रचनाकार.ऑर्ग की विशाल लाइब्रेरी में खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

देश विदेश की लोक कथाएँ — यूरोप–इटली–6 : 13 पिपीना साँप // सुषमा गुप्ता

साझा करें:

13 पिपीना साँप [1] एक बार इटली में एक अमीर व्यापारी रहता था जिसके पाँच बच्चे थे – चार बेटियाँ और एक बेटा। उसका बेटा सबसे बड़ा था। उसका नाम था...

13 पिपीना साँप[1]

clip_image003

एक बार इटली में एक अमीर व्यापारी रहता था जिसके पाँच बच्चे थे – चार बेटियाँ और एक बेटा। उसका बेटा सबसे बड़ा था। उसका नाम था बाल्डेलौन[2]

व्यापारी की किस्मत ने पलटा खाया और वह अमीर से गरीब हो गया। अब वह केवल माँग कर ही खा पी पाता था। उसकी यह हालत और भी खराब होने वाली थी क्योंकि उसकी पत्नी को छठा बच्चा होने वाला था।

बाल्डेलौन ने देखा कि उसका परिवार बड़ी कठिनाई के समय से गुजर रहा है सो उसने घर छोड़ने का निश्चय कर लिया। उसने सबको गुड बाई कहा और फ्रांस के लिये चल दिया।

वह एक पढ़ा लिखा नौजवान था सो जब वह पेरिस पहुँचा तो उसको वहाँ के शाही महल में काम मिल गया और फिर वह वहाँ कैप्टेन बन गया।

घर में पत्नी ने पति से कहा — “अब बच्चा आने को है और हमारे पास बच्चे की कोई चीज़ नहीं है। हम अपनी आखिरी चीज़ अपनी खाने की मेज बेच देते हैं ताकि हम बच्चे की कुछ चीज़ें खरीद सकें।”

उन्होंने कुछ ऐसे लोगों को बुलाया जो पुरानी चीज़ें खरीदते थे और उनमें से एक को उन्होंने अपनी खाने की मेज बेच दी। इस तरह से वह व्यापारी अपने आने वाले बच्चे के लिये वह सब सामान खरीद सका जो उस बच्चे के लिये जरूरी था।

जब समय आया तो उनके घर में एक बेटी पैदा हुई जो बहुत सुन्दर थी। उसको देख कर उसके माता और पिता खुशी से रो पड़े। उनके मुँह से निकला — “ओ हमारी प्यारी बेटी, हमको बहुत दुख है कि तुम हमारे घर में इतनी गरीबी में पैदा हुईं।”

उन्होंने अपनी उस बेटी का नाम पिपीना[3] रख दिया।

उनकी वह बेटी धीरे धीरे बड़ी होती गयी और जब वह 15 महीने की हो गयी तो वह अपने आप चलने लगी। जहाँ उसके माता पिता सोते थे वह वहीं भूसे में खेलती रहती थीे।

एक बार जब वह वहाँ खेल रही थी तो वह अपना हाथ बढ़ा कर चिल्लायी — “माँ माँ, देखो तो।” उसकी माँ ने देखा तो उसके उस हाथ में सोने के सिक्के थे।

उसकी माँ को तो अपनी ऑखों पर विश्वास ही नहीं हुआ। उसने उससे वे सिक्के लिये और अपनी जेब में रख लिये। फिर उसने बच्ची की देख भाल करने के लिये एक आया बुलायी और बच्ची को उसके पास छोड़ कर वह बाजार दौड़ी गयी।

बाजार से उसने जी भर कर बहुत सारी चीज़ें खरीदीं और दोपहर तक उसने बहुत अच्छा खाना बना कर रखा। दोपहर को वे सब बहुत अच्छा खाना खाने बैठे।

उसके पिता ने पिपीना की पीठ थपथपाते हुए पूछा — “पिपीना बताओ तो तुमको ये चमकदार चीज़ें कहाँ से मिलीं?”

और उसने भूसे में एक छेद की तरफ इशारा करते हुए कहा — “यहाँ पिता जी। यहाँ तो सिक्कों से भरा एक पूरा बड़ा सा बरतन रखा है। आपको केवल उसमें हाथ डाल कर बस उनको निकालना भर है।”

और इस तरह से वह परिवार एक बार फिर से अमीर हो गया और फिर से उसी तरीके से रहने लगा जैसे वह पहले रहता था।

जब वह बच्ची 4 साल की हुई तो उसके पिता ने अपनी पत्नी से कहा — “मुझे लगता है कि अब हमको पिपीना के ऊपर जादू[4] करवा देना चाहिये। अब तो हमारे पास पैसा है तो हम पिपीना के ऊपर वह जादू क्यों न करवा दें?”

उन दिनों माता पिता अपने बच्चों के ऊपर जादू करवाने के लिये मौनरील[5] के आधे रास्ते तक जाते थे जहाँ चार परी बहिनें रहतीं थीं।

सो वे लोग पिपीना को एक गाड़ी में बिठा कर वहाँ ले गये और वहाँ जा कर उन चारों बहिनों को उसको दिया। उन परियों ने उनको बताया कि क्या क्या तैयार करना है और उस व्यापारी के घर रविवार को उस रस्म को पूरा करने के लिये आने के लिये तैयार हो गयीं।

clip_image002


रविवार को ठीक समय पर चारों बहिनें पलेरमो[6] आयीं। वहाँ उनके लिये जैसा उन्होंने कहा था वह सब कुछ तैयार था। उन्होंने अपने हाथ धोये, मजोरकन के आटे की चार पाई[7] बनायीं और उनको बेक करने के लिये भेज दिया।

कुछ ही देर में बेक करने वाले की पत्नी को उन पाई की खुशबू आयी तो वह अपने आपको बिल्कुल भी नहीं रोक पायी और उसने उसमें से एक पाई निकाल कर खा ली।

फिर उसने उन बची हुई तीन पाइयों के जैसी एक दूसरी पाई बनायी। पर उसका आटा साधारण वाला आटा था और उसने उसको बनाने के लिये पानी वहाँ से लिया था जहाँ वह अपने ओवन साफ करने की झाड़ू धोती थी।

पर शक्ल में वह बिल्कुल दूसरी पाईयों जैसी ही थी और कोई उसको दूसरी तीन पाईयों से अलग नहीं कर सकता था।

जब वे चारों पाई उस व्यापारी के घर आयीं तो पहली परी ने यह कहते हुए एक पाई काटी — “मैं तुम पर यह जादू करती हूँ ओ प्यारी बेटी कि तुम जब भी अपने बालों में कंघी करो तो उनमें से मोती और दूसरे जवाहरात गिरें।”

दूसरी परी ने दूसरी पाई काटी और कहा — “मैं तुम्हारे ऊपर यह जादू करती हूँ कि तुम जितनी सुन्दर अब हो दिनों दिन उससे भी ज़्यादा सुन्दर होतीे जाओ।”

अब तीसरी परी उठी और तीसरी पाई काटते हुए बोली — “मैं तुम्हारे ऊपर यह जादू करती हूँ कि वह हर बेमौसमी फल जिसकी तुम इच्छा करो वह तुमको तुरन्त ही मिल जाये।”

चौथी परी ओवन की बची हुई चीज़ें भरी हुई चौथी पाई काटते हुए अपना जादू उसके ऊपर बोलने ही वाली थी कि उस पाई का एक टुकड़ा उसमें से निकल कर उसकी ऑख में जा पड़ा।


परी बोली — “ओह यह तो मेरी ऑख में लग गया। अब मैं तुम्हारे ऊपर यह बहुत बुरा जादू करती हूँ कि जब भी तुम सूरज को देखो तो उसके देखते ही तुम काला साँप बन जाओ।”

यह सब जादू करके वे चारों परियाँ वहीं गायब हो गयीं।

उस चौथी परी का जादू सुन कर पिपीना के माता पिता तो फूट फूट कर रो पड़े। उनकी प्यारी बेटी अब सूरज कभी नहीं देख पायेगी।

तो अभी हम पिपीना और उसके माता पिता को यहीं छोड़ते हैं और बाल्डेलौन की तरफ चलते हैं जो फ्रांस में अपने पिता की अमीरी की शान बघार रहा था। पर यह बात तो केवल वही जानता था कि उसका पिता कितना गरीब था।

वह अक्सर उनके बारे में बड़ी बड़ी बात करता रहता था और अपनी उन डींगों से उसने अपने आस पास के सब लोगों को प्रभावित कर रखा था – जैसी कि कहावत है – जो भी विदेश जाता है वह अपने आपको या तो काउन्ट कहता है या फिर ड्यूक कहता है और या फिर लौर्ड कहता है।[8]

फ्रांस का राजा यह जानने के लिये बहुत इच्छुक था कि बाल्डेलौन के कहने में कितनी सच्चाई थी। सो उसने अपना एक स्क्वायर[9] पलेरमो भेजा और उसको बता दिया कि उसको वहाँ जा कर क्या करना है और क्या देखना है।

फिर आ कर वह उसको बताये कि उसने क्या देखा।

वह आदमी पलेरमो गया और बाल्डेलौन के पिता के बारे में पूछा। लोगों ने उसको एक बहुत सुन्दर महल की तरफ भेज दिया। उस महल में तो उसने बहुत सारे चौकीदार देखे।

वह उस महल के अन्दर घुसा तो उसने देखा कि उस महल की दीवारें तो सोने की हैं और अन्दर बहुत सारे नौकर चाकर घूम रहे हैं।

व्यापारी ने उस आदमी का शाही तरीके से स्वागत किया और उसको खाने के लिये खाने की मेज पर बुलाया। जब सूरज डूब गया तो वह पिपीना को भी वहाँ ले आया।

उस स्क्वायर ने जब पिपीना को देखा तो वह तो उसकी सुन्दरता से बहुत प्रभावित हो गया। उसने इतनी सुन्दर लड़की पहले कभी नहीं देखी थी। वहाँ से सब बातें देख कर वह फ्रांस लौट गया और जा कर राजा को सब बताया।

राजा ने बाल्डेलौन को बुलाया और कहा — “बाल्डेलौन, तुम पलेरमो जाओ और अपने घर जाओ और अपनी बहिन पिपीना को मेरे पास ले कर आओ। मैं उससे शादी करना चाहता हूँ।

अब बाल्डेलौन को तो यह भी पता नहीं था कि उसकी इस नाम की कोई बहिन भी थी। पर वह राजा की बातों से कुछ कुछ भाँप सका कि क्या मामला हो सकता था। उसने राजा का हुकुम माना और पलेरमो चल दिया।

पेरिस[10] में बाल्डेलौन की एक लड़की दोस्त थी। वह उससे जिद करने लगी कि वह भी उसके साथ पलेरमो चलेगी।

जब बाल्डेलौन उस लड़की को साथ ले कर पलेरमो आया तो उसने देखा कि उसका परिवार तो बहुत अमीर हो चुका है। उसका परिवार उसको देख कर बहुत खुश हुआ। सबने मिल कर अपनी पुरानी बातें कीं।

वह अपनी नयी बहिन से मिला और अपने माता पिता को बताया कि फ्रांस का राजा उसकी उस बहिन से शादी करना चाहता था। यह सुन कर सब बहुत खुश हुए।

पर जब पेरिस से आयी लड़की ने पिपीना को देखा तो उसको उससे बहुत जलन हुई। उसको देख कर वह अब यह प्लान बनाने लगी कि उसकी जगह वह खुद रानी हो जाये।

कुछ दिनों में ही बाल्डेलौन को फ्रांस वापस लौटना था। सबने एक दूसरे को गुड बाई कहा और बाल्डेलौन फ्रांस वापस चला गया।

पेरिस पहुँचने के लिये पहले समुद्र से हो कर जाना होता है और फिर बाद में जमीन पर से। बाल्डेलौन ने पिपीना को जहाज़ में बन्द करके रखा हुआ था और उसको सूरज की एक भी किरन नहीं देखने दी थी। उसकी वह लड़की दोस्त भी उस समय उसके साथ ही थी।

clip_image005

जब जहाज बन्दरगाह पर पहुँचता था तो बाल्डेलौन अपनी बहिन और दोस्त को एक बड़ी सी सीडान कुरसी[11] में बिठा कर सूरज से बचा कर बाहर ले जाता था।

जैसे जैसे पैरिस पास आता जा रहा था बाल्डेलौन की दोस्त को गुस्सा आता जा रहा था क्योंकि पेरिस पहुँच कर तो पिपीना तो रानी बन जायेगी और वह केवल एक कैप्टेन की पत्नी ही रह जायेगी। वह क्या करे कि पिपीना की बजाय वह रानी बन जाये।

इसका मतलब यह है कि उसको जो कुछ भी करना है वहाँ पहुँचने से पहले ही पहले करना है।

उसने पिपीना से कहना शुरू किया — “पिपीना, यहाँ कुछ गरमी हो रही है हम यहाँ थोड़ा सा परदा खोल देते हैं।”

पिपीना बोली — “नहीं बहिन, इससे मुझे नुकसान पहुँचेगा। मेहरबानी करके इसका परदा नहीं खोलना।”

कुछ देर बाद उस लड़की ने फिर कहा — “पिपीना, मुझे तो बहुत गरमी लग रही है।”

इस बार पिपीना कछ नाराजी से बोली — “नहीं, तुमको कोई गरमी नहीं लग रही। चुप रहो।”

“पिपीना, मुझे बहुत घुटन हो रही है।”

“फिर भी तुमको मालूम है कि मैं यह परदा नहीं खोल सकती।”

“सचमुच?” और उस लड़की ने एक छोटा सा चाकू निकाल लिया और उससे उस सीडान कुरसी के ऊपर लगी चमड़े की छत फाड़ दी।

clip_image007

सूरज की एक किरन अन्दर आयी और पिपीना एक काले साँप में बदल कर सड़क पर चली गयी और राजा के बगीचे की हैज[12] में जा कर छिप गयी।

बाल्डेलौन ने जब सीडान कुरसी खाली देखी तो वह बहुत ज़ोर से रो पड़ा — “मेरी बेचारी प्यारी बहिन। और बेचारा मैं। मैं राजा से जा कर क्या कहूँगा जो उसकी आशा में ऑखें बिछाये बैठा है।”

उसकी दोस्त बोली — “तुम चिन्ता किस बात की कर रहे हो? राजा से कह देना कि मैं तुम्हारी बहिन हूँ और सब ठीक हो जायेगा।” आखिर बाल्डेलौन को यही करना पड़ा।

जब राजा ने इस लड़की को देखा तो अपनी नाक सिकोड़ी और बोला — “क्या यही वह सुन्दरता है जो बेजोड़ है? पर राजा का वायदा तो राजा का वायदा होता है सो मुझे इससे शादी तो करनी ही पड़ेगी।”

राजा ने उससे शादी कर ली और वे दोनों साथ साथ रहने लगे।

उधर बाल्डेलौन बहुत परेशान था। एक तो उसको अपनी बहिन की कमी बहुत खल रही थी और दूसरे उसे धोखा देने वाली ने राजा से शादी करने के लिये उसको छोड़ दिया था।

नयी रानी यह अच्छी तरह जानती थी कि बाल्डेलौन उसको इन दोनों बातों के लिये छोड़ेगा नहीं। इसलिये वह अब ऐसा कुछ सोचने लगी जिससे वह इस बाल्डेलौन को अपने रास्ते से हटा सके।

clip_image009एक दिन उसने राजा से कहा कि उसकी तबियत ठीक नहीं है और उसको अंजीर खाने की इच्छा हो रही है। उस समय अंजीर का मौसम नहीं था सो राजा बोला — “तुम्हें साल के इस समय में अंजीर कहाँ मिलेंगी?”

“मुझे तो अंजीर चाहिये। बाल्डेलौन को बोलो वह ला कर देगा।”

राजा ने बाल्डेलौन को बुलाया — “बाल्डेलौन”

“जी योर मैजेस्टी।”

“रानी के लिये थोड़ी सी अंजीर ले कर आओ।”

“अंजीर और इस समय योर मैजेस्टी?”

राजा बोला — “चाहे उसका मौसम हो या न हो मुझे इससे कोई मतलब नहीं। जब मैंने तुमसे अंजीर लाने के लिये कहा है तो मुझे अंजीर चाहिये नहीं तो तुम्हारा सिर काट दिया जायेगा।”

दुखी और ऑखें नीची किये बाल्डेलौन वहाँ से राजा के बागीचे में चला गया और वहाँ जा कर रोने लगा।

लो, वहाँ तो एक फूलों की क्यारी में से निकल कर एक काला साँप उसके पास आ गया। उसने उससे पूछा — “क्या बात है क्यों रोते हो भैया?”

यह सुनते ही बाल्डेलौन बोला — “अरे बहिन तुम यहाँ इस रूप में?”

तब पिपीना ने उसको अपनी सारी कहानी बतायी कि किस तरह से उसके साथ वाली लड़की ने उस सीडान कुरसी की छत का कपड़ा फाड़ दिया था और फिर वह किस तरह से साँप बन गयी थी।

बाल्डेलौन बोला — “बहिन। अब मैं भी बहुत मुश्किल में पड़ गया हूँ।” और उसने उसको राजा के हुकुम के बारे में बताया।

clip_image011“ओह यह तो कोई सोचने की बात ही नहीं। मेरे पास एक खास ताकत है जिससे मैं बेमौसमी फल ला सकती हूँ। तुमने कहा कि तुमको अंजीर चाहिये। ठीक है।”

और देखते ही देखते वहाँ अंजीर की एक सुन्दर सी टोकरी प्रगट हो गयी।

बाल्डेलौन उस टोकरी को ले कर तुरन्त ही राजा के पास दौड़ा गया। रानी ने वे सब अंजीर खा लीं। और उसके लिये यह बड़े शरम की बात थी कि उसने बाल्डेलौन को जहर नहीं दे दिया।

तीन दिन बाद रानी को खूबानी[13] खाने की इच्छा हुई तो उसने फिर बाल्डेलौन को बोला कि वह उसको खूबानी ला कर दे। बाल्डेलौन ने उसे फिर से बेमौसम की खूबानी ला कर दीं।

clip_image016

रानी की अगली इच्छा चैरी खाने की थी सो पिपीना ने अपने भाई को चैरी ला कर भी दे दीं। और फिर नाशपाती भी।

पर हम तुम लोगों को यह बताना तो भूल ही गये कि उस पिपीना के पास परियों का जादू केवल अंजीर, खूबानी और चैरी के लिये ही था नाशपाती के लिये नहीं। इसलिये वह उसको नाशपाती नहीं दे सकी।

बस अब क्या था जब बाल्डेलौन नाशपाती नहीं ला सका तो उसको मौत की सजा हो गयी। मरने से पहले जब बाल्डेलौन की आखिरी इच्छा पूछी गयी तो उसने एक ही इच्छा प्रगट की कि उसकी लाश शाही बागीचे में दफना दी जाये।

राजा बोला “ठीक है।”

बाल्डेलौन फाँसी पर लटका कर मार दिया गया और उसकी आखिरी इच्छा के अनुसार उसके शरीर को शाही बागीचे में दफना दिया गया। रानी ने चैन की साँस ली।

X X X X X X X

एक रात शाही माली की पत्नी की ऑख खुली तो उसने शाही बागीचे से आती यह आवाज सुनी –

बाल्डेलौन ओ बाल्डेलौन तुम यहाँ अँधेरे में दबे हो

जबकि तुम्हारी किस्मत लिखने वाली मेरे साथी के साथ रानी की तरह से खेल रही है

यह सुन कर पत्नी ने पति को जगाया तो वे दोनों दबे पाँव उठ कर बागीचे में गये तो उन्होंने देखा कि एक काला साया कैप्टेन की कब्र से खिसक कर दूर जा रहा था।

सुबह को जब रोज की तरह वह माली राजा के लिये फूलों का गुलदस्ता बनाने के लिये बागीचे में जा रहा था तो उसने देखा कि फूलों की क्यारियों में तो मोती और जवाहरात बिखरे पड़े हैं।

उसने वे मोती और जवाहरात उठा लिये और उनको राजा के पास ले गया तो राजा उनको देख कर आश्चर्य में पड़ गया।

अगली रात माली ने अपनी बन्दूक उठायी और उसको ले कर पहरा देने लगा। आधी रात को एक साया फिर कैप्टेन की कब्र के पास मँडराने लगा और गाने लगा —

बाल्डेलौन ओ बाल्डेलौन तुम यहाँ अँधेरे में दबे हो

जबकि तुम्हारी किस्मत लिखने वाली मेरे साथी के साथ रानी की तरह से खेल रही है

माली ने अपनी बन्दूक सीधी की और निशाना साध कर उसको चलाने ही वाला था कि उस साये ने कहा — “अपनी बन्दूक नीचे रख दो। मैं भी तुम्हारी तरह से बैपटाइज्ड़ और कनफम्र्ड[14] हुई हूँ। मेरे पास आओ और ज़रा मुझे ध्यान से देखो।”

कहते हुए उस साये ने अपने चेहरे पर से परदा हटा दिया। माली ने देखा वह तो एक बेमिसाल सुन्दर लड़की थी।

फिर उस लड़की ने अपने बाल खोल दिये और उसके एक बाल से बहुत सारे मोती और जवाहरात गिर पड़े।

वह लड़की फिर बोली “यह सब जो अभी तुमने यहाँ देखा है जा कर राजा से कहना और साथ में यह भी कहना कि वह मुझसे मिलने के लिये यहाँ आये मैं उससे कल रात यहीं मिलूँगी।” यह कह कर वह साँप बन गयी और वहाँ से चली गयी।

अगली रात उस लड़की ने मुश्किल से बस यही कहा होगा – बाल्डेलौन ओ मेरे प्यारे भाई . . . .

कि राजा उसके पास आ गया। उस लड़की ने अपने चेहरे से परदा उठाया और आश्चर्य में पड़े उस राजा को अपनी आश्चर्यजनक कहानी सुनायी।

राजा ने पूछा — “तुम मुझे बताओ कि इस शाप से मैं तुमको छुटकारा कैसे दिलाऊँ?”

“तुम इसके लिये यह करो कि कल सुबह तुम एक हवा की तरह तेज़ दौड़ने वाला घोड़ा लो और उस पर सवार हो कर जोरडन नदी[15] जाओ। वहाँ उसके किनारे पर उतर जाना।

वहाँ तुमको चार परियाँ नहाती हुई मिलेंगी। उनमें से एक परी ने अपने बालों में हरा रिबन लगाया होगा, दूसरी ने लाल, तीसरी ने नीला और चौथी परी ने सफेद।

तुम उस नदी के किनारे रखे उनके कपड़े उठा लेना। वे तुमसे अपने कपड़े माँगेंगी पर तुम उनको उनके कपड़े मत देना।

इस पर पहली परी तुम्हारे ऊपर अपना हरा रिबन फेंकेगी, दूसरी परी अपना लाल रिबन फेंकेगी, तीसरी अपना नीला रिबन फेंकेगी और चौथी परी अपना सफेद रिबन फेंकेगी।

जब चौथी परी अपना सफेद रिबन और कुछ बाल तुम्हारे ऊपर फेंके तभी तुम उनके कपड़े वापस करना। वे बाल तुम यहाँ ले आना और उनसे मुझे सहला देना। तभी मेरे ऊपर पड़ा हुआ यह जादू टूट पायेगा।”

राजा को इससे ज़्यादा सुनने की जरूरत नहीं थी। बस अगली सुबह उसने अपना सबसे तेज़ दौड़ने वाला घोड़ा लिया और उस पर सवार हो कर अपना राज्य छोड़ कर जोरडन नदी की तरफ चल दिया।

काफी चलने के बाद, 30 दिन और 30 रात, वह जोरडन नदी के किनारे पर आया। वहाँ उसको वे चार परियाँ नहाती मिल गयीं। फिर उसने वही किया जो बाल्डेलौन की बहिन ने उससे करने के लिये कहा था।

उसने नहाती हुई परियों के कपड़े उठा लिये। जब परियों ने अपने कपड़े माँगे तो राजा ने उनके कपड़े नहीं दिये। इस पर उन परियों ने अपने अपने रिबन राजा पर फेंकने शुरू कर दिये।

जब उस चौथी परी ने उसके ऊपर अपना सफेद रिबन और कुछ बाल फेंक दिये तब वह बोला — “अभी तो मैं तुमको छोड़ कर जा रहा हूँ पर विश्वास रखो कि मैं तुम्हें इसकी कीमत जरूर चुकाऊँगा।”

अपने राज्य में आ कर वह अपने बागीचे की तरफ दौड़ा और उस साँप को आवाज लगायी। उसके आने पर उसने साँप को उन बालों से सहलाया।

उन बालों को छूते ही पिपीना फिर से दुनियाँ की सबसे सुन्दर लड़की बन गयी। उसने वे बाल अपने बालों में लगा लिये और उसके बाद उसको फिर किसी का डर नहीं रहा।

राजा ने माली को बुलाया और उससे कहा — “अब तुम एक काम करो कि एक बड़ा सा पानी का जहाज़ लो और बाल्डेलौन की बहिन को रात में ही उसमें बिठा कर कहीं पास में ही चले जाओ।

फिर कुछ दिन बाद उस जहाज़ के ऊपर किसी दूसरे देश का झंडा लगा कर बन्दरगाह पर आ जाना। बाकी मैं सँभाल लूँगा।”

माली ने राजा का प्लान जैसा उसने उसको बताया था वैसे ही किया। तीन दिन बाद वह अपने जहाज़ पर अंग्रेजों का झंडा लगा कर बन्दरगाह पर ले आया।

राजा अपने महल से समुद्र देख सकता था सो जब उसने देखा कि एक विदेशी जहाज उसके बन्दरगाह पर आ कर लगा है तो उसने अपनी रानी से कहा — “यह कौन सा जहाज़ है? जरा देखो तो। लगता है कि मेरा कोई रिश्तेदार आया है। चलो उससे चल कर मिलते हैं।”

उसकी रानी जो हमेशा अपने आपको दिखाने के लिये तैयार रहती थी पलक झपकते ही जाने के लिये तैयार हो गयी। वहाँ जा कर वह उस जहाज़ पर गयी तो वहाँ तो उसने पिपीना को पाया।

उसने सोचा “जहाँ तक मुझे याद पड़ता है बाल्डेलौन की बहिन तो काला साँप बन गयी थी फिर यह यहाँ कहाँ से आ गयी। मुझे लगता है कि यह तो वही है।”

यही सोचते हुए वे दोनों उस नये आने वाले के साथ उसकी सुन्दरता की तारीफ करते हुए जहाज़ से नीचे आ गये।

राजा ने रानी से कहा — “ऐसी लड़की को जो कोई नुकसान पहुँचाये बताओ उसको क्या सजा देनी चाहिये?”

रानी बोली — “पर ऐसा कौन नीच हो सकता है जो ऐसी लड़की को नुकसान पहुँचायेगा?”

“सोचो कि अगर कोई है भी, तो उसको क्या सजा मिलनी चाहिये?”

रानी बोली — “उसको तो इस खिड़की से नीचे फेंक देना चहिये और फिर ज़िन्दा जला देना चाहिये।”

राजा तुरन्त बोला — “तुमने ठीक कहा। यही हम उसके साथ करने जा रहे हैं। यह लड़की बाल्डेलौन की बहिन है जिससे मैं शादी करने वाला था। और तुम इससे जलती थीं।

तुम इसके साथ आयीं और तुमने इसको साँप बनने पर मजबूर किया ताकि तुम इसकी जगह ले सको। अब तुम्हें मुझे धोखा देने का मजा चखना पड़ेगा। अच्छा हुआ कि तुमने अपनी सजा अपने आप ही सुना दी।”

फिर उसने अपने चौकीदारों को बुलाया और उनसे उसको खिड़की से बाहर फेंकने और फिर ज़िन्दा जलाने को कहा। जैसे ही राजा ने यह कहा चौकीदारों ने वह तुरन्त ही कर दिया।

उस झूठी को तुरन्त ही खिड़की को नीचे फेंक कर उसको महल के पास ही ज़िन्दा जला दिया गया। राजा ने बेकुसूर बाल्डेलौन को फाँसी की सजा देने के लिये उसकी बहिन से माफी माँगी।

पिपीना बोली — “जो हो गया सो हो गया उसे भूल जाओ। अब देखना यह है कि हम बागीचे में क्या कर सकते हैं।”

सो वे दोनों बागीचे में गये और बाल्डेलौन की कब्र का पत्थर उठाया। कब्र में बाल्डेलौन का शरीर अभी तक वैसा का वैसा ही रखा था।

पिपीना ने एक छोटे से ब्रश से थोड़ा सा मरहम अपने भाई की गरदन पर लगा दिया। मरहम के लगते ही वह फिर से साँस लेने लगा। फिर वह हिलने लगा और फिर उसने अपनी ऑखें मलनी शुरू की जैसे वह किसी लम्बी नींद से जाग रहा हो। और फिर वह खड़ा हो गया।

सबने एक दूसरे को गले लगाया और राजा ने महल में खुशियाँ मनाने का हुकुम दिया। उन दोनों के माता पिता को भी बुला लिया गया। बड़े धूमधाम से पिपीना और राजा की शादी हो गयी।

clip_image018

देश विदेश की लोक कथाओं की सीरीज़ में प्रकाशित पुस्तकें

36 पुस्तकें www.Scribd.com/Sushma_gupta_1 पर उपलब्ध हैं।

नीचे लिखी हुई पुस्तकें हिन्दी ब्रेल में संसार भर में उन सबको निःशुल्क उपलब्ध है जो हिन्दी ब्रेल पढ़ सकते हैं।

Write to :- E-Mail : hindifolktales@gmail.com

1 नाइजीरिया की लोक कथाएं–1

2 नाइजीरिया की लोक कथाएं–2

3 इथियोपिया की लोक कथाएं–1

4 रैवन की लोक कथाएं–1

नीचे लिखी हुई पुस्तकें ई–मीडियम पर सोसायटी औफ फौकलोर, लन्दन, यू के, के पुस्तकालय में उपलब्ध हैं।

Write to :- E-Mail : thefolkloresociety@gmail.com

1 ज़ंज़ीबार की लोक कथाएं — 10 लोक कथाएं — सामान्य छापा, मोटा छापा दोनों में उपलब्ध

2 इथियोपिया की लोक कथाएं–1 — 45 लोक कथाएं — सामान्य छापा, मोटा छापा दोनों में उपलब्ध

नीचे लिखी हुई पुस्तकें हार्ड कापी में बाजार में उपलब्ध हैं।

To obtain them write to :- E-Mail drsapnag@yahoo.com

1 रैवन की लोक कथाएं–1 — इन्द्रा पब्लिशिंग हाउस

2 इथियोपिया की लोक कथाएं–1 — प्रभात प्रकाशन

3 इथियोपिया की लोक कथाएं–2 — प्रभात प्रकाशन

नीचे लिखी पुस्तकें रचनाकार डाट आर्ग पर मुफ्त उपलब्ध हैं जो टैक्स्ट टू स्पीच टैकनोलोजी के द्वारा दृष्टिबाधित लोगों द्वारा भी पढ़ी जा सकती हैं।

1 इथियोपिया की लोक कथाएं–1

http://www.rachanakar.org/2017/08/1-27.html

2 इथियोपिया की लोक कथाएं–2

http://www.rachanakar.org/2017/08/2-1.html

3 रैवन की लोक कथाएं–1

http://www.rachanakar.org/2017/09/1-1.html

4 रैवन की लोक कथाएं–2

http://www.rachanakar.org/2017/09/2-1.html

5 रैवन की लोक कथाएं–3

http://www.rachanakar.org/2017/09/3-1-1.html

6 इटली की लोक कथाएं–1

http://www.rachanakar.org/2017/09/1-1_30.html

7 इटली की लोक कथाएं–2

http://www.rachanakar.org/2017/10/2-1.html

8 इटली की लोक कथाएं–3

http://www.rachanakar.org/2017/10/3-1.html

9 इटली की लोक कथाएं–4

http://www.rachanakar.org/2017/10/4-1.html

10 इटली की लोक कथाएं–5

http://www.rachanakar.org/2017/10/5-1-italy-lokkatha-5-seb-wali-ladki.html

नीचे लिखी पुस्तकें जुगरनौट डाट इन पर उपलब्ध हैं

1 सोने की लीद करने वाला घोड़ा और अन्य अफ्रीकी लोक कथाएं

https://www.juggernaut.in/books/8f02d00bf78a4a1dac9663c2a9449940

2 असन्तुष्ट लड़की और अन्य अमेरिकी लोक कथाएं

https://www.juggernaut.in/books/2b858afc522c4016809e1e7f2f4ecb81

Facebook Group

https://www.facebook.com/groups/hindifolktales/?ref=bookmarks

Updated on Sep 27, 2017


लेखिका के बारे में

clip_image020सुषमा गुप्ता का जन्म उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ शहर में सन् 1943 में हुआ था। इन्होंने आगरा विश्वविद्यालय से समाज शास्त्र और अर्थ शास्त्र में ऐम ए किया और फिर मेरठ विश्वविद्यालय से बी ऐड किया। 1976 में ये नाइजीरिया चली गयीं। वहाँ इन्होंने यूनिवर्सिटी औफ़ इबादान से लाइबे्ररी साइन्स में ऐम ऐल ऐस किया और एक थियोलोजीकल कौलिज में 10 वर्षों तक लाइब्रेरियन का कार्य किया।

वहाँ से फिर ये इथियोपिया चली गयीं और वहाँ एडिस अबाबा यूनिवर्सिटी के इन्स्टीट्यूट औफ़ इथियोपियन स्टडीज़ की लाइब्रेरी में 3 साल कार्य किया। तत्पश्चात इनको दक्षिणी अफ्रीका के एक देश. लिसोठो के विश्वविद्यालय में इन्स्टीट्यूट औफ़ सदर्न अफ्रीकन स्टडीज़ में 1 साल कार्य करने का अवसर मिला। वहाँ से 1993 में ये यू ऐस ए आ गयीं जहाँ इन्होंने फिर से मास्टर औफ़ लाइब्रेरी एंड इनफौर्मेशन साइन्स किया। फिर 4 साल ओटोमोटिव इन्डस्ट्री एक्शन ग्रुप के पुस्तकालय में कार्य किया।

1998 में इन्होंने सेवा निवृत्ति ले ली और अपनी एक वेब साइट बनायी – www.sushmajee.com। तब से ये उसी वेब साइट पर काम कर रहीं हैं। उस वेब साइट में हिन्दू धर्म के साथ साथ बच्चों के लिये भी काफी सामग्री है।

भिन्न भिन्न देशों में रहने से इनको अपने कार्यकाल में वहाँ की बहुत सारी लोक कथाओं को जानने का अवसर मिला – कुछ पढ़ने से, कुछ लोगों से सुनने से और कुछ ऐसे साधनों से जो केवल इन्हीं को उपलब्ध थे। उन सबको देख कर इनको ऐसा लगा कि ये लोक कथाएं हिन्दी जानने वाले बच्चों और हिन्दी में रिसर्च करने वालों को तो कभी उपलब्ध ही नहीं हो पायेंगी – हिन्दी की तो बात ही अलग है अंग्रेजी में भी नहीं मिल पायेंगीं।

इसलिये इन्होंने न्यूनतम हिन्दी पढ़ने वालों को ध्यान में रखते हुए उन लोक कथाओं को हिन्दी में लिखना पा्ररम्भ किया। इन लोक कथाओं में अफ्रीका, एशिया और दक्षिणी अमेरिका के देशों की लोक कथाओं पर अधिक ध्यान दिया गया है पर उत्तरी अमेरिका और यूरोप के देशों की भी कुछ लोक कथाएं सम्मिलित कर ली गयी हैं।

अभी तक 1200 से अधिक लोक कथाएं हिन्दी में लिखी जा चुकी है। इनको “देश विदेश की लोक कथाएं” क्रम में प्रकाशित करने का प्रयास किया जा रहा है। आशा है कि इस प्रकाशन के माध्यम से हम इन लोक कथाओं को जन जन तक पहुँचा सकेंगे।

विंडसर, कैनेडा

मई 2016


[1] Pippina the Serpent (Story No 150) – a folktale from Italy from its Palermo area.

Adapted from the book : “Italian Folktales”, by Italo Calvino. Translated by George Martin in 1980.

[2] Baldellone – the name of the son of the merchant.

[3] Pipina – the name of the youngest child daughter

[4] Translated or the word “Charm”. In this ceremony some fairies used to bless the child.

[5] Monreale – name of a place in Italy

[6] Palermo city is in Italy.

[7] Pie is a kind of filled white flour Roti with any kind of thing – fruit, vegetable, meat etc. See the picture of a pie above.

[8] Count, Duke or Lord – all are the titles for respectable people in European society, such as Prince William, the grandson of the Queen Elizabeth, has been given the title of Duke of Cambridge.

[9] Squire is a title applied to a Justice of the Peace or local judge or other local dignitory of a rural district or small town. He might be a personal assistant of a rank also.

[10] Paris is the capital of France country

[11] Sedan chair is like palanquin. See its picture above.

[12] Hedge is the special wall of short dense plants which are planted to protect the house from others’ sight, dust and other small animals. See the picture.

[13] Fig, Apricot, Cherry and Pear. See their pictures above in this sequence.

[14] Baptization and Confirmation are the Christian rites after birth to make the child join Christian society, as Hindu have Upanayan (Janeoo) Sanskaar

[15] Jordan River

------------

सुषमा गुप्ता ने देश विदेश की 1200 से अधिक लोक-कथाओं का संकलन कर उनका हिंदी में अनुवाद प्रस्तुत किया है. कुछ देशों की कथाओं के संकलन का  विवरण यहाँ पर दर्ज है. सुषमा गुप्ता की लोक कथाओं के संकलन में से क्रमशः  - रैवन की लोक कथाएँ,  इथियोपिया इटली की  ढेरों लोककथाओं को आप यहाँ लोककथा खंड में जाकर पढ़ सकते हैं.

(समाप्त)

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

-----****-----

-----****-----

---***---

-----****-----

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधाएँ ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


|नई रचनाएँ_$type=complex$count=8$page=1$va=0$au=0

|आपके लिए कुछ चुनिंदा रचनाएँ_$type=blogging$count=8$src=random$page=1$va=0$au=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3830,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,335,ईबुक,191,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2770,कहानी,2095,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,485,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,90,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,61,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,329,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,327,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,49,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,8,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,16,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,238,लघुकथा,820,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,307,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,62,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1907,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,644,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,685,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,14,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,54,साहित्यिक गतिविधियाँ,183,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,58,हास्य-व्यंग्य,68,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: देश विदेश की लोक कथाएँ — यूरोप–इटली–6 : 13 पिपीना साँप // सुषमा गुप्ता
देश विदेश की लोक कथाएँ — यूरोप–इटली–6 : 13 पिपीना साँप // सुषमा गुप्ता
https://lh3.googleusercontent.com/-eHNNNQWnMXA/WgGkcIXWEmI/AAAAAAAA8g8/xK0sZdQwNo88V9jhFx_89ntW_GeUNk8bgCHMYCw/clip_image003_thumb%255B1%255D?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-eHNNNQWnMXA/WgGkcIXWEmI/AAAAAAAA8g8/xK0sZdQwNo88V9jhFx_89ntW_GeUNk8bgCHMYCw/s72-c/clip_image003_thumb%255B1%255D?imgmax=800
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2017/11/6-13-italy-ki-lokkatha-pipina-saanp.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2017/11/6-13-italy-ki-lokkatha-pipina-saanp.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ