नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन 2019 - प्रविष्टि क्रमांक - 348 // "कुछ तो लोग कहेंगे" // नीलम स्वर्णकार

प्रविष्टि क्रमांक - 348

नीलम स्वर्णकार

"कुछ तो लोग कहेंगे"

ठण्डे पानी के साथ एक कड़वी-सी टेबलेट निगल कर सविता जी सोफे पर अधलेटी-सी बैठ गयीं।

सर दर्द, पैरों में दर्द और थकान से निढाल होकर अपना माथा हाथों से दबाते हुए हुए उन्हें वे दिन याद आ रहे थे जब 28 साल पहले उनकी उनकी बेटी ने जन्म लिया था।

ओह! वो भी क्या दिन थे..

गर्भावस्था जितनी रोमांचक थी उतनी ही तकलीफदेह भी। पूरे 9 महीने तक उल्टियां होती रही थीं। बहुत परेशान किया था इस शैतान रुचिरा ने.. सोचते हुए वे मुस्करा उठीं।

..और अपने फूले हुए पेट पर स्नेह से हाथ फेरते हुए कहा.. "और तुम भी कम शैतान नहीं हो..आखिर हो तो रुचिरा की संतान ही न.."

तभी दरवाजे से आती रुचिरा दिखाई दी, सामान से लदी हुई। सामान रखकर सीधा माँ के पास आयी और उनके पेट पर अपनी हथेली रखते हुए बोली.. " कैसा है बेबी?

फिर कुछ उदास स्वर में बोली- " पता है माँ आज मार्केट में फिर किसी ने पीछे से बोला.. यही है वो लड़की जो अपनी माँ से अपना बच्चा पैदा करवा रही है, और इसकी माँ को भी इस उम्र में सरोगेट मदर बनने का शौक चढ़ा है"

सविता जी गहरी साँस लेते हुए बोलीं- उन्हें बोलने दे रूचि, क्या फर्क पड़ता है, मेरे लिए तेरी ख़ुशी से बढ़कर कुछ भी नहीं.., तू प्रेग्नेंट नहीं हो सकती तो क्या हुआ ..मैं स्वस्थ हूँ, बच्चे को जन्म दे सकती हूँ तो क्यों न मैं अपनी बेटी की गोद खुशियों से भर दूँ। लोगों को बोलने दे जो बोलना है।

टेंशन मत लिया कर।

अच्छा सुन.. जरा एक कप लेमन टी बना ला.. सर बड़ा दुख रहा है सुबह से..। इन सबकी बातों की परवाह मत किया कर। तू तो मेरा पोता या पोती जो भी होगा इसके स्वागत की तैयारियां कर..।

कहते हुए सविता जी खिलखिला कर हँस पड़ीं।

-

6 टिप्पणियाँ

  1. साहस भरा निर्णय लिया...👌👍

    जवाब देंहटाएं
  2. Shraddha verma6:02 pm

    नए समाज की रचना के लिए लालायित कहानी। संदर्भों में बेहद सटीक। खूबसूरत ।

    जवाब देंहटाएं
  3. मैंने आजतक बहुत सारी कहानियां पढ़ी लेकिन इस छोटी सी लघुकथा ने जाने कितनी सारी पहेलियों को सुलझा दिया हैं। नीलम बेहद शुक्रिया आपका इस तरह की नई और ज़रूरी सोच को आपने बेहद ही सरल तरीके से सामने रखा है। रूढ़िवादी सोच पर करारा जवाब है ये कथा,माँ के प्यार का अनकहा अहसास है कथा,समाज के लिए नया आईना हैं ये कथा। बेहद बधाई आपको ❣️

    जवाब देंहटाएं
  4. बेनामी8:58 am

    शुक्रिया!

    जवाब देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.