिया था। अपनी अंतरात्‍मा को मारने के बाद उस डॉक्‍टर को अपना दुखड़ा सुनाया जिसके यहां उसने कुछ वर्ष पहले काम किया था। जब मनुष्‍य मानसिक रूप से कमजोर पड़ने लगता है, तो टूटन शुरू हो जाती है। अपने दुखों और दूसरों के सताने पर ही असहाय होकर झुकने और फिर टूटने लगता है ! राम नगीना भी कोई अपवाद नहीं था ? वह उसका पुराना ग्राहक था और रिटायर्ड डॉक्‍टर था। वह उसी अस्‍पताल से सेवानिवृत्‍त हुआ था। उस डॉक्‍टर ने उसी समय अस्‍पताल के आर्थोपेडिक के डॉक्‍टर को फोन किया। उसने र्स्‍टीफिकेट देने का आश्‍वासन दिया था। दूसरे दिन वह बेटे सहित फिर अस्‍पताल पहुंच गया। फोन का शायद असर हुआ था। आज उस बाबू का रवैया कुछ बदला -बदला सा था ! लेकिन उसने पर्ची फिर भी नहीं बनाई। “ जिस डॉक्‍टर से मिलना चाह रहे हो … वह आज नहीं हैं।” आज फिर से उसे गच्‍चा दिया गया था। लेकिन प्‍यार से ! ऑर्थोपेडिक वाला डॉक्‍टर शायद अस्‍पताल में ही था, क्‍योंकि ड्यूटी र्बोड़ पर उसका नाम मार्कर से लिखा दिख रहा था।

सरकारी सिस्‍टम और उसके तंत्र से वह हताश, निराश हो रहा था। परन्‍तु उसे सब्र और धैर्य से काम लेना है। सिस्‍टम के साथ लड़ने के लिए उस में ताकत नहीं है ? साहस भी नहीं है ? वे यदि कुछ भी नहीं देना चाहे, तो उनके पास अनेकों उपाय और साधन है। उसके पास क्‍या है ? सहनशीलता और विनम्रता ही उसकी पूंजी, उसका साधन है ! बाप- बेटे एक बार फिर मायूस होकर बस पकड़ने के लिए स्‍टेंड की ओर बोझिल कदम उठाते हुए बढ़े। राम नगीना आज बाहर से शांत लग रहा है। लेकिन उसके मन में बवंडर मचा हुआ है। बेटे का गुस्‍सा थम नहीं रहा है। सिस्‍टम के प्रति उसके मन में उठी चिंगारी शोला बनती जा रही है।

“बापू ! आप बहुत सीधे हो… आपके व्‍यवहार से कोई आपको भाव नहीं देगा !” बेटे को अभी दुनियादारी और जीने की कला सीखना बाकी था। वह जल्‍दी ही अपना आपा खोने लगता था।


“ कोई नहीं बेटा ! तीन- चार दिन बाद फिर आएंगे…अपना काम तो निकालना ही पड़ेगा न …”

“ ठीक है… अगली बार मैंने सोच लिया है… काम तो होना ही चाहिए ! नहीं तो… रेल में या जेल में…” बेटे का चेहरा लाल हो गया था। उसने किसी फिल्‍म का डायलॉग दुहरा दिया था। राम नगीना ने चौंककर उसके चेहरे को देखा। वह उसका आशय समझने की कोशिश करने लगा था।

शेर सिंह

नाग मंदिर कालोनी, शमशी, कुल्‍लू, हिमाचल प्रदेश 175126


19/4/18

-----****-----

|दिलचस्प रचनाएँ:_$type=blogging$count=5$src=random$page=1$va=0$au=0$meta=0

|समग्र रचनाओं की सूची:_$type=list$count=8$page=1$va=1$au=0$meta=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आत्मकथा,1,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4290,आलोक कुमार,3,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,374,ईबुक,231,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,269,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,113,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3240,कहानी,2361,कहानी संग्रह,247,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,550,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,141,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,32,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,152,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,2,बाल उपन्यास,6,बाल कथा,356,बाल कलम,26,बाल दिवस,4,बालकथा,80,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,20,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,31,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,288,लघुकथा,1340,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,20,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,378,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,79,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2075,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,730,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,847,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,21,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,98,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,216,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,78,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: कहानी - सिस्‍टम के पुर्जे - शेर सिंह
कहानी - सिस्‍टम के पुर्जे - शेर सिंह
https://1.bp.blogspot.com/-d0uqt3pqKpc/XkUR2KdNmGI/AAAAAAABQvs/MNgE_DsR-yYOFLWsk5DpGkrY039Oav06gCK4BGAYYCw/s320/Self%2Bphoto-753755.jpg
https://1.bp.blogspot.com/-d0uqt3pqKpc/XkUR2KdNmGI/AAAAAAABQvs/MNgE_DsR-yYOFLWsk5DpGkrY039Oav06gCK4BGAYYCw/s72-c/Self%2Bphoto-753755.jpg
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2020/02/blog-post_36.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2020/02/blog-post_36.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ