सोमवार, 19 दिसंबर 2011

कैस जौनपुरी का धारावाहिक - 13 वीं कड़ी - आओ कहें... दिल की बात : डियर बाला दीदी

पिछली कड़ियाँ  - एक , दो , तीनचार, पांच, छः , सात, आठ, नौ, दस, ग्यारह, बारह

clip_image002[4]

आओ कहें...दिल की बात

कैस जौनपुरी

डियर बाला दीदी,

बहुत दिनों से कुछ बातें हैं जो फांस की तरह मेरे दिल में चुभ रही हैं. सोचता हूँ अगर आपसे कह दूँ तो शायद दिल का बोझ कुछ हल्का हो जाए.

दीदी, आपसे ऐसी उम्मीद नहीं थी. आपने तो पैसे की वजह से हमारे और अपने रिश्ते की नींव ही हिला दी.

दीदी, क्या दस हजार रुपये इतनी अहमियत रखते हैं कि एक बहन अपने भाई से ये कहे कि “अगर पैसे नहीं दे सकते तो अपने घर का कोई सामान दे दो या अपनी बीवी का कोई गहना दे दो.”

दीदी, क्या कमी रह गई थी मेरे प्यार में...? मैं तो हमेशा यही सोचता था कि “मेरी बाला दीदी मेरे साथ हैं.” लेकिन आपका प्यार इतना कमजोर था...काश...मैं समझ सकता.

दीदी, मैं तो आपका वही भाई था जो आपके एक बार बुलाने पे न दिन देखता था न रात...भाग कर आता था. मुझे तो बस इतना याद रहता था कि “बाला दीदी ने बुलाया है.”

मैं आप पर अपने से भी ज्यादा भरोसा करता था. अगर आप पर भरोसा न करता तो आपके पास अपनी छोटी बहन के सारे गहने क्यूँ रखता...?

वो गहने वापस आए तो घर पर सभी लोगों ने कहा कि “गहने बदल दिए गए हैं.” लेकिन मेरा आप पर इतना अटूट विश्वास था कि मैंने इस बात को बिल्कुल नहीं माना कि “आपने गहने बदले हैं.”

मैंने आपको कभी अपने बड़े पापा की बेटी नहीं माना. अपनी सगी बहनों से ज्यादा सम्मान आपको दिया. राखी बँधवाने मैं पहले आपके पास आता था.

लेकिन मेरी आँख तो उस वक्त खुली जब मेरी नौकरी छूट गई और उस मुश्किल वक्त में आपने साथ देने के बजाय अपने पैसे वापस मांगे.

उस वक्त मैं इस हालत में नहीं था कि आपके पैसे वापस कर सकता और आपने हमें भिखमंगा तक कह दिया. घर का सामान और जेवर तक माँगे.

दीदी, उस दिन अहसास हुआ “शायद यही वजह है कि लोग अपनों के लिए मरते हैं.”

मैं भी सोचने पर मजबूर हो गया कि “अगर आप मेरी सगी बहन होतीं तो क्या ऐसा ही करतीं...? शायद नहीं...”

********************

कैस जौनपुरी

qaisjaunpuri@gmail.com

www.qaisjaunpuri.com

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------