370010869858007

---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन 2019 - प्रविष्टि क्रमांक - 42 // ट्रॉयल रूम // वन्दना पुणतांबेकर

प्रविष्टि क्रमांक - 42

वन्दना पुणतांबेकर

लघुकथा
  [ट्रॉयल रूम]

एक साधारण घर में पढ़ी लिखी पूर्वा दुनियॉ की चकाचौंध औऱ सोशल मीडियां से जुड़ी एक आम लड़की।आये दिन मॉल में जाना

वहाँ ट्रॉयल रूम में ड्रेस पहनकर सेल्फी खीचकर वेड्स ऐप, फेसबुक में पिक डालना उसकी आदत सी बन गई थी।
इन आदतों से उसकी माँ हमेशा चिंतित औऱ परेशान रहती।वह हमेशा पूर्वा से कहती।   "बेटा हम लोग इतने अमीर नहीं है,जैसे हैं वैसे ही रहना सीखो। ये दिखावे की दुनियां हमारी नहीं है,तुम इस तरह की जिंदगी जी रही हो। तुम्हें इससे क्या हासिल होता है।
"चिल मॉम......घर मे तुम्हें कौन देखने आता है, ये तो आजकल का फैशन है। ओके बाय..कहते हुए पूर्वा स्कूटी स्टार्ट कर निकल गई।

उसकी माँ चिंतित नजरों से उसे जाते देख रही थी।
हमेशा की तरह आज भी पूर्वा अपनी सहेली के साथ मॉल गई। कुछ ड्रेसेस लेकर ट्रॉयल रुम में गई। उसने ड्रेस चेंज किया ही था कि अचानक लाईट चली गई। तभी उसने देखा कि वहाँ अंधेरे में एक लाल अगरबत्ती की तरह कोई लाईट सी दिखाई दी।
इतने में लाईट आगई। उसने बाहर सारे ड्रेस वही रख दिये। उसकी सहेली बोली.." दिखा कितनी सेल्फी ली ,बताना प्लीज़ जल्दी।

पुर्वा बिना कुछ कहे वहाँ से निकल पड़ी। उसकी सहेली कुछ समझ नहीं पाई। आज पुर्वा को अपने नारी के अस्तित्व का एहसास हो गया था। उसे एहसास हो चुका था ।कि अपने अस्तित्व को खोना नहीं चाहिए। आज वह एक गंभीर औऱ समझदार पुर्वा बन चुकी थी।
जो बात हमेशा उनकी माँ समझती पर वह न समझती। वही बात आज उसे ट्रॉयल रूम ने समझा दी थी।

श्रीमती वन्दना पुणतांबेकर

इंदौर

लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन 2610144235848248575

एक टिप्पणी भेजें

  1. विनम्र निवेदन है कि लघुकथा क्रमांक 180 जिसका शीर्षक राशि रत्न है, http://www.rachanakar.org/2019/01/2019-180.html पर भी अपने बहुमूल्य सुझाव प्रेषित करने की कृपा कीजिए। कहते हैं कि कोई भी रचनाकार नहीं बल्कि रचना बड़ी होती है, अतएव सर्वश्रेष्ठ साहित्य दुनिया को पढ़ने को मिले, इसलिए आपके विचार/सुझाव/टिप्पणी जरूरी हैं। विश्वास है आपका मार्गदर्शन प्रस्तुत रचना को अवश्य भी प्राप्त होगा। अग्रिम धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

---प्रायोजक---

---***---

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव