नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

हे! गूगल - रीड इट, जस्ट रीड इट!!

यूँ तो कंप्यूटरों और स्मार्टफ़ोनों में टैक्स्ट-टू-स्पीच की सुविधा, वो भी हिंदी में, एक तरह से बाबा आदम के जमाने की बात हो गई. मगर इसके लिए आपको कुछ न कुछ अलग उपाय लगाना होता था. कोई ब्राउज़र एक्सटेंशन लगाना होता था, कोई ऐप्लिकेशन, प्रोग्राम इंस्टाल करना होता था या कोई ऐप्प. और हर बार एक अदद काम इन्हें चालू करने का होता था.

अब गूगल असिस्टेंट ने एक और सुविधा जोड़ी है. जो प्रायः सभी एंड्रायड फ़ोनों में अंतर्निर्मित और डिफ़ॉल्ट से उपलब्ध होगी.

और यह एक बड़ी सुविधा है.

अब आप किसी भी ऑनलाइन पृष्ठ, या जो टैक्स्ट सामने एक्टिव स्क्रीन पर दिख रहा हो, उसे बोलकर सुनाने का.
यानी जब आप इस पृष्ठ को अपने स्मार्ट फ़ोन में पढ़ रहे हों, तो आप गूगल असिस्टेंट को सक्रिय कर कहें - हे गूगल रीड इट.

है न बेहद आसान!

और यह कुछ क्षणों में ही आपको इस पृष्ठ को बोल कर पढ़ने लगेगा. आद्योपांत. आपको इसके बारीक अक्षरों पर अपनी आंखें गड़ाने की जरूरत नहीं. आप चाहें तो सुनते सुनते दूसरा कोई काम - ताड़ने-देखने का कर सकते हैं.

यही नहीं, यह एक प्लेयर के रूप में कार्य करता है - यानी आप पाठ में आगे पीछे - रिवर्स या फारवर्ड कर सुन सकते हैं. पॉज-और प्ले कर सकते हैं.



इसे लॉक स्क्रीन से भी ऐक्सेस कर सकते हैं -




इसमें 4 तरह की आवाज़ें हैं. 2 महिला और 2 पुरुष जिनमें से आप अपने पसंद की आवाज चुन सकते हैं.



ये देखिए रचनाकार.ऑर्ग के पृष्ठ पर प्रकाशित कविता का गूगल असिस्टेंट द्वारा पाठ - एकदम नैसर्गिक सा, पूरे भाव प्रवणता, आवाज के उतार-चढ़ाव व ठहराव के साथ. शायद भविष्य में मानवीय भाव-भंगिमा भी पाठ के कथ्य के हिसाब से स्वयमेव जुड़ जाए.




और ये है दूसरी आवाज़ में कविता पाठ-



रचनाकार को - अब पढ़ें नहीं, सुनें!

1 टिप्पणियाँ

  1. वाह, इस में तो यह अच्छा कर दिया. वरना अभी तक को अलाउड रीडर से काम चलाना पड़ रहा था👍

    जवाब देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.